🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞
⛅ *आज का दिनांक 05 सितम्बर 2017*
⛅ *दिन - मंगलवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2074*
⛅ *शक संवत -1939*
⛅ *अयन - दक्षिणायण*
⛅ *ऋतु - शरद*
⛅ *मास - भाद्रपद*
⛅ *पक्ष - शुक्ल*
⛅ *तिथि - दोपहर 12:41 तक चतुर्दशी - दोपहर 12:42 से पूर्णिमा*
⛅ *नक्षत्र - धनिष्ठा*
⛅ *योग - सुकर्मा*
⛅ *राहुकाल - शाम 03:42 से शाम 05:14 तक*
⛅ *सूर्योदय - 06:24*
⛅ *सूर्यास्त - 18:49*
⛅ *दिशाशूल - उत्तर दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण - व्रत पूर्णिमा, पूर्णिमा का श्राद्ध, महालय श्राद्धारम्भ, प्रोष्ठपदी पूर्णिमा, अंनत चतुर्दशी, गणेश महोत्सव समाप्त, शिक्षक दिवस*
💥 *विशेष - पूर्णिमा के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)*


🌷 *भगवान श्रीगणेशजी* 🌷
🙏🏻 *5 सितंबर को गणेश उत्सव का अंतिम दिन है।5 सितंबर को अनंत चतुर्दशी पर गणेश उत्सव का समापन हो जाएगा। आखिर इन दिनों में यदि कोई सच्चे मन से भगवान श्रीगणेशजी को प्रसन्न करने के उपाय करे तो उसके बुरे दिन खत्म हो सकते हैं। ये उपाय बहुत ही आसान हैं।*
➡ *श्रीगणेशजी को शुद्ध घी और गुड़ का भोग लगाएं। थोड़ी देर बाद घी व गुड़ गाय को खिला दें। ये उपाय करने से धन संबंधी समस्या का निदान हो सकता है।*
➡ *श्रीगणेशजी को 21 गुड़ की गोलियां बनाकर दूर्वा के साथ चढ़ाएं। इस उपाय से आपकी हर मनोकामना पूरी हो सकती है।*
➡ *श्रीगणेशजी को हल्दी की पांच गांठ श्री गणाधिपतये नम: मंत्र का उच्चारण करते हुए चढ़ाएं। इस उपाय से प्रमोशन होने की संभावनाएं बढ़ सकती हैं।*
➡ *यदि बेटी का विवाह नहीं हो पा रहा है, तो विवाह की कामना से भगवान श्रीगणेशजी को मालपुए का भोग लगाएं व व्रत रखें। शीघ्र ही उसके विवाह के योग बन सकते हैं।*
➡ *यदि लड़के के विवाह में परेशानियां आ रही हैं, तो वह भगवान श्रीगणेशजी को पीले रंग की मिठाई का भोग लगाएं। इससे उसके विवाह के योग बन सकते हैं।*


🌷 *श्राद्ध सम्बन्धी बातें* 🌷
👉🏻 *श्राद्ध कर्म करते समय जो श्राद्ध का भोजन कराया जाता है, तो ११.३६ से १२.२४ तक उत्तम समय होता है l*
👉🏻 *गया, पुष्कर, प्रयाग और हरिद्वार में श्राद्ध करना श्रेष्ठ माना गया है l*
👉🏻 *गौशाला में, देवालय में और नदी तट पर श्राद्ध करना श्रेष्ठ माना गया है l*
👉🏻 *सोना, चांदी, तांबा और कांसे के बर्तन में अथवा पलाश के पत्तल में भोजन करना-कराना अति उत्तम माना गया है l लोहा, मिटटी आदि के बर्तन काम में नहीं लाने चाहिए l*
👉🏻 *श्राद्ध के समय अक्रोध रहना, जल्दबाजी न करना और बड़े लोगों को या बहुत लोगों को श्राद्ध में सम्मिलित नहीं करना चाहिए, नहीं तो इधर-उधर ध्यान बट जायेगा, तो जिनके प्रति श्राद्ध सद्भावना और सत उद्देश्य से जो श्राद्ध करना चाहिए, वो फिर दिखावे के उद्देश्य में सामान्य कर्म हो जाता है l*
👉🏻 *सफ़ेद सुगन्धित पुष्प श्राद्ध कर्म में काम में लाने चाहिए l लाल, काले फूलों का त्याग करना चाहिए l अति मादक गंध वाले फूल अथवा सुगंध हीन फूल श्राद्ध कर्म में काम में नहीं लाये जाते l*
➡ *श्राद्ध पक्ष :- 05 सितम्बर 2017 मंगलवार से 20 सितम्बर 2017 बुधवार तक हैं ।*
🙏🍀🌷🌻🌺🌸🌹🍁

+180 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 111 शेयर

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 ⛅ *दिनांक 15 मई 2021* ⛅ *दिन - शनिवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077)* ⛅ *शक संवत - 1943* ⛅ *अयन - उत्तरायण* ⛅ *ऋतु - ग्रीष्म* ⛅ *मास - वैशाख* ⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - तृतीया सुबह 07:59 तक तत्पश्चात चतुर्थी* ⛅ *नक्षत्र - मॄगशिरा सुबह 08:39 तक तत्पश्चात आर्द्रा* ⛅ *योग - धृति 16 मई रात्रि 02:29 तक तत्पश्चात शूल* ⛅ *राहुकाल - सुबह 09:18 से सुबह 10:57 तक* ⛅ *सूर्योदय - 06:02* ⛅ *सूर्यास्त - 19:08* ⛅ *दिशाशूल - पूर्व दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण - विनायक चतुर्थी* 💥 *विशेष - तृतीया को परवल खाना शत्रुओं की वृद्धि करने वाला है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *सुख-समृद्धि की सदैव वृद्धि हेतु* 🌷 🏡 *घर के मध्य में तुलसी का पौधा होने से घर में प्रेम के साथ-साथ सुख-समृद्धि की भी सदैव वृद्धि होती रहती है |* 🙏🏻 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *देशी गाय व भैंस के दूध में अंतर* 🌷 🐄 *देशी गाय का दूध* 🐄 ✅ *१] सुपाच्य होता है |* ✅ *२] इसमें स्वर्ण-क्षार होते हैं |* ✅ *३] बुद्धि को कुशाग्र बनाता है |* ✅ *४] स्मरणशक्ति बढाता है एवं स्फूर्ति प्रदान करता है |* ✅ *५] यह सत्त्वगुण बढ़ाता है |* ✅ *६] गाय अपना बछड़ा देखकर स्नेह व वात्सल्य से भर के दूध देती है |* 🐃 *भैंस का दूध* 🐃 ❌ *१] पचने में भारी होता है |* ❌ *२] इसमें स्वर्ण-क्षार नहीं होते हैं।* ❌ *३] बुद्धि को मंद करता है |* ❌ *४] यह आलस्य व अत्यधिक नींद लाता है |* ❌ *५] यह तमोगुण बढ़ाता है |* ❌ *६] भैंस स्वाद व खुराक देखकर दूध देती है | भैंस का दूध पीके बड़े होनेवाले भाई सम्पदा के लिए लड़ते-मरते हैं |* 🐄 *देशी गाय के दूध में सम्पूर्ण प्रोटीन्स रहने के कारण यह मनुष्यों के लिए अनिवार्य है | भैंस के दूध की अपेक्षा गाय के दूध में रहनेवाले प्रोटीन्स सुगमता से पचते हैं | गाय के दूध में ऑक्सिडेज तथा रिडक्टेज एंजाइम की प्रचुरता रहती है, जो पाचन में सहायता देने के अतिरिक्त दूध पीनेवालों के शरीर में पाये जानेवाले टोक्सिंस (विषैले पदार्थ) को दूर करते हैं |* 🐄 *देशी गाय के दूध की और भी अनेक विशेषताएँ हैं | ऊपर दिये गये बिन्दुओं से देशी गाय के दूध की श्रेष्ठता स्पष्ट हो जाती है | देशी गाय का दूध पीकर हम आयु, बुद्धिमत्ता, सात्त्विकता, निरोगता आदि बढायें या भैंस का दूध पी के इन्हें घटायें – यह हमारे हाथ की बात है |* 🐃 *भैंस के दूध से भी अधिक हानिकारक है जर्सी आदि विदेशी संकरित गायों का दूध |* 🙏🏻 🌞 ~ *हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 जय श्री राधे राधे🙏🙏🚩🚩🚩

+29 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 95 शेयर
Pt Vinod Pandey 🚩 May 14, 2021

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄 #सुप्रभातम 🌄 🗓 आज का #पञ्चाङ्ग 🗓 🌻शनिवार, १५ मई २०२१🌻 सूर्योदय: 🌄 ०५:३५ सूर्यास्त: 🌅 ०६:५७ चन्द्रोदय: 🌝 ०७:४३ चन्द्रास्त: 🌜२२:२१ अयन 🌕 उत्तराणायने (उत्तरगोलीय) ऋतु: 🍁 ग्रीष्म शक सम्वत: 👉 १९४३ (प्लव) विक्रम सम्वत: 👉 २०७८ (राक्षस) मास 👉 वैशाख पक्ष 👉 शुक्ल तिथि 👉 तृतीया (०७:५९ तक) नक्षत्र 👉 मृगशिरा (०८:३९ तक) योग 👉 धृति (२६:२९ तक) प्रथम करण 👉 गर (०७:५९ तक) द्वितीय करण 👉 वणिज (२१:०३ तक) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 वृष चंद्र 🌟 मिथुन मंगल 🌟 मिथुन (उदित, पूर्व, मार्गी) बुध 🌟 वृष (उदित, पूर्व, मार्गी) गुरु 🌟 कुम्भ (उदय, पूर्व, मार्गी) शुक्र 🌟 वृष (उदय, पश्चिम, मार्गी) शनि 🌟 मकर (उदय, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 वृष केतु 🌟 वृश्चिक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त 👉 ११:४६ से १२:४१ अमृत काल 👉 २४:१० से २५:५६ रवियोग 👉 ०८:३९ से २९:२३ विजय मुहूर्त 👉 १४:३० से १५:२५ गोधूलि मुहूर्त 👉 १८:५० से १९:१४ निशिता मुहूर्त 👉 २३:५२ से २४:३४ राहुकाल 👉 ०८:४८ से १०:३१ राहुवास 👉 पूर्व यमगण्ड 👉 १३:५६ से १५:३८ होमाहुति 👉 सूर्य (०८:३९ तक) दिशाशूल 👉 पूर्व अग्निवास 👉 पृथ्वी भद्रावास 👉 स्वर्गलोक (२१:०३ से) चन्द्रवास 👉 पश्चिम 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - काल २ - शुभ ३ - रोग ४ - उद्वेग ५ - चर ६ - लाभ ७ - अमृत ८ - काल ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - लाभ २ - उद्वेग ३ - शुभ ४ - अमृत ५ - चर ६ - रोग ७ - काल ८ - लाभ नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 पश्चिम-दक्षिण (वाय विन्डिंग अथवा तिल मिश्रित चावल का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️〰️〰️〰️ तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ मातंगी जयंती, विवाहादि मुहूर्त वृष लग्न प्रातः ०५:४३ से ०७:३९ तक, नींव खुदाई एवं गृहारम्भ+गृहप्रवेश मुहूर्त प्रातः ०७:२१ से ०९:०२ तक, व्यवसाय आरम्भ+देवप्रतिष्ठा मुहूर्त प्रातः ०७:२१ से ०८:३८ तक, वाहन क्रय-विक्रय मुहूर्त दोपहर १२:२२ से सायं ०५:२६ तक आदि। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ आज ०८:३९ तक जन्मे शिशुओ का नाम मृगशिरा नक्षत्र के चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (की) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम आर्द्रा नक्षत्र के प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमश (कु, घ, ङ, छ) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त मेष - २७:५२ से ०५:२६ वृषभ - ०५:२६ से ०७:२१ मिथुन - ०७:२१ से ०९:३६ कर्क - ०९:३६ से ११:५७ सिंह - ११:५७ से १४:१६ कन्या - १४:१६ से १६:३४ तुला - १६:३४ से १८:५५ वृश्चिक - १८:५५ से २१:१४ धनु - २१:१४ से २३:१८ मकर - २३:१८ से २४:५९ कुम्भ - २४:५९ से २६:२५ मीन - २६:२५ से २७:४८ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त शुभ मुहूर्त - ०५:२३ से ०५:२६ रोग पञ्चक - ०५:२६ से ०७:२१ शुभ मुहूर्त - ०७:२१ से ०७:५९ मृत्यु पञ्चक - ०७:५९ से ०८:३९ अग्नि पञ्चक - ०८:३९ से ०९:३६ शुभ मुहूर्त - ०९:३६ से ११:५७ रज पञ्चक - ११:५७ से १४:१६ शुभ मुहूर्त - १४:१६ से १६:३४ चोर पञ्चक - १६:३४ से १८:५५ शुभ मुहूर्त - १८:५५ से २१:१४ रोग पञ्चक - २१:१४ से २३:१८ शुभ मुहूर्त - २३:१८ से २४:५९ मृत्यु पञ्चक - २४:५९ से २६:२५ अग्नि पञ्चक - २६:२५ से २७:४८ शुभ मुहूर्त - २७:४८ से २९:२३ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज के दिन से आप कुछ अधिक आशा लगाए रहेंगे दिन के मध्यान तक दिनचार्य सुव्यवस्थित रहेगी लेकिन मध्यान बाद से स्वभाव में लापरवाही आने के कारण अव्यवस्था बढ़ेगी। धन लाभ आज किसी ना किसी रूप में अवश्य होगा परन्तु आशानुकूल ना होने पर मन उदास भी रहेगा। आपका मनमौजी व्यवहार स्नेहीजन से संबंध में कड़वाहट लायेगा। किसी से किया वादा अंत समय मे तोड़ने पर कलह की स्थिति बनेगी। धर्म कर्म में आस्था तो रहेगी लेकिन पूजा पाठ केवल औपचारिकता पूर्ति के लिये ही करेंगे। कार्य व्यवसाय की गति सामान्य रहेगी परन्तु मन की चंचलता उचित लाभ से दूर रखेगी। स्वास्थ्य में सुधार आएगा मौज शौक पर बिना विचारे खर्च करेंगे। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज के दिन आप कुछ अभाव का अनुभव करेंगे फिर भी परिस्थिति के अनुसार स्वयं को ढाल लेना ही बेहतर समझेंगे। आज आप अपने स्वभाव में परिवर्तन लाने का प्रयास करेंगे इसमें काफी हद तक सफल भी रहेंगे लेकिन मन की इच्छाओं को मारना आंतरिक दुख का कारण बनेगा। आज परोपकार और आध्यात्म की भावना रहने से अपने कार्य छोड़ औरो की सहायता को तत्पर रहेंगे इसके पीछे कुछ स्वार्थ भी अवश्य रहेगा। कार्य क्षेत्र से लाभ की आशा अन्य दिनों की तुलना में कम रहेगी दिनचार्य को भी उसी अनुसार रखेंगे। संध्या के आस पास थोड़ा बहुत धन मिलने से संतोष होगा लेकिन परिजन आपसे असंतुष्ट ही रहेंगे। सेहत आज लगभग ठीक ही रहेगी। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज आपको लाभ की सम्भावना दिन के आरंभ से ही रहेगी कुछ शुभ प्रसंग घटने पर मानसिक रूप से निश्चिन्त रहेंगे। कार्य क्षेत्र पर आज अन्य दिनों की तुलना में कम मेहनत से अधिक लाभ प्राप्त कर सकेंगे। नौकरी वाले लोग अतिरिक्त आय बनाने के लिये जोड़ तोड़ करेंगे इसमें सफलता मिलेगी लेकिन विलंब से। आर्थिक रूप से दिन मध्यान तक उदासीन रहने के कारण अधीरता आएगी जल्दबाजी से बचें धन लाभ विलंब से सही लेकिन होगा जरूर। व्यापार में विस्तार कर सकते है लेकिन नया व्यवसाय आरम्भ करने के लिये एक दिन और प्रतीक्षा करें। पारिवारिक सदस्य आपके निर्णय की प्रतीक्षा में रहेंगे किसी को निराश नही करेंगे। धर्म कर्म में आस्था बढ़ेगी। सेहत में आपकी गलती से शिथिलता आएगी। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज के दिन कोई भी निर्णय जल्दबाजी में ना ले वरना बाद में पछताना पड़ेगा परिस्थितियां आज हानिकारक बनी हुई है सही दिशा में जा रहा काम भी किसी की गलती से बिगड़ने की संभावना है। कार्य व्यवसाय में आज किसी भी प्रकार की जोर जबरदस्ती नुकसान कराएगी। धन को लेकर दो पक्षो में खींचतान की स्थिति बनेंगी धर्य से काम लें अन्यथा मामला गंभीर हो सकता है। कार्य स्थल पर सहकर्मियों का असहयोगी व्यवहार अखरेगा। काम के समय आज सभी पीठ दिखाएंगे केवल घर के सदस्य ही कठिन परिस्थिति में साथ देंगे। पारिवारिक वातावरण भी किसी ना किसी कारण उखड़ा सा रहेगा। आरोग्य में कमी रहेगी। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज का दिन राज-समाज मे आपकी प्रतिष्ठा बढ़ाएगा। आज कुछ ना करने पर भी आपका व्यक्तित्त्व बढ़ा हुआ रहेगा। लेकिन थोड़ी सी प्रशंसा पाकर अहम की भावना भी आएगी अपने से छोटो को अहमियत नही देंगे जहां से स्वार्थ सिद्धि की संभावना रहेगी वहां चापलूसी करने से भी नही चूकेंगे परन्तु जहां कोई लाभ नजर नही आएगा वहां देखेंगे तक नही। कार्य व्यवसाय में बुद्धि चातुर्य से लाभ कमाएंगे लेकिन किसी ना किसी कारण कुछ समय के लिये अशांति बनेगी। नौकरो अथवा सहकर्मियों पर ज्यादा दबाव डालने पर अकेले काम करने की नौबत आ सकती है। गृहस्थ जीवन मे आप हास्य के पात्र बनेंगे लेकिन शन्ति रहेगी। सेहत आज कुछ बेहतर बनेगी। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज का दिन कार्यो में सफलता दिलाने वाला रहेगा परन्तु सफलता को धन के साथ ना जोड़े अन्यथा दुखी होना पड़ेगा। आर्थिके दृष्टिकोण से दिन पहले की तुलना में बेहतर रहेगा परन्तु इसके लिये सहयोग की आवश्यकता भी पड़ेगी। वैसे तो आज आप व्यवहारिक ही रहेंगे लेकिन उच्चवर्गीय लोगो के साथ संपर्क में में अभिमान जगायेगा जो आगे के लिये स्नेह संबंधों में खटास ला सकता है। कार्य क्षेत्र पर सरकारी सहयोग पाने के लिये दिन उत्तम है प्रयास में कमी ना रखें। नौकरी वालो पर अधिकारी कृपा दृष्टि रखेंगे लेकिन ज्यादा उत्सुक ना हो इसके पीछे बड़ा स्वार्थ हो सकता है। परिवार का वातावरण आपकी अनदेखी के कारण अशान्त होगा स्वतः ही सामान्य भी हो जाएगा। सेहत में कुछ समय के लिये नरमी रहेगी। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज का दिन आध्यात्मिक दृष्टिकोण से लाभदायक रहेगा। धर्म कर्म के प्रति आज निष्ठा रहेगी दान पुण्य करने के अवसर सुलभ होंगे इनका लाभ निकट भविष्य में किसी भी रूप में अवश्य मिलेगा। कार्य-व्यवसाय की स्थिति मध्यान तक दयनीय रहेगी इसके बाद एक आध सौदे मिलने से खर्च निकालने लायक आय हो जाएगी ज्यादा धन कमाने की कामना से आज डोर रहना ही बेहतर रहेगा सहज रूप से जितना मिले उसमे संतोष करें अन्यथा कोई नई मुसीबत आ सकती है। संध्या का समय व्यवसायी वर्ग के लिये सुखद रहेगा भविष्य से संबंधित शुभ समाचार मिलेंगे। घर की सुख शांति वाणी पर नियंत्रण पर निर्भर रहेगी। पेट संबंधित विकार होगा। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज दिन के आरंभ से ही मानसिक रूप से स्फूर्ति रहेगी सेहत उत्तम रहने पर भी आलस्य नही जाएगा। लेकिन दिनचार्य गई गति धीमी होने पर भी मध्यान बाद गंभीरता से कार्य कर कमियों की भरपाई कर लेंगे। आज आप जिस भी कार्य को करेंगे उसमे सफलता निश्चित रहेगी लेकिन कार्य आरंभ से पहले भ्रमित होने से बचें अन्य किसी से मार्गदर्शन की अपेक्षा ना रखें वरना कुछ उल्टा ही होगा। धन की आमद में पिछले दिनों से सुधार होगा दैनिक खर्च आसानी से निकल जायेंगे भविष्य के लिये संचय भी कर सकेंगे। नए व्यवसाय अथवा व्यवसाय विस्तार के लिये निवेश अत्यंत शुभ रहेगा। घर के सदस्य कामना पूर्ति में विलंब होने पर गुस्सा करेंगे पूर्ति होने के बाद उत्साहित रहेंगे। असन्तुलित खान-पान अथवा दिनचार्य नए रोग को जन्म देगी। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज का दिन सम्पन्नता कारक रहेगा दिन के आरंभिक भाग में किसी महत्त्वपूर्ण कार्य का निर्णय लेने में दुविधा होगी लेकिन परिजन अथवा अन्य किसी वरिष्ठ व्यक्ति का मार्गदर्शन इससे बाहर निकलेगा। कार्य-व्यवसाय में भाग्य का साथ मिलने पर प्रतिस्पर्धा के बाद भी संतोषजनक लाभ पा लेंगे धन के साथ ही अन्य सुख के साधनों में भी वृद्धि होगी। लेकिन ध्यान रहे आज छोटी मोटी बातो पर बहस करने से बचें अन्यथा भविष्य के लाभदायक संबंध खराब हो सकते है। नौकरी पेशा लोग अन्य लोगो से बेहतर कार्य करने पर सम्मानित होंगे। परिजनों अथवा किसी नजदीकी से उपहार लाभ मिलेगा पर इसके बीचे कुछ निजी स्वार्थ भी रहेगा। आरोग्य के ऊपर खर्च होगा। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज का दिन मिला-जुला फल देगा। आज आप जिस कार्य को करने का मन बनाएंगे उसके आरम्भ में पहले खराब सेहत बाधा डालेगी आरम्भ होने के बाद भी सरकारी अथवा अन्य आर्थिक कारणों से बीच मे छोड़ना पड़ा सकता है। कार्य क्षेत्र की गतिविधियां आपकी सोच के विपरीत रहेंगी सहकर्मी अथवा कर्मचारी आपकी अनदेखी का फायदा उठाने से चूकेंगे नही लोग अपना हित साधने के लिये आपके नुकसान की परवाह नही करेंगे। धन को लेकर आज कुछ ना कुछ समस्या लगी रहेगी। सही समय पर कार्य पूर्ण ना होने पर आगे के व्यावसायिक व्यवहार प्रभावित होंगे। परिजन अथवा अन्य बाहरी व्यक्ति किसी बात का बदला ले सकता है। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज आपके व्यक्तित्त्व में विकास होगा अधिकांश कार्यो को देखभाल कर ही करेंगे वाणी में मिठास रहेगी लेकिन मन मे कड़वाहट परिजनो से नही छुपा सकेंगे। कार्य क्षेत्र पर किस पुरानी बात को लेकर वैर भाव बढेगा लेकिन विवेक जाग्रत रहने के कारण स्थिति गंभीर नही हो सकेगी। काम-धंधे से आज चालाकी से ही लाभ कमाया जा सकता है परंतु प्रलोभन से बचे अन्यथा पुराने व्यवसायिक संबंध खराब हो सकते हैं। धन लाभ समय रहेगा। नौकरी करने वाले अपनी विद्या बुद्धि के बल से उन्नति पाएंगे सामाजिक क्षेत्र पर आप अत्यंत बुद्धिमान समझे जाएंगे परन्तु घर मे आपकी छवि कुटिल जैसी रहेगी। घरेलू कामो की अनदेखी अशान्ति फैला सकती है। सेहत मानसिक परिश्रम अधिक रहने के कारण विपरीत रहेगी। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज का दिन प्रतिकूल फलदायी रहेगा। दिन का पहला भाग नासमझी के कारण व्यर्थ खराब होगा। परिजनो से बिना कारण के ही फटकार सुननी पड़ेगी स्वभाव में उद्दंडता तो रहेगी परन्तु स्थिति को भांप विरोध नही करेंगे। कार्य क्षेत्र पर भी आज मानसिक दबाव में कार्य करना पड़ेगा जो निर्णय सही लग रहे होंगे वह अंत समय मे गलत सिद्ध होंगे धन संबंधित व्यवहार आज देख भाल कर ही करें विवाद होने की आशंका है। कार्य क्षेत्र पर भी गरमा गरमी का माहौल बनेगा जिसका सीधा असर काम पर पड़ेगा धन लाभ में कमी आने से भी परेशान रहेंगे। संध्या का समय घर मे मौन रहकर बिताये धर्य खोने पर विवाद बढ़ सकता है। 🌐http://www.vkjpandey.in 〰〰〰〰〰〰〰〰〰 https://t.me/OnlineMandir 🚩 दैनिक पंचांग, राशिफल, व्रत त्योहार तथा हिन्दू धार्मिक जानकारी जैसे पोस्ट पाने के लिए हमारे व्हाट्सएप समूह ऑनलाइन मंदिर से जुड़े। 🤳 लिंक- 👇🏻 https://chat.whatsapp.com/I0lnC06D3bfGIhcWkRZPBb

+21 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 157 शेयर
Pt Vinod Pandey 🚩 May 14, 2021

🌞 ~ आज का हिन्दू #पंचांग ~ 🌞 ⛅ दिनांक 15 मई 2021 ⛅ दिन - #शनिवार ⛅ विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077) ⛅ शक संवत - 1943 ⛅ अयन - उत्तरायण ⛅ ऋतु - ग्रीष्म  ⛅ मास - वैशाख ⛅ पक्ष - शुक्ल  ⛅ तिथि - तृतीया सुबह 07:59 तक तत्पश्चात चतुर्थी ⛅ नक्षत्र - मॄगशिरा सुबह 08:39 तक तत्पश्चात आर्द्रा ⛅ योग - धृति 16 मई रात्रि 02:29 तक तत्पश्चात शूल ⛅ राहुकाल - सुबह 09:18 से सुबह 10:57 तक ⛅ सूर्योदय - 06:02  ⛅ सूर्यास्त - 19:08  ⛅ दिशाशूल - पूर्व दिशा में ⛅ व्रत पर्व विवरण - विनायक चतुर्थी   💥 विशेष - तृतीया को परवल खाना शत्रुओं की वृद्धि करने वाला है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34) 🌷 सुख-समृद्धि की सदैव वृद्धि हेतु 🌷 🏡 घर के मध्य में तुलसी का पौधा होने से घर में प्रेम के साथ-साथ सुख-समृद्धि की भी सदैव वृद्धि होती रहती है। 🌷 देशी गाय व भैंस के दूध में अंतर 🌷 🐄 देशी गाय का दूध 🐄 ✅ १] सुपाच्य होता है। ✅ २] इसमें स्वर्ण-क्षार होते हैं। ✅ ३] बुद्धि को कुशाग्र बनाता है। ✅ ४] स्मरणशक्ति बढाता है एवं स्फूर्ति प्रदान करता है। ✅ ५] यह सत्त्वगुण बढ़ाता है। ✅ ६] गाय अपना बछड़ा देखकर स्नेह व वात्सल्य से भर के दूध देती है। 🐃 भैंस का दूध 🐃 ❌ १] पचने में भारी होता है। ❌ २] इसमें स्वर्ण-क्षार नहीं होते हैं। ❌ ३] बुद्धि को मंद करता है। ❌ ४] यह आलस्य व अत्यधिक नींद लाता है। ❌ ५] यह तमोगुण बढ़ाता है। ❌ ६] भैंस स्वाद व खुराक देखकर दूध देती है। भैंस का दूध पीके बड़े होनेवाले भाई सम्पदा के लिए लड़ते-मरते हैं। 🐄 देशी गाय के दूध में सम्पूर्ण प्रोटीन्स रहने के कारण यह मनुष्यों के लिए अनिवार्य है। भैंस के दूध की अपेक्षा गाय के दूध में रहनेवाले प्रोटीन्स सुगमता से पचते हैं। गाय के दूध में ऑक्सिडेज तथा रिडक्टेज एंजाइम की प्रचुरता रहती है, जो पाचन में सहायता देने के अतिरिक्त दूध पीनेवालों के शरीर में पाये जानेवाले टोक्सिंस (विषैले पदार्थ) को दूर करते हैं। 🐄 देशी गाय के दूध की और भी अनेक विशेषताएँ हैं। ऊपर दिये गये बिन्दुओं से देशी गाय के दूध की श्रेष्ठता स्पष्ट हो जाती है। देशी गाय का दूध पीकर हम आयु, बुद्धिमत्ता, सात्त्विकता, निरोगता आदि बढायें या भैंस का दूध पी के इन्हें घटायें – यह हमारे हाथ की बात है। 🐃 भैंस के दूध से भी अधिक हानिकारक है जर्सी आदि विदेशी संकरित गायों का दूध। 🌐http://www.vkjpandey.in 🙏🏻🌷🌻🌹🍀🌺🌸🍁💐🙏🏻 https://t.me/OnlineMandir 🚩 दैनिक पंचांग, राशिफल, व्रत त्योहार तथा हिन्दू धार्मिक जानकारी जैसे पोस्ट पाने के लिए हमारे व्हाट्सएप समूह ऑनलाइन मंदिर से जुड़े। 🤳 लिंक- 👇🏻 https://chat.whatsapp.com/I0lnC06D3bfGIhcWkRZPBb

+31 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 83 शेयर

🏵️🕉️शुभ शनिवार🏵️शुभ प्रभात् 🕉️🏵️ 2078-विजय श्री हिंदू पंचांग-राशिफल-1943 🏵️-आज दिनांक--15.05.2021-🏵️ श्री ज्योतिष सेवा संस्थान भीलवाड़ा (राज.) 74.30 - रेखांतर मध्यमान - 75.30 शिक्षा नौकरी आजीविका प्रेम विवाह भाग्योदय (प्रामाणिक जानकारी--प्रभावी समाधान) --------------------------------------------------------- -विभिन्न शहरों के लिये रेखांतर(समय) संस्कार- (लगभग-वास्तविक समय के समीप) दिल्ली +10मिनट---------जोधपुर -6 मिनट जयपुर +5 मिनट------अहमदाबाद-8 मिनट कोटा +5 मिनट-------------मुंबई-7 मिनट लखनऊ +25 मिनट------बीकानेर-5 मिनट कोलकाता +54 मिनट-जैसलमेर -15 मिनट ___________________________________ _____________आज विशेष_____________ श्री महामृत्युंजय मंत्र जाप एवं मंत्र शक्ति महत्व ____________________________________ आज दिनांक...................... .15.05.2021 कलियुग संवत्.............................. 5123 विक्रम संवत................................ 2078 शक संवत....................................1943 संवत्सर.................................. .श्री राक्षस अयन..................................... उत्तरायण गोल.............................................उत्तर ऋतु.............................................ग्रीष्म मास...........................................वैशाख पक्ष....................................... शुक्ल तिथि.... .तृतीया(द्वि). प्रातः 7.59 तक/ चतुर्थी वार......................................... शनिवार नक्षत्र........ मृगशिरा. प्रातः 8.38 तक / आर्द्रा चंद्र राशि................मिथुन. संपूर्ण (अहोरात्र) योग............... धृति. रात्रि. 2.27 तक / शूल करण.........................गर. प्रातः 7.59 तक करण...वणिज. रात्रि. 9.03 तक / विष्टि(भद्रा) ____________________________________ सूर्योदय..............................5.47.51 पर सूर्यास्त...............................7.08.05 पर दिनमान............................... 13.20.13 रात्रिमान................................10.39.17 चंद्रोदय................ .प्रातः 8.10.14 AM पर चंद्रास्त................रात्रि. 10.23.32 PM पर राहुकाल........प्रातः 9.08 से 10.48 (अशुभ) यमघंट.....अपरा. 2.08 से 3.48 तक(अशुभ) अभिजित........(मध्या)12.01 से 12.55 तक पंचक..................................आज नहीं है शुभ हवन मुहूर्त(अग्निवास)............. आज है दिशाशूल..................................पूर्व दिशा दोष निवारण.... .उड़द का सेवन कर यात्रा करें ____________________________________ ____आज की सूर्योदय कालीन ग्रह स्थिति____ ग्रह स्पष्ट.. राशि.. सूर्य --------वृषभ 0°15' कृत्तिका, 2 ई चन्द्र ----मिथुन 5°15' मृगशीर्षा, 4 की बुध-------वृषभ 21°59' रोहिणी, 4 वु शुक्र -------वृषभ 13°9' रोहिणी, 1 ओ मंगल------मिथुन 18°58' आद्रा, 4 छ बृहस्पति ---- कुम्भ 5°57' धनिष्ठा, 4 गे शनि -------मकर 19°23' श्रवण, 3 खे राहू------वृषभ 17°42' रोहिणी, 3 वी केतु------- - वृश्चिक 17°42' ज्येष्ठा, 1 ___________________________________ चौघड़िया (दिन-रात)........केवल शुभ कारक * चौघड़िया दिन * शुभ...................प्रातः 7.28 से 9.08 तक चंचल.............अपरा. 12.28 से 2.08 तक लाभ...............अपरा. 2.08 से 3.48 तक अमृत...............अपरा. 3.48 से 5.28 तक * चौघड़िया रात्रि * लाभ.......... सायं-रात्रि. 7.08 से 8.28 तक शुभ................ रात्रि. 9.48 से 11.08 तक अमृत......रात्रि. 11.08 से 12.28 AM तक चंचल.रात्रि. 12.28 AM से 1.48 AM. तक लाभ.....रात्रि. 4.27 AM से 5.47 AM तक (विशेष - ज्योतिष शास्त्र में एक शुभ योग और एक अशुभ योग साथ साथ आते हैं तो शुभ योग की स्वीकार्यता मानी गई है ) ___________________________________ *शुभ शिववास की तिथियां* शुक्ल पक्ष-2-----5-----6---- 9-------12----13. कृष्ण पक्ष-1---4----5----8---11----12----30. ____________________________________ जानकारी विशेष -यदि किसी बालक का जन्म गंड मूल(रेवती, अश्विनी, अश्लेषा, मघा, ज्येष्ठा और मूल) नक्षत्रों में होता है तो नक्षत्र शांति को आवश्यक माना गया है.. आज जन्मे बालकों का नक्षत्र के चरण अनुसार राशिगत नामाक्षर.. 08.38 AM तक--मृगशिरा-----4------(की) (पाया - स्वर्ण) 03.19 PM तक-----आर्द्रा-----1------(कू) 09.58 PM तक-----आर्द्रा-----2------(घ) 04.36 AM तक-----आर्द्रा-----3------(ङ) उपरांत रात्रि तक-----आर्द्रा -----4------(छ) (पाया-रजत) __________सभी की राशि मिथुन _________ ____________________________________ ____________आज का दिन______________ दिन विशेष..............भद्रा.9.03 से रात्रि पर्यंत व्रत विशेष...................................... नहीं नियमित व्रत............. वैशाख स्नान व्रत जारी पर्व विशेष.......................................नहीं सर्वा.सि.योग................................... नहीं सिद्ध रवियोग......... प्रातः 8.38 से रात्रि पर्यंत ____________________________________ _____________कल का दिन_____________ दिनांक...............................16.05 2021 तिथि.............. .वैशाख शुक्ला चतुर्थी रविवार दिन विशेष...............भद्रा. प्रातः 10.01 तक व्रत विशेष...................................... नहीं नियमित व्रत............. वैशाख स्नान व्रत जारी पर्व विशेष.......................................नहीं सर्वा.सि.योग................................... नहीं सिद्ध रवियोग....... प्रातः5.47 से 11.13 AM ____________________________________ _____________आज विशेष _____________ महामृत्युंजय मंत्र जाप और मंत्र शक्ति जागरण कोई भी मंत्र एक बार में सफलता नहीं देता है, मंत्रों में ऊर्जा जगाने के लिए सवा लाख जप करने पड़ते हैं और वह भी पूरी श्रद्धा भक्ति से। तब ये जागृत होकर हमारे लिए सुरक्षा कवच का काम करते हैं। ये संपुट महामृत्युंजय मंत्र है जिसके नित्य पाठ से घर में अचानक घटने वाली दुर्घटनाओं को रोका जा सकता है,जब बड़े बड़े उपाय काम न करें तब ये संजीवनी बूटी का काम करता है, इसलिए इसे महा मृत्युंजय मंत्र कहा जाता है, बहुत से लोगों का कहना है कि हमने इसे किसी बीमार व्यक्ति को ठीक करने के लिए किया था लेकिन वह व्यक्ति तो ठीक नहीं हुआ। तो उसके लिए में यह कहना चाहता हूं कि आपने इसके रहस्य को समझा ही नहीं है। इस मंत्र को करने के लिए किसी के बीमार होने का इंतजार नहीं करना चाहिए,बल्कि बीमारी हमारे घर में न आए उसके लिए इसे नियमित करना चाहिए। जो लोग नियमित रूप से इस मंत्र की एक माला रोज सुबह या शाम करते हैं उनके घर का कोई सदस्य दुर्घटना का शिकार नहीं होता है, इतना शक्तिशाली मंत्र होता है ये, इसे और अधिक शक्तिशाली बनाने के लिए आप मंत्र जाप के समय एक कटोरी जल में गंगाजल में मिलाकर साथ रखें और जब एक माला जाप पूरा हो जाए तो यह जल सभी परिवार के सदस्यों को थोड़ा थोड़ा पिलाकर बचा हुआ जल पूरे घर में छिड़के। ऐसा अगर आप रोज करते हैं तो आपको इसके चमत्कारी प्रभाव अनेकों बार देखने को मिलते रहेंगे। (आजकल जो महामारी चल रही है उसे रोकने के लिए भी आप और हमें इसकी सहायता लेनी चाहिए। बहुत से लोग मिलकर जब इस मंत्र का उच्चारण करते हैं तो इसकी स्वरनाद तरंगें उठने लगती है जो बातावरण में शामिल होकर सूक्ष्म से सूक्ष्म विषाणुओं को मारने की क्षमता रखतीं हैं।) अगर घर के सभी सदस्य मिलकर इस मंत्र का जप करते हैं तो आपका घर सकारात्मकता से भर जायेगा और आपके घर को किसी भी प्रकार की नकारात्मकता छू नहीं पायेगी। महामृत्युंजय मंत्र का लाभ तभी मिलता है जब इसे संपुट के साथ और हृदय से जपा गया हो। इस मंत्र की महिमा तो अनंत है जिसे बताया नहीं महसूस किया जा सकता है। हे प्रभु फिर भी जाने अंजाने में मुझसे कोई भूल हो गई हो तो क्षमा करें। ---------------------------------------------------------- *संकलनकर्त्ता* श्री ज्योतिष सेवाश्रम सेवाश्रम संस्थान (राज) ___________________________________ ___________आज का राशिफल__________ मेष-(चू चे चो ला ली लू ले लो अ) आज दाँत का दर्द या पेट की तक़लीफ़ आपके लिए परेशानी खड़ी कर सकती है। तुरंत आराम पाने के लिए अच्छे चिकित्सक की सलाह लेने में कोताही न बरतें। आज आपको अपने उन रिश्तेदारों को पैसा उधार नहीं देना चाहिए जिन्होंने आपका पिछला उधार अब तक वापस नहीं किया है। अगर आप दफ़्तर में अतिरिक्त समय लगाएंगे, तो आपकी घरेलू ज़िंदगी पर नकारात्मक असर पड़ सकता है। अगर आप अपने प्रेमी के साथ कहीं बाहर घूमने जा रहे हैं तो कपड़े सोच-समझकर पहनें। अगर आप ऐसा नहीं करते तो आपका प्रेमी आपसे नाराज हो सकता है। एकांत में वक्त बिताना अच्छा है लेकिन आपके दिमाग में कुछ चल रहा है तो लोगों से दूर रहकर आप और ज्यादा परेशान हो सकते हैं। इसलिए आपको हमारी सलाह है कि लोगों से दूर रहने से बेहतर होगा किसी अनुभवी शख्स से अपनी परेशानी के बारे में बात करें। रिश्तेदारों के चलते जीवनसाथी से वाद-विवाद हो सकता है, लेकि आख़िर में सब ठीक हो जाएगा। हमेशा आप अपनी बातों को सही मान लेते हैं। ऐसा करना सही नहीं है आपने विचारों को लचीला बनाएं। वृषभ-(इ उ एओ वा वी वू वे वो) आज अपने काम के लिए दूसरों पर दबाव न डालें। दूसरे लोगों की इच्छाओं और दिलचस्पियों पर भी ग़ौर करें, इससे आपको दिली ख़ुशी हासिल होगी। आपके पास आज पैसा भी पर्याप्त मात्रा में होगा और इसके साथ ही मन में शांति भी होगी। आपको बच्चों के साथ कुछ समय बिताने, उन्हें अच्छे संस्कार देने और उनकी ज़िम्मेदारी समझाने की ज़रूरत है। अपने दोस्त से बहुत लम्बे समय बाद मिलने का ख़याल आपके दिल की धड़कन को बढ़ा सकता है। जीवनसंगी के साथ वक्त बिताने के लिए आज आप ऑफिस से जल्दी निकल सकते हैं लेकिन रास्ते में अत्यधिक जाम की वजह से आप ऐसा करने में समर्थ नहीं हो पाएंगे। यह शादीशुदा ज़िन्दगी के सबसे ख़ास दिनों में से एक है। आपको प्रेम की गहराई का अनुभव करेंगे। परिवार के साथ किसी मॉल या शॉपिंग कॉम्प्लेक्स जाने की संभावना है। हालाँकि इससे आपका ख़र्चा काफ़ी बढ़ सकता है। मिथुन- (क की कू घ ङ छ के को ह) आज सेहत के नज़रिए से यह वक़्त थोड़ा ठीक नहीं है, इसलिए जो आप खाएँ उसके प्रति सावधान रहें। जो लोग टैक्स चोरी करते हैं आज वो बड़ी मुसीबत में फंस सकते हैं। इसलिए आपको यही सलाह दी जाती है कि टैक्स की चोरी न करें। दफ़्तर के कामकाज में ज़्यादा व्यस्तता के चलते अपने जीवनसाथी के साथ आपका रिश्ता तनावपूर्ण हो सकता है। आज आपको अपने प्रिय की याद सताएगी। सफ़र के लिए दिन ज़्यादा अच्छा नहीं है। आपका जीवनसाथी आपकी ज़रूरतों को अनदेखा कर सकता है, जिसके चलते आप चिड़चिड़े हो सकते हैं। यह दिन दोस्तों-रिश्तेदारों के साथ शॉपिंग पर जाने का है। बस अपने ख़र्चों पर थोड़ी नज़र रखें। कर्क- (ही हू हे हो डा डी डू डे डो) अब तक जो धुंध आपके चारों तरफ़ छायी हुई है और आपकी प्रगति को बाधित कर रही है, उससे बाहर निकलने का समय है। आर्थिक तौर पर सुधार तय है। अपने बच्चों को अपने उदार बर्ताव का बेजा फ़ायदा न उठाने दें। बाहरी चीज़ों का अब कोई ख़ास मायने आपके लिए नहीं बचा है, क्योंकि आप ख़ुद को हमेशा प्यार की ख़ुमारी में महसूस करते हैं। आपका व्यक्तित्व और लोगों से थोड़ा अलग है आप अकेले वक्त बिताना पसंद करते हैं। आज आपको अपने लिए वक्त तो मिलेगा लेकिन ऑफिस की कोई समस्या आपको सताती रहेगी। आज आप महसूस करेंगे कि जीवनसाथी के साथ की एहमियत कितनी हे। परिवार के साथ मिलकर किसी ज़रूरी फ़ैसले को अन्तिम रूप दिया जा सकता है। ऐसा करने के लिए यही सही वक़्त भी है। आगे चलकर यह निर्णय काफ़ी लाभदायक साबित होगा। सिंह- (मा मी मू मे मो टा टी टू टे) आज के मनोरंजन में बाहर की गतिविधियों और खेल-कूद को शामिल किया जाना चाहिए। जो उधारी के लिए आपके पास आएँ, उन्हें नज़रअन्दाज़ करना ही बेहतर रहेगा। बच्चों के साथ ज़्यादा सख़्ती उन्हें नाराज़ कर सकती है। ख़ुद को नियंत्रित रखने और यह याद रखने की ज़रूरत है कि ऐसा करने से आप अपने और उनके बीच दीवार खड़ी कर लेंगे। थोड़ी कोशिश और करें। आज भाग्य आपका साथ ज़रूर देगा, क्योंकि यह आपका दिन है। इस राशि के बच्चे आज खेलकूद में दिन बिता सकते हैं, ऐसे में माता-पिता को उनपर ध्यान देना चाहिए क्योंकि चोट लगने की संभावना है। आप अपने जीवन की कुछ यादगार शामों में से एक आज अपने जीवनसाथी के साथ बिता सकते हैंं। बिना किसी का साथ पाये भी आजके दिन का आप भरपूर आनंद उठा पाएंगे। कन्या- (टो प पी पू ष ण ठ पे पो) आज के दिन आप अपनी भावनाओं पर क़ाबू रखने में दिक़्क़त महसूस करेंगे - आपका अजीब रवैया लोगों को भ्रमित करेगा और इसलिए आपमे झुंझलाहट पैदा करेगा। रियल एस्टेट और वित्तीय लेन-देन के लिए अच्छा दिन है। दूसरों को प्रभावित करने की आपकी क्षमता आपको कई सकारात्मक चीज़ें दिलाएगी। अपने दिल की बात ज़ाहिर करके आप ख़ुद को काफ़ी हल्का और रोमांचित महसूस करेंगे। आपका खाली वक्त आज किसी गैरजरुरी काम में खराब हो सकता है। घरेलू मोर्चे पर बढ़िया खाने और गहरी नीन्द का पूरा आनंद आप ले पाएंगे। लोगोंं के बीच रहकर सबका सम्मान करना आपको आता है इसलिए आप भी सबकी नजरों में अच्छी छवि बना पाते हैं। तुला- (रा री रू रे रो ता ती तू ते) आज किसी दोस्त से मिली ख़ास तारीफ़ ख़ुशी का ज़रिया बनेगी। ऐसा इसलिए है क्योंकि आपने अपनी ज़िंदगी को पेड़ की तरह बना लिया है, जो ख़ुद तपती धूप में खड़ा होकर और उसे सहकर भी राहगीरों को छांव देता है। आज का दिन ऐसी चीज़ों को ख़रीदने के लिए बढ़िया है, जिनकी क़ीमत आगे चलकर बढ़ सकती है। आपको कोई अच्छी ख़बर मिल सकती है, जो न केवल आपको बल्कि आपके परिवार को भी रोमांचित कर देगी। आपको अपने रोमांच को नियंत्रित रखने की ज़रूरत है। संभव है आज आप अपने प्रिय को टॉफ़ी और चाॅकलेट वग़ैरह दें। इस राशि के छात्र-छात्राएं आज अपने कीमती समय का दुरुपयोग कर सकते हैं। आप मोबाइल या टीवी पर आवश्यकता से अधिक समय जाया कर सकते हैं। यह दिन आपके जीवनसाथी के रूमानी पहलू को भरपूर तरीक़े से दिखाएगा। आज के दिन बाहर का भोजन आपके पेट की हालात खराब कर सकता है। इसलिए बाहर खाने से आज बचें। वृश्चिक- (तो ना नी नू ने नो या यी यू) आज आप उम्मीदों की दुनिया में हैं। निवेश करना कई बार आपके लिए बहुत फायदेमंद साबित होता है आज आपको यह बात समझ में आ सकती है क्योंकि किसी पुराने निवेश से आज आपको मुनाफा हो सकता है। आपका मज़ाकिया स्वभाव आपके चारों ओर के वातावरण को ख़ुशनुमा बना देगा। आप जहाँ हैं वहीं रहेंगे, बावजूद इसके प्यार आपको एक नए और अनोखे लोक में ले जाएगा। साथ ही आज आप रोमानी सफ़र पर भी जा सकते हैं। आज के दिन आपके कुछ दोस्त आपके घर में आ सकते हैं और उनके साथ आप समय बिता सकते हैं हालांकि इस दौरान शराब, सिगरेट जैसे पदार्थों का सेवन करना आपके लिए अच्छा नहीं रहेगा। वैवाहिक जीवन के लिहाज़़ से यह बढ़िया दिन है। साथ में एक अच्छी शाम गुज़ारने की योजना बनाएँ। यह दिन हो सकता है बहुत ही बढ़िया - दोस्तों या परिजनों के साथ बाहर जाकर फ़िल्म देखने की योजना भी बन सकती है। धनु-ये यो भा भी भू धा फा ढ़ा भे) आज आपके लिए मौज-मस्ती की यात्राएं और सामाजिक मेलजोल आपको ख़ुश रखेंगे और सुकून देंगे। वैसे तो अपना पैसा दूसरे को देना किसी को पसंद नहीं आता लेकिन आज आप किसी जरुरतमंद को पैसा देकर सुकून का अनुभव करेंगे। अपने घर के वातावरण में कुछ बदलाव करने से पहले आपको सभी की राय जानने की कोशिश करनी चाहिए। प्रेम भगवान की पूजा की ही तरह पवित्र है। यह आपको सच्चे अर्थों में धर्म व आध्यात्मिकता की ओर भी ले जा सकता है। घर के छोटे सदस्यों के साथ गप्पें लगाकर आज आप अपने खाली समय का अच्छा इस्तेमाल कर सकते हैं। जीवनसाथी की वजह से आपको महसूस होगा कि उनके लिए दुनिया में आप ही सबसे महत्वपूर्ण हैं। किसी दोस्त की सहायता करके आज आप अच्छा महसूस कर सकते हैं। मकर- (भो जा जी खी खू खे खो गा गी) आज आपका स्वास्थ्य दुरुस्त रहने की पूरी उम्मीद है। अपने अच्छे स्वास्थ्य के चलते आज आप अपने दोस्तों के साथ खेलने का प्लान बना सकते हैं। आपके मन में जल्दी पैसे कमाने की तीव्र इच्छा पैसा होगी। दोस्त और जीवनासाथी आराम तथा ख़ुशी देंगे, नहीं तो बाक़ी दिन उबाऊ और नीरस गुज़रेगा। जिनकी सगाई हो चुकी है, वे अपने मंगेतर से बहुत-सी ख़ुशियाँ पाएंगे। आज के समय में अपने लिए वक्त निकाल पाना बहुत मुश्किल है। लेकिन आज ऐसा दिन है जब आपके पास अपने लिए भरपूर समय होगा। आपको और आपके जीवनसाथी को कोई बहुत सुखद ख़बर सुनने को मिल सकती है। आपको अपने जीवन में आज किसी खास इंसान की कमी खल सकती है। कुंभ- (गू गे गो सा सी सू से सो द) आज आप अपना तनाव दूर करने के लिए परिवार वालों की मदद लें। उनकी सहयता को खुले दिल से स्वीकारें। अपनी भावनाओं को दबाएँ और छुपाएँ नहीं। अपने जज़्बात दूसरों के साथ साझा करने से फ़ायदा मिलेगा। आज आपका धन कई चीजों पर खर्च हो सकता है, आपको आज अच्छा बजट प्लान करने की आवश्यकता है इससे आपकी कई परेशानियां दूर हो सकती हैं। घरेलू मोर्चे पर समस्या खड़ी हो सकती है, इसलिए तोल-मोल कर ही बोलें। अपने प्रेम-प्रसंग के बारे में इधर-उधर ज़्यादा बातें न करें। अपने काम से आराम लेकर आज आप कुछ समय अपने जीवनसाथी के साथ बिता सकते हैं। पड़ोसियों का दख़ल शादीशुदा ज़िन्दगी में दिक़्क़त पैदा करने की कोशिश कर सकता है, लेकिन आप व आपके जीवनसाथी के बीच का बंधन बहुत मज़बूत है और इसे तोड़ना आसान नहीं है। अपनी खुशी को जाहिर करें इससे आपसे जुडे लोगों को भी खुशी मिलती है। मीन- (दी दू थ झ ञ दे दो च ची) आज आप खाली समय का आनंद ले सकेंगे। अपने गुस्से पर काबू रखें और ऑफिस में सबके साथ ढ़ंग से व्यवहार करें अगर आप ऐसा नहीं करते तो आपकी जॉब जा सकती है और आपकी आर्थिक स्थिति खराब हो सकती है। अपने बच्चों के लिए योजना बनाने के लिहाज़ से अच्छा दिन है। दूसरों को ख़ुशियाँ देकर और पुरानी ग़लतियों को भुलाकर आप जीवन को सार्थक बनाएंगे। आज अपनेे विवेक का इस्तेमाल करते हुए ही घर के लोगों से बातें करें अगर आप ऐसा नहीं करते तो बेवजह के झगड़ों की वजह से आपका समय खराब हो सकता है। कुछ लोग सोचते हैं कि वैवाहिक जीवन ज़्यादातर झगड़ों और के इर्द-गिर्द ही घूमता है, लेकिन आज आपके सब कुछ शान्त रहने वाला है। हमेशा आप अपनी बातों को सही मान लेते हैं। ऐसा करना सही नहीं है आपने विचारों को लचीला बनाएं। __________________________________ 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ - संकलनकर्त्ता- ज्योतिर्विद् पं. रामपाल भट्ट श्री ज्योतिष सेवा संस्थान भीलवाड़ा (राज.) 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ __________________________________

+28 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 72 शेयर
Ajay Awasthi May 15, 2021

*🕉️।।जय श्री राम।।🕉️* *🕉️।।अथ पंचांगम्।।🕉️* *🕉️।।दि. 15 मई 2021शनिवार।।🕉️* *शालिवाहन शके -1943* *अयन -* उत्तरायण *ऋतु -* ग्रीष्म *मास -* वैशाख *पक्ष -* शुक्ल *सुर्योदय -* 05.39 *सुर्यास्त -* 18.42 *तिथी -* तृतीया ( 07.59 तक बादमें चतुर्थी ) *वार -* शनिवार *नक्षत्र -* मृग ( 08.38 तक बादमें आर्द्रा ) *योग -* धृती ( 26.27 तक बादमें शुल ) *करण -* गरज ( 07.59 तक बादमें वणिज ) *।।दिन विशेष।।* *सभी कार्यो के लिए शुभ दिन है.* *।।ग्रह गोचर।।* *1 चंद्र -* मिथुन ( अहोरात्र ) *2 सुर्य -* वृषभ *3 मंगल -* मिथुन *4 बुध -* वृषभ *5 गुरू -* कुंभ *6 शुक्र -* वृषभ *7 शनि -* मकर *8 राहु -* वृषभ *9 केतु -* वृश्चिक *10 हर्षल -* मेष *11 नेपच्यून -* कुंभ *12 प्ल्युटो -* मकर *विशेष* इस दिन शनिवज्रपंजर कवच स्तोत्राका पठण करे और *"ॐ शं शनैश्चराय नमः"* अथवा *ॐ नीलांजन समाभासं रविपुत्रं यमाग्रजम् ।* *छायामार्तंड संभूतं तं नमामि शनैश्चरम् ॥* इस मंत्रका किमान 108 बार जप करे. पाणीमे काले तील डालकर स्नान करे.सत्पात्री व्यक्तिको तेल दान करे. घरसे बाहर निकलते समय उडिद दाल खाकर बाहर निकलने पर ग्रहोकी अनुकूलता रहेगी. **आज के दिन मूली की सब्जी ना खावे. **आज के दिन नीला वस्त्र धारण करे. *।।विशेष मुहुर्त।।* लाभ मुहूर्त-- दोपहर 01.45 से दोपहर 03.15 पर्यंत  अमृत मुहूर्त-- दोपहर 03.15 से श्याम 04.45 तक राहु काल - 09.00 से 10.30 तक. *।।अथ राशि फलम्।।* *🐏मेष राशि- ( ARIES )* *( जन्माक्षर - चुे, चो, ला,ली, लु,ले,लो,आ)* *अश्वनी(4),भरणी(4),कृतिका(1)* आप सभी कार्यों को बेहतरीन तरीके से पूरा करने में सक्षम रहेंगे। आप की दबी हुई कोई प्रतिभा लोगों के समक्ष उजागर होगी। जिससे आपका आत्मविश्वास बढ़ेगा तथा मान-सम्मान में भी वृद्धि होगी। घर की सुख-सुविधा संबंधी वस्तुओं की खरीदारी में भी परिवार के साथ समय व्यतीत होगा। *🐂 वृषभ राशि- ( TAURUS )* *( जन्माक्षर - ई,उ,ए,ओ,वा,वी,वु,वे,वो)* *कृतिका(3),रोहिणी(4),मृगशिरा(2)*  आज दिनचर्या की गतिविधियों से हटकर किसी विशेष बात को गहराई से जानने के लिए समय व्यतीत करेंगे। तथा अध्यात्म से जुड़े विषयों में विशेष रूचि रहेगी। अगर पैतृक संबंधी कोई मामला रुका हुआ है, तो आज किसी की मध्यस्थता से हल हो सकता है। *👫 मिथुन राशि-( GEMINI )* *( जन्माक्षर -का,की,कु,घ,ङ,,छ,के,को,हा)* *मृगशिरा(2)आर्द्रा(4),पुनर्वसु(3)*  किसी को उधार दिया हुआ या रुका हुआ पैसा मिलने की संभावना है, इसलिए उसे वसूल करने में अपना विशेष रुप से ध्यान केंद्रित रखें। आज रिश्तेदारों अथवा पड़ोसियों के साथ किसी गंभीर विषय पर चर्चा हो सकती हैं। इस चर्चा में आपके द्वारा रखा गया मजबूत पक्ष आपके मान-सम्मान में वृद्धि करेगा। *🦀 कर्क राशि-( CANCER )* *( जन्माक्षर ही,हू,हे,हो,डा,डी डू,डे,डो,)* *पुनर्वसु(1)पुष्य(4)अश्लेषा(4)* कार्यक्षेत्र में काम की अधिकता रहेगी। परंतु जल्दबाजी की बजाय गंभीरता व सावधानी पूर्वक कार्य करने की आवश्यकता है। अपने कर्मचारियों के साथ संबंध खराब ना होने दें अन्यथा काम की गति धीमी हो सकती हैं। नौकरी पेशा व्यक्तियों को भी अपने काम को पूरी लगन से करने की जरूरत है। *🐆 सिंह राशि-( LEO )* *( जन्माक्षर -मा,मी,मू,में,मो,टा,टी,टू,टे,)* *मघा(4)पूर्वा.फा.(4)उ.फाल्गुनी(1)*  पारिवारिक लोगों की जरूरतों को पूरा करने तथा शॉपिंग वगैराह करने में समय व्यतीत होगा। आज रोजमर्रा की व्यस्ततम दिनचर्या में से कुछ समय सुकून और मौज मस्ती के लिए भी निकालेंगे। घर में रिश्तेदारों का भी आगमन होगा। *👩‍🦰 कन्या राशि-( VIRGO )* *( जन्माक्षर - टो,पा,पी,पू,ष,ण,ठ,पे,पो,)* *उ.फा(3)हस्त(4)चित्रा(2)* आज दोपहर बाद लाभदायक स्थितियां बन रही है, इसलिए दिन की शुरुआत में ही अपने महत्वपूर्ण काम पूरे करने संबंधी रूपरेखा बना लें। रियल एस्टेट से जुड़े लोगों की आज फायदेमंद डील हो सकती हैं। ऑफिस में अपने सहयोगियों के साथ किसी विशेष कार्य को लेकर विचार-विमर्श होगा। *⚖️ तुला राशि-( LIBRA )* *( जन्माक्षर - रा,री,रु,रे,रो,ता,ती,तू,ते,)* *चित्रा(2)स्वाती(4)विशाखा(3)*  कहीं से मन मुताबिक पेमेंट आ जाने से राहत मिलेगी और आर्थिक स्थिति भी मजबूत होगी। धार्मिक संस्थाओं के सेवा संबंधी कार्यों में आपका विशेष योगदान रहेगा। सामाजिक दायरा बढ़ेगा और कई प्रकार की गतिविधियों में भी व्यस्तता बनी रहेगी। *🦂 वृश्चिक राशि-( SCORPIO )* *( जन्माक्षर - तो,ना,नी,नू,ने,नो,या,यी,यू,)* *विशाखा(1)अनुराधा(4)ज्येष्ठा( 4)* आयात निर्यात संबंधी व्यवसाय में विशेष अनुबंध प्राप्त होंगे। किसी भी प्रकार का व्यवसायिक कर्जा ना लें, नहीं तो आप किसी मुसीबत में पड़ सकते हैं। सरकारी नौकरी में वर्तमान परिस्थितियों की वजह से अधिक कार्यभार रहेगा। *🏹 धनु राशि-( SAGITTARIUS )* *( जन्माक्षर - ये,यो,भा,भी,भू,ध,फ,ढ,भे,)* *मूल(4)पूर्वा.आषाढ(4)उ.षा(1)* पिछले कुछ समय से चल रही किसी समस्या का निवारण होने से आप स्वयं को तनाव मुक्त महसूस करेंगे। नजदीकी रिश्तेदारों तथा मित्रों के साथ सुखद समय व्यतीत होगा। और उनके साथ किसी विशेष मुद्दे पर विचार विमर्श भी होगा। *🐊 मकर राशि-( CAPRICORN )* *( जन्माक्षर - भो,जा,जी,खी, खू,खे, खो,गा,गी,)* *उ.षा(3)श्रवण(4)धनिष्ठा(2)* व्यापार में कार्यभार की बहुत अधिकता रहेगी। और अधिक मेहनत तथा परिणाम कम ही हासिल होंगे। अभी ज्यादा मुनाफे की उम्मीद ना रखें। नौकरीपेशा व्यक्तियों को अपना काम समय पर पूरा ना होने की वजह से उच्च अधिकारियों की नाराजगी सहनी पड़ सकती हैं। *🏺 कुम्भ राशि-( AQUARIUS )* *( जन्माक्षर - गु,गे,गो,सा,सी,सू,से,सो,दा,)* *धनिष्ठा(2)शतभिषा(4)पू.भाद्र(3)* आपके सकारात्मक तथा सहयोगात्मक व्यवहार की वजह से परिवार तथा समाज में विशेष मान-सम्मान प्राप्त होगा। अगर कोई विवादित भूमि संबंधी परेशानी चल रही है, तो आज उसे किसी अनुभवी व्यक्ति की सलाह से हल करने की कोशिश करें, अवश्य ही सफलता प्राप्त होगी। *🦈 मीन राशि-( PISCES )* *( जन्माक्षर - दी, दू,थ,झ,ञ,दे,दो,चा,फची,)* *पू.भाद्र(1)उ.भाद्रपद(4)रेवती(4)* आज आपको नए व्यवसायिक अनुबंध मिलने की पूरी संभावना है। अपना अधिक समय मार्केटिंग तथा प्रोडक्ट की क्वालिटी को बढ़ाने में लगाएं। नौकरी पेशा व्यक्तियों के अपने बॉस व उच्चाधिकारियों के साथ संबंध मजबूत बनेंगे। *🕉️।।जय माता दी।।🕉️* *🕉️।।आप सबका दिन मंगलमय हो।।🕉️* *🕉️।।भारत माता की जय।।🕉️*

+45 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 76 शेयर

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 ⛅ *दिनांक 14 मई 2021* ⛅ *दिन - शुक्रवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077)* ⛅ *शक संवत - 1943* ⛅ *अयन - उत्तरायण* ⛅ *ऋतु - ग्रीष्म* ⛅ *मास - वैशाख* ⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - तृतीया पूर्ण रात्रि तक* ⛅ *नक्षत्र - मॄगशिरा पूर्ण रात्रि तक* ⛅ *योग - सुकर्मा 15 मई रात्रि 01:47 तक तत्पश्चात धृति* ⛅ *राहुकाल - सुबह 10:57 से दोपहर 12:35 तक* ⛅ *सूर्योदय - 06:02* ⛅ *सूर्यास्त - 19:07* ⛅ *दिशाशूल - पश्चिम दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण - अक्षय तृतीया (पूरा दिन शुभ मुहूर्त), त्रेता युगादि तिथि, अखा तीज, विष्णुपदी संक्रांति (पुण्यकाल दोपहर 12:35 से सूर्यास्त तक), तृतीया वृद्धि तिथि* 💥 *विशेष - तृतीया को परवल खाना शत्रुओं की वृद्धि करने वाला है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *विष्णुपदी संक्रांति* 🌷 ➡ *जप तिथि : 14 मई 2021 शुक्रवार को ( विष्णुपदी संक्रांति )* *पुण्य काल सुबह दोपहर 12:35 से सूर्यास्त तक |* 🙏🏻 *विष्णुपदी संक्रांति में किये गये जप-ध्यान व पुण्यकर्म का फल लाख गुना होता है | – (पद्म पुराण , सृष्टि खंड)* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *अक्षय तृतीया* 🌷 ➡ *14 मई 2021 शुक्रवार को अक्षय तृतीया है ।* 🙏🏻 *'अक्षय' शब्द का मतलब है- जिसका क्षय या नाश न हो। इस दिन किया हुआ जप, तप, ज्ञान तथा दान अक्षय फल देने वाला होता है अतः इसे 'अक्षय तृतीया' कहते हैं।* 🌷 *वैशाखे मासि राजेन्द्र! शुक्लपक्षे तृतीयिका। अक्षया सा तिथिः प्रोक्ता कृत्तिकारोहिणीयुता। तस्यां दानादिकं सर्व्वमक्षयं समुदाहृतमिति* 🙏🏻 *भविष्यपुराण, मत्स्यपुराण, पद्मपुराण, विष्णुधर्मोत्तर पुराण, स्कन्दपुराण में इस तिथि का विशेष उल्लेख है। इस दिन जो भी शुभ कार्य किए जाते हैं, उनका बड़ा ही श्रेष्ठ फल मिलता है। इस दिन सभी देवताओं व पित्तरों का पूजन किया जाता है। पित्तरों का श्राद्ध कर धर्मघट दान किए जाने का उल्लेख शास्त्रों में है। वैशाख मास भगवान विष्णु को अतिप्रिय है अतः विशेषतः विष्णु जी की पूजा करें।* 🙏🏻 *भविष्यपुराण, ब्राह्मपर्व, अध्याय 21 के अनुसार* *वैशाखे मासि राजेन्द्र तृतीया चन्दनस्य च। वारिणा तुष्यते वेधा मोदकैर्भीम एव हि ।।* *दानात्तु चन्दनस्येह कञ्जजो नात्र संशयः। यात्वेषा कुरुशार्दूल वैशाखे मासि वै तिथिः।।* *तृतीया साऽक्षया लोके गीर्वाणैरभिनन्दिता। आगतेयं महाबाहो भूरि चन्द्रं वसुव्रता।।* *कलधौतं तथान्नं च घृतं चापि विशेषतः। यद्यद्दत्तं त्वक्षयं स्यात्तेनेयमक्षया स्मृता।।* *यत्किञ्चिद्दीयते दानं स्वल्पं वा यदि वा बहु। तत्सर्वमक्षयं स्याद्वै तेनेयमक्षया स्मृता।।* *योऽस्यां ददाति करकन्वारिबीजसमन्वितान्। स याति पुरुषो वीर लोकं वै हेममालिनः।।* *इत्येषा कथिता वीर तृतीया तिथिरुत्तमा। यामुपोष्य नरो राजन्नृद्धिं वृद्धिं श्रियं भजेत्।।* 🙏🏻 *वैशाख मास की तृतीया को चन्दनमिश्रित जल तथा मोदक के दान से ब्रह्मा तथा सभी देवता प्रसन्न होते हैं |* 🙏🏻 *देवताओं ने वैशाख मास की तृतीया को अक्षय तृतीया कहा है | इस दिन अन्न-वस्त्र-भोजन-सुवर्ण और जल आदि का दान करनेसे अक्षय फल की प्राप्ति होती है | इसी तृतीया के दिन जो कुछ भी दान किया जाता है वह अक्षय हो जाता है और दान देनेवाले सूर्यलोक को प्राप्त करता है | इस तिथि को जो उपवास करता है वह ऋद्धि-वृद्धि और श्री से सम्पन्न हो जाता है |* 🙏🏻 *स्कन्दपुराण के अनुसार, जो मनुष्य अक्षय तृतीया को सूर्योदय काल में प्रातः स्नान करते हैं और भगवान विष्णु की पूजा करके कथा सुनते हैं, वे मोक्ष के भागी होते हैं। जो उस दिन मधुसूदन की प्रसन्नता के लिए दान करते हैं, उनका वह पुण्यकर्म भगवान की आज्ञा से अक्षय फल देता है।* 🙏🏻 *भविष्यपुराण के मध्यमपर्व में कहा गया है* *वैशाखे शुक्लपक्षे तु तृतीयायां तथैव च ।* *गंगातोये नरः स्नात्वा मुच्यते सर्वकिल्बिषैः ।।* 🙏🏻 *वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया में गंगाजी में स्नान करनेवाला सब पापों से मुक्त हो जाता हैं | वैशाख मास की तृतीया स्वाती नक्षत्र और माघ की तृतीया रोहिणीयुक्त हो तथा आश्विन तृतीया वृषराशि से युक्त हो तो उसमें जो भी दान दिया जाता है, वह अक्षय होता है | विशेषरूप से इनमें हविष्यान्न एवं मोदक देनेसे अधिक लाभ होता है तथा गुड़ और कर्पुरसे युक्त जलदान करनेवाले की विद्वान् पुरुष अधिक प्रंशसा करते हैं, वह मनुष्य ब्रह्मलोक में पूजित होता हैं | यदि बुधवार और श्रवण से युक्त तृतीया हो तो उसमें स्नान और उपवास करनेसे अनंत फल प्राप्त होता हैं |* 🌷 *अस्यां तिथौ क्षयमुर्पति हुतं न दत्तं ।* *तेनाक्षयेति कथिता मुनिभिस्तृतीया ।* *उद्दिश्य दैवतपितृन्क्रियते मनुष्यै: ।* *तत् च अक्षयं भवति भारत सर्वमेव ।। – मदनरत्न* ➡ *अर्थ : भगवान श्रीकृष्ण युधिष्ठरसे कहते हैं, हे राजन इस तिथिपर किए गए दान व हवनका क्षय नहीं होता है; इसलिए हमारे ऋषि-मुनियोंने इसे ‘अक्षय तृतीया’ कहा है । इस तिथिपर भगवानकी कृपादृष्टि पाने एवं पितरोंकी गतिके लिए की गई विधियां अक्षय-अविनाशी होती हैं ।* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 जय श्री राधे राधे🙏🙏🚩🚩🚩

+58 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 285 शेयर
white beauty May 14, 2021

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Pt Vinod Pandey 🚩 May 13, 2021

🌞 ~ आज का हिन्दू #पंचांग ~ 🌞 ⛅ दिनांक 14 मई 2021 ⛅ दिन - #शुक्रवार ⛅ विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077) ⛅ शक संवत - 1943 ⛅ अयन - उत्तरायण ⛅ ऋतु - ग्रीष्म  ⛅ मास - वैशाख ⛅ पक्ष - शुक्ल  ⛅ तिथि - तृतीया पूर्ण रात्रि तक ⛅ नक्षत्र - मॄगशिरा पूर्ण रात्रि तक ⛅ योग - सुकर्मा 15 मई रात्रि 01:47 तक तत्पश्चात धृति ⛅ राहुकाल - सुबह 10:57 से दोपहर 12:35 तक ⛅ सूर्योदय - 06:02  ⛅ सूर्यास्त - 19:07  ⛅ दिशाशूल - पश्चिम दिशा में ⛅ व्रत पर्व विवरण - अक्षय तृतीया (पूरा दिन शुभ मुहूर्त), त्रेता युगादि तिथि, अखा तीज, विष्णुपदी संक्रांति (पुण्यकाल दोपहर 12:35 से सूर्यास्त तक), तृतीया वृद्धि तिथि   💥 विशेष - तृतीया को परवल खाना शत्रुओं की वृद्धि करने वाला है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34) 🌷 विष्णुपदी संक्रांति 🌷 ➡ जप तिथि : 14 मई 2021 शुक्रवार को ( विष्णुपदी संक्रांति ) पुण्य काल सुबह दोपहर 12:35 से सूर्यास्त तक। 🙏🏻 विष्णुपदी संक्रांति में किये गये जप-ध्यान व पुण्यकर्म का फल लाख गुना होता है। – (पद्म पुराण , सृष्टि खंड) 🌷 अक्षय तृतीया 🌷 ➡ 14 मई 2021 शुक्रवार को अक्षय तृतीया है।  🙏🏻 'अक्षय' शब्द का मतलब है- जिसका क्षय या नाश न हो। इस दिन किया हुआ जप, तप, ज्ञान तथा दान अक्षय फल देने वाला होता है अतः इसे 'अक्षय तृतीया' कहते हैं। 🌷 वैशाखे मासि राजेन्द्र! शुक्लपक्षे तृतीयिका। अक्षया सा तिथिः प्रोक्ता कृत्तिकारोहिणीयुता। तस्यां दानादिकं सर्व्वमक्षयं समुदाहृतमिति 🙏🏻 भविष्यपुराण, मत्स्यपुराण, पद्मपुराण, विष्णुधर्मोत्तर पुराण, स्कन्दपुराण में इस तिथि का विशेष उल्लेख है। इस दिन जो भी शुभ कार्य किए जाते हैं, उनका बड़ा ही श्रेष्ठ फल मिलता है। इस दिन सभी देवताओं व पित्तरों का पूजन किया जाता है। पित्तरों का श्राद्ध कर धर्मघट दान किए जाने का उल्लेख शास्त्रों में है। वैशाख मास भगवान विष्णु को अतिप्रिय है अतः विशेषतः विष्णु जी की पूजा करें।  🙏🏻 भविष्यपुराण, ब्राह्मपर्व, अध्याय 21 के अनुसार वैशाखे मासि राजेन्द्र तृतीया चन्दनस्य च। वारिणा तुष्यते वेधा मोदकैर्भीम एव हि।। दानात्तु चन्दनस्येह कञ्जजो नात्र संशयः। यात्वेषा कुरुशार्दूल वैशाखे मासि वै तिथिः।। तृतीया साऽक्षया लोके गीर्वाणैरभिनन्दिता। आगतेयं महाबाहो भूरि चन्द्रं वसुव्रता।। कलधौतं तथान्नं च घृतं चापि विशेषतः। यद्यद्दत्तं त्वक्षयं स्यात्तेनेयमक्षया स्मृता।। यत्किञ्चिद्दीयते दानं स्वल्पं वा यदि वा बहु। तत्सर्वमक्षयं स्याद्वै तेनेयमक्षया स्मृता।। योऽस्यां ददाति करकन्वारिबीजसमन्वितान्। स याति पुरुषो वीर लोकं वै हेममालिनः।। इत्येषा कथिता वीर तृतीया तिथिरुत्तमा। यामुपोष्य नरो राजन्नृद्धिं वृद्धिं श्रियं भजेत्।। 🙏🏻 वैशाख मास की तृतीया को चन्दनमिश्रित जल तथा मोदक के दान से ब्रह्मा तथा सभी देवता प्रसन्न होते हैं। 🙏🏻 देवताओं ने वैशाख मास की तृतीया को अक्षय तृतीया कहा है। इस दिन अन्न-वस्त्र-भोजन-सुवर्ण और जल आदि का दान करनेसे अक्षय फल की प्राप्ति होती है। इसी तृतीया के दिन जो कुछ भी दान किया जाता है वह अक्षय हो जाता है और दान देनेवाले सूर्यलोक को प्राप्त करता है। इस तिथि को जो उपवास करता है वह ऋद्धि-वृद्धि और श्री से सम्पन्न हो जाता है। 🙏🏻 स्कन्दपुराण के अनुसार, जो मनुष्य अक्षय तृतीया को सूर्योदय काल में प्रातः स्नान करते हैं और भगवान विष्णु की पूजा करके कथा सुनते हैं, वे मोक्ष के भागी होते हैं। जो उस दिन मधुसूदन की प्रसन्नता के लिए दान करते हैं, उनका वह पुण्यकर्म भगवान की आज्ञा से अक्षय फल देता है।  🙏🏻 भविष्यपुराण के मध्यमपर्व में कहा गया है वैशाखे शुक्लपक्षे तु तृतीयायां तथैव च। गंगातोये नरः स्नात्वा मुच्यते सर्वकिल्बिषैः।। 🙏🏻 वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया में गंगाजी में स्नान करनेवाला सब पापों से मुक्त हो जाता हैं। वैशाख मास की तृतीया स्वाती नक्षत्र और माघ की तृतीया रोहिणीयुक्त हो तथा आश्विन तृतीया वृषराशि से युक्त हो तो उसमें जो भी दान दिया जाता है, वह अक्षय होता है। विशेषरूप से इनमें हविष्यान्न एवं मोदक देनेसे अधिक लाभ होता है तथा गुड़ और कर्पुरसे युक्त जलदान करनेवाले की विद्वान् पुरुष अधिक प्रंशसा करते हैं, वह मनुष्य ब्रह्मलोक में पूजित होता हैं। यदि बुधवार और श्रवण से युक्त तृतीया हो तो उसमें स्नान और उपवास करनेसे अनंत फल प्राप्त होता हैं। 🌷 अस्यां तिथौ क्षयमुर्पति हुतं न दत्तं।  तेनाक्षयेति कथिता मुनिभिस्तृतीया।  उद्दिश्य दैवतपितृन्क्रियते मनुष्यै:।  तत् च अक्षयं भवति भारत सर्वमेव।। – मदनरत्न ➡ अर्थ : भगवान श्रीकृष्ण युधिष्ठरसे कहते हैं, हे राजन इस तिथिपर किए गए दान व हवनका क्षय नहीं होता है; इसलिए हमारे ऋषि-मुनियोंने इसे ‘अक्षय तृतीया’ कहा है। इस तिथिपर भगवानकी कृपादृष्टि पाने एवं पितरोंकी गतिके लिए की गई विधियां अक्षय-अविनाशी होती हैं। 🌐http://www.vkjpandey.in 🙏🏻🌷🌻🍀🌹🌼💐🌸🌺🙏🏻 https://t.me/OnlineMandir 🚩 दैनिक पंचांग, राशिफल, व्रत त्योहार तथा हिन्दू धार्मिक जानकारी जैसे पोस्ट पाने के लिए हमारे व्हाट्सएप समूह ऑनलाइन मंदिर से जुड़े। 🤳 लिंक- 👇🏻 https://chat.whatsapp.com/I0lnC06D3bfGIhcWkRZPBb

+26 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 114 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB