🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞
⛅ *आज का दिनांक 05 सितम्बर 2017*
⛅ *दिन - मंगलवार*
⛅ *विक्रम संवत - 2074*
⛅ *शक संवत -1939*
⛅ *अयन - दक्षिणायण*
⛅ *ऋतु - शरद*
⛅ *मास - भाद्रपद*
⛅ *पक्ष - शुक्ल*
⛅ *तिथि - दोपहर 12:41 तक चतुर्दशी - दोपहर 12:42 से पूर्णिमा*
⛅ *नक्षत्र - धनिष्ठा*
⛅ *योग - सुकर्मा*
⛅ *राहुकाल - शाम 03:42 से शाम 05:14 तक*
⛅ *सूर्योदय - 06:24*
⛅ *सूर्यास्त - 18:49*
⛅ *दिशाशूल - उत्तर दिशा में*
⛅ *व्रत पर्व विवरण - व्रत पूर्णिमा, पूर्णिमा का श्राद्ध, महालय श्राद्धारम्भ, प्रोष्ठपदी पूर्णिमा, अंनत चतुर्दशी, गणेश महोत्सव समाप्त, शिक्षक दिवस*
💥 *विशेष - पूर्णिमा के दिन स्त्री-सहवास तथा तिल का तेल खाना और लगाना निषिद्ध है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-38)*


🌷 *भगवान श्रीगणेशजी* 🌷
🙏🏻 *5 सितंबर को गणेश उत्सव का अंतिम दिन है।5 सितंबर को अनंत चतुर्दशी पर गणेश उत्सव का समापन हो जाएगा। आखिर इन दिनों में यदि कोई सच्चे मन से भगवान श्रीगणेशजी को प्रसन्न करने के उपाय करे तो उसके बुरे दिन खत्म हो सकते हैं। ये उपाय बहुत ही आसान हैं।*
➡ *श्रीगणेशजी को शुद्ध घी और गुड़ का भोग लगाएं। थोड़ी देर बाद घी व गुड़ गाय को खिला दें। ये उपाय करने से धन संबंधी समस्या का निदान हो सकता है।*
➡ *श्रीगणेशजी को 21 गुड़ की गोलियां बनाकर दूर्वा के साथ चढ़ाएं। इस उपाय से आपकी हर मनोकामना पूरी हो सकती है।*
➡ *श्रीगणेशजी को हल्दी की पांच गांठ श्री गणाधिपतये नम: मंत्र का उच्चारण करते हुए चढ़ाएं। इस उपाय से प्रमोशन होने की संभावनाएं बढ़ सकती हैं।*
➡ *यदि बेटी का विवाह नहीं हो पा रहा है, तो विवाह की कामना से भगवान श्रीगणेशजी को मालपुए का भोग लगाएं व व्रत रखें। शीघ्र ही उसके विवाह के योग बन सकते हैं।*
➡ *यदि लड़के के विवाह में परेशानियां आ रही हैं, तो वह भगवान श्रीगणेशजी को पीले रंग की मिठाई का भोग लगाएं। इससे उसके विवाह के योग बन सकते हैं।*


🌷 *श्राद्ध सम्बन्धी बातें* 🌷
👉🏻 *श्राद्ध कर्म करते समय जो श्राद्ध का भोजन कराया जाता है, तो ११.३६ से १२.२४ तक उत्तम समय होता है l*
👉🏻 *गया, पुष्कर, प्रयाग और हरिद्वार में श्राद्ध करना श्रेष्ठ माना गया है l*
👉🏻 *गौशाला में, देवालय में और नदी तट पर श्राद्ध करना श्रेष्ठ माना गया है l*
👉🏻 *सोना, चांदी, तांबा और कांसे के बर्तन में अथवा पलाश के पत्तल में भोजन करना-कराना अति उत्तम माना गया है l लोहा, मिटटी आदि के बर्तन काम में नहीं लाने चाहिए l*
👉🏻 *श्राद्ध के समय अक्रोध रहना, जल्दबाजी न करना और बड़े लोगों को या बहुत लोगों को श्राद्ध में सम्मिलित नहीं करना चाहिए, नहीं तो इधर-उधर ध्यान बट जायेगा, तो जिनके प्रति श्राद्ध सद्भावना और सत उद्देश्य से जो श्राद्ध करना चाहिए, वो फिर दिखावे के उद्देश्य में सामान्य कर्म हो जाता है l*
👉🏻 *सफ़ेद सुगन्धित पुष्प श्राद्ध कर्म में काम में लाने चाहिए l लाल, काले फूलों का त्याग करना चाहिए l अति मादक गंध वाले फूल अथवा सुगंध हीन फूल श्राद्ध कर्म में काम में नहीं लाये जाते l*
➡ *श्राद्ध पक्ष :- 05 सितम्बर 2017 मंगलवार से 20 सितम्बर 2017 बुधवार तक हैं ।*
🙏🍀🌷🌻🌺🌸🌹🍁

+180 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 111 शेयर

कामेंट्स

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB