"विहंगम योग"

Audio - "विहंगम योग"

"विहंगम योग" द्वारा प्रस्तुत हैं "अनंत श्री सद्गुरु कबीर साहेब" का भेदिक भजन जिसका अर्थ बुद्धि, मन, वाणी, विचार से नहीं लगाया जा सकता बल्कि इसका भेद तो हमें "विहंगम योग" की साधना द्वारा सद्गुरु के विमल प्रकाश में हीं बोध हो सकता हैं। आध्यात्मिक जगत् का अद्वितीय महान् सद्ग्रंथ "स्वर्वेद" में "विहंगम योग" के प्रणेता "अनंत श्री बीस कला विभूषित सद्गुरु महर्षि सदाफलदेव जी महाराज" ने लिखा -
"बिना संत सद्गुरु मिले, बोध किसी को नाहिं।
नहीं हुआ नहीं होयगा, बोध संत संग माहिं।।"
🙏जय सद्गुरु देव🙏

+22 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 11 शेयर
Anita Sharma Jan 25, 2020

+33 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 10 शेयर
jatan kurveti Jan 24, 2020

+14 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 18 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 6 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB