आज के श्रृंगार दर्शन श्री कष्टभंजन हनुमानजी सारंगपुर गुजरात से

आज के श्रृंगार दर्शन श्री कष्टभंजन हनुमानजी सारंगपुर गुजरात  से

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
anita sharma Apr 17, 2019

+22 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर
anju mishra Apr 16, 2019

50 साल पुराना एक ऐसा हनुमान मंदिर जहाँ आज भी गुंज रही राम धुन यह मंदिर गुजरात के जामनगर में स्थित है। 🚩🙏🌹जय श्री राम जय जय हनुमान 🌹🙏🚩 1 अगस्त 1964 में, यानि करीब 54 साल पहले महाराज जी के कहने पर हनुमान भक्‍तों ने ‘श्री राम जय राम जय जय राम’ मंत्र का जाप 7 दिनों तक लगातार 24 घंटों तक करने का निर्णय लिया. जो बाद में एक अंतहीन परंपरा बन गई और आज तक जारी है। इस राम धुन के जाप में एक अौश्र विशेषता है कि इसे गाने वाले सामान्‍य भक्‍तजन ही हैं कोई पेशेवर गायक नहीं। अब तो इनकी बाकयदा सूची बना कर एक दिन पहले नोटिस बोर्ड पर लगा दी जाती है। विशेष परिस्‍थितियों के चलते भी कोई विघ्‍न ना पड़े इसके लिए चार चार गायकों का नाम अतिरिक्‍त गायकों की लिए रखा जाता है. इसके साथ ही मंदिर में कोई भी भक्त स्वयं अपनी मर्जी से भी राम धुन भजन सभा में शामिल हो सकता है।। गुजरात में आये विनाशकारी भूकंप के दौरान भी लोगों ने राम धुन का जाप निरंतर जारी रखते हुए अपनी भक्ति और प्रभु की शक्ति का परिचय दिया था. जिसके चलते इस मंदिर का नाम गिनीज बुक ऑफ वर्ल्‍ड रिकॉर्डस में शामिल है.

+140 प्रतिक्रिया 30 कॉमेंट्स • 16 शेयर
anita sharma Apr 16, 2019

🔔🔔🌺🌺🔔🔔 सेवक श्री हनुमान भक्तिमार्ग में श्रीहनुमान की श्रीराम भक्ति दासभाव की भक्ति है, जबकि श्रीराम उन्हें भ्रातृभाव से मानते हैं | दास भाव की भक्ति का जो स्वरूप सेवक श्रीहनुमान ने प्रस्तुत किया, वह अवर्णनीय है | अकेले लंका में युध्द, अक्षयकुमार सहित अगणित योध्दाओं को जुझाते हुए माँ जानकी की निशानी सहित वापसी, अपने प्रभु श्रीराम के चरणों में बैठकर उनकी सेवा करते हुए रावण से युध्द, अहिरावण द्वारा छल-कपट से श्रीराम-लक्ष्मण को पाताल ले जाकर बलि की तैयारी के समय अकेले जीवन का मोह छोड़ पाताल-यात्रा, अपने प्रभु के लिये जीवन का जोखिम उठाकर युध्द और अहिरावण को पराजित कर प्रभु सहित प्रत्यावर्तन किया श्रीहनुमान ने | इस प्रकार श्रीहनुमानजी ने एक मित्र, एक पथप्रदर्शक एवं एक सेवक के रूप में जो मान्यता स्थापित की, उसके हजारवें भाग को यदि जीवन में उतारा जा सके तो नि:संदेह लौकिक उपलब्धि भी होगी, पारलौकिक तो सुनिश्चित ही है | 🙏🙏

+36 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 3 शेयर
anita sharma Apr 15, 2019

+19 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+209 प्रतिक्रिया 60 कॉमेंट्स • 361 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

👏दुनियाँँ में चाहत न मने झूठी शान की,👏 👏जब तक जिऊँ बनी रहे किरपा हनुमान की,👏 👏दो दिन का ये रैन बसेरा काहे मेरा मेरी हो, हाथ जोड़ के विनती बाबा मुझपे रहमत तेरी हो, बाला जी तू रक्षा कर मेरे स्वाभिमान की, जब तक जिऊँ बनी रहे किरपा हनुमान की,👏👏 👏शक्ति भक्ति के दाता हो जग में रोशन नाम तेरा, जग मग ज्योति सूंदर मंदिर मेहंदीपुर में धाम तेरा, मैं भी ध्याऊँ नाम तेरा तू कुंजी ज्ञान की, जब तक जिऊँ बनी रहे किरपा हनुमान की,👏👏 👏श्री राम दुलारे अंजनी प्यारे फागु सखा से नाम तेरे, लखन के प्राण बचाने आये बड़े बड़े पापी पार करे, तेरे नाम के सारे किश्ती नादान की, जब तक जिऊँ बनी रहे किरपा हनुमान की,👏👏 👏जय सियाराम👏 👏जय बजरंगबली👏

+51 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 24 शेयर
Daily gyan Apr 17, 2019

मंगलवार को कैसे करे हनुमान जी की पूजा हनुमान जी की पूजा मंगलवार को बजरंगबली की पूजा की जाती है क्‍योंकि पौराणिक मान्यताओं के अनुसार इसी दिन हनुमान जी का जन्म हुआ था। साथ ही उनको मंगल ग्रह का नियंत्रक भी माना जाता है। यही वजह है कि इस दिन को हनुमान जी की पूजा के लिए नियत किया गया। ऐसा विश्‍वास किया जाता है कि इस दिन हनुमान जी की उपासना करने से साहस, आत्मविश्वास और आत्‍मशक्ति की प्राप्ति होती है। ध्‍वज को चढ़ाने की वजह कहते हैं कि महाभारत के युद्ध में हनुमान जी अर्जुन के रथ के ध्वज पर विराजमान थे और सारे युद्ध में उन्होंने पांडवों की रक्षा की थी। इसीलिए आयु रक्षा, मुकदमों तथा परीक्षा में विजय और संपत्ति की प्राप्ति के लिए हनुमान जी को मंगलवार के दिन तिकोनी केसरिया ध्वजा चढ़ाई जाती है।  तुलसी है अत्यंत प्रिय ये तो सभी जानते हैं कि तुलसी भगवान विष्णु को अत्यंत प्रिय है और उनके सभी अवतारों को भी चढ़ाई जाती है। हनुमान विष्‍णु जी के एक अवतार श्रीराम के परम भक्‍त हैं और तुलसी चढ़ाने से श्री राम भी अत्यंत प्रसन्न होते हैं जाहिर है परम राम भक्त हनुमान जी भी भोजन के साथ तुलसी समर्पित करने से प्रसन्न होते हैं। बजरंगबली को क्यों प्रिय है सिंदूर  एक कथा के अनुसार माता सीता को......? आगे की जानकारी पाने के लिए निचे लिंक पर क्लिक करके देख सकते है https://bloggingraja.com/jOa2xbV

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB