Arun Kumar Sharma
Arun Kumar Sharma Jan 20, 2021

⛳ *सुप्रभात🌞वन्दे मातरम्*⛳ 🚩🦚🌹🐌🐄🐌🌹🦚🚩 पौष मास, शुक्ल पक्ष, *सप्तमी*, रेवती नक्षत्र, सूर्य उत्तरायण, शिशिर ऋतु, युगाब्ध ५१२२, विक्रम संवत-२०७७, बुधवार, 20 जनवरी 2021. 🕉~~~~~~~~~~~~~🕉 *प्रभात दर्शन -* ~~~~~~~~ दानं भोगं नाशस्तिस्रोत गतयो भवन्ति वित्तसय, यो न ददाति न भुड़:क्ते तस्ये तृतिया गतिर्भवति। *अर्थ- धन की संभव नियति तीन प्रकार की होती है- दान, भोग और नाश। जो ना दान करता है और ना ही स्वयं उसका उपयोग करता है उसके धन की तीसरी गति होती है अर्थात उस धन का नाश होना है।* ~~~~~~~~~~~~~~~~~~ *🚩आपका दिन मंगलमय हो🚩* ~~~~~~~~~~~~~~~~~~ *श्री गुरु गोविंद सिंह जन्मदिवस*

⛳ *सुप्रभात🌞वन्दे मातरम्*⛳
🚩🦚🌹🐌🐄🐌🌹🦚🚩
पौष मास, शुक्ल पक्ष, *सप्तमी*,
रेवती नक्षत्र, सूर्य उत्तरायण,
शिशिर ऋतु, युगाब्ध ५१२२,
विक्रम संवत-२०७७, 
बुधवार, 20 जनवरी 2021.
🕉~~~~~~~~~~~~~🕉
*प्रभात दर्शन -*
~~~~~~~~

दानं भोगं नाशस्तिस्रोत 
       गतयो भवन्ति वित्तसय,
यो न ददाति न भुड़:क्ते 
       तस्ये तृतिया गतिर्भवति।

*अर्थ- धन की संभव नियति तीन प्रकार की होती है- दान, भोग और नाश। जो ना दान करता है और ना ही स्वयं उसका उपयोग करता है उसके धन की तीसरी गति होती है अर्थात उस धन का नाश होना है।*
~~~~~~~~~~~~~~~~~~
*🚩आपका दिन मंगलमय हो🚩*
~~~~~~~~~~~~~~~~~~
*श्री गुरु गोविंद सिंह जन्मदिवस*
⛳ *सुप्रभात🌞वन्दे मातरम्*⛳
🚩🦚🌹🐌🐄🐌🌹🦚🚩
पौष मास, शुक्ल पक्ष, *सप्तमी*,
रेवती नक्षत्र, सूर्य उत्तरायण,
शिशिर ऋतु, युगाब्ध ५१२२,
विक्रम संवत-२०७७, 
बुधवार, 20 जनवरी 2021.
🕉~~~~~~~~~~~~~🕉
*प्रभात दर्शन -*
~~~~~~~~

दानं भोगं नाशस्तिस्रोत 
       गतयो भवन्ति वित्तसय,
यो न ददाति न भुड़:क्ते 
       तस्ये तृतिया गतिर्भवति।

*अर्थ- धन की संभव नियति तीन प्रकार की होती है- दान, भोग और नाश। जो ना दान करता है और ना ही स्वयं उसका उपयोग करता है उसके धन की तीसरी गति होती है अर्थात उस धन का नाश होना है।*
~~~~~~~~~~~~~~~~~~
*🚩आपका दिन मंगलमय हो🚩*
~~~~~~~~~~~~~~~~~~
*श्री गुरु गोविंद सिंह जन्मदिवस*
⛳ *सुप्रभात🌞वन्दे मातरम्*⛳
🚩🦚🌹🐌🐄🐌🌹🦚🚩
पौष मास, शुक्ल पक्ष, *सप्तमी*,
रेवती नक्षत्र, सूर्य उत्तरायण,
शिशिर ऋतु, युगाब्ध ५१२२,
विक्रम संवत-२०७७, 
बुधवार, 20 जनवरी 2021.
🕉~~~~~~~~~~~~~🕉
*प्रभात दर्शन -*
~~~~~~~~

दानं भोगं नाशस्तिस्रोत 
       गतयो भवन्ति वित्तसय,
यो न ददाति न भुड़:क्ते 
       तस्ये तृतिया गतिर्भवति।

*अर्थ- धन की संभव नियति तीन प्रकार की होती है- दान, भोग और नाश। जो ना दान करता है और ना ही स्वयं उसका उपयोग करता है उसके धन की तीसरी गति होती है अर्थात उस धन का नाश होना है।*
~~~~~~~~~~~~~~~~~~
*🚩आपका दिन मंगलमय हो🚩*
~~~~~~~~~~~~~~~~~~
*श्री गुरु गोविंद सिंह जन्मदिवस*

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
ramkumarverma Feb 28, 2021

+32 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 155 शेयर

+11 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 114 शेयर

+36 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 70 शेयर

+27 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 12 शेयर
Poonam Aggarwal Mar 1, 2021

+204 प्रतिक्रिया 38 कॉमेंट्स • 398 शेयर
Archana Singh Feb 28, 2021

+184 प्रतिक्रिया 40 कॉमेंट्स • 273 शेयर
ramkumarverma Feb 27, 2021

+68 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 432 शेयर
Archana Singh Feb 28, 2021

+192 प्रतिक्रिया 37 कॉमेंट्स • 75 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB