मायमंदिर फ़्री कुंडली
डाउनलोड करें

🕉🕉🙏🙏🙏हवन का महत्व✡✡👇👇👇

🕉🕉🙏🙏🙏हवन का महत्व✡✡👇👇👇
🕉🕉🙏🙏🙏हवन का महत्व✡✡👇👇👇
🕉🕉🙏🙏🙏हवन का महत्व✡✡👇👇👇

हवन का महत्व*👉
_________________________

फ़्रांस के ट्रेले नामक वैज्ञानिक ने हवन पर रिसर्च की। जिसमें उन्हें पता चला की हवन मुख्यतः 👇

आम की लकड़ी पर किया जाता है। जब आम की लकड़ी जलती है तो फ़ॉर्मिक एल्डिहाइड नामक गैस उत्पन्न होती है।जो कि खतरनाक बैक्टीरिया और जीवाणुओं को मारती है ।तथा वातावरण को शुद्द करती है। इस रिसर्च के बाद ही वैज्ञानिकों को इस गैस और इसे बनाने का तरीका पता चला।
गुड़ को जलाने पर भी ये गैस उत्पन्न होती है।
टौटीक नामक वैज्ञानिक ने हवन पर की गयी अपनी रिसर्च में ये पाया की यदि आधे घंटे हवन में बैठा जाये अथवा हवन के धुएं से शरीर का सम्पर्क हो तो टाइफाइड जैसे खतरनाक रोग फ़ैलाने वाले जीवाणु भी मर जाते हैं और शरीर शुद्ध हो जाता है।
हवन की महत्ता देखते हुए राष्ट्रीय वनस्पति अनुसन्धान संस्थान लखनऊ के वैज्ञानिकों ने भी इस पर एक रिसर्च की । क्या वाकई हवन से वातावरण शुद्द होता है और जीवाणु नाश होता है ?अथवा नही ? उन्होंने ग्रंथों में वर्णिंत हवन सामग्री जुटाई और जलाने पर पाया कि ये विषाणु नाश करती है। फिर उन्होंने विभिन्न प्रकार के धुएं पर भी काम किया और देखा कि सिर्फ आम की लकड़ी १ किलो जलाने से हवा में मौजूद विषाणु बहुत कम नहीं हुए । पर जैसे ही उसके ऊपर आधा किलो हवन सामग्री डाल कर जलायी गयी तो एक घंटे के भीतर ही कक्ष में मौजूद बैक्टीरिया का स्तर ९४ % कम हो गया।
यही नहीं उन्होंने आगे भी कक्ष की हवा में मौजुद जीवाणुओ का परीक्षण किया और पाया कि कक्ष के दरवाज़े खोले जाने और सारा धुआं निकल जाने के २४ घंटे बाद भी जीवाणुओं का स्तर सामान्य से ९६ प्रतिशत कम था। बार-बार परीक्षण करने पर ज्ञात हुआ कि इस एक बार के धुएं का असर एक माह तक रहा और उस कक्ष की वायु में विषाणु स्तर 30 दिन बाद भी सामान्य से बहुत कम था।
यह रिपोर्ट एथ्नोफार्माकोलोजी के शोध पत्र (resarch journal of Ethnopharmacology 2007) में भी दिसंबर २००७ में छप चुकी है। रिपोर्ट में लिखा गया कि हवन के द्वारा न सिर्फ मनुष्य बल्कि वनस्पतियों एवं फसलों को नुकसान पहुचाने वाले बैक्टीरिया का भी नाश होता है। जिससे फसलों में रासायनिक खाद का प्रयोग कम हो सकता है ।
👉अगर चाहें तो अपने परिजनों को इस जानकारी से अवगत कराए । हवन करने से न सिर्फ भगवान ही खुश होते हैं बल्कि घर की शुद्धि भी हो जाती है

+131 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 151 शेयर

कामेंट्स

MANOJ VERMA Dec 6, 2017
💥 राधे राधे ll राधे राधे

Ajnabi Dec 6, 2017
very nice nitin g jay shree Radhe krishna good night veeruda

prveenkumarji Jul 20, 2019

+27 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 66 शेयर

+428 प्रतिक्रिया 32 कॉमेंट्स • 136 शेयर
prveenkumarji Jul 19, 2019

+26 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 46 शेयर
Archana Mishra Jul 19, 2019

*‼ज्योतिष‼* *शयन के नियम :-* 1. *सूने तथा निर्जन* घर में अकेला नहीं सोना चाहिए। *देव मन्दिर* और *श्मशान* में भी नहीं सोना चाहिए। *(मनुस्मृति)* 2. किसी सोए हुए मनुष्य को *अचानक* नहीं जगाना चाहिए। *(विष्णुस्मृति)* 3. *विद्यार्थी, नौकर औऱ द्वारपाल*, यदि ये अधिक समय से सोए हुए हों, तो *इन्हें जगा* देना चाहिए। *(चाणक्यनीति)* 4. स्वस्थ मनुष्य को आयुरक्षा हेतु *ब्रह्ममुहुर्त* में उठना चाहिए। *(देवीभागवत)* बिल्कुल *अँधेरे* कमरे में नहीं सोना चाहिए। *(पद्मपुराण)* 5. *भीगे* पैर नहीं सोना चाहिए। *सूखे पैर* सोने से लक्ष्मी (धन) की प्राप्ति होती है। *(अत्रिस्मृति)* टूटी खाट पर तथा *जूठे मुँह* सोना वर्जित है। *(महाभारत)* 6. *"नग्न होकर/निर्वस्त्र"* नहीं सोना चाहिए। *(गौतम धर्म सूत्र)* 7. पूर्व की ओर सिर करके सोने से *विद्या*, पश्चिम की ओर सिर करके सोने से *प्रबल चिन्ता*, उत्तर की ओर सिर करके सोने से *हानि व मृत्यु* तथा दक्षिण की ओर सिर करके सोने से *धन व आयु* की प्राप्ति होती है। *(आचारमय़ूख)* 8. दिन में कभी नहीं सोना चाहिए। परन्तु *ज्येष्ठ मास* में दोपहर के समय 1 मुहूर्त (48 मिनट) के लिए सोया जा सकता है। (दिन में सोने से रोग घेरते हैं तथा आयु का क्षरण होता है) 9. दिन में तथा *सूर्योदय एवं सूर्यास्त* के समय सोने वाला रोगी और दरिद्र हो जाता है। *(ब्रह्मवैवर्तपुराण)* 10. सूर्यास्त के एक प्रहर (लगभग 3 घण्टे) के बाद ही *शयन* करना चाहिए। 11. बायीं करवट सोना *स्वास्थ्य* के लिये हितकर है। 12. दक्षिण दिशा में *पाँव करके कभी नहीं सोना चाहिए। यम और दुष्ट देवों* का निवास रहता है। कान में हवा भरती है। *मस्तिष्क* में रक्त का संचार कम को जाता है, स्मृति- भ्रंश, मौत व असंख्य बीमारियाँ होती है। 13. हृदय पर हाथ रखकर, छत के *पाट या बीम* के नीचे और पाँव पर पाँव चढ़ाकर निद्रा न लें। 14. शय्या पर बैठकर *खाना-पीना* अशुभ है। 15. सोते सोते *पढ़ना* नहीं चाहिए। *(ऐसा करने से नेत्र ज्योति घटती है )* 16. ललाट पर *तिलक* लगाकर सोना *अशुभ* है। इसलिये सोते समय तिलक हटा दें। *इन १६ नियमों का अनुकरण करने वाला यशस्वी, निरोग और दीर्घायु हो जाता है।* नोट :- यह सन्देश जन जन तक पहुँचाने का प्रयास करें। ताकि सभी लाभान्वित हों ! 🙏🚩🇮🇳🔱🏹🐚🕉

+84 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 166 शेयर
🌻🌻🌻 Jul 19, 2019

+94 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 36 शेयर
Archana Mishra Jul 19, 2019

+58 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 78 शेयर
Shivani Jul 19, 2019

🌹🙏🙏🙏🌹 ❣💘राधे राधे जी🌷🌹 राधे अलबेली सरकार के सभी कृष्ण भक्तो का राधे माला में स्वागत ह💘❣🌹🌷सभी प्रभु भक्तो से निवेदन ह की राधे माला में ज्यादा से ज्यादा राधे नाम का जाप करे,,,,तो प्रेम से बोलिए राधे राधे,,,,💘❣ना बोले, ना बोले, ना बोले रे (घूँघट के पट ना खोले रे राधा ना बोले, ना बोले, ना बोले रे 🌹🌷💘❣🌹 राधा की लाज भरी अँखियों के डोरे देखोगे कैसे अब गोकुल के छोरे देखो मोहन का मनवा डोले रे राधा ना बोले, ना बोले, ना बोले रे 🌹❣💘🌷 ना बोले, ना बोले, ना बोले रे घूँघट के पट ना खोले रे राधा ना बोले, ना बोले, ना बोले रे 🌹🌷💘❣ याद करो जमुना किनारे, साँवरिया फ़ोढ़ी थी राधा की काहे गगरिया इस कारन ना तुम संग बोले रे राधा ना बोले, ना बोले रे 🌹❣💘🌷 ना बोले, ना बोले, ना बोले, ना बोले रे घूँघट के पट ना खोले रे राधा ना बोले, ना बोले, ना बोले रे 🌷🌹💘❣ रूठी हुई यूँ ना मानेगी छलिया चरणों में राधा के, रख दो मुरलिया बात बन जायेगी हौले हौले रे राधा ना बोले, ना बोले, ना बोले रे ❣💘🌹🌷💞 ना बोले, ना बोले, ना बोले रे घूँघट के पट ना खोले रे राधा ना बोले, ना बोले, ना बोले रे ❣💘🌷🌹 !!!!!!! <3 राधे कृष्णा हरे कृष्णा <3 !!!!!!

+193 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 7 शेयर
R.K.Soni Jul 19, 2019

+74 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 81 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB