Radha Bansal
Radha Bansal Jan 21, 2021

Jai shri karshna ji 🙏🏻 🙏🏻 Radhe Radhe ji 🙏🏻 🙏🏻 🙏🏻 🙏🏻 Subh rati ji 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Jai shri karshna ji 🙏🏻 🙏🏻 
Radhe Radhe ji 🙏🏻 🙏🏻 🙏🏻 🙏🏻 
Subh rati ji 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

+85 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 57 शेयर

कामेंट्स

Rajpal singh Jan 21, 2021
jai shree Radhe Radhe ji good night ji 🙏🙏🌷🌷🙏🙏

Mahesh Rathod Jan 21, 2021
जय श्री राधे कृष्ण शुभ रात्रि वंदन जी नमस्कार बहन जी 👏👏👏

B L Yadav.(CMO) Jan 21, 2021
Radhe Radhe ji 🙏🙏🙏 shubh ratri Vandan aapka Har pal mangalmay Ho is mangal kamna ke sath 🙏 🙏🙏

🦚🌹🌹🦚 Jan 21, 2021
श्री राधे राधे शुभ रात्रि विश्राम जी

Kiran Jan 21, 2021
Radhe Radhe Radhe Radhe 🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹🙏🌹

sandeep Jan 21, 2021
राधे राधे जय श्री कृष्णा

Rashmi shah Jan 21, 2021
Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe Radhe

Ranveer soni Jan 21, 2021
🌹🌹जय श्री राधे🌹🌹

Anshika Apr 11, 2021

+75 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 108 शेयर
GL Choudhary Apr 13, 2021

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+84 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 12 शेयर

+193 प्रतिक्रिया 27 कॉमेंट्स • 64 शेयर
Shanti Pathak Apr 11, 2021

*जय श्री राधे कृष्णा जी* *शुभरात्रि वंदन * 👌 *दानवीर राजा हरिश्चंद्र का दान* 👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏👏 *राजा हरिश्चंद्र एक बहुत बड़े दानवीर थे। उनकी ये एक खास बात थी कि जब वो दान देने के लिए✊ हाथ आगे बढ़ाते तो अपनी 😞नज़रें नीचे झुका लेते थे।* *ये बात सभी को अजीब लगती थी कि ये राजा कैसे दानवीर हैं। ये दान भी देते हैं और इन्हें शर्म भी आती है।* *ये बात जब तुलसीदासजी तक पहुँची तो उन्होंने राजा को चार पंक्तियाँ लिख भेजीं जिसमें लिखा था* - *ऐसी देनी देन जु* *कित सीखे हो सेन।* *ज्यों ज्यों कर ऊँचौ करौ* *त्यों त्यों नीचे नैन।।* *इसका मतलब था कि राजा तुम ऐसा दान देना कहाँ से सीखे हो? जैसे जैसे तुम्हारे हाथ ऊपर उठते हैं वैसे वैसे तुम्हारी नज़रें तुम्हारे नैन नीचे क्यूँ झुक जाते हैं?* *राजा ने इसके बदले में जो जवाब दिया वो जवाब इतना गजब का था कि जिसने भी सुना वो राजा का कायल हो गया।* *इतना प्यारा जवाब आज तक किसी ने किसी को नहीं दिया।* *राजा ने जवाब में लिखा* - *देनहार कोई और है* *भेजत जो दिन रैन।* *लोग भरम हम पर करैं* *तासौं नीचे नैन।।* *मतलब, देने वाला तो कोई और है वो ही मालिक है वो परमात्मा है वो दिन रात भेज रहा है। परन्तु लोग ये समझते हैं कि मैं दे रहा हूँ राजा दे रहा है। ये सोच कर मुझे शर्म आ जाती है और मेरी आँखें नीचे झुक जाती हैं।* *वो ही करता और वो ही करवाता है, क्यों बंदे तू इतराता है,* *एक साँस भी नही है तेरे बस की, वो ही सुलाता और वो ही जगाता है.........✍️🙏* 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 सुतीक्ष्ण भक्त की कथा किसी ने कहा है की भगवान को भोलापन पसन्द होता है भगवान भोले भक्तो के वशीभूत रहते हैं अगर भक्त अपने सच्चे मन से भगवान को पुकारता है तो वो हाजिर होते है और इस बात का उदाहरण हम सुतीक्ष्ण मुनि की कथा से ले सकते है आज हम आपको त्रेता युग के भोले भक्त सुतीक्ष्ण की कथा सुनाने जा रहे है सुतीक्ष्ण भक्त के गुरु का नाम सुतीक्ष्ण भक्त ऋषि अगस्त्य के शिष्य थे और ऋषि अगस्त्य के आश्रम में ही रहते थे और शिक्षा ग्रहण करते थे मगर अध्यन में कमजोर थे उन्हें शिक्षा से ज्यादा अच्छा गाय चराना लगता था क्योंकि बहुत भोले थे और साफ मन के थे मगर गुरु भक्ति उनके मन में कुट कूट के भरी हुई थी एक रोज़ अगस्त्य ऋषि ने उनकी परीक्षा लेनी चाही उन्होने सुतीक्ष्ण से कहा शिष्य तुम्हारी शिक्षा पूर्ण हो चुकी है अब तुम यहां से जा सकते हो तो सुतीक्ष्ण ने कहा आपको में गुरु दक्षिणा क्या दू कुछ आज्ञा कीजिए ? तो अगस्त्य ऋषि ने कहा तुम्हारे जैसे गुरु भक्त शिष्य ही मेरी गुरुदक्षिना है सुतीक्ष्ण ने कहा गुरुदेव बिना गुरु दक्षिणा के शिक्षा का सही समय पर सदुपयोग नहीं क्या जा सकता है इसलिए कुछ तो अज्ञा कीजिए तो अगस्त्य ऋषि ने कहा कि सुतीक्ष्ण अगर तुम गुरु दक्षिणा ही देना चाहते हो तो प्रभु श्री राम को जानकी सहित आश्रम में ला दो ! सुतीक्ष्ण ने कहा ठीक है गुरुदेव में जरुर ये गुरु दक्षिणा दूंगा ओर यह कह कर आश्रम से चले गए और भगवान की भक्ति करने लगे समय बीतता गया उनकी तपस्या इतनी सघन हो गई की उनको किसी का भी अभाश नहीं होता था जब भगवान अपने वनवास के समय चित्रकूट पर्वत से पंचवटी की ओर जा रहे थे तब उन्होंने सुतीक्ष्ण भक्त को देखा और उन्हें जगाने की कोशिश करने लगे मगर वो नहीं जागे अंत में श्री राम ने उनको चतुर्भुज रूप दिखाया तब वे जागे ! कहते है की भगवान श्री राम ने रामायण में दो ही बार अपना चतुर्भुज रूप दिखाया था एक माता कोशल्या को ओर एक सुतीक्ष्ण भक्त को तो जैसे ही सुतीक्ष्ण भक्त ने चतुर्भुज रूप में भगवान को देखा तो वो खुश हो गए और अगस्त्य ऋषि के आश्रम पर भगवान श्री राम लक्ष्मण और माता सीता को लेकर चले गए और उन्हें द्वार के बाहर बैठा कर आश्रम में जाकर अपने गुरु से कहा गुरुदेव आज में आपको आपकी गुरु दक्षिणा देने आया हूं अगस्त्य ऋषि भी खुश हो गए उन्होंने भगवान श्री राम लक्ष्मण और सीता का पूजन और सतकार किया ओर सुतीक्ष्ण भक्त से कहा कि में तुम्हारे जैसा शिष्य पाकर धन्य हो गया |

+190 प्रतिक्रिया 39 कॉमेंट्स • 273 शेयर
savi Choudhary Apr 11, 2021

+44 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 125 शेयर
Bhavana Gupta Apr 12, 2021

+11 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 16 शेयर

🌹•°🍁°•🥀•°🌻°•🍂•°🎋°•🌻 🔔°•🔔•°🔔°•🔔°•🔔°•🔔•°🔔 जय श्री महाकालेश्वर विश्वेश्वराय नरकार्णव तारणाय कर्णामृताय शशिशेखर धारणाय कर्पूरकान्ति धवलाय जटाधराय दारिद्र्यदुःख दहनाय नमश्शिवाय गौरीप्रियाय रजनीश कलाधराय कालान्तकाय भुजगाधिप कङ्कणाय गङ्गाधराय गजराज विमर्धनाय दारिद्र्यदुःख दहनाय नम:शिवाय ॐ नमः शिवाय ॐ ऐं क्लीं सोमाय नमः । ॐ श्रां श्रीं श्रीं सः चन्द्राय नमः । सुप्रभातम् ॐ श्रीगणेशाय नमः अथ् पंचांगम् दिनाँक 12-04-2021 सोमवार अक्षांश- 30°:36", रेखांश 76°:80" अम्बाला शहर हरियाणा, पिन कोड- 134 007 ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्। उर्वारुकमिव बन्धनान् मृत्योर्मुक्षीय मामृतात्॥ ॐ शिवाय नम:,ॐ सर्वात्मने नम: ॐ त्रिनेत्राय नम:,ॐ हराय नम: ॐ इन्द्र्मुखाय नम:ॐ श्रीकंठाय नम: ॐ स द्योजाताय नम:,ॐ वामदेवाय नम: ॐ अघोरह्र्द्याय नम:,ॐ तत्पुरुषाय नम: ॐ ईशानाय नम:,ॐ अनंतधर्माय नम: ॐ ज्ञानभूताय नम:, ॐ अनंतवैराग्यसिंघायनम:, ॐ प्रधानाय नम: ॐ व्योमात्मने नम:, ॐ युक्तकेशात्मरूपाय नम: ॐ महेश्वराए नमः, ॐ शूलपानायाय नमः, ॐ पिनाकपनाये नमः, ॐ पशुपति नमः । 🙏🙏🙏🙏🙏 🍁🍁•°🌹°•🍂•°🌷°•💐•°🥀 --------------समाप्तिकाल----------------- 📒 तिथि अमावस्या 08:02:25 ☄️ नक्षत्र रेवती 11:29:59 🏵️ करण : 🏵️ नाग 08:02:25 🏵️ किन्स्तुघ्ना 21:08:18 🔒 पक्ष कृष्ण 🏵️ योग वैधृति 14:26:24 🗝️ वार सोमवार 🌄 सूर्योदय 05:59:52 🌃 चन्द्रोदय 06:15:59 🌙 चन्द्र 🐬 मीन - 11:29:59 तक 🌌 सूर्यास्त 18:48:15 🌑 चन्द्रास्त 19:04:59 🏵️ ऋतु वसंत 🌈 🏵️ शक सम्वत 1942 शार्वरी 🏵️ कलि सम्वत 5122 🏵️ दिन काल 12:48:21 🏵️ विक्रम सम्वत 2077 🏵️ मास अमांत फाल्गुन 🏵️ मास पूर्णिमांत चैत्र 📯 शुभ समय 🎊 अभिजित 11:58:27 - 12:49:40 🕳️ दुष्टमुहूर्त : 🕳️ 12:49:40 - 13:40:54 🕳️ 15:23:21 - 16:14:34 🕳️ कंटक 08:33:33 - 09:24:46 🕳️ यमघण्ट 11:58:27 - 12:49:40 😈 राहु काल 07:35:55 - 09:11:58 🕳️ कुलिक 15:23:21 - 16:14:34 🕳️ कालवेला 10:16:00 - 11:07:13 🕳️ यमगण्ड 10:48:01 - 12:24:03 🕳️ गुलिक 14:00:06 - 15:36:09 🏵️ दिशा शूल पूर्व 🚩🚩 होरा 🏵️चन्द्रमा 05:59:52 - 07:03:54 🏵️शनि 07:03:54 - 08:07:56 🏵️बृहस्पति 08:07:56 - 09:11:58 🏵️मंगल 09:11:58 - 10:16:00 🏵️सूर्य 10:16:00 - 11:20:02 🏵️शुक्र 11:20:02 - 12:24:04 🏵️बुध 12:24:04 - 13:28:05 🏵️चन्द्रमा 13:28:05 - 14:32:07 🏵️शनि 14:32:07 - 15:36:09 🏵️बृहस्पति 15:36:09 - 16:40:11 🏵️मंगल 16:40:11 - 17:44:13 🏵️सूर्य 17:44:13 - 18:48:15 🏵️शुक्र 18:48:15 - 19:44:07 🏵️बुध 19:44:07 - 20:39:59 🏵️चन्द्रमा 20:39:59 - 21:35:52 🚩🚩 चोघडिया ⛩️अमृत 05:59:52 - 07:35:55 😈काल 07:35:55 - 09:11:58 ⛩️शुभ 09:11:58 - 10:48:01 ☘️रोग 10:48:01 - 12:24:03 🕳️उद्वेग 12:24:03 - 14:00:06 🛑चल 14:00:06 - 15:36:09 ⛩️लाभ 15:36:09 - 17:12:12 ⛩️अमृत 17:12:12 - 18:48:14 🛑चल 18:48:15 - 20:12:03 ☘️रोग 20:12:03 - 21:35:52 🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴 🍁 ग्रह गोचर 🍁 🌞 सूर्य - मीन 🐬 🌙 चन्द्र मीन 🐋 11:29:59 तक 🥏 मंगल - वृष 🐂 🥏 बुध - मीन 🐬 🥏 बृहस्पति - कुम्भ ⚱️ 🥏 शुक्र - मेष 🦌 🥏 शनि - मकर 🐊 🥏 राहु - वृष 🐂 🥏 केतु - वृश्चिक 🦞 --------------------------------------------- 🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴🌴 व्रत त्यौहार मास 09-15 अप्रैल तक ☘️🌾🌸💐🥀☘️💐🌸 🛑शुक्र -9 अप्रैल भद्रा 2828 से, प्रदोष व्रत। 🛑शनि - 10 अप्रैल भद्रा तारा 16:17 तक, शुक्र अश्विन 1 मेष 🦌 में 6:28, मेला पृथूद्क (पिहोवा तीर्थ )हरियाणा, मासिक शिवरात्रि व्रत। 🛑 रवि- 11 अप्रैल पितृ कार्येषु अमावस, गंड मूल 8:58 से। 🛑 चंद्र- 12 अप्रैल चैत्र (सोमवती) अमावस-- चैत्र सोमवती अमावस को हरिद्वार आदि तीर्थ स्थान पर कुंभ स्नान, दान जप भगवान शिव व विष्णु पूजन तथा पीपल (अश्वत्थ) वृक्ष की पुष्पाक्षत चावल फल धूप दीप आदि सहित पूजन परिक्रमा करने से अनेक पापों से मुक्ति मिलती है । पंचक समाप्त 11:29, द्वितीय शाही स्नान - कुंभ महापर्व हरिद्वार, प्रयागराज आदि तीर्थ स्थान महात्म्य, विक्रमी संवत 2077 पूर्ण । 🛑 13 अप्रैल, मंगलवार, चैत्र शुक्ल प्रतिपदा, भरणी ☄️नक्षत्र कालीन अर्धरात्रि के बाद 2:33,( 26/33) पर 🐊मकर लग्न में प्रवेश करेगी। 15 मुहूर्ति इस सक्रांति के स्नान दान आदि का पुण्य काल आगामी दिन 14 अप्रैल, बुधवार को प्रातः 8:57 तक होगा। वार अनुसार महोदरी तथा नक्षत्र अनुसार घोरा नाम की यह सक्रांति नेताओं/ बुरों के लिए लाभप्रद होगी। कुंभ महापर्व हरिद्वार का मुख्य शाही स्नान इसी दिन होगा । राशिफल- यह सक्रांति मेष कर्क कन्या तुला मकर कुंभ मीन राशि वालों के लिए शुभ फलदायक होगी । लोग भविष्य -- मासारम्भ 🌞सूर्य पर शनि की 👁️दृष्टि तथा मंगल राहु योग के कारण प्रतिकूल ⛈️वर्षा से खड़ी फसलों को हानि पहुंचेगी। सक्रांति कुंडली में मंगल शनि के मध्य षडाष्टक योग बना हुआ है। राजनैतिक वातावरण अशांत तथा असमंजस पूर्ण रहेगा । सत्तारूढ़ और विपक्षी दलों के नेताओं में परस्पर टकराव हुआ खींचातानी बढ़ेगी। परस्पर तालमेल की कमी रहेगी। सोना-चांदी और धातुओं सरसों क्रूड आयल में विशेष📈 तेजी बनेगी। 🛑 मंगल - 13 अप्रैल '"राक्षस"'नाम विक्रमी संवत 2078 प्रारंभ - 13 अप्रैल मंगलवार चैत्र शुक्ल प्रतिपदा से शिवविंशति का राक्षस नामक विक्रमी संवत 2078 आरंभ होगा। आगामी संवत् में व्रत अनुष्ठान संकल्प दान आदि शुभ कार्यों में राक्षसों संवत्सर का ही प्रयोग होगा। नए संवत् का राजा मंगल तथा मंत्री भी मंगल है। जब राजा और मंत्री के पद एक ही ग्रह के पास हों (वह भी क्रूर ग्रह के पास ) तो समाज में आवेश एवं क्रोध के कारण हिंसक एवं उपद्रव की घटनाएं अधिक होंगी। रोग अग्निकांड वाहन दुर्घटनाएं अधिक हों- *स्वयं राजा स्वयं मंत्री जनेषु रोगपीड़ा चोराग्नि, शंका विग्रह भयं च नृपाणाम् ।* इस दिन नए संवत् आदि के फल किसी श्रेष्ठ ब्राह्मण या गुरु मुख से श्रद्धा पूर्वक संवत्सर के पूजन उपरांत श्रवण करना चाहिए। तारीख 13 को ही चैत्र *(वसंत )* नवरात्र प्रारंभ होंगे। इसी दिन प्रातः काल श्री दुर्गाजी की मूर्ति एवं घट स्थापन करके श्रीमूर्ति के सम्मुख प्रतिपदा से नवमी तक नित्य प्रति घी की ज्योति जला कर श्रीदुर्गा पूजा एवं श्रीदुर्गा सप्तशती का पाठ करना चाहिए। अंतिम नवरात्र ( या दशमी ) के दिन हरी दूर्वा को पूजा अर्चन के पश्चात नदी /नहर में विसर्जन करने की परंपरा है। चैत्र (वासंत) नवरात्र प्रारंभ । चैत्र शुक्ल पक्ष प्रारंभ, चंद्र दर्शन मु 15, घट स्थापन,🌞 सूर्य ☄️अश्विन 1 मेष🦌 में, 26:33, वैशाख सक्रांति, मु.15, पुण्य काल सक्रांति अगले दिन प्रातः 8:57 तक, वैशाखी पर्व (पंजाब), मंगल मिथुन👬🏼 में 25:13, संवत्सर फल श्रवण, ध्वजारोहण, तेलाभ्यंग, श्रीदुर्गा- पूजा, गुड़ी पड़वा। 🛑 बुध - 14 अप्रैल - कुंभ महापर्व (हरिद्वार) प्रमुख (तृतीय) शाही स्नान, रमजान मुस्लिम मास प्रारंभ। 🛑 गुरु - 15 अप्रैल भद्रा 28:47 से, गणगौरी तृतीया, श्रीमत्स्य - जयंती । 🥀🌾💐🌸🥀🌾💐 बाजार मंदा📉 तेजी📈 16 अप्रैल तक 🛑🛑 🌸2 अप्रैल को मंगल मृगशिर तथा बुध उत्तराभाद्रपद ☄️नक्षत्र में आने से तेल चांदी शहद गुड़ में तेजी शेयर बाजार तथा अन्य व्यापारिक वस्तुओं में कुछ मंदी रहेगी। 🌸 5 अप्रैल को गुरु कुंभ ⚱️राशि में आने से रुई चांदी में तेजी 📈दिखकर शीघ्र ही मंदी 📉का रुख बन जायगा। सोना तांबा पीतल कांसा लोहा शीशा वस्त्रों क्रूड आयल में 1- 2 मास तक मंदी📉 का रुझान रहकर फिर तेजी📈 का रुख बनेगा है। 🌸 6 अप्रैल को बुध पूर्व में अस्त 🌌होने से अनाज घी मूंग आदि में मंदी📉 रूई सोने में घटा बढ़ी के बाद तेजी📈 बनेगी। 🌸 10 अप्रैल को बुध रेवती नक्षत्र☄️ में आकर सूर्य 🌞के साथ मेल🔗 करेगा तथा शुक्र इसी समय मेष 🦌राशि में आएगा। गेहूं चना अनादि भी सोना चांदी में विशेष तेजी📈 का रुख रहेगा। गुड़ शक्कर बारदाना केसर मजीठ चंदन लाल मिर्च आदि में भी घटा बढ़ी के बाद तेजी📈 बनेगी। 🌸13 अप्रैल को सूर्य 🌞अश्विनी नक्षत्र☄️ तथा मेष 🦌राशि में आकर शुक्र के साथ मेल 🔗करेगा। इसी दिन मंगल मिथुन👬🏼 राशि में आकर शनि के साथ षडाष्टक संबंध बनाएगा। दोनों योग तेजी कारक हैं ।रुई कपास सूत घीे तेल सरसों नारियल सुपारी बादाम गुड़ खांड शक्कर सोना चांदी उड़द क्रूड ऑयल लोहा सोयाबीन ऑयल में तेजी 📈बनेगी। चावल अरहर चना मूंग आदि कुछ वस्तुओं में भी मंदी📉 रहेगी। 🌸 16 अप्रैल को बुध भी मेष🦌 राशि में आकर सूर्य 🌞एवं शुक्र के साथ मेल🔗 करेगा। अकेला बुध यद्यपि यहां मंदी कारक होता है। परंतु ग्रह योग से यहां मंदी📉 की जगह तेजी📈 बनेगी। सोना चांदी आदि धातुओं गेहूं चना जौं आदि अन्न तेल सरसों रुई कपास घी गुड़ खांड में घटा बढ़ी के बाद तेजी📈 बनेगी। आज का राशिफल 🏵️🏵️🏵️ मेष🦌 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज दिन के आरंभिक भाग को छोड़ आप तन-मन से खुश और प्रफुल्लित रहेंगे। कुटुंबीजनों और मित्रों के साथ उत्तम भोजन प्रवास या मिलन- मुलाकात का अवसर आएगा। जीवनसाथी के साथ गाढ़ी आत्मीयता रहने से भविष्य की चिंता नही करेंगे। कार्य क्षेत्र पर दिन के आरंभ से मध्याह्न तक मेहनत ज्यादा करनी पड़ेगी इसके बदले संध्या के आसपास आशानुकूल आर्थिक लाभ होगा। किसी शुभ कार्यक्रम में सम्मिलित होने के लिये बाहर जाना पड़ सकता है। मित्र परिचितों से आनंददायक समाचार प्राप्त होगा। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज के दिन आप कुछ नया करने का प्रयास करेंगे लेकिन कार्य के आरंभ में ही नकारात्मक विचार हताशा पैदा करेंगे। धन लाभ बहुत कम होगा। प्रातः से मध्याह्न तक शारीरिक और मानसिक रूप से अस्वस्थता अनुभव करेंगे। माता- पिता के साथ मतभेद होगा अथवा उनका स्वास्थ्य खराब होगा। जमीन, मकान तथा वाहन आदि दस्तावेज करने में सावधानी रखें धोखा होने की संभावना है। जलाशय अथवा ऊंचाई वाले स्थानों पर जाने से बचें। भावनात्मकता के प्रवाह में न बहें। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज का दिन आपके लिये बेहतर रहने वाला है आज सामाजिक क्षेत्र हो अथवा नौकरी- धंधा या अन्य क्षेत्रों में आज के दिन से कुछ न कुछ लाभ अवश्य उठाएंगे, मित्रों, सगे- सम्बंधियों के साथ किसी मनोहर स्थान पर जाने से मानसिक तनाव में कमी आएगी। किसी परिचित के मागंलिक प्रसंगों में उपस्थित हो सकते है। स्त्री मित्रों तथा पत्नी और पुत्र से लाभ अथवा शुभ समाचार प्राप्त होगा। विवाहोत्सुक युवक- युवतियों की वैवाहिक समस्या कुछ हद तक हल होगी। सेहत का ख्याल रखे चोटादि से कष्ट होने के योग भी है। धन लाभ आशाजनक हो जाएगा। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज आपके कुछ दिनों से रुके अधूरे कार्य पूरे होंगे तथा कार्य में सफलता और यश की प्राप्ति होगी। घर में शांति और आनंद का वातावरण आपके मन को प्रसन्न रखेगा। मित्र रिश्तेदारों से भी आज मधुर संबंध रहेंगे। स्वास्थ्य बना रहेगा। कार्य व्यवसाय में आपकी युक्ति काम आएगी। आर्थिक लाभ आशा से कम लेकिन अवश्य होगा। ऑफिस में संघर्ष या मनमुटाव के अवसर आ सकते हैं। इससे सावधान रहना आवश्यक है। कही सुनी बातो पर यकीन ना करें। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज आप सांसारिक विषय में कम रुचि रखकर आध्यात्मिकता की तरफ मुड़ेंगे। गूढ़ रहस्यमय विद्याओं की तरफ विशेष आकर्षण रहेगा। गहरे चिंतन- मनन आपको अलौकिक अनुभूति कराएंगे। लेकिन आज आपके अंदर अहम भावना भी रहेगी किसी की मामूली बात को भी सहन नही कर पाएंगे। आज वाणी पर संयम रखने से बहुत-सी गलतफहमियों से बच सकेंगे। कार्य क्षेत्र अथवा अन्य साधनों से अचानक धन लाभ होगा। नए कार्यों का प्रारंभ आज न करें। सेहत उत्तम रहेगी। कन्या👩🏻‍🦱 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज का आधा भाग दिन आपके लिए थोड़ा कष्टदायक रहेगा पूर्व में बरती लापरवाही अथवा वाहन चलाने में असावधानी के चलते शारीरिक कष्ट हो सकता है। बार बार प्रयास करने के बाद भी कार्य न बनने के कारण मानसिक रूप से भी आप परेशान रहेंगे। क्रोध पर अंकुश रखना पड़ेगा। अधिक खर्च होने से पैसे की तंगी रहेगी।दोपहर के बाद स्थित में काफी बदलाव आएगा धन की आमद किसी न किसी रूप में होगी लेकिन शारीरिक-पारिवारिक समस्या के चलते आज प्रसन्नता के अवसर मुश्किल से ही मिलेंगे। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज कोई भी अविचारी कदम उठाने से बचे। हालांकि आज जिस भी कार्य को करेंगे देर-अबेर उसमें सफलता तो आपको मिलेगी ही। प्रतिस्पर्धियों को भी आप परास्त कर सकेंगे। भाई बंधुओं और पड़ोसियों के साथ खूब अच्छे सम्बंध रहेंगे लेकिन ज्यादा स्नेह भी आज कलह का कारण बन सकता है इसका ध्यान रखें। कार्य क्षेत्र से आर्थिक लाभ भी होंगे। परिवार जनों का सहयोग कम मिलेगा लेकिन आज सार्वजनिक मान-सम्मान मिलेगा। चित्त में प्रसन्नता रहेगी। सेहत में थोडी नरमी रहने पर भी परवाह नही करेंगे। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आजके दिन आपको जिद्दी व्यवहार छोड़कर समाधानपूर्ण व्यवहार रखने की जरूरत है। आज आप जिस भी बात को पकड़ लेंगे उसे मनवाकर ही छोड़ेंगे चाहे उससे घर अथवा बाहर वालो को समस्या ही क्यों ना हो साथ मे आपकी अनियंत्रित वाणी किसी से भी मनमुटाव करा सकती है। कार्य क्षेत्र पर दुविधा में फंसा मन आपको कोई ठोस निर्णय पर नहीं आने देगा। जिसके परिणाम स्वरूप लाभ होते होते हाथ से निकल सकता है। महत्त्वपूर्ण निर्णय आज न ले। स्वास्थ्य का ध्यान रखें। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज दिन के आरम्भ से ही नकारात्मक विचार मन पर हावी न हो जाएं इसका ख्याल रखने की आवश्यकता है।मानसिक अस्वस्थता आपको परेशान करेंगे। स्वास्थ्य के सम्बंध में भी कुछ न कुछ शिकायत रहेगी। नौकरी में उच्च अधिकारियों के साथ सावधानीपूर्वक कार्य करें अन्यथा भविष्य में मिलने वाले लाभों से वंचित भी रह सकते है। संतानों की समस्याएँ आपको चिंतित करेंगे। प्रतिस्पर्धी अपनी चाल में सफल होंगे। आज महत्त्वपूर्ण निर्णय न ले। धन की आमद और खर्च बराबर रहेंगे। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) दिन का आरंभ चिंता और उद्वेग के साथ होगा। साथ-साथ स्वास्थ्य की शिकायत भी रहेगी सर अथवा बदन दर्द से शुरुआत होकर पूरे शरीर को शिथिल करेगी। नए कार्य शुरू करने के लिए दिन अच्छा नहीं है। आकस्मिक धन खर्च होगा। अत्यधिक कामुकता आपके मानभंग का कारण न बने इसका ध्यान रखें। छोटी मोटी यात्रा- प्रवास के योग है लेकिन इसमें कठिनाई आएगी। आज किसी के बहकावे में ना आये अपना विवेक लगाए। घरेलू वातावरण आपकी आशा के विपरीत रहेगा। कुंभ⚱️ (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज के दिन आपके अधिकांश कार्य निर्विघ्न पूरे होंगे, जिससे आप खुश रहेंगे। नौकरी- व्यवसायिक स्थल पर परिस्थिति आपके अनुकूल रहेगी सोचे समझे कार्य में सफलता मिलेगी। बुजुर्गों और उच्च पदाधिकारियों की कृपादृष्टि रहने के कारण आप मानसिक रूप से किसी भी प्रकार के बोझ से मुक्त होंगे। गृहस्थ जीवन में आनंद रहेगा। धन प्राप्ति और पदोन्नति का योग है। संध्या का समय तनाव और थकान वाला रहेगा मनोरंजन के साधन तलाशेंगे। आज भावनाओ में बहकर किसी से भी मन की बात ना बताये अन्यथा आगे के लिये परेशानी खड़ी हो सकती है। मीन🐬 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आप गृहस्थ जीवन और दांपत्यजीवन में सुख- शांति का अनुभव करेंगे। पारिवारिक सदस्यों और निकटस्थ दोस्तों के साथ उत्तम स्थान की यात्रा स्वादिष्ट भोजन करने का अवसर मिलेगा। एकाध छोटे से प्रवास का आयोजन भी होने की संभावना है। स्वास्थ्य अच्छा रहेगा। नये पुराने कार्य से धन लाभ होगा। दूर बसने वाले स्नेहीजनों का समाचार आपको खुश करेगा। भागीदारी में लाभ तथा सार्वजनिक जीवन में आपको मान- सम्मान की प्राप्ति होगी। सेहत मध्यान के आस पास नरम हो सकती है। ACHARYA ANIL PARASHAR, VADIC,KP ASTROLOGER. 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏

+30 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 112 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB