Prakash Singh Rathore
Prakash Singh Rathore Nov 19, 2019

क्या जानकारी है *यह जानकारी आपको कहीं नहीं मिलेगी और न कोई बताएगा:-* 👇🏻 *xxxxxxxxxx 01 xxxxxxxxxx* *दो लिंग 😗 नर और नारी । *दो पक्ष 😗 शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष। *दो पूजा 😗 वैदिकी और तांत्रिकी (पुराणोक्त)। *दो अयन 😗 उत्तरायन और दक्षिणायन। *xxxxxxxxxx 02 xxxxxxxxxx* *तीन देव 😗 ब्रह्मा, विष्णु, शंकर। *तीन देवियाँ 😗 महा सरस्वती, महा लक्ष्मी, महा गौरी। *तीन लोक 😗 पृथ्वी, आकाश, पाताल। *तीन गुण 😗 सत्वगुण, रजोगुण, तमोगुण। *तीन स्थिति 😗 ठोस, द्रव, गेस। *तीन स्तर 😗 प्रारंभ, मध्य, अंत। *तीन पड़ाव 😗 बचपन, जवानी, बुढ़ापा। *तीन रचनाएँ 😗 देव, दानव, मानव। *तीन अवस्था 😗 जागृत, मृत, बेहोशी। *तीन काल 😗 भूत, भविष्य, वर्तमान। *तीन नाड़ी 😗 इडा, पिंगला, सुषुम्ना। *तीन संध्या 😗 प्रात:, मध्याह्न, सायं। *तीन शक्ति 😗 इच्छाशक्ति, ज्ञानशक्ति, क्रियाशक्ति। *xxxxxxxxxx 03 xxxxxxxxxx* *चार धाम 😗 बद्रीनाथ, जगन्नाथ पुरी, रामेश्वरम्, द्वारका। *चार मुनि 😗 सनत, सनातन, सनंद, सनत कुमार। *चार वर्ण 😗 ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र। *चार निति 😗 साम, दाम, दंड, भेद। *चार वेद 😗 सामवेद, ॠग्वेद, यजुर्वेद, अथर्ववेद। *चार स्त्री 😗 माता, पत्नी, बहन, पुत्री। *चार युग 😗 सतयुग, त्रेतायुग, द्वापर युग, कलयुग। *चार समय 😗 सुबह,दोपहर, शाम, रात। *चार अप्सरा 😗 उर्वशी, रंभा, मेनका, तिलोत्तमा। *चार गुरु 😗 माता, पिता, शिक्षक, आध्यात्मिक गुरु। *चार प्राणी 😗 जलचर, थलचर, नभचर, उभयचर। *चार जीव 😗 अण्डज, पिंडज, स्वेदज, उद्भिज। *चार वाणी 😗 ओम्कार्, अकार्, उकार, मकार्। *चार आश्रम 😗 ब्रह्मचर्य, ग्रहस्थ, वानप्रस्थ, सन्यास। *चार भोज्य 😗 खाद्य, पेय, लेह्य, चोष्य। *चार पुरुषार्थ 😗 धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष। *चार वाद्य 😗 तत्, सुषिर, अवनद्व, घन। *xxxxxxxxxx 04 xxxxxxxxxx* *पाँच तत्व 😗 पृथ्वी, आकाश, अग्नि, जल, वायु। *पाँच देवता 😗 गणेश, दुर्गा, विष्णु, शंकर, सुर्य। *पाँच ज्ञानेन्द्रियाँ 😗 आँख, नाक, कान, जीभ, त्वचा। *पाँच कर्म 😗 रस, रुप, गंध, स्पर्श, ध्वनि। *पाँच उंगलियां 😗 अँगूठा, तर्जनी, मध्यमा, अनामिका, कनिष्ठा। *पाँच पूजा उपचार 😗 गंध, पुष्प, धूप, दीप, नैवेद्य। *पाँच अमृत 😗 दूध, दही, घी, शहद, शक्कर। *पाँच प्रेत 😗 भूत, पिशाच, वैताल, कुष्मांड, ब्रह्मराक्षस। *पाँच स्वाद 😗 मीठा, चर्खा, खट्टा, खारा, कड़वा। *पाँच वायु 😗 प्राण, अपान, व्यान, उदान, समान। *पाँच इन्द्रियाँ 😗 आँख, नाक, कान, जीभ, त्वचा, मन। *पाँच वटवृक्ष 😗 सिद्धवट (उज्जैन), अक्षयवट (Prayagraj), बोधिवट (बोधगया), वंशीवट (वृंदावन), साक्षीवट (गया)। *पाँच पत्ते 😗 आम, पीपल, बरगद, गुलर, अशोक। *पाँच कन्या 😗 अहिल्या, तारा, मंदोदरी, कुंती, द्रौपदी। *xxxxxxxxxx 05 xxxxxxxxxx* *छ: ॠतु 😗 शीत, ग्रीष्म, वर्षा, शरद, बसंत, शिशिर। *छ: ज्ञान के अंग 😗 शिक्षा, कल्प, व्याकरण, निरुक्त, छन्द, ज्योतिष। *छ: कर्म 😗 देवपूजा, गुरु उपासना, स्वाध्याय, संयम, तप, दान। *छ: दोष 😗 काम, क्रोध, मद (घमंड), लोभ (लालच), मोह, आलस्य। *xxxxxxxxxx 06 xxxxxxxxxx* *सात छंद 😗 गायत्री, उष्णिक, अनुष्टुप, वृहती, पंक्ति, त्रिष्टुप, जगती। सात स्वर : सा, रे, ग, म, प, ध, नि। *सात सुर 😗 षडज्, ॠषभ्, गांधार, मध्यम, पंचम, धैवत, निषाद। *सात चक्र 😗 सहस्त्रार, आज्ञा, विशुद्ध, अनाहत, मणिपुर, स्वाधिष्ठान, मूलाधार। *सात वार 😗 रवि, सोम, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि। *सात मिट्टी 😗 गौशाला, घुड़साल, हाथीसाल, राजद्वार, बाम्बी की मिट्टी, नदी संगम, तालाब। *सात महाद्वीप 😗 जम्बुद्वीप (एशिया), प्लक्षद्वीप, शाल्मलीद्वीप, कुशद्वीप, क्रौंचद्वीप, शाकद्वीप, पुष्करद्वीप। *सात ॠषि 😗 वशिष्ठ, विश्वामित्र, कण्व, भारद्वाज, अत्रि, वामदेव, शौनक। *सात ॠषि 😗 वशिष्ठ, कश्यप, अत्रि, जमदग्नि, गौतम, विश्वामित्र, भारद्वाज। *सात धातु (शारीरिक) 😗 रस, रक्त, मांस, मेद, अस्थि, मज्जा, वीर्य। *सात रंग 😗 बैंगनी, जामुनी, नीला, हरा, पीला, नारंगी, लाल। *सात पाताल 😗 अतल, वितल, सुतल, तलातल, महातल, रसातल, पाताल। *सात पुरी 😗 मथुरा, हरिद्वार, काशी, अयोध्या, उज्जैन, द्वारका, काञ्ची। *सात धान्य 😗 गेहूँ, चना, चांवल, जौ मूँग,उड़द, बाजरा। *xxxxxxxxxx 07 xxxxxxxxxx* *आठ मातृका 😗 ब्राह्मी, वैष्णवी, माहेश्वरी, कौमारी, ऐन्द्री, वाराही, नारसिंही, चामुंडा। *आठ लक्ष्मी 😗 आदिलक्ष्मी, धनलक्ष्मी, धान्यलक्ष्मी, गजलक्ष्मी, संतानलक्ष्मी, वीरलक्ष्मी, विजयलक्ष्मी, विद्यालक्ष्मी। *आठ वसु 😗 अप (अह:/अयज), ध्रुव, सोम, धर, अनिल, अनल, प्रत्युष, प्रभास। *आठ सिद्धि 😗 अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व, वशित्व। *आठ धातु 😗 सोना, चांदी, तांबा, सीसा जस्ता, टिन, लोहा, पारा। *xxxxxxxxxx 08 xxxxxxxxxx* *नवदुर्गा 😗 शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चन्द्रघंटा, कुष्मांडा, स्कन्दमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी, सिद्धिदात्री। *नवग्रह 😗 सुर्य, चन्द्रमा, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु, केतु। *नवरत्न 😗 हीरा, पन्ना, मोती, माणिक, मूंगा, पुखराज, नीलम, गोमेद, लहसुनिया। *नवनिधि 😗 पद्मनिधि, महापद्मनिधि, नीलनिधि, मुकुंदनिधि, नंदनिधि, मकरनिधि, कच्छपनिधि, शंखनिधि, खर्व/मिश्र निधि। *xxxxxxxxxx 09 xxxxxxxxxx* *दस महाविद्या 😗 काली, तारा, षोडशी, भुवनेश्वरी, भैरवी, छिन्नमस्तिका, धूमावती, बगलामुखी, मातंगी, कमला। *दस दिशाएँ 😗 पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण, आग्नेय, नैॠत्य, वायव्य, ईशान, ऊपर, नीचे। *दस दिक्पाल 😗 इन्द्र, अग्नि, यमराज, नैॠिति, वरुण, वायुदेव, कुबेर, ईशान, ब्रह्मा, अनंत। *दस अवतार (विष्णुजी) 😗 मत्स्य, कच्छप, वाराह, नृसिंह, वामन, परशुराम, राम, कृष्ण, बुद्ध, कल्कि। *दस सती 😗 सावित्री, अनुसुइया, मंदोदरी, तुलसी, द्रौपदी, गांधारी, सीता, दमयन्ती, सुलक्षणा, अरुंधती। 🕉🙏✡ नोट : कृपया उपर्युक्त पोस्ट को बच्चो को कण्ठस्थ करा दे। इससे घर में भारतीय संस्कृति जीवित रहेगी। जय श्री राम⛳

क्या जानकारी है

*यह जानकारी आपको कहीं नहीं मिलेगी और न कोई बताएगा:-* 👇🏻

*xxxxxxxxxx 01 xxxxxxxxxx*
*दो लिंग 😗 नर और नारी ।
*दो पक्ष 😗 शुक्ल पक्ष और कृष्ण पक्ष।
*दो पूजा 😗 वैदिकी और तांत्रिकी (पुराणोक्त)।
*दो अयन 😗 उत्तरायन और दक्षिणायन।

*xxxxxxxxxx 02 xxxxxxxxxx*
*तीन देव 😗 ब्रह्मा, विष्णु, शंकर।
*तीन देवियाँ 😗 महा सरस्वती, महा लक्ष्मी, महा गौरी।
*तीन लोक 😗 पृथ्वी, आकाश, पाताल।
*तीन गुण 😗 सत्वगुण, रजोगुण, तमोगुण।
*तीन स्थिति 😗 ठोस, द्रव, गेस।
*तीन स्तर 😗 प्रारंभ, मध्य, अंत।
*तीन पड़ाव 😗 बचपन, जवानी, बुढ़ापा।
*तीन रचनाएँ 😗 देव, दानव, मानव।
*तीन अवस्था 😗 जागृत, मृत, बेहोशी।
*तीन काल 😗 भूत, भविष्य, वर्तमान।
*तीन नाड़ी 😗 इडा, पिंगला, सुषुम्ना।
*तीन संध्या 😗 प्रात:, मध्याह्न, सायं।
*तीन शक्ति 😗 इच्छाशक्ति, ज्ञानशक्ति, क्रियाशक्ति।

*xxxxxxxxxx 03 xxxxxxxxxx*
*चार धाम 😗 बद्रीनाथ, जगन्नाथ पुरी, रामेश्वरम्, द्वारका।
*चार मुनि 😗 सनत, सनातन, सनंद, सनत कुमार।
*चार वर्ण 😗 ब्राह्मण, क्षत्रिय, वैश्य, शूद्र।
*चार निति 😗 साम, दाम, दंड, भेद।
*चार वेद 😗 सामवेद, ॠग्वेद, यजुर्वेद, अथर्ववेद।
*चार स्त्री 😗 माता, पत्नी, बहन, पुत्री।
*चार युग 😗 सतयुग, त्रेतायुग, द्वापर युग, कलयुग।
*चार समय 😗 सुबह,दोपहर, शाम, रात।
*चार अप्सरा 😗 उर्वशी, रंभा, मेनका, तिलोत्तमा।
*चार गुरु 😗 माता, पिता, शिक्षक, आध्यात्मिक गुरु।
*चार प्राणी 😗 जलचर, थलचर, नभचर, उभयचर।
*चार जीव 😗 अण्डज, पिंडज, स्वेदज, उद्भिज।
*चार वाणी 😗 ओम्कार्, अकार्, उकार, मकार्।
*चार आश्रम 😗 ब्रह्मचर्य, ग्रहस्थ, वानप्रस्थ, सन्यास।
*चार भोज्य 😗 खाद्य, पेय, लेह्य, चोष्य।
*चार पुरुषार्थ 😗 धर्म, अर्थ, काम, मोक्ष।
*चार वाद्य 😗 तत्, सुषिर, अवनद्व, घन।

*xxxxxxxxxx 04 xxxxxxxxxx*
*पाँच तत्व 😗 पृथ्वी, आकाश, अग्नि, जल, वायु।
*पाँच देवता 😗 गणेश, दुर्गा, विष्णु, शंकर, सुर्य।
*पाँच ज्ञानेन्द्रियाँ 😗 आँख, नाक, कान, जीभ, त्वचा।
*पाँच कर्म 😗 रस, रुप, गंध, स्पर्श, ध्वनि।
*पाँच  उंगलियां 😗 अँगूठा, तर्जनी, मध्यमा, अनामिका, कनिष्ठा।
*पाँच पूजा उपचार 😗 गंध, पुष्प, धूप, दीप, नैवेद्य।
*पाँच अमृत 😗 दूध, दही, घी, शहद, शक्कर।
*पाँच प्रेत 😗 भूत, पिशाच, वैताल, कुष्मांड, ब्रह्मराक्षस।
*पाँच स्वाद 😗 मीठा, चर्खा, खट्टा, खारा, कड़वा।
*पाँच वायु 😗 प्राण, अपान, व्यान, उदान, समान।
*पाँच इन्द्रियाँ 😗 आँख, नाक, कान, जीभ, त्वचा, मन।
*पाँच वटवृक्ष 😗 सिद्धवट (उज्जैन), अक्षयवट (Prayagraj), बोधिवट (बोधगया), वंशीवट (वृंदावन), साक्षीवट (गया)।
*पाँच पत्ते 😗 आम, पीपल, बरगद, गुलर, अशोक।
*पाँच कन्या 😗 अहिल्या, तारा, मंदोदरी, कुंती, द्रौपदी।

*xxxxxxxxxx 05 xxxxxxxxxx*
*छ: ॠतु 😗 शीत, ग्रीष्म, वर्षा, शरद, बसंत, शिशिर।
*छ: ज्ञान के अंग 😗 शिक्षा, कल्प, व्याकरण, निरुक्त, छन्द, ज्योतिष।
*छ: कर्म 😗 देवपूजा, गुरु उपासना, स्वाध्याय, संयम, तप, दान।
*छ: दोष 😗 काम, क्रोध, मद (घमंड), लोभ (लालच),  मोह, आलस्य।

*xxxxxxxxxx 06 xxxxxxxxxx*
*सात छंद 😗 गायत्री, उष्णिक, अनुष्टुप, वृहती, पंक्ति, त्रिष्टुप, जगती।
सात स्वर : सा, रे, ग, म, प, ध, नि।
*सात सुर 😗 षडज्, ॠषभ्, गांधार, मध्यम, पंचम, धैवत, निषाद।
*सात चक्र 😗 सहस्त्रार, आज्ञा, विशुद्ध, अनाहत, मणिपुर, स्वाधिष्ठान, मूलाधार।
*सात वार 😗 रवि, सोम, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि।
*सात मिट्टी 😗 गौशाला, घुड़साल, हाथीसाल, राजद्वार, बाम्बी की मिट्टी, नदी संगम, तालाब।
*सात महाद्वीप 😗 जम्बुद्वीप (एशिया), प्लक्षद्वीप, शाल्मलीद्वीप, कुशद्वीप, क्रौंचद्वीप, शाकद्वीप, पुष्करद्वीप।
*सात ॠषि 😗 वशिष्ठ, विश्वामित्र, कण्व, भारद्वाज, अत्रि, वामदेव, शौनक।
*सात ॠषि 😗 वशिष्ठ, कश्यप, अत्रि, जमदग्नि, गौतम, विश्वामित्र, भारद्वाज।
*सात धातु (शारीरिक) 😗 रस, रक्त, मांस, मेद, अस्थि, मज्जा, वीर्य।
*सात रंग 😗 बैंगनी, जामुनी, नीला, हरा, पीला, नारंगी, लाल।
*सात पाताल 😗 अतल, वितल, सुतल, तलातल, महातल, रसातल, पाताल।
*सात पुरी 😗 मथुरा, हरिद्वार, काशी, अयोध्या, उज्जैन, द्वारका, काञ्ची।
*सात धान्य 😗 गेहूँ, चना, चांवल, जौ मूँग,उड़द, बाजरा।

*xxxxxxxxxx 07 xxxxxxxxxx*
*आठ मातृका 😗 ब्राह्मी, वैष्णवी, माहेश्वरी, कौमारी, ऐन्द्री, वाराही, नारसिंही, चामुंडा।
*आठ लक्ष्मी 😗 आदिलक्ष्मी, धनलक्ष्मी, धान्यलक्ष्मी, गजलक्ष्मी, संतानलक्ष्मी, वीरलक्ष्मी, विजयलक्ष्मी, विद्यालक्ष्मी।
*आठ वसु 😗 अप (अह:/अयज), ध्रुव, सोम, धर, अनिल, अनल, प्रत्युष, प्रभास।
*आठ सिद्धि 😗 अणिमा, महिमा, गरिमा, लघिमा, प्राप्ति, प्राकाम्य, ईशित्व, वशित्व।
*आठ धातु 😗 सोना, चांदी, तांबा, सीसा जस्ता, टिन, लोहा, पारा।

*xxxxxxxxxx 08 xxxxxxxxxx*
*नवदुर्गा 😗 शैलपुत्री, ब्रह्मचारिणी, चन्द्रघंटा, कुष्मांडा, स्कन्दमाता, कात्यायनी, कालरात्रि, महागौरी, सिद्धिदात्री।
*नवग्रह 😗 सुर्य, चन्द्रमा, मंगल, बुध, गुरु, शुक्र, शनि, राहु, केतु।
*नवरत्न 😗 हीरा, पन्ना, मोती, माणिक, मूंगा, पुखराज, नीलम, गोमेद, लहसुनिया।
*नवनिधि 😗 पद्मनिधि, महापद्मनिधि, नीलनिधि, मुकुंदनिधि, नंदनिधि, मकरनिधि, कच्छपनिधि, शंखनिधि, खर्व/मिश्र निधि।

*xxxxxxxxxx 09 xxxxxxxxxx*
*दस महाविद्या 😗 काली, तारा, षोडशी, भुवनेश्वरी, भैरवी, छिन्नमस्तिका, धूमावती, बगलामुखी, मातंगी, कमला।
*दस दिशाएँ 😗 पूर्व, पश्चिम, उत्तर, दक्षिण, आग्नेय, नैॠत्य, वायव्य, ईशान, ऊपर, नीचे।
*दस दिक्पाल 😗 इन्द्र, अग्नि, यमराज, नैॠिति, वरुण, वायुदेव, कुबेर, ईशान, ब्रह्मा, अनंत।
*दस अवतार (विष्णुजी) 😗 मत्स्य, कच्छप, वाराह, नृसिंह, वामन, परशुराम, राम, कृष्ण, बुद्ध, कल्कि।
*दस सती 😗 सावित्री, अनुसुइया, मंदोदरी, तुलसी, द्रौपदी, गांधारी, सीता, दमयन्ती, सुलक्षणा, अरुंधती।                        🕉🙏✡

नोट : कृपया उपर्युक्त पोस्ट को बच्चो को कण्ठस्थ करा दे। इससे घर में भारतीय संस्कृति जीवित रहेगी।
जय श्री राम⛳

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर

🇱 🇮 🇻 🇪 📸 🇩 🇦 🇷 🇸 🇭 🇦 🇳 *चित्तौड़गढ़ से लाइव ... 📹* *भव्य पुष्प श्रृंगार के साथ मुखारबिंद लाइव दर्शन और ब्राह्मी मैया की लाइव आरती दर्शन 🛐....* ╭─━══•❂❀⚜❀❂•══━─╮ *⚜ मेरी सर्वेश्वरी-मेरी बाणेश्वरी ⚜* _आज *ज्येष्ठ (जेठ) माह की शुक्ल पक्ष की अष्ठमी (आठम) के दिव्य वास्तविक और ममतामयी, मनमोहक, अलौकिक अतिसुंदर भव्य, विशेष आकर्षक पुष्पावली से श्रृंगारित, गौ-धूली बेला में, पुजारी जी की सच्ची मेहनत और लगन से रंगा गर्भगृह, दिव्य आभाओ से सुसज्जित संध्याकालीन दिव्य मुखारबिंद श्रृंगार दर्शन और भव्य आरती*_ _सिसोदिया गहलोत राजवंश की कुलस्वामिनी ब्रह्मस्वरूपा..ब्रह्मशक्ति हंसवाहिनी 🦢 *श्री ब्राह्मणी माता जी...*_ मुख्य पाट स्थान- *चित्तौड़गढ़* *आज के लिए विशेष ...* 🥁 👇👇👇👇👇 🔆 *ब्राह्मणी बीज मंत्र* 🔆... 👈 कल एक भक्त ने फ़ोन के माध्यम से बताया कि मैं *श्रीमद देवी भागवत पुराण महात्म्य* का नियमित अध्ययन करता हूँ जिससे मुझे देवी भागवत के माध्यम से दैवीय शक्तियों की सही और वैदिक जानकारी मिली, मैंने पहली बार देवी के वास्तविक स्वरूप को पहचान कर उनके वास्तविक स्वरूप और श्रृंगार, भोग, पूजन विधि, और मुख्य सवारी के बारे में जानकारी प्राप्त की, और अन्य भक्तों को भी देवी भागवत के भक्तिमय दैवीय रस के बारे में बताया...लेकिन मैं तीन दिन से *ब्राह्मणी बीज मंत्र* का जप कर रहा हूँ जिससे मन को शांति तो मिली लेकिन पूर्णतया शांति नही मिली, मैं ऐसा क्या करूं कि कर्मो के दोष को सुधार सकूं, मुझे तो जो भी मिला है बस देवी - देवताओं के नाम पर लूटने वाले मिले है, जगह - जगह भिन्न-भिन्न भोपो से बुझ भी करवा ली लेकिन, अभी तक सही मार्गदर्शक नही मिला .. 🤔 जिसने ब्राह्मणी माता जी के चार पुरश्चरण न किये हो जो प्रतिदिन ब्राह्मणी माता जी के 51 बीज मंत्र की माला जप नही करता हो वो व्यक्ति किस प्रकार मुक्ति और सद्गति की कामना कर सकता है 🤔 एक दो माला जपने से कोई लाभ नही है, एक दो घण्टे के पूजन से परमात्मा की कृपा नही मिलती कठिन तप और साधना अनिवार्य है पर आज के लोग सोचते है कि बिना मेहनत के ही ईश्वर सब कुछ दे दे भोग भी मोक्ष भी सद्गति भी 😃 ऋषि मुनि भी हजारों वर्ष तपस्या करके ईश्वर के दर्शन तथा मोक्ष पाते थे उतना नही कर सकते हो तो कम से कम प्रतिदिन ब्राह्मणी बीज मंत्र का अधिक से अधिक (21 या 51 बार) जप तो किया ही जा सकता है केवल शास्त्रीय ज्ञान और रट्टा, परमात्मा के घर या देवी देवताओं के सम्मुख काम नही आता है तपस्या और साधना का फल ही कार्य करता है वहां जिसने जितनी अधिक भक्ति तपस्या उपासना साधना की होगी उसे उतनी ही अधिक उन्नति और सद्गति मिलेगी । भगवान के घर ज्ञान नही भक्ति समर्पण तपस्या और साधना ही काम आती है, ज्ञान के लिये तो बड़े बड़े महाऋषि ब्रह्मऋषि बड़े बड़े देवी देवता भी जो परम ज्ञान को उपलब्ध थे परमात्मा के आगे नतमस्तक होकर उनकी महिमा का ज्ञान रूपी वर्णन करते है तब भी पार नही पाते तो इस धरती के ज्ञानी तो उस लोक में किस श्रेणी में आएंगे अतः उपासक बनकर सेवक बनकर भक्ति और तप करते हुए ही वहां उत्तम गति मिल सकती है ... 🔆 *ब्राह्मणी माता जी बीज मन्त्र* 🔆 *༒🦢ॐ ऐं ब्रह्माणीयै नमः🦢 ༒* *ब्राह्मणी तेरा नाम ही आधार है ..* *इस कलयुग में सुखी से जीवन - यापन करने के लिए ..* *जुड़े - ब्राह्मणीमय सोशल मीडिया फ़ेसबुक परिवार से ... 🤳* https://www.facebook.com/groups/563312761142961/ 🔱 श्री बाण भगवत्यै नमः 🔱 *⚜ मेरी सर्वेश्वरी-मेरी बाणेश्वरी ⚜* ╰─━══•❂❀⚜❀❂•══━─╯

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Rajesh Sharma May 30, 2020

+12 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Sunil Thantharate May 30, 2020

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
ramkumarverma May 30, 2020

+16 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 5 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB