Krishna Singh
Krishna Singh Nov 10, 2017

काल भैरव अष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

काल भैरव अष्टमी की हार्दिक शुभकामनाएँ

भगवान भैरव की महिमा अनेक शास्त्रों में मिलती है। भैरव जहाँ शिव के गण के रूप में जाने जाते हैं, वहीं वे दुर्गा के अनुचारी माने गए हैं। भैरव की सवारी कुत्ता है। चमेली फूल प्रिय होने के कारण उपासना में इसका विशेष महत्व है।
साथ ही भैरव रात्रि के देवता माने जाते हैं और इनकी आराधना का खास समय भी मध्य रात्रि में 12 से 3 बजे का माना जाता है।
भैरव के नाम जप मात्र से मनुष्य को कई रोगों से मुक्ति मिलती है। वे संतान को लंबी उम्र प्रदान करते है। अगर आप भूत-प्रेत बाधा, तांत्रिक क्रियाओं से परेशान है, तो आप शनिवार या मंगलवार कभी भी अपने घर में भैरव पाठ का वाचन कराने से समस्त कष्टों और परेशानियों से मुक्त हो सकते हैं।
जन्मकुंडली में अगर आप मंगल ग्रह के दोषों से परेशान हैं तो भैरव की पूजा करके पत्रिका के दोषों का निवारण आसानी से कर सकते है।
राहु केतु के उपायों के लिए भी इनका पूजन करना अच्छा माना जाता है। भैरव की पूजा में काली उड़द और उड़द से बने मिष्‍ठान्न इमरती, दही बडे दूध और मेवा का भोग लगाना लाभकारी है इससे भैरव प्रसन्न होते है।
भैरव की पूजा-अर्चना करने से परिवार में सुख-शांति, समृद्धि के साथ-साथ स्वास्थ्य की रक्षा भी होती है। तंत्र के ये जाने-माने महान देवता काशी के कोतवाल माने जाते हैं। भैरव तंत्रोक्त, बटुक भैरव कवच, काल भैरव स्तोत्र, बटुक भैरव ब्रह्म कवच आदि का नियमित पाठ करने से अपनी अनेक समस्याओं का निदान कर सकते हैं। भैरव कवच से असामायिक मृत्यु से बचा जा सकता है।
खास तौर पर कालभैरव अष्टमी पर भैरव के दर्शन करने से आपको अशुभ कर्मों से मुक्ति मिल सकती है। भारत भर में कई परिवारों में कुलदेवता के रूप में भैरव की पूजा करने का विधान हैं। वैसे तो आम आदमी, शनि, कालिका माँ और काल भैरव का नाम सुनते ही घबराने लगते हैं, ‍लेकिन सच्चे दिल से की गई इनकी आराधना आपके जीवन के रूप-रंग को बदल सकती है। ये सभी देवता आपको घबराने के लिए नहीं बल्कि आपको सुखी जीवन देने के लिए तत्पर रहते है बशर्ते आप सही रास्ते पर चलते रहे।
भैरव अपने भक्तों की सारी मनोकामनाएँ पूर्ण करके उनके कर्म सिद्धि को अपने आशीर्वाद से नवाजते है। भैरव उपासना जल्दी फल देने के साथ-साथ क्रूर ग्रहों के प्रभाव को समाप्त खत्म कर देती है। शनि या राहु से पीडित व्यक्ति अगर शनिवार और रविवार को काल भैरव के मंदिर में जाकर उनका दर्शन करें। तो उसके सारे कार्य सकुशल सम्पन्न होते है।
इस दिन दर्शन से ही कई पापो से मुक्ति मिलती हैं।
!
उपाय~भैरव को खुश करने के लिए जरूर आजमाएं-
इससे भय आकस्मिक विपत्ति का नाश होता है
यूं तो भगवान भैरवनाथ को खुश करना बेहद आसान है लेकिन अगर वे रूठ जाएं तो मनाना बेहद मुश्किल। पेश है काल भैरव अष्टमी पर कुछ खास सरल उपाय जो निश्चित रूप से भैरव महाराज को प्रसन्न करेंगे।
1. रविवार, बुधवार या गुरुवार के दिन एक रोटी लें। इस रोटी पर अपनी तर्जनी और मध्यमा अंगुली से तेल में डुबोकर लाइन खींचें। यह रोटी किसी भी दो रंग वाले कुत्ते को खाने को दीजिए। अगर कुत्ता यह रोटी खा लें तो समझिए आपको भैरव नाथ का आशीर्वाद मिल गया। अगर कुत्ता रोटी सूंघ कर आगे बढ़ जाए तो इस क्रम को जारी रखें लेकिन सिर्फ हफ्ते के इन्हीं तीन दिनों में (रविवार, बुधवार या गुरुवार)। यही तीन दिन भैरव नाथ के माने गए हैं।
2. उड़द के पकौड़े शनिवार की रात को कड़वे तेल में बनाएं और रात भर उन्हें ढंककर रखें। सुबह जल्दी उठकर प्रात: 6 से 7 के बीच बिना किसी से कुछ बोलें घर से निकले और रास्ते में मिलने वाले पहले कुत्ते को खिलाएं।

Pranam Sindoor Agarbatti +449 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 248 शेयर

कामेंट्स

Omprakash Sahu Nov 10, 2017
जय जय बाबा भैरव नाथ की

Deepti Singh Nov 10, 2017
जय बाबा भैरव नाथ की।

Birju Yadav Nov 10, 2017
ऊँ कालभैरवाय नमः

RAMUSHARMA Nov 10, 2017
जय जय जय जय जय महाकाल भैरव बाबा की

Dhanraj Maurya Oct 17, 2018

Om jai jai Om Jai Jai Om

Pranam Like Flower +20 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 232 शेयर
Aechana Mishra Oct 17, 2018

Like Pranam Jyot +133 प्रतिक्रिया 49 कॉमेंट्स • 429 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 17, 2018

Om jai jai Om jai jai

Like Pranam +4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 113 शेयर
Seema Sharma Oct 17, 2018

Flower Pranam Like +157 प्रतिक्रिया 71 कॉमेंट्स • 498 शेयर
Shipra Kumari Oct 17, 2018

Like Dhoop Agarbatti +49 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 311 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 17, 2018

Om Jai Jai Om

Pranam Jyot Like +8 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 80 शेयर

क्या आप जानते हैं कि आखिर क्यों आरती के बाद बोला जाता है कर्पूरगौरम..
Indian Letter
इस बात से सभी लोग बखूबी वाकिफ हैं कि हिंदू धर्म में एेसे बहुत से मंत्र होते हैं, जिनका प्रयोग आरती के बाद किया जाता है. जी हाँ, बहुत से ऐसे मंत्र जो आरती के खत्म ह...

(पूरा पढ़ें)
Jyot Pranam Like +93 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 209 शेयर
harshita malhotra Oct 17, 2018

Jyot Like Pranam +11 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 76 शेयर

Like Pranam Water +52 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 300 शेयर
Anuradha Tiwari Oct 17, 2018

*बंदउँ अवध भुआल सत्य प्रेम जेहि राम पद।
बिछुरत दीनदयाल प्रिय तनु तृन इव परिहरेउ॥

भावार्थ:-मैं अवध के राजा श्री दशरथजी की वन्दना करता हूँ, जिनका श्री रामजी के चरणों में सच्चा प्रेम था, जिन्होंने दीनदयालु प्रभु के बिछुड़ते ही अपने प्यारे शरीर को मा...

(पूरा पढ़ें)
Bell Dhoop Flower +43 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 36 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB