चिराग
चिराग Nov 2, 2017

#भगवान शिव ने सूर्य भगवान को दिया था वरदान#

#भगवान शिव ने सूर्य भगवान को दिया था वरदान#

#भगवान शिव ने सूर्य भगवान को दिया था वरदान

भगवान सूर्य का नाम विवस्वान और आदित्य है। भगवान अपने रथ पर आरूढ़ होकर अंगिरा ऋषि, विश्वावसु, प्रम्लोचार अप्सरा, एलापुत्र नाग, श्रोता यक्ष और शर्य राक्षस के साथ गमन करते हैं।

भगवान आदित्य की हजारों हजार रश्मियां हैं जिनसे यह सृष्टि आलोकित होती है। उन्होंने कहा कि  वे उन्हें साष्टांग नमन करते हैं।  कल्याण और वृद्धि प्रदान करते हैं। इंद्र आदित्य 7 सहस्त्र रश्मियों से तपते हैं भगवान आदित्य का वर्ण सफेद है। पौराििणक मान्यता है कि पूर्वकाल में त्रिभुवन विख्यात काशी में पंचगड्ंगा के समीप भगवान सूर्य ने तपस्या की थी।

यहां उन्होंने गभस्तीश्वर नामक शिवलिंग और मंड्ंगलागौरी की स्थापना कर उनकी आराधना की। भगवान सूर्य तीव्र तेज से प्रज्वलित हैं।  भगवान का तेज इतना था कि धरती और सृष्टि पर प्रभाव पड़ने लगा। ज्वालाओं से सब जलने लगा। तब भगवान से सभी ने प्रार्थना की। ऐसे में भगवान शिव समाधि में लीन सूर्य देव के सामने प्रकट हुए और उनका तप पूर्ण किया। भगवान ने उन्हें सुख – समृद्धि का वरदान दिया। पुत्र – पौत्रादि की वृद्धि देने का आशीर्वाद दिया।

ऐसे में भगवान शिव ने आशीर्वाद दिया कि जिस शिवलिंग का पूजन सूर्य देव ने किया है उसका नाम गभस्तीश्वर शिवलिंग होगा। भगवान ने कहा कि चैत्र शुक्ल तृतीया को उपवास कर मड्ंगलागौरी का पूजन  किया। उन्होंने कहा कि तपस्या करते समय किरण पुंज ही दिखें हैं। तपस्या से आपमें इतना तेज और गर्मी आ गई। उन्होंने आशीर्वाद दिया कि आपका पूजन करने वाले मानव निरोगी होंगे। दूसरी ओर काशी में मंगलागौरी के साथ तुम्हारे दर्शन से दरिद्रता का नाश होगा।

Like Flower Agarbatti +163 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 115 शेयर

कामेंट्स

श्री सोमनाथ महादेव मंदिर,
प्रथम ज्योतिर्लिंग - गुजरात (सौराष्ट्र)
दिः18 अगस्त 2018, श्रावण शुक्ल अष्टमी -शनिवार
सायं बोरसली पुष्प शृंगार दर्शन

Belpatra Pranam Milk +52 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 61 शेयर

बाबा बैद्यनाथ द्वादश ज्योतिर्लिंग ।🙏🙏🌸🙏🙏

तेरा पल पल बीता जाए, मुख से जप ले नमः शिवाय।
ॐ नमः शिवाय, ॐ नमः शिवाय॥

शिव शिव तुम हृदय से बोलो,
मन मंदिर का परदा खोलो।
अवसर खाली ना जाए,
मुख से जप ले नमः शिवाय॥

यह दुनिया पंछी का मेला.
समझो उड़ जान...

(पूरा पढ़ें)
Belpatra Water Milk +15 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 11 शेयर
Anuradha Tiwari Aug 18, 2018

देवो की तपोभूमि हिमाचल के कागंडा मे वैजनाथ से 5 km की दूरी पर कुसंल नामक जगह पर स्थापित है शिवशंकर भगवान के तप प्रकाश से स्वंयभू उत्पन्न शिवलिगं | जिसे महाकाल मन्दिर के नाम से जाना जाता है | सम्पूर्ण विश्व मे उज्जैन व वैजनाथ मे महाकाल के दो ही मन्...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Belpatra Bell +24 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Sushil Dhiman Aug 18, 2018

🌱 ... *जगत की रीत* ...🌱

एक बार एक गाँव में पंचायत लगी थी | वहीं थोड़ी दुरी पर एक संत ने अपना बसेरा किया हुआ था| जब पंचायत किसी निर्णय पर नहीं पहुच सकी तो किसी ने कहा कि क्यों न हम महात्मा जी के पास अपनी समस्या को लेकर चलें अतः सभी संत के पास प...

(पूरा पढ़ें)
Sindoor Dhoop Belpatra +18 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Sushil Dhiman Aug 17, 2018

Jyot Like Pranam +32 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 69 शेयर
Pt Vinod Pandey Aug 16, 2018

*🌞~ आज का हिन्दू #पंचांग ~🌞*
⛅ दिनांक 16 अगस्त 2018
⛅ दिन - गुरुवार
⛅ विक्रम संवत - 2075 (गुजरात. 2074)
⛅ शक संवत -1940
⛅ अयन - दक्षिणायन
⛅ ऋतु - वर्षा
⛅ मास - श्रावण
⛅ पक्ष - शुक्ल
⛅ तिथि - षष्ठी 17 अगस्त रात्रि 01:02 तक तत्पश्चात सप्तमी
⛅ ...

(पूरा पढ़ें)
Like Pranam Bell +30 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 112 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB