Ankitaavi Agarwal
Ankitaavi Agarwal Sep 5, 2017

" श्राद्ध में खीर क्यों"

" श्राद्ध में खीर क्यों"

" श्राद्ध में खीर क्यों"
जनिये "खीर" का वैज्ञानिक कारण और महत्व......
हमारी हर प्राचीन परंपरा में वैज्ञानिकता का दर्शन होता हैं । अज्ञानता का नहीं......
हम सब जानते है की मच्छर काटने से मलेरिया होता है वर्ष मे कम से कम 700-800 बार तो मच्छर काटते ही होंगे अर्थात 70 वर्ष की आयु तक पहुंचते-पहुंचते लाख बार मच्छर काट लेते होंगे । लेकिन अधिकांश लोगो को जीवनभर में एक दो बार ही मलेरिया होता है ।सारांश यह है की मच्छर के काटने से मलेरिया होता है, यह 1% ही सही है ।
ध्यान दीजिये ....
खीर खाओ मलेरिया भगाओ :-
लेकिन यहाँ ऐसे विज्ञापनो की कमी नहीं है, जो कहते है की एक भी मच्छर ‘डेंजरस’ है, हिट लाओगे तो एक भी मच्छर नहीं बचेगा। अब ऐसे विज्ञापनो के बहकावे मे आकर करोड़ो लोग इस मच्छर बाजार मे अप्रत्यक्ष रूप से शामिल हो जाते है । सभी जानते है बैक्टीरिया बिना उपयुक्त वातावरण के नहीं पनप सकते । जैसे दूध मे दही डालने मात्र से दही नहीं बनाता, दूध हल्का गरम होना चाहिए। उसे ढककर गरम वातावरण मे रखना होता है । बार बार हिलाने से भी दही नहीं जमता । ऐसे ही मलेरिया के बैक्टीरिया को जब पित्त का वातावरण मिलता है, तभी वह 4 दिन में पूरे शरीर में फैलता है, नहीं तो थोड़े समय में समाप्त हो जाता है । इतने सारे प्रयासो के बाद भी मच्छर और रोगवाहक सूक्ष्म कीट नहीं काटेंगे यह हमारे हाथ में नहीं । लेकिन पित्त को नियंत्रित रखना तो हमारे हाथ में है। अब हमारी परम्पराओं का चमत्कार देखिये जिन्हे अल्पज्ञानी, दक़ियानूसी, और पिछड़ेपन की सोच करके षड्यंत्र फैलाया जाता है।
वर्षा ऋतु के बाद जब शरद ऋतु आती है तो आसमान में बादल व धूल के न होने से कडक धूप पड़ती है। जिससे शरीर में पित्त कुपित होता है । इस समय गड्ढो आदि मे जमा पानी के कारण बहुत बड़ी मात्रा मे मच्छर पैदा होते है इससे मलेरिया होने का खतरा सबसे अधिक होता है ।
खीर खाने से पित्त का शमन होता है । शरद में ही पितृ पक्ष (श्राद्ध) आता है पितरों का मुख्य भोजन है खीर । इस दौरान 5-7 बार खीर खाना हो जाता है । इसके बाद शरद पुर्णिमा को रातभर चाँदनी के नीचे चाँदी के पात्र में रखी खीर सुबह खाई जाती है (चाँदी का पात्र न हो तो चाँदी का चम्मच खीर मे डाल दे, लेकिन बर्तन मिट्टी, काँसा या पीतल का हो। क्योंकि स्टील जहर और एल्यूमिनियम, प्लास्टिक, चीनी मिट्टी महा-जहर है)
यह खीर विशेष ठंडक पहुंचाती है । गाय के दूध की हो तो अतिउत्तम, विशेष गुणकारी (आयुर्वेद मे घी से अर्थात गौ घी और दूध गौ का) इससे मलेरिया होने की संभावना नहीं के बराबर हो जाती है ।
ध्यान रहे :-- इस ऋतु में बनाई खीर में केसर और मेंवों का प्रयोग न करे । ये गर्म प्रवृत्ति के होने से पित्त बढ़ा सकते है। सिर्फ इलायची डाले ।।। इसे सोचो और समझो फिर प्रयोग करो।
नारायण नारायण

Like Pranam Milk +179 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 316 शेयर

कामेंट्स

Dhanraj Maurya Oct 18, 2018

Om Jai Jai

Pranam Like Flower +10 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 180 शेयर
Aechana Mishra Oct 18, 2018

Flower Like Jyot +62 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 411 शेयर

Pranam Fruits Tulsi +52 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 311 शेयर
T.K Oct 18, 2018

🚩जय श्री राम🚩

Pranam Flower Jyot +3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 74 शेयर
T.K Oct 18, 2018

🚩शुभ रात्रि🚩

Pranam Sindoor Dhoop +44 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 260 शेयर

अयोध्या से वापस आने पर मां "कौशल्या" ने "श्रीराम" से पूछा ......"रावण" को मार दिया ?
भगवान श्रीराम ने सुंदर जवाब दिया....
महाज्ञानी , महाप्रतापी , महाबलशाली , प्रखंडपंडित , महाशिवभक्त , चारों वेदों का ज्ञाता , शिवतांडव स्रोत के रचयिता
लंकेश को मै...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Bell Flower +39 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 149 शेयर
Jagdish bijarnia Oct 18, 2018

Pranam Like Flower +55 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 832 शेयर
harshita malhotra Oct 18, 2018

Like Pranam Bell +12 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 113 शेयर
Neeru miglani Oct 18, 2018

🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩🚩

Pranam Flower Like +141 प्रतिक्रिया 65 कॉमेंट्स • 169 शेयर
Jagdish bijarnia Oct 18, 2018

Pranam Like Dhoop +24 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 134 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB