Jasbir Singh nain
Jasbir Singh nain Nov 28, 2019

शुभ प्रभात जी राधे राधे जी 🙏🙏🙏🌴🙏🙏🙏🙏🙏🌴🙏🙏🙏🙏🙏 चंद्र देव के पूजन और व्रत का है खास महत्व, खुल जाएगा आपका भाग्य, जानिए चंद्रमा दर्शन हिंदू धर्म के अनुसार जब पृथ्वी से चंद्रमा नजर नहीं आता है तो उस रात को अमावस्या कहा जाता है जिसके अगले दिन चंद्रमा दर्शन दिवस मनाया जाता है. चंद्रमा दर्शन दिवस का खास धार्मिक महत्व है. चंद्र देव की पूजा के साथ इस दिन काफी लोग व्रत करते हैं और शाम को चांद को देखने के बाद अपना उपवास खोलते हैं. चंद्र दर्शन दिवस अमावस्या के अगले दिन या दूसरे दिन को कहा जाता है. पृथ्वी से जब चंद्रमा नजर नहीं आता है तो इसे हिंदू धर्म में अमावस्या कहा जाता है. चंद्रमा दर्शन दिवस का खास धार्मिक महत्व बताया गया है. इस दिन काफी लोग व्रत करते हैं और शाम को चांद को देखने के बाद उपवास खोलते हैं. हिंदू धर्म की मान्यताओं में चंद्र दर्शन काफी भाग्यशाली माना जाता है जो हर महीने एक बार होते हैं. मान्यता है कि अमावस्या के अगले दिन चंद्रमा दर्शन करने से व्यक्ति का भाग्य खुलता है और परिवार में सुख-समृद्धि आती है. चंद्र देव के सम्मान में चंद्र दर्शन दिवस को मनाने का विधान है. चंद्र दर्शन के लिए शुभ समय सूर्यास्त के बाद माना जाता है. क्या है चंद्र दर्शन के महत्व 1. हिंदू धर्म में चंद्र देव को उच्च कहे जाने वाले देवताओं में से एक रूप बताया गया जिनका पृथ्वी पर लोगों के जीवन पर काफी असर है. इसी वजह से चांद को महत्वपूर्ण गृह माना गया है. 2. चांद का संबंध पवित्रता, अच्छे इरादे और ज्ञान से भी जोड़ा जाता है. साथ ही चंद्रमा को सबसे अनुकूल ग्रहों में से एक कहा जाता है. चंद्रमा को पेड़-पौधे और जानवरों के जीवन का पोषक भी माना जाता है. 3. चंद्र दर्शन के दिन काफी लोग अपने पूर्वजों की पूजा करते हैं और उनका आशीर्वाद मांगते हैं. साथ ही चंद्र देव के दर्शन से सफलता, सौभाग्य और अच्छी सेहत की प्राप्ति होती है. 4. मान्यता है जो भी व्यक्ति चंद्र दिवस के मौके पर चंद्र देव की पूजा और व्रत करता है उसके मन से सभी नकारात्मक विचार दूर होते हैं. पवित्र चंद्र मंत्रों के साथ व्रत का अनुष्ठान किया जाता है.

शुभ प्रभात जी राधे राधे जी 🙏🙏🙏🌴🙏🙏🙏🙏🙏🌴🙏🙏🙏🙏🙏             चंद्र देव के पूजन और व्रत का है खास महत्व, खुल जाएगा आपका भाग्य, जानिए चंद्रमा दर्शन 
 हिंदू धर्म के अनुसार जब पृथ्वी से चंद्रमा नजर नहीं आता है तो उस रात को अमावस्या कहा जाता है जिसके अगले दिन चंद्रमा दर्शन दिवस मनाया जाता है. चंद्रमा दर्शन दिवस का खास धार्मिक महत्व है. चंद्र देव की पूजा के साथ इस दिन काफी लोग व्रत करते हैं और शाम को चांद को देखने के बाद अपना उपवास खोलते हैं.



 चंद्र दर्शन दिवस अमावस्या के अगले दिन या दूसरे दिन को कहा जाता है. पृथ्वी से जब चंद्रमा नजर नहीं आता है तो इसे हिंदू धर्म में अमावस्या कहा जाता है. चंद्रमा दर्शन दिवस का खास धार्मिक महत्व बताया गया है. इस दिन काफी लोग व्रत करते हैं और शाम को चांद को देखने के बाद उपवास खोलते हैं. हिंदू धर्म की मान्यताओं में चंद्र दर्शन काफी भाग्यशाली माना जाता है जो हर महीने एक बार होते हैं.

मान्यता है कि अमावस्या के अगले दिन चंद्रमा दर्शन करने से व्यक्ति का भाग्य खुलता है और परिवार में सुख-समृद्धि आती है. चंद्र देव के सम्मान में चंद्र दर्शन दिवस को मनाने का विधान है. चंद्र दर्शन के लिए शुभ समय सूर्यास्त के बाद माना जाता है.



क्या है चंद्र दर्शन के महत्व

1. हिंदू धर्म में चंद्र देव को उच्च कहे जाने वाले देवताओं में से एक रूप बताया गया जिनका पृथ्वी पर लोगों के जीवन पर काफी असर है. इसी वजह से चांद को महत्वपूर्ण गृह माना गया है.

2. चांद का संबंध पवित्रता, अच्छे इरादे और ज्ञान से भी जोड़ा जाता है. साथ ही चंद्रमा को सबसे अनुकूल ग्रहों में से एक कहा जाता है. चंद्रमा को पेड़-पौधे और जानवरों के जीवन का पोषक भी माना जाता है.

3. चंद्र दर्शन के दिन काफी लोग अपने पूर्वजों की पूजा करते हैं और उनका आशीर्वाद मांगते हैं. साथ ही चंद्र देव के दर्शन से सफलता, सौभाग्य और अच्छी सेहत की प्राप्ति होती है.

4. मान्यता है जो भी व्यक्ति चंद्र दिवस के मौके पर चंद्र देव की पूजा और व्रत करता है उसके मन से सभी नकारात्मक विचार दूर होते हैं. पवित्र चंद्र मंत्रों के साथ व्रत का अनुष्ठान किया जाता है.

+281 प्रतिक्रिया 48 कॉमेंट्स • 206 शेयर

कामेंट्स

राजेश अग्रवाल Nov 28, 2019
दुनिया के दो असंभव काम🌷मां की ममता और पिता की क्षमता का अंदाजा लगा पाना🌷 प्रभु जी की कृपा से आपका हर पल शुभदायी हो मंगल कामनाओं के साथ राजेश भाई का आपको सादर प्रणाम🌷🙏🙏🌷

Dr.ratan Singh Nov 28, 2019
🌹🌿हरि ॐ वन्दन भाई🌿🌹 🎎आप और आपके पूरे परिवार पर श्री हरि विष्णु जी और साईं बाबा की कृपादृष्टि सदा बनी रहे जी🙏 🎭आपका गुरुवार का दिन शुभ अतिसुन्दर शांतिमय और मंगलमय व्यतीत हो जी 🙏 🍑🌲🌺ॐ साईं राम🌺🌲🍑

Brajesh Sharma Nov 28, 2019
ॐ नमो भगवते वासुदेवाय नमः ॐ श्री लक्ष्मी नारायण नमो नमः जय जय श्री राधे कृष्णा जी

Dr.ratan Singh Nov 29, 2019
🌹🌿जय माता दी वन्दन भाई🌿🌹 🎎आप और आपके पूरे परिवार पर माता रानी और श्री हरि विष्णु जी की कृपादृष्टि सदा बनी रहे जी🙏 🎭आपका शुक्रवारका दिन शुभ अतिसुन्दर शांतिमय और मंगलमय व्यतीत हो जी 🙏 🌺🌲🚩जय माँ सन्तोषी🚩🌲🌺

Seema bhardwaj Nov 29, 2019
🙏🌹Om namh bhgvteye vasudevay ji shub ratri vandan bhai ji 🙏🌹

Renu Singh Nov 29, 2019
Shubh Ratri Vandan Ji 🙏🌹 Mata Rani ki kripa dristi Aap aur Aàpke Pariwar pr hamesha Bni rhe Aàpka Har pal mangalmay ho Bhai Ji 🙏🌹🙏🌹

+562 प्रतिक्रिया 80 कॉमेंट्स • 343 शेयर

+111 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 251 शेयर

+144 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 141 शेयर

+29 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 15 शेयर
Pt Vinod Pandey 🚩 Jan 26, 2020

🌞 *~ आज का हिन्दू #पंचांग* ~ 🌞 ⛅ *दिनांक 27 जनवरी 2020* ⛅ *दिन - सोमवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2076* ⛅ *शक संवत - 1941* ⛅ *अयन - उत्तरायण* ⛅ *ऋतु - शिशिर* ⛅ *मास - माघ* ⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - तृतीया पूर्ण रात्रि तक* ⛅ *नक्षत्र - शतभिषा पूर्ण रात्रि तक* ⛅ *योग - वरीयान् 28 जनवरी रात्रि 02:52 तक तत्पश्चात परिघ* ⛅ *राहुकाल - सुबह 08:34 से सुबह 09:56 तक* ⛅ *सूर्योदय - 07:18* ⛅ *सूर्यास्त - 18:24* ⛅ *दिशाशूल - पूर्व दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण - तृतीया क्षय तिथि* 💥 *विशेष - तृतीया को परवल खाना शत्रुओं की वृद्धि करने वाला है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)* 🌷 *मंगलवारी चतुर्थी* 🌷 ➡ *28 जनवरी 2020 (सुबह 08:23 से 29 जनवरी सूर्योदय तक )* 🌷 *मंत्र जप व शुभ संकल्प की सिद्धि के लिए विशेष योग* 🙏🏻 *मंगलवारी चतुर्थी को किये गए जप-संकल्प, मौन व यज्ञ का फल अक्षय होता है ।* 👉🏻 *मंगलवार चतुर्थी को सब काम छोड़ कर जप-ध्यान करना ... जप, ध्यान, तप सूर्य-ग्रहण जितना फलदायी है...* 🌷 *मंगलवारी चतुर्थी* 🌷 🙏 *अंगार चतुर्थी को सब काम छोड़ कर जप-ध्यान करना …जप, ध्यान, तप सूर्य-ग्रहण जितना फलदायी है…* 🌷 *> बिना नमक का भोजन करें* 🌷 *> मंगल देव का मानसिक आह्वान करो* 🌷 *> चन्द्रमा में गणपति की भावना करके अर्घ्य दें* 💵 *कितना भी कर्ज़दार हो ..काम धंधे से बेरोजगार हो ..रोज़ी रोटी तो मिलेगी और कर्जे से छुटकारा मिलेगा |* 🌐 http://www.vkjpandey.in 🌷 *मंगलवार चतुर्थी* 🌷 👉 *भारतीय समय के अनुसार 28 जनवरी 2020 (सुबह 08:23 से 29 जनवरी सूर्योदय तक) चतुर्थी है, इस महा योग पर अगर मंगल ग्रह देव के 21 नामों से सुमिरन करें और धरती पर अर्घ्य देकर प्रार्थना करें,शुभ संकल्प करें तो आप सकल ऋण से मुक्त हो सकते हैं..* *👉🏻मंगल देव के 21 नाम इस प्रकार हैं :-* 🌷 *1) ॐ मंगलाय नमः* 🌷 *2) ॐ भूमि पुत्राय नमः* 🌷 *3 ) ॐ ऋण हर्त्रे नमः* 🌷 *4) ॐ धन प्रदाय नमः* 🌷 *5 ) ॐ स्थिर आसनाय नमः* 🌷 *6) ॐ महा कायाय नमः* 🌷 *7) ॐ सर्व कामार्थ साधकाय नमः* 🌷 *8) ॐ लोहिताय नमः* 🌷 *9) ॐ लोहिताक्षाय नमः* 🌷 *10) ॐ साम गानाम कृपा करे नमः* 🌷 *11) ॐ धरात्मजाय नमः* 🌷 *12) ॐ भुजाय नमः* 🌷 *13) ॐ भौमाय नमः* 🌷 *14) ॐ भुमिजाय नमः* 🌷 *15) ॐ भूमि नन्दनाय नमः* 🌷 *16) ॐ अंगारकाय नमः* 🌷 *17) ॐ यमाय नमः* 🌷 *18) ॐ सर्व रोग प्रहाराकाय नमः* 🌷 *19) ॐ वृष्टि कर्ते नमः* 🌷 *20) ॐ वृष्टि हराते नमः* 🌷 *21) ॐ सर्व कामा फल प्रदाय नमः* 🙏 *ये 21 मन्त्र से भगवान मंगल देव को नमन करें ..फिर धरती पर अर्घ्य देना चाहिए..अर्घ्य देते समय ये मन्त्र बोले :-* 🌷 *भूमि पुत्रो महा तेजा* 🌷 *कुमारो रक्त वस्त्रका* 🌷 *ग्रहणअर्घ्यं मया दत्तम* 🌷 *ऋणम शांतिम प्रयाक्ष्मे* 🙏 *हे भूमि पुत्र!..महा क्यातेजस्वी,रक्त वस्त्र धारण करने वाले देव मेरा अर्घ्य स्वीकार करो और मुझे ऋण से शांति प्राप्त कराओ..* 🌐 http://www.vkjpandey.in 🙏🏻🌹🌻☘🌷🌺🌸🌼💐🙏

+38 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 55 शेयर
Kalpana bist Jan 26, 2020

+82 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 14 शेयर

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 6 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 5 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB