जय श्री राम जय जय महावीर हनुमान

जय श्री राम जय जय महावीर हनुमान

🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
🔔🚩 *#जय_श्री_राम_जय_जय_महावीर_हनुमान * 🔔🚩
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
#सभी_आदरणीय_साथियों_को_मंगलमय_शुभ_प्रभात 🙏
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
इन्द्र के वज्र से जब हनुमान जी मुर्छित हो गये थे तब पुत्र को छटपटाते हुए देखकर पिता वायुदेव ने अपना वेग रोक दिया और उस समय हनुमान जी को देवताओं ने विभिन्न वरदान दिए थे। ब्रह्माजी ने हनुमानजी को वरदान दिया कि “इस बालक को कभी ब्रह्मशाप नहीं लगेगा और यह शत्रुओं के लिए भयंकर और मित्रो के लिए अभयदाता बनेगा एवं इच्छानुसार स्वरुप पा सकेगा।” इन्द्रदेव ने हनुमानजी को वरदान दिया कि “मेरा वज्र भी इस बालक को नुकसान नहीं पहुंचा पायेगा।” सूर्यदेव ने भी कहा कि “इस बालक को में अपना तेज प्रदान करता हूं।” यमदेव ने वरदान दिया कि “यह बालक सदा निरोगी एवं मेरे दण्ड से मुक्त रहेगा”। कुबेर ने आशीर्वाद दिया कि “युद्ध में हनुमान कभी विषादित नहीं होगा तथा राक्षस भी इनको कभी हरा नहीं पाएंगे”। देवो के देव शिव ने भी अपना अभय वरदान हनुमान को दिया।
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
इन सभी वरदानों को प्राप्त कर, भगवान हनुमान जी कलयुग के प्रमुख एवं पूजनीय देवों में गिने जाते हैं। तुलसीदास जी द्वारा लिखी गयी, काव्यात्मक कृति ‘हनुमान चालीसा’ खुद में हज़ारों और लाखों मन्त्रों के समान शक्तिशाली बताई गयी है। वैसे तो पूरी ही हनुमान चालीसा बहुत महत्वपूर्ण है किन्तु हनुमान चालीसा की यह निम्न 5 चौपाइयां ही अगर सही से निरंतर जाप की जाए, तो सभी दुखों से इंसान को मुक्त कर सकती हैं।
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
#हनुमान_चालीसा_की_इन_5_चौपाइयों_के_जाप_से_खत्म_हो_जायेंगे_सभी_दुःख
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
1. #भूत_पिशाच_निकट_नहीं_आवे।
#महाबीर_जब_नाम_सुनावे।।
यदि व्यक्ति को किसी भी प्रकार का भय सताता है तो नित्य रोज प्रातः और सायंकाल में 108 बार इस चौपाई का जाप किया जाये तो सभी प्रकार के भय से मुक्ति मिलती है।
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
2. #नासे_रोग_हरे_सब_पीरा।
#जो_सुमिरे_हनुमंत_बलबीरा।।
यदि व्यक्ति बिमारियों से घिरा रहता है या कोई बहुत बड़ी बीमारी से व्यक्ति ग्रसित है तो निरंतर सुबह-शाम 108 बार जप करना तथा मंगलवार को हनुमान जी की मूर्ति के सामने पूरी हनुमान चालीसा के पाठ से रोगों की पीड़ा खत्म हो जाती है।
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
3. #अष्ट_सिद्धि_नवनिधि_के_दाता।
#अस_बर_दीन_जानकी_माता।।
हनुमान जी आठ सिद्धि और नौ निधियों को देने वाले भगवान हैं। इनको ऐसा वरदान माता सीताजी ने दिया है। यदि जीवन में व्यक्ति को शक्तियों की प्राप्ति करनी है ताकि जीवन निर्वाह में मुश्किलों का कम सामना करना पड़े तो नित्य रोज, ब्रह्म महूर्त में घंटा-आधा घंटा, इन पंक्तियों के जप से लाभ प्राप्त हो सकता है।
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
4. #बिद्यबान_गुनी_अति_चातुर।
#रामकाज_करीबे_को_आतुर।।
यदि किसी व्यक्ति को विद्या और धन चाहिए तो निम्न पंक्तियों के जप से हनुमान जी का आशीर्वाद प्राप्त हो जाता है। विद्या और चतुराई को प्राप्त करने के लिए तो यह चौपाई राम-बाण है। प्रतिदिन 108 बार ध्यानपूर्वक जप करने से, व्यक्ति को धन सम्बंधित दुःख दूर हो जाते हैं।
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
5. #भीम_रूप_धरि_असुर_संहारे।
#रामचंद्रजी_के_काज_संवारे।।
यदि कोई व्यक्ति शत्रुओं से परेशान हैं या व्यक्ति के कार्य नहीं बन पा रहे हैं तो हनुमान चालीसा की इस चौपाई का कम से कम 108 बार जप करना चाहिए।
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
मंगलवार और शनिवार को हनुमान चालीसा का पाठ, हनुमान मंदिर में ध्यानपूर्वक करने से सभी तरह के दुखों से मुक्ति प्राप्त हो जाती है।
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔
#नोट : उक्त जानकारी सोशल मीडिया से प्राप्त किया गया है
📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰📰
(इस आलेख में दी गई जानकारियां धार्मिक आस्थाओं और लौकिक मान्यताओं पर आधारित हैं, जिसे मात्र सामान्य जनरुचि को ध्यान में रखकर प्रस्तुत किया गया है।)
🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔🚩🔔

+8 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 4 शेयर

कामेंट्स

PRABHAT KUMAR Sep 25, 2018
जय श्री राम जय जय महावीर हनुमान

PRABHAT KUMAR Sep 25, 2018
@sanjaymangrule जी 🔔🚩🔔 जय श्री राम जय जय महावीर हनुमान 🔔🚩🔔 नमस्कार प्रिय आदरणीय मित्र 🙏

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

#हनुमान_जी_से_धोखा...! (अजब गजब कथा) करीब 95 साल पहले की बात है। राजस्थान के अलवर इलाके में एक गडरिया भेड़ चराते हुए जंगल में चला गया। अचानक किसी ने उसे कहा कि यहाँ बकरियां चराना मना है। बातों बातों में पता चला कि वो इलाके का तहसीलदार था। दोनों में बात होने लगी। पता चला कि बहुत कोशिश के बाद भी तहसीदार को बच्चे नहीं होते। गड़रिये ने उनसे कहा कि आप दौसा के बालाजी हनुमानजी के मंदिर जाकर बेटा मांग लो, मिल जायेगा। न जाने क्यों तहसीलदार ने उस गड़रिए की बात मान ली। उन्होंने हनुमान जी से कहा कि अगर मेरा बेटा हो जायेगा तो मैं उसे यहीं इसी मंदिर में सेवा के लिए छोड़ जाऊंगा। इस बात का ज़िक्र उन्होंने अपनी पत्नी से भी नहीं किया । मन्नत मांगने के एक साल के अंदर उन्हें बेटा नसीब हो गया लेकिन बाप का प्यार अब आड़े आ गया। उन्होंने हनुमानजी से कहा कि मैं अपना वचन पूरा नहीं कर सकता। आपका ये ऋण मुझ पर रहेगा। वो बेटा बड़ा होने लगा। शिक्षा की उम्र तक आया तो पिताजी ने उसे हरिद्वार के एक बड़े विद्वान प्रभुदत्त ब्रह्मचारी जी के यहाँ पढ़ने भेज दिया। लड़के में अद्धभुत क्षमता थी उसे रामायण कंठस्थ थी। बिना पढ़े वो रामायण का पाठ करने लगा। उसकी ख्याति दूर दूर तक फ़ैल गयी और वो साधु सन्यासियों और बड़े बड़े उद्योगपतियों के घर रामायण पाठ करने लगा। जवान होने पर उसकी शादी भी हो गयी। एक दिन देश के बड़े उद्योगपति जुगल किशोर बिरला ने अखबार में विज्ञापन दिया कि दिल्ली के लक्ष्मी नारायण मंदिर यानी बिरला मंदिर में हनुमान जी को रामायण पढ़कर सुनानी है। उसके लिए उस व्यक्ति का टेस्ट खुद बिरला जी लेंगे। तय तारीख पर नारायण स्वामी अपनी पत्नी के साथ बिरला निवास पहुंच गए! बहुत से और लोग भी बिरला जी को रामायण पढ़कर सुना रहे थे। जब नारायण बाबा का नंबर आया तो उन्होंने बिना रामायण हाथ में लिए पाठ शुरू दिया। बिरला जी के अनुग्रह पर नारायण ने हारमोनियम पर गाकर भी रामायण सुना दी। बिरला जी भाव विभोर हो गए। नौकरी पक्की हो गयी। सस्ते ज़माने में 350 रुपए की पगार, रहने के लिए बिरला मंदिर में एक कमरा और इस्तेमाल के लिए एक कार भी नारायण बाबा को दे दी गयी। जीवन बेहद सुकून और आराम का हो गया। रूपया पैसा, शौहरत और देश के सबसे बड़े उद्योगपति से नज़दीकियां। बिरला जी के गुरु चमत्कारी संत नीम करोली बाबा जैसे ही वृन्दावन से दिल्ली आये तो बिरला जी ने उन्हें प्रसन्न करने के लिए नारायण बाबा का एक रामायण पाठ रख दिया। बिरला जी ने नीम करोली बाबा से कहा कि एक लड़का है जो रामायण गाकर सुनाता है। नीम करोली बाबा ने कहा कि मुझे भी उस लड़के से मिलना है! जैसे ही नारायण बाबा कमरे में गये तो नीम करोली बाबा ने कहा "तेरे बाप ने हनुमान जी से धोखा किया है।" नारायण बाबा अपने पिता की खिलाफ कुछ भी सुनने को तैयार नहीं थे लेकिन तय हुआ कि अगर नीम करोली बाबा की बात सच्ची है तो वो उन्हें गुरु रूप में स्वीकार कर लेंगे। तभी के तभी नारायण बाबा अलवर रवाना हो गए और अपने पिता से कहा कि एक संत आपको हनुमान जी का ऋणी बता रहा है और आपको धोखेबाज भी। नारायण बाबा के पिता ने कहा की वो संत हनुमान जी ही हो सकते हैं क्योंकि ये बात सिर्फ उन्हें ही पता है ।पिता की बात सुनकर नारायण बाबा वापस चले आये और नीम करोली बाबा को अपना गुरु स्वीकार कर लिया। नीम करोली बाबा ने आदेश दिया कि नारायण तेरा जनम हनुमान जी की सेवा के लिए हुआ है इसीलिए छोड़ लाला की नौकरी। गुरु आदेश मिलते ही नारायण बाबा ने नौकरी छोड़ दी और दिल्ली के मेहरौली इलाके में एक जंगल में एक गुप्त मंदिर में आश्रय लिया। बिरला मंदिर से निकल कर सांप, भूतों और एक अनजाने जंगल में हनुमान जी की सेवा शुरू कर दी। नीम करोली बाबा ने आदेश दिया कि किसी से एक रूपया भी नहीं लेना है और हर साल नवरात्रे में लोगों का भंडारा करना है। बड़ी अजीबोगरीब बात है कि एक पैसा भी किसी से नहीं लेना और हर साल हज़ारों लोगों को खाना भी खिलाना है लेकिन गुरु ने जो कह दिया वो पत्थर पर लकीर है। बिना सोच के उन्होंने अपना काम शुरू कर दिया! नीम करोली बाबा ने बिरला से कहकर नारायण बाबा की पत्नी को घर चलाने के पैसे हर महीने दिलवा दिए लेकिन नारायण बाबा को पैसे से दूर रखा। 1969 से आज तक इस मंदिर से हर साल दो बार नवरात्रे में हज़ारों लोग भंडारा खाकर जाते हैं । किसी को आज तक इस मंदिर में पैसे चढ़ाते नहीं देखा गया लेकिन हाँ प्रसाद पाते सबको देखा है। नारायण बाबा आज 94 साल के हो गए हैं लेकिन गुरु सेवा में आज भी लगे हैं और चाहते हैं कि कम ही लोग उनसे मिलने आएं..! श्री हनुमान बिरला मंदिर बाबा नीम करौली आश्रम मोनेस्ट्री मार्केट की पार्किंग ISBT कश्मीरी गेट, दिल्ली यह मंदिर का पता है… जय बाबा नीम करौली महाराज जी जय गुरुदेव महाराज...!!

+25 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Shiva Gaur Apr 21, 2019

+15 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 11 शेयर
Prabhakar soni G Apr 21, 2019

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Anjana Gupta Apr 20, 2019

+1005 प्रतिक्रिया 239 कॉमेंट्स • 789 शेयर
YASHWANT KUMAR SAHU Apr 21, 2019

+45 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 20 शेयर
Neha Sharma Apr 20, 2019

+322 प्रतिक्रिया 44 कॉमेंट्स • 273 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB