Narayan Tiwari
Narayan Tiwari Jan 19, 2021

प्रथम पूज्य श्री गणेश वंदना..!!🙏 """""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""" माना जाता हैं कि भगवान श्री गणेशजी मंगलकारी हैं, बुद्धिदाता हैं.! किसी भी पूजा में सबसे पहले श्री गणपतिदेव का आवाहृन करना जरूरी होता है, इसलिए सभी भक्तों को भी रोज की पूजा में श्री गणेशजी का पाठ करने से जीवन में शुभ फल...की प्राप्ति होती हैं..!! 🙏|| ऊँ सुमंगलाय नमः🚩 जय गजानन ||🙏

+187 प्रतिक्रिया 36 कॉमेंट्स • 142 शेयर

कामेंट्स

r h Bhatt Jan 20, 2021
Om gam ganpatay namah aapka Den magalmay our Shubh Ho ji Vandana ji

manish.s Jan 20, 2021
*एक व्यंग हैं , जिसने भी लिखा है, बहुत शानदार 👌लिखा है।* 💮 *यह नदियों का मुल्क है,* *पानी भी भरपूर है।* *बोतल में बिकता है,* *बीस रू शुल्क है।* 💮 *यह गरीबों का मुल्क है,* *जनसंख्या भी भरपूर है।* *परिवार नियोजन मानते नहीं,* *जबकि नसबन्दी नि:शुल्क है।* 💮 *यह अजीब मुल्क है,* *निर्बलों पर हर शुल्क है।* *अगर आप हों बाहुबली,* *हर सुविधा नि:शुल्क है।* 💮 *यह अपना ही मुल्क है,* *कर कुछ सकते नहीं।* *कह कुछ सकते नहीं,* *जबकि बोलना नि:शुल्क है।* 💮 *यह शादियों का मुल्क है,* *दान दहेज भी खूब हैं।* *शादी करने को पैसा नहीं,* *जबकि कोर्ट मैरिज नि:शुल्क हैं।* 💮 *यह पर्यटन का मुल्क है,* *बस/रेलें भी खूब हैं।* *बिना टिकट पकड़े गए तो,* *रोटी कपड़ा नि:शुल्क है।* 💮 *यह अजीब मुल्क है,* *हर जरूरत पर शुल्क है।* *ढूंढ कर देते हैं लोग,* *पर सलाह नि:शुल्क है।* 💮 *यह आवाम का मुल्क है,* *रहकर चुनने का हक है।* *वोट देने जाते नहीं,* *जबकि मतदान नि:शुल्क है।* 💮 *:बेचारा आदमी:* *जब सर के बाल न आये तो* *दवाई ढूँढता है..,* *जब आ जाते है तो नाई ढूँढता है..,* *और जब काले रहते हैं तो लुगाई ढूँढता है ।* *जब सफ़ेद हो जाते है तो फिर डाई ढूँढता है...!* 🙏 *मुस्कुराईये, मुस्कराहट नि:शुल्क है*🙏 🙏श्री सिद्धिविनायक की🙏 .. आपका दिन मंगलमय हो.. 🙏 जय राधे कृष्णा जी🙏 ... शुभ दोपहर का प्रणाम जी 🙏🌹🙏😊😊

शान्ति पाठक Jan 20, 2021
🌷🙏ओम् गं गणपतये नमः 🙏शुभ दोपहर वंदन भाई जी🌷आपका हर पल शुभ एवं मंगलमय हो 🌷आप एवं आपके परिवार पर भगवान श्री गणेश जी की कृपा सदैव बनी रहे 🌷 गणपति बप्पा आपके सभी मनोरथ पूर्ण करें भाई जी🌷🙏🌷

sita Jan 20, 2021
Om shri Ganeshaya namah👏🌹🍀 Vakratunda Mahakaya suryakoti samaprabha nirvighnam kurume Deva Sarva karyeshu Sarvada🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏 Jay Mata Di ram Ram bhai ji vighnaharta Ganesh ji aapke Parivar Mein Sada Mangal Karen aapko Har Khushi pradan Karen 🙏🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹👌👌👌👌👌🤔🤔🤔🤔🤔

manish.s Jan 20, 2021
🙏🌹 Jay Radhe Krishna ji good evening🌹🙏😊

कुसुम सेन Jan 20, 2021
⛳🙏🕉️🙏🥀🌹ओम श्री गण गणपतए नमो नमः राम-राम जी भाई जी शुभ रात्रि वंदन भाई जी विघ्नहर्ता श्री गणेश महाराज की कृपा दृष्टि सदैव आप एवं आपके परिवार पर बनी रहे मंगलकामनाएं शुभकामनाएं भाई जी🌹🕉️🌹⛳⛳⛳

💥.Radha Sharma💥MRKS🌷 Jan 20, 2021
जय श्री गणेश जी शुभ रात्रि वंदन आदरणीय भैया सादर प्रणाम जी 🙏🌹🌷

🌻🌹 Preeti Jain 🌹🌻 Jan 20, 2021
एक वक़्त ऐसा भी दो🌹🙏💐🌾 मुझे मेरे श्याम, जिसमें मेरा मन बिलकुल खाली हो,🔴 भर सकूँ मैं तेरी भक्ति उसमें,🌿💐 सिर्फ तू ही उसका माली हो…🌹🙏 जय श्री श्याम ।🙏🚩 Good night sweet dreams radhe radhe ji 🙏🌾🌾🌾🌾🌹🙏🍨

Ragni Dhiwar Jan 20, 2021
🥀जय श्री कृष्ण 🥀शुभ रात्रि स्नेह वंदन जी 🥀 आपका हरपल मंगलमय हो🥀

🙏ANJALI 😊MISHRA🙋 Jan 20, 2021
🌺ॐ एकदन्ताय नमः🌺🙏!!☆जय श्री गणेश☆!! राधे राधे भाई जी शुभ रात्रि वंदन🙏विघ्नहर्ता, सुखकर्ता भगवान् श्री गणेश जी आपके जीवन में सुख ,शांति, समृद्धि सदा बनाए रखें आपका हर पल शुभ हो मंगलमय हो👌👌सदा सुखी रहें स्वस्थ रहें आप और आपका समस्त परिवार🙏राधे राधे जी🌹🌿🌹🌿🌹🐚🌹🙏🌹

🙏🌹Vanita Kale Jan 20, 2021
🙏🙏!!जय श्री कृष्णा!! 🙏 धराशायी हो जाता है उसके आगे चाहे कितना ही बड़ा महारथी हो, उसे क्या हराएगा इस जहां में कोई....!! कान्हा जिसका खुद सारथी हो.!!🙏शुभ रात्रि मेरे सभी भाइयों और बहना जी काे सदा हंसते मुस्कुराहाते रहीऐ नमस्कार जी.!

🇮🇳🇮🇳GEETA DEVI🇮🇳🇮🇳 Jan 20, 2021
🏵🙏OM SHREE GANESHAY NAMAH JI 🙏🏵 💐🙏MANGALMAY SUBH RATRI VANDAN JEE 🙏💐 🌷🌷WISHING FOR YOU GOOD HEALTH 🌷🌷 HAVE A GREAT DAY 🎈🎈🎉 🍃🍃🍃🌹🌹🌹🍃🍃🍃 💐🙏SADAR NAMASKAR VANDAN AADRNIYE BHAIYA JEE 🙏💐

saumya sharma Jan 20, 2021
jai shri Ganesh🙏🙏🙏 Good night Bhai g 🌛🙏thankyou 🌹 may new morning bring all the happiness in your life with the grace of God🙏🙏🙏

जय श्री गुरुदेव जय श्री गजानन 💐 👏 कल हैं संकष्टी चतुर्थी आप सभी भारतवासी मित्रों को संकष्टी चतुर्थी की हार्दिक शुभकामना ये 🌹🙏👪🚩🌙🎪 गणेश पुराण के उपासना खंड में वर्णित एक कथा जो हमें संदेश देती है कि हमें अपनो  के मान की अवहेलना नहीं करनी चाहिए। एक समय की बात है। कैलाश के शिव सदन मैं ब्रह्मा जी भगवान शिव शंकर के पास बैठे थे। उसी समय वहां देवर्षि नारद पहुंचे। उनके पास एक अति सुंदर फल था, जो देवश्री ने भगवान उमानाथ के कर कमलों में अर्पित कर दिया। फल को अपने पिता के हाथ में देखकर गणेश और कुमार दोनों बालक उसे आग्रह पूर्वक मांगने लगे। तब शिवजी ने ब्रह्मा जी से पूछा-हे ब्राह्मन, फल एक है और उससे एक गणेश और कुमार दोनों चाहते हैं आप बताएं इसे किसे दूं? चतुर्मुख ब्रह्मा जी ने उत्तर दिया हे प्रभु! छोटे होने के कारण इस एकमात्र पल के अधिकारी तो षडानन ही है । गंगाधर ने फल कुमार को दे दिया। लेकिन पार्वती नंदन गणेश सृष्टिकर्ता ब्रह्मा जी पर कुपित हो गए।लोक पितामह ने अपने भवन पहुंचकर सृष्टि रचना का प्रयत्न किया तो गजवक्त ने अद्भुत विघ्न उत्पन्न कर दिया। वे अत्यंत उग्र रूप में विधाता के सम्मुख उपस्थित हुए। विघ्नेश्वर के भयानक स्वरूप को देखकर विधाता भयभीत होकर कांपने लगे। गजानन की विकट मूर्ति और ब्रह्मा जी का भय और कंप देखकर चंद्रदेव अपने गणों के साथ हंस रहे थे। चंद्रमा को हंसते देख गजमुख को बहुत क्रोध हुआ। उन्होंने चंद्र देव को तत्काल ही श्राप देते हुए कहा कि हे चंद्र, अब तुम किसी के देखने योग्य नहीं रह जाओगे और यदि किसी ने तुम्हें देख लिया तो वह पाप का भागी होगा। अब तो चंद्रमा श्रीहत, मलिन और दीन होकर अत्यंत दुखद हो गए। सुधाकर के प्रदर्शन से देव भी दुखी हुए। अग्नि और इंद्र आदि देवता गजानन के समीप पहुंचे और भक्ति पूर्वक उनकी स्तुति करने लगे। देवताओं के स्तवन से प्रसन्न होकर गजमुख ने कहा कि देवताओं मैं  तुम्हारी स्तुति से संतुष्ट हूं। वर मांगो मैं उसे अवश्य पूर्ण करूंगा। बोले कि हे प्रभु आप चंद्रमा पर अनुग्रह करें,हमारी यही कामना है। गणेश जी ने कहा कि देवताओं में अपना वचन मिथ्या कैसे कर दूं। पर शरणागत का त्याग भी संभव नहीं है। इसलिए अब तुम लोगों मेरी सुनो-जो जानकर या अनजाने में ही भाद्र शुक्ल चतुर्थी को गणेश जी का दर्शन करेगा, वह अभिशप्त होगा। उसे अधिक दुख भोगना पड़ेगा। प्रभु द्विरदानन वचन सुनकर देवता अत्यंत प्रसन्न हुए।उन्होंने पुनः प्रभु के चरणों में प्रणाम किया। उसके बाद वे चंद्रमा के पास पहुंचे और उन्होंने कहा कि चंद्र गजमुख पर हंसकर तुमने बहुत ही मूर्खता का प्रदर्शन किया है। तुमने परम प्रभु का अपराध किया और त्रिलोक संकटग्रस्त हो गया। हम ने त्रिलोकी के नायक सर्वगुरु गजानन को बड़े प्रयास से संतुष्ट किया है। इस कारण उन दयामय ने तुम्हें वर्ष में केवल एक दिन भाग्य शुक्ल चतुर्थी को और दर्शनीय रहने का वचन देकर अपना साथ अत्यंत सीमित कर दिया है। तुम भी उन करुणामय की शरण लो। उनकी कृपा से शुद्ध होकर यश प्राप्त करो। देवेंद्र ने सुधांशु को गजानन के एकाक्षरी मंत्र का उपदेश दिया और फिर देवता वहां से चले गए। सुधाकर शुद्ध हृदय गजमुख के शरणागत हुए और वे पुण्यतोया जहान्वी के दक्षिणी तट पर गजानन का ध्यान करते हुए उनके एकाक्षरी मंत्र का जप करने लगे।संतुष्ट करने के लिए 12 वर्ष तक कठोर तप किया। इससे आदिदेव गजानन प्रसन्न हुए और उन पद्म प्रभू गजानन केवल प्रभाव से सुधांशु पूर्ववत तेजस्वी, सुंदर और वंदनीय हो गए। इस तरह का पौराणिक प्रसंग यह संदेश देता है कि अपने बड़ों का उपहास करना अमंगलकारी होता है।  गजानन एकाक्षर मंत्र ‘’ऊँ गं गणपतये नमः।।‘🌹👏🚩 कल हैं संकष्टी चतुर्थी आप सभी मित्रों को संकष्टी चतुर्थी की हार्दिक शुभकामना ये धन्यवाद 👏 🚩 🐚 🌹 ॐ नमः शिवाय ॐ गं गणपतये नमः 👏 ॐ ऐं र्‍हिं ल्किं चामुण्डायै विच्चे जय माता की जय हो जय श्री गजानन 💐 👏 🚩 नमस्कार शुभ रात्री वंदन 👣 💐 👏 🚩

+63 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 60 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 13 शेयर
Sajjan Singhal Mar 1, 2021

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB