गजेन्द्र-मोक्ष स्तोत्र - हिन्दी मे ।।

गजेन्द्र-मोक्ष स्तोत्र - हिन्दी मे ।।

"कर्ज से मुक्ति पाने के लिए गजेन्द्र-मोक्ष स्तोत्र का सूर्योदय से पूर्व प्रतिदिन पाठ करना चाहिए।" यह ऐसा अमोघ उपाय है जिससे बड़ा से बड़ा कर्ज भी श‍ीघ्र उतर जाता है।

नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।
गज और ग्राह लड़त जल भीतर, लड़त-लड़त गज हार्यो।
जौ भर सूंड ही जल ऊपर तब हरिनाम पुकार्यो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

शबरी के बेर सुदामा के तन्दुल रुचि-रु‍चि-भोग लगायो।
दुर्योधन की मेवा त्यागी साग विदुर घर खायो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

पैठ पाताल काली नाग नाथ्‍यो, फन पर नृत्य करायो।
गिर‍ि गोवर्द्धन कर पर धार्यो नन्द का लाल कहायो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

असुर बकासुर मार्यो दावानल पान करायो।
खम्भ फाड़ हिरनाकुश मार्यो नरसिंह नाम धरायो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

अजामिल गज गणिका तारी द्रोपदी चीर बढ़ायो।
पय पान करत पूतना मारी कुब्जा रूप बनायो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

कौर व पाण्डव युद्ध रचायो कौरव मार हटायो।
दुर्योधन का मन घटायो मोहि भरोसा आयो ।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

सब सखियां मिल बन्धन बान्धियो रेशम गांठ बंधायो।
छूटे नाहिं राधा का संग, कैसे गोवर्धन उठायो ।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

योगी जाको ध्यान धरत हैं ध्यान से भजि आयो।
सूर श्याम तुम्हरे मिलन को यशुदा धेनु चरायो।।
नाथ कैसे गज को फन्द छुड़ाओ, यह आचरण माहि आओ।

+301 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 352 शेयर

कामेंट्स

राजू भूमिहार ब्राह्मण जी Dec 30, 2017
*Beautiful lines* 🥀🌿🌹🌹🍂🌹🌹🌿🥀 *अंधे को मंदिर आया देखकर* *लोग हंसकर बोले की,* *मंदिर में दर्शन के लिए आये तो हो* *पर क्या भगवान् को देख पाओगे ?* *अंधे ने मुस्कुरा के कहा की,* *क्या फर्क पड़ता है, मेरा भगवान्* *तो मुझे देख लेगा.* 🍂 *द्रष्टि नहीं द्रष्टिकोण सही होना चाहिए !!* 🏛⚜🏛⚜🏛⚜🏛⚜ *इंसानियत इन्सान को* *इंसान बना देती है ,* *लगन हर मुश्किल को* *आसान बना देती है ।* *लोग यूँ ही नहीं जाते* *मंदिरों में पूजा करने* *आस्था ही तो पत्थर को* *भगवान बना देती है ।* 🙏🏻🙏🏻🙏🏻 *आप का दिन मंगलमय हो* ☘☘☘☘☘☘☘☘ जय श्री राम जी

Mani Rana Dec 30, 2017
radhe radhe g good evening g nice g

Santosh Chandoskar Dec 30, 2017
Shree.Gajendra.Maharaj.Ki.Jai.Aap.Our.Aapka.Parivar.Kirno.Jaisa.Sukhmay.Ho.Gajanan.Maharaj.Ki.Jai.Good.evening

🌼k l tiwari🌼 Dec 30, 2017
🌻🌻🌻🌻🌷🌻🌻🌻🌻 🌷 HE NARAYAN AAPKI JAI HO 🌻 🌻 🌻 🌻 🌷 🌻 🌻 🌷 🌻

Meenu Sharma Dec 30, 2017
Jai shree Radhe Krishna ji🌹🌹🌹🌹🌷🌷🌷🌹🌹🌹🌻🌻🌺🌺

kalavati Rajput May 23, 2019

+278 प्रतिक्रिया 70 कॉमेंट्स • 52 शेयर
Swami Lokeshanand May 23, 2019

देखो, मनुष्य के तीन बड़े दुर्धर्ष शत्रु हैं, काम, क्रोध और लोभ। "तात तीन अति प्रबल खल काम क्रोध अरु लोभ" सूर्पनखा काम है, ताड़का क्रोध और मंथरा लोभ है। ताड़का पर प्रहार रामजी ने किया, मंथरा पर शत्रुघ्नजी ने, सूर्पनखा पर लक्षमणजी ने। उनका असली चेहरा पहचानते ही, किसी को मारा गया, किसी को सुधारा गया, एक को भी छोड़ा नहीं गया। संकेत है कि, सावधान साधक, कैसी भी वृत्ति उठते ही, तुरंत पहचान ले, कि कौन वृत्ति साधन मार्ग में मित्र है और कौन शत्रु। शत्रु पक्ष की वृत्ति का, विजातीय वृत्ति का, आसुरी वृत्ति का, उसे जानते ही, बिना अवसर दिए, बिना एक पल भी गंवाए, तुरंत यथा योग्य उपाय करना ही चाहिए। एक और विशेष बात है, ये कामादि प्रथम दृष्ट्या किसी आवरण में छिप कर ही वार करते हैं, कभी कर्तव्य बन कर, कभी सुंदर बन कर, सुखरूप बनकर, आवश्यकता बनकर, मजबूरी बनकर आते हैं। सबके सामने आते हैं, कच्चा साधक उलझ जाता है, सच्चा साधक सुलझ जाता है। अभी अभी लक्षमणजी के कारण सूर्पनखा का वास्तविक रूप प्रकट हुआ। अब रामजी मारीच का वास्तविक रूप प्रकट करेंगे। फिर सीताजी रावण का वास्तविक रूप प्रकट कर देंगी। भगवान खेल खेल में खेल खेलते हैं। एक तो उनकी यह लीला एक खेल है। इस खेल में तीन और खेल खेले गए। अयोध्या में खेल हुआ गेंद का, रामजी हार गए, भरतजी को जिता दिया। चित्रकूट में खेल हुआ, अयोध्या को गेंद बनाया गया, संदेह हार गया, स्नेह जीत गया। आज पंचवटी में भी एक खेल खेला जा रहा है, यहाँ सूर्पनखा को गेंद बनाया गया है, वासना हार रही है, उपासना जीत रही है। "देखो ठुकराई जाती है पंचवटी में इक बाला। भैया दो राजकुमारों ने उसको गेंद बना डाला॥ दुनिया में दुनियावालों को जो ठोकर रोज लगाती है। वो राम और रामानुज के पैरों की ठोकर खाती है॥" आप के पास भी सूर्पनखा आए तो ठोकर से ही स्वागत करना। अब विडियो देखें- सूर्पनखा निरूपण https://youtu.be/AMqSUheFr2c

+13 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 36 शेयर

+153 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 65 शेयर

+265 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 181 शेयर

+91 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 18 शेयर

+689 प्रतिक्रिया 122 कॉमेंट्स • 407 शेयर

+60 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 98 शेयर

+601 प्रतिक्रिया 107 कॉमेंट्स • 1075 शेयर
Uma Sood May 23, 2019

+13 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 17 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB