Yuvraj Goswami
Yuvraj Goswami Jan 7, 2017

Shri vishvamangal hanuman ji tarkhedi jila jhabua

Shri vishvamangal hanuman ji tarkhedi jila jhabua

Shri vishvamangal hanuman ji tarkhedi jila jhabua

+177 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 13 शेयर

कामेंट्स

Pandit Inder Mohan Shastri Jan 7, 2017
भाईयों यह तो ठीक पर हिन्दू लोगो के लिए क्या कर रहे हो

Arjun Patidar Jan 7, 2017
आप हमारे whatsapp पर संपर्क करें 9179904856

Arjun Patidar Jan 7, 2017
pandit जी क्या करवाना चाहते हो आप

Kamala. Maheshwari Sep 26, 2020

🌹 *बेसहारा* 🌹 *एक आठ नौ साल का मासूम सा बच्चा अपनी छोटी बहन को लेकर मंदिर के एक तरफ कोने में बैठा हाथ जोडकर भगवान से न जाने क्या माँग रहा था .* *कपड़े में मैल लगा हुआ था , मगर निहायत साफ . उसके नन्हे नन्हे से गाल आँसूओं से भीग चुके थे .* *बहुत लोग उसकी तरफ आकर्षित थे और वह बिल्कुल अनजान अपने भगवान से बातों में लगा हुआ था .* *जैसे ही वह उठा , एक अजनबी ने बढ़ के उसका नन्हा सा हाथ पकड़ा और पूछा - "क्या माँगा भगवान से" ?* *उसने कहा - "मेरे पापा मर गए हैं , उनके लिए स्वर्ग ! मेरी माँ रोती रहती है , उनके लिए सब्र ! मेरी बहन माँ से कपडे सामान माँगती है , उसके लिए पैसे" ! !!* *"तुम स्कूल जाते हो"..? अजनबी का स्वाभाविक सा सवाल था .*हाँ जाता हूँ , उसने कहा .* *किस क्लास में पढ़ते हो ? अजनबी ने पूछा .* *नहीं अंकल ! पढ़ने नहीं जाता . माँ चने बना देती है , वह स्कूल के बच्चों को बेचता हूँ . बहुत सारे बच्चे मुझ से चने खरीदते हैं , हमारा यही काम धंधा है . बच्चे का एक एक शब्द मेरी रूह में उतर रहा था .* *"तुम्हारा कोई रिश्तेदार" ? न चाहते हुए भी अजनबी बच्चे से पूछ बैठा .* *पता नहीं . माँ कहती है गरीब का कोई रिश्तेदार कोई सगा संबंधी नहीं होता . माँ झूठ तो नहीं बोलती !* *पर अंकल ! मुझे लगता है मेरी माँ कभी कभी झूठ बोलती है . जब हम खाना खाते हैं , हमें देखती रहती है . जब कहता हूँ , माँ तुम भी खाओ , तो कहती है मैने खा लिया था , उस समय लगता है झूठ बोलती है ! !!* *बेटा ! अगर तुम्हारे घर का खर्च मिल जाय तो पढाई करोगे ?* *"बिल्कुलु नहीं" .* *क्यों ?* *पढ़ाई करने वाले गरीबों से नफरत करते हैं अंकल ! हमें किसी पढ़े हुए ने कभी नहीं पूछा - पास से गुजर जाते हैं . कई तो हिकारत भरी नजरों से देखते हैं .* *अजनबी हैरान भी था और शर्मिंदा भी ! !!* *फिर उसने कहा - "हर दिन इसी इस मंदिर में आता हूँ , कभी किसी ने नहीं पूछा . यहाँ सब आने वाले मेरे पिताजी को जानते थे , मगर हमें कोई नहीं जानता !* *बच्चे की आँखों में आँसू छलछला आये और वह जोर जोर से रोने लगा".* *अंकल जब बाप मर जाता है तो सब अजनबी क्यों हो जाते हैं ? कोई पहचानता क्यों नहीं ?* *मेरे पास इसका कोई जवाब नही था...!* *ऐसे कितने ही मासूम होंगे जो हसरतों से घायल हैं . बस ! एक कोशिश कीजिये . अपने आसपास ऐसे ज़रूरतमंद यतीमों , बेसहाराओं को ढूँढिये और उनकी मदद कीजिए .* *मंदिर मे सीमेंट या अन्न की बोरी देने से पहले अपने आस - पास किसी गरीब को देख लेना , शायद उसको आटे की बोरी की ज्यादा जरुरत हो . कुछ समय के लिए एक गरीब बेसहारा की आँख मे आँख डालकर देखें , आपको क्या महसूस होता है ?* *स्वयं में व समाज में बदलाव लाने के प्रयास जारी रखें . आप किसी का सहारा बनेंगे तो परमात्मा निश्चय ही जरूरत के समय आप का सहारा बनेंगे .* *राधे राधे* 🙏🙏

+17 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 13 शेयर
shiva dubey Sep 26, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
ambrish agarwal Sep 26, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
shiva dubey Sep 26, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
हीरा Sep 26, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Vipin tiwari Sep 26, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
हीरा Sep 26, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
manoj sawlani Sep 26, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Vandana Singh Sep 26, 2020

+10 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 8 शेयर
हीरा Sep 26, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB