murlidhargoyal39
murlidhargoyal39 Dec 12, 2017

भील-भीलनी की शिव भक्ति*

भील-भीलनी की शिव भक्ति*

ॐ नमः शिवायः..🙏🔆🌺(((( भील-भीलनी की शिव भक्ति ))))🌺🔆
.
सिंहकेतु पांचाल देश का एक राजा था. राजा बहुत बड़ा शिवभक्त था. शिव आराधना और शिकार उसके दो चीजें प्यारी थीं. वह शिकार खेलने रोज जंगल जाता था.
.
एक दिन घने जंगल में सिंहकेतु को एक ध्वस्त मंदिर दिखा. राजा शिकार की धुन में आगे बढ गया पर सेवक भील ने ध्यान से देखा तो वह शिव मंदिर था जिसके भीतर लता, पत्रों में एक शिवलिंग था.
.
भील का नाम चंड था. सिंहकेतु के सानिध्य और उसके राज्य में रहने से वह भी धार्मिक प्रवृत्ति का हो गया था. चबूतरे पर स्थापित शिवलिंग जो कि अपनी जलहरी से लगभग अलग ही हो गया था वह उसे उखाड़ लाया.
.
चंड ने राजा से कहा- महाराज यह निर्जन में पड़ा था. आप आज्ञा दें तो इसे मैं रख लूं, पर कृपा कर पूजन विधि भी बता दें ताकि मैं रोज इसकी पूजा कर पुण्य कमा सकूं.
.
राजा ने कहा कि चंड भील इसे रोज नहला कर इसकी फूल-बेल पत्तियों से सजाना, अक्षत, फल मीठा चढाना. जय भोले शंकर बोल कर पूजा करना और उसके बाद इसे धूप-दीप दिखाना.
.
राजा ने कुछ मजाक में कहा कि इस शिवलिंग को चिता भस्म जरूर चढ़ाना और वो भस्म ताजी चिता राख की ही हो. फिर भोग लगाकर बाजा बजाकर खूब नाच-गाना किया करना.
.
शिकार से राजा तो लौट गया पर भील जो उसी जंगल में रहता था, उसने अपने घर जाकर अपनी बुद्धि के मुताबिक एक साफ सुथरे स्थान पर शिवलिंग की स्थापना की और रोज ही पूजा करने का अटूट नियम बनाया.
.
भीलनी के लिए यह नयी बात थी. उसने कभी पूजा-पाठ न देखी थी. भील के रोज पूजा करने से ऐसे संस्कार जगे की कुछ दिन बाद वह खुद तो पूजा न करती पर भील की सहायता करने लगी.
.
कुछ दिन और बीते तो भीलनी पूजा में पर्याप्त रुचि लेने लगी. एक दिन भील पूजा पर बैठा तो देखा कि सारी पूजन सामग्री तो मौजूद है पर लगता है वह चिता भस्म लाना तो भूल ही गया.
.
वह भागता हुआ जंगल के बाहर स्थित श्मशान गया. आश्चर्य आज तो कोई चिता जल ही नहीं रही थी. पिछली रात जली चिता का भी कोई नामो निशान न था जबकि उसे लगता था कि रात को मैं यहां से भस्म ले गया हूं.
.
भील भागता हुआ उलटे पांव घर पहुंचा. भस्म की डिबिया उलटायी पलटाई पर चिता भस्म तनिक भी न थी. चिंता और निराशा में उसने अपनी भीलनी को पुकारा जिसने सारी तैयारी की थी.
.
पत्नी ने कहा- आज बिना भस्म के ही पूजा कर लें, शेष तो सब तैयार है. पर भील ने कहा नहीं राजा ने कहा था कि चिता भस्म बहुत ज़रूरी है. वह मिली नहीं. क्या करूं ! भील चिंतित हो बैठ गया.
.
भील ने भीलनी से कहा- प्रिये यदि मैं आज पूजा न कर पाया तो मैं जिंदा न रहूंगा, मेरा मन बड़ा दुःखी है और चिन्तित है. भीलनी ने भील को इस तरह चिंतित देख एक उपाय सुझाया.
.
भीलनी बोली, यह घर पुराना हो चुका है. मैं इसमें आग लगाकर इसमें घुस जाती हूं. आपकी पूजा के लिए मेरे जल जाने के बाद बहुत सारी भस्म बन जायेगी. मेरी भस्म का पूजा में इस्तेमाल कर लें.
.
भील न माना बहुत विवाद हुआ. भीलनी ने कहा मैं अपने पतिदेव और देवों के देव महादेव के काम आने के इस अवसर को न छोड़ूंगी. भीलनी की ज़िद पर भील मान गया.
.
भीलनी ने स्नान किया. घर में आग लगायी. घर की तीन बार परिक्रमा की. भगवान का ध्यान किया और भोलेनाथ का नाम लेकर जलते घर में घुस गयी. ज्यादा समय न बीता कि शिव भक्ति में लीन वह भीलनी जलकर भस्म हो गई.
.
भील ने भस्म उठाई. भली भांति भगवान भूतनाथ का पूजन किया. शिवभक्ति में घर सहित घरवाली खो देने का कोई दुःख तो भील के मन में तो था नहीं सो पूजा के बाद बड़े उत्साह से उसने भीलनी को प्रसाद लेने के लिये आवाज दी.
.
क्षण के भीतर ही उसकी पत्नी समीप बने घर से आती दिखी. जब वह पास आयी तो भील को उसको और अपने घर के जलने का ख्याल आया. उसने पूछा यह कैसे हुआ. तुम कैसे आयीं ? यह घर कैसे वापस बन गया ?
.
भीलनी ने सारी कथा कह सुनायी. जब धधकती आग में घुसी तो लगा जल में घुसती जा रही हूं और मुझे नींद आ रही है. जगने पर देखा कि मैं घर में ही हूं और आप प्रसाद के लिए आवाज लगा रहे हैं.
.
वे यह सब बातें कर ही रहे थे कि अचानक आकाश से एक विमान वहां उतरा, उसमें भगवान के चार गण थे. उन्होंने अपने हाथों से उठा कर उन्हें विमान में बैठा लिया.
.
गणों का हाथ लगते ही दोनों के शरीर दिव्य हो गए. दोनों ने शिव-महिमा का गुणगान किया और फिर वे अत्यंत श्रद्धायुक्त भगवान की आराधना का फल भोगने शिव लोक चले गये.
(स्कंद पुराण की कथा)
~~~~~~~~~~~~~~~
जय शिव शम्भु कैलाश पति जी
हर हर महा देव जी

Belpatra Pranam Water +259 प्रतिक्रिया 23 कॉमेंट्स • 308 शेयर

कामेंट्स

Ajnabi Dec 13, 2017
good morning jay shree Radhe krishna veeruda

Kanchan Bhagat Dec 13, 2017
ऊँ जय शिव शम्भू कैलाशपति हर हर महादेव

Kanchan Bhagat Dec 13, 2017
ऊँ जय शिव शम्भु कैलाशपति जी ,हर हर महादेव जी की जय

bunty rathore Dec 13, 2017
हर हर महादेव भोले बाबा के दर्शन भोले निस्वार्थ प्राणी को ही मिलते है ऊं नम:शिवाय

शुभ सोमवार शुभकामनाएं ओम श्री गणेशाय नमः ओम तृयम्बिकम यजामहे सुगन्धिम पुष्टिवरध्नम उर्वारुकमिव बन्धानाम मृत्यो्मुक्षी मामृतात ओम नम: शिवाय ओम हर हर महादेवाय जय श्री राधेकृष्णाजी हरिओम शान्ति शुभ कामनाऐ‌ सत्यम शिवम सुंदरम सत्यमेव जयते जय श्री ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Flower Like +11 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Anuradha Tiwari Dec 15, 2018

एक प्रोफ़ेसर कक्षा में आये और उन्होंने छात्रों से कहा कि वे आज जीवन का एक महत्वपूर्ण पाठ पढाने वाले हैं ...

उन्होंने अपने साथ लाई एक काँच की बडी बरनी ( जार ) टेबल पर रखा और उसमें टेबल टेनिस की गेंदें डालने लगे और तब तक डालते रहे जब तक कि उसमें ...

(पूरा पढ़ें)
Lotus Pranam Like +25 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 61 शेयर
Mohan Singh Rawat Dec 16, 2018

जयश्री राम राम राम राम राम राम राम

Bell Tulsi Lotus +7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Arun Arun Dec 16, 2018

Like +1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Jayshree Shah Dec 15, 2018

मिनी पावापुरी जैन तीर्थ का निर्माण करने वाले श्रेष्ठि श्री के.पी.सिंघवी द्वारा उस तीर्थ में बनाई गयी विशाल गौशाला में गौ सेवा का करुणामयी दृश्य
एक महादान ऐसा भी हो ।
इस दुनिया मे इन्सान के लिए तो दया बहुत देखी हैं पशुओं के लिए पहली बार देखा है🙏�...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Flower +20 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 10 शेयर

*गायत्री साधना और ब्राह्मणत्व: -*

एक बार अकबर और बीरबल यमुना नदी के किनारे पर ठंडी हवा का आनंद लेते हुए टहल रहे थे । अचानक अकबर ने एक ब्राह्मण को देखा, बहुत दयनीय हालत में पास से गुजर रहे लोगों से भिक्षा माँग रहा था।

अकबर ऐसे क्षण का मजाक बनाने...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Dhoop Jyot +18 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 31 शेयर

👉 *आनंद पर शर्त*

🔴 एक दिन एक उदास पति-पत्नी संत फरीद के पास पहुंचे। उन्होंने विनय के स्वर में कहा,’बाबा, दुनिया के कोने-कोने से लोग आपके पास आते हैं, वे आपसे खुशियां लेकर लौटते हैं। आप किसी को भी निराश नहीं करते। *मेरे जीवन में भी बहुत दुख हैं...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Belpatra Jyot +5 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 38 शेयर

जो लोग भगवान को निरंतर( बिना किसी स्वार्थ के) याद करते है भगवान हमेशा उस के साथ रहते है।।

एक छोटी सी कहानी..

एक बार नारद मुनि ने श्रीहरि से पूछा कि आपका सबसे प्रिय भक्त कौन है?श्रीहरि समझ गए कि नारद को अपनी भक्ति का गुमान हो गया है. श्रीहरि बोले...

(पूरा पढ़ें)
Jyot Pranam Flower +9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 6 शेयर

#कर्मबंधन#

🙏🏻🚩🌹 👁❗👁 🌹🚩🙏🏻

एक राजा बड़ा धर्मात्मा, न्यायकारी और परमेश्वर का भक्त था। उसने ठाकुरजी का मंदिर बनवाया और एक ब्राह्मण को उसका पुजारी नियुक्त किया। वह ब्राह्मण बड़ा सदाचारी, धर्मात्मा और संतोषी था। वह राजा से कभी कोई याचना न...

(पूरा पढ़ें)
Lotus Like Bell +14 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 86 शेयर
shakya tej Dec 15, 2018

Flower Fruits Lotus +3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB