Kirti Saini
Kirti Saini Mar 1, 2021

Jai Shri Bake Bihari Lal ki

+83 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 82 शेयर

कामेंट्स

Rakesh Sen Mar 1, 2021
जय श्री राधे कृष्णा🌺🙏🌺

Ravi Kumar Taneja Mar 1, 2021
🌹ऊँ नम: शिवाय।।🌹 प्रभु भोलेनाथ की कृपा आप सब पर बनी रहे 🙏🌸🙏 हर हर महादेव 🙏🌺🙏 जय महाकाल 🙏🌲🙏 जय भोलेनाथ🙏🌿🙏 🙏🌻🙏शुभ प्रभात वंदन जी🙏🌻🙏 🕉🦚🦢🙏🌸🙏🌸🙏🦢🦚🕉

Archana Singh Mar 1, 2021
🙏💐ओम नमः शिवाय💐🙏 मंगल सुप्रभात मेरी प्यारी बहना जी🙏🌹 महादेव की कृपा से आपका हर पल सर्वमंगलकारी होगा बहना जी🙏💐🌹

MEENAKSHI ASHOK KUKREJA Mar 1, 2021
जय श्री राधे राधे जय श्री कृष्णा जी की

🌹🌹Pawan Saini 🌹🌹 Mar 1, 2021
ऊँ नम शिवाय हर हर महादेव 🌿🌿 बाबा भोलेनाथ जी की कृपा दृष्टि आप और आप के परिवार पर सदैव बनी रहे जी आप सदैव खुश रहो मुस्कराते रहो आप का हर एक पल मंगलमय हो शुभ प्रभात स्नेह वंदन जी 🙏🌹

JAI MAA VAISHNO Mar 1, 2021
JAI BHOLE NATH KI JAI GANPATI BAPPA KIRPA KARO BAPPA JAI SHIV PARIVAR KI JAI GANPATI BAPPA KIRPA KARO BAPPAJAI BHOLE NATH KI JAI GANPATI BAPPA KIRPA KARO BAPPA JAI SHIV PARIVAR KI JAI GANPATI BAPPA KIRPA KARO BAPPA

s.p sharma Mar 1, 2021
🌷🌷nice kriti ji radhey radhey jai shri krishna good morning have a beautiful day 🌷🌷

HAZARI LAL JAISWAL Mar 1, 2021
जय श्री राधे कृष्णा जय कृष्णा जय श्री राधे कृष्णा 🙏🙏 शुभ वंदन जी

dhruv wadhwani Mar 1, 2021
ओम नमः शिवाय गुड मॉर्निंग जी

Ravi Kumar Taneja Mar 3, 2021
🌹!!जय श्री कृष्णा !!🌹 प्रभु *जगन्नाथ* की कृपा आप सब पर बनी रहे 🙏🌸🙏 जय श्री राधे कृष्णा🙏🌺🙏 राधे राधे🙏🌲🙏 जय जय श्री मुरली मनोहर🙏🌿🙏 🙏🌻🙏शुभ संध्या वंदन जी🙏🌻🙏

priyanka thakur Apr 10, 2021

+21 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 26 शेयर
Anshika Apr 9, 2021

+83 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 105 शेयर
savi Choudhary Apr 10, 2021

+52 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 56 शेयर
Archana Singh Apr 8, 2021

+243 प्रतिक्रिया 60 कॉमेंट्स • 122 शेयर

+71 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 30 शेयर
Shanti Pathak Apr 10, 2021

*जय श्री राधे कृष्णा जी* *शुभरात्रि वंदन* : 🌹🌹 *सकारात्मक सोच*🌹🌹 एक राजा के पास कई हाथी थे, लेकिन एक हाथी बहुत शक्तिशाली था, बहुत आज्ञाकारी, समझदार व युद्ध-कौशल में निपुण था। बहुत से युद्धों में वह भेजा गया था और वह राजा को विजय दिलाकर वापस लौटा था, इसलिए वह महाराज का सबसे प्रिय हाथी था। समय गुजरता गया ... और एक समय ऐसा भी आया, जब वह वृद्ध दिखने लगा। अब वह पहले की तरह कार्य नहीं कर पाता था। इसलिए अब राजा उसे युद्ध क्षेत्र में भी नहीं भेजते थे। एक दिन वह सरोवर में जल पीने के लिए गया, लेकिन वहीं कीचड़ में उसका पैर धँस गया और फिर धँसता ही चला गया। उस हाथी ने बहुत कोशिश की, लेकिन वह उस कीचड़ से स्वयं को नहीं निकाल पाया। उसकी चिंघाड़ने की आवाज से लोगों को यह पता चल गया कि वह हाथी संकट में है। हाथी के फँसने का समाचार राजा तक भी पहुँचा। राजा समेत सभी लोग हाथी के आसपास इक्कठा हो गए और विभिन्न प्रकार के शारीरिक प्रयत्न उसे निकालने के लिए करने लगे। लेकिन बहुत देर तक प्रयास करने के उपरांत कोई मार्ग नहि निकला. तब राजा के एक वरिष्ठ मंत्री ने बताया कि तथागत गौतम बुद्ध मार्गभ्रमण कर रहे है तो क्यो ना तथागत गौतम बुद्ध से सलाह मांगि जाये. राजा और सारा मंत्रीमंडल तथागत गौतम बुद्ध के पास गये और अनुरोध किया कि आप हमे इस बिकट परिस्थिती मे मार्गदर्शन करे. तथागत गौतम बुद्ध ने सबके अनुरोध को स्वीकार किया और घटनास्थल का निरीक्षण किया और फिर राजा को सुझाव दिया कि सरोवर के चारों और युद्ध के नगाड़े बजाए जाएँ। सुनने वालोँ को विचित्र लगा कि भला नगाड़े बजाने से वह फँसा हुआ हाथी बाहर कैसे निकलेगा, जो अनेक व्यक्तियों के शारीरिक प्रयत्न से बाहर निकल नहीं पाया। आश्चर्यजनक रूप से जैसे ही युद्ध के नगाड़े बजने प्रारंभ हुए, वैसे ही उस मृतप्राय हाथी के हाव-भाव में परिवर्तन आने लगा। पहले तो वह धीरे-धीरे करके खड़ा हुआ और फिर सबको हतप्रभ करते हुए स्वयं ही कीचड़ से बाहर निकल आया। अब तथागत गौतम बुद्ध ने सबको स्पष्ट किया कि हाथी की शारीरिक क्षमता में कमी नहीं थी, आवश्यकता मात्र उसके अंदर उत्साह के संचार करने की थी। हाथी की इस कहानी से यह स्पष्ट होता है कि यदि हमारे मन में एक बार उत्साह – उमंग जाग जाए तो फिर हमें कार्य करने की ऊर्जा स्वतः ही मिलने लगती है और कार्य के प्रति उत्साह का मनुष्य की उम्र से कोई संबंध नहीं रह जाता। *जीवन में उत्साह बनाए रखने के लिए यह आवश्यक है कि मनुष्य सकारात्मक रहे।* 🌹 *राधे राधे*🌹 *भाई तू बड़ा हो गया* मायके आयी रमा, माँ को हैरानी से देख रही थी। माँ बड़े ध्यान से आज के अखबार के मुख पृष्ठ के पास दिन का खाना सजा रही थी। दाल, रोटी, सब्जी और रायता। फिर झट से फोटो खींच व्हाट्सप्प करने लगीं। “माँ ये खाना खाने से पहले फोटो लेने का क्या शौक हो गया है आपको ?” “अरे वो जतिन बेचारा, इतनी दूर रह कर हॉस्टल का खाना ही खा रहा है। कह रहा था की आप रोज लंच और डिनर के वक्त अपने खाने की तस्वीर भेज दिया करो उसे देख कर हॉस्टल का खाना खाने में आसानी रहती है। “ “क्या माँ लाड-प्यार में बिगाड़ रखा है तुमने उसे। वो कभी बड़ा भी होगा या बस ऐसी फालतू की जिद करने वाला बच्चा ही बना रहेगा !” रमा ने शिकायत की। रमा ने खाना खाते ही झट से जतिन को फोन लगाया। “जतिन माँ की ये क्या ड्यूटी लगा रखी है? इतनी दूर से भी माँ को तकलीफ दिए बिना तेरा दिन पूरा नहीं होता क्या ?” “अरे नहीं दीदी ऐसा क्यों कह रही हो। मैं क्यों करूंगा माँ को परेशान ?” “तो प्यारे भाई ये लंच और डिनर की रोज फोटो क्यों मंगवाते हो ?” बहन की शिकायत सुन जतिन हंस पड़ा। फिर कुछ गंभीर स्वर में बोल पड़ा : “दीदी पापा की मौत , तुम्हारी शादी और मेरे हॉस्टल जाने के बाद अब माँ अकेली ही तो रह गयी हैं। पिछली बार छुट्टियों में घर आया तो कामवाली आंटी ने बताया की वो किसी- किसी दिन कुछ भी नहीं बनाती। चाय के साथ ब्रेड खा लेती हैं या बस खिचड़ी। पूरे दिन अकेले उदास बैठी रहती हैं। तब उन्हें रोज ढंग का खाना खिलवाने का यही तरीका सूझा। मुझे फोटो भेजने के चक्कर में दो टाइम अच्छा खाना बनाती हैं। फिर खा भी लेती हैं और इस व्यस्तता के चलते ज्यादा उदास भी नहीं होती। “ जवाब सुन रमा की ऑंखें छलक आयी। रूंधे गले से बस इतना बोल पायी भाई तू सच में बड़ा हो गया है….. सदैव प्रसन्न रहिये जो प्राप्त है-पर्याप्त है

+189 प्रतिक्रिया 51 कॉमेंट्स • 243 शेयर
Kavita Yadav Apr 10, 2021

+1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
jyoti mishra Apr 10, 2021

+71 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 67 शेयर
K. Rajan Apr 10, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB