पूजा करने से पुराणिकों ने अनेक तरीके विकसित किए हैं।

पूजा करने से पुराणिकों ने अनेक तरीके विकसित किए हैं।

+351 प्रतिक्रिया 53 कॉमेंट्स • 65 शेयर

कामेंट्स

suchit sinha Aug 13, 2020
जय जय श्री हरि जी जय हो जय

Govind Kushwah Aug 13, 2020
पूजा बाला कछुआ कांच का 9340650791

आशुतोष Sep 21, 2020

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 30 शेयर

+99 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 93 शेयर

+143 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 149 शेयर
🥀🥀 Sep 20, 2020

Heart touching post...Speechless 😔 *कुछ रह तो नहीं गया ?* *तीन* महीने के बच्चे को दाई के पास रखकर जॉब पर जाने वाली माँ को दाई ने पूछा... "कुछ रह तो नहीं गया...? पर्स, चाबी सब ले लिया ना...?" अब वो कैसे हाँ कहे... पैसे के पीछे भागते भागते... सब कुछ पाने की ख्वाईश में वो जिसके लिये सब कुछ कर रही है, *वह ही रह गया है...!* 😑 *शादी* में दुल्हन को बिदा करते ही शादी का हॉल खाली करते हुए दुल्हन की बुआ ने पूछा... "भैया, कुछ रह तो नहीं गया ना...? चेक करो ठीक से...!" बाप चेक करने गया तो दुल्हन के रूम में कुछ फूल सूखे पड़े थे। सब कुछ तो पीछे रह गया... 25 साल जो नाम लेकर जिसको आवाज देता था लाड़ से... वो नाम पीछे रह गया और उस नाम के आगे गर्व से जो नाम लगाता था, वो नाम भी पीछे रह गया अब... "भैया, देखा...? कुछ पीछे तो नहीं रह गया ?" बुआ के इस सवाल पर आँखों में आये आंसू छुपाते बाप जुबाँ से तो नहीं बोला.... पर दिल में एक ही आवाज थी... *सब कुछ तो यहीं रह गया...!* 😑 *बड़ी* तमन्नाओं के साथ बेटे को पढ़ाई के लिए विदेश भेजा था और वह पढ़कर वहीं सैटल हो गया... पौत्र जन्म पर बमुश्किल 3 माह का वीजा मिला था और चलते वक्त बेटे ने प्रश्न किया... "सब कुछ चेक कर लिया ना...? कुछ रह तो नहीं गया...?" क्या जबाब देते कि... *अब छूटने को* *बचा ही क्या है...!* 😑 *सेवानिवृत्ति* की शाम पी.ए. ने याद दिलाया... "चेक कर लें सर...! कुछ रह तो नहीं गया...? " थोड़ा रूका और सोचा कि पूरी जिन्दगी तो यहीं आने-जाने में बीत गई... *अब और क्या रह गया होगा...?* 😑 *श्मशान* से लौटते वक्त बेटे ने एक बार फिर से गर्दन घुमाई एक बार पीछे देखने के लिए... पिता की चिता की सुलगती आग देखकर मन भर आया... भागते हुए गया पिता के चेहरे की झलक तलाशने की असफल कोशिश की और वापिस लौट आया। दोस्त ने पूछा... "कुछ रह गया था क्या...?" भरी आँखों से बोला... *नहीं कुछ भी नहीं रहा अब...* *और जो कुछ भी रह गया है...* *वह सदा मेरे साथ रहेगा...!* 😑 *एक* बार समय निकालकर सोचें, शायद... पुराना समय याद आ जाए, आंखें भर आएं और... *आज को जी भर जीने का* *मकसद मिल जाए...!* सभी दोस्तों से ये ही बोलना चाहता हूँ... *यारों क्या पता कब* *इस जीवन की शाम हो जाये...!* इससे पहले कि ऐसा हो सब को गले लगा लो, दो प्यार भरी बातें कर लो... *ताकि कुछ छूट न जाये...!!!* 🙏 🙏

+6 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 56 शेयर
Neha Sharma Sep 21, 2020

❣️*जीवन संगिनी*❣️ 🙏*धर्म पत्नी की विदाई*🙏 *अगर पत्नी है तो दुनिया में सब कुछ है। राजा की तरह जीने और आज दुनिया में अपना सिर ऊंचा रखने के लिए अपनी पत्नी का शुक्रिया। आपकी सुविधा असुविधा आपके बिना कारण के क्रोध को संभालती है। तुम्हारे सुख से सुखी है और तुम्हारे दुःख से दुःखी है। आप रविवार को देर से बिस्तर पर रहते हैं लेकिन इसका कोई रविवार या त्योहार नहीं होता है। चाय लाओ, पानी लाओ, खाना लाओ। ये ऐसा है और वो ऐसा है। कब अक्कल आएगी तुम्हे? ऐसे ताने मारते हो। उसके पास बुद्धि है और केवल उसी के कारण तो आप जीवित है। वरना दुनिया में आपको कोई भी नहीं पूछेगा। अब जरा इस स्थिति की सिर्फ कल्पना करें: *एक दिन *पत्नी* अचानक रात को गुजर जाती है ! *घर में रोने की आवाज आ रही है। पत्नी का *अंतिम दर्शन* चल रहा था। *उस वक्त पत्नी की आत्मा जाते जाते जो कह रही है उसका वर्णन: *में अभी जा रही हूँ अब फिर कभी नहीं मिलेंगे *तो मैं जा रही हूँ। *जिस दिन शादी के फेरे लिए थे उस वक्त साथ साथ जियेंगे ऐसा वचन दिया था पर इस अचानक अकेले जाना पड़ेगा ये मुज को *पता नहीं था। *मुझे जाने दो। *अपने आंगन में अपना शरीर छोड़ कर जा रही हूँ। *बहुत दर्द हो रहा है मुझे। *लेकिन मैं मजबूर हूँ अब मैं जा रही हूँ। मेरा मन नही मान रहा *पर अब में कुछ नहीं कर सकती। *मुझे जाने दो *बेटा और बहु रो रहे है देखो। *मैं ऐसा नहीं देख सकती और उनको दिलासा भी नही दे सकती हूँ। पोता बा बा बा कर रहा है उसे शांत करो, बिल्कुल ध्यान नही दे रहे है। हाँ और आप भी मन मजबूत रखना और बिल्कुल ढीले न हों। *मुझे जाने दो *अभी बेटी ससुराल से आएगी और मेरा मृत शरीर देखकर बहुत रोएगी तब उसे संभालना और शांत करना। और आपभी बिल्कुल नही रोना। *मुझे जाने दो *जिसका जन्म हुआ है उसकी मृत्यु निश्चित है। जो भी इस दुनिया में आया है वो यहाँ से ऊपर गया है। धीरे धीरे मुझे भूल जाना, मुझे बहुत याद नही करना। और इस जीवन में फिर से काम मे डूब जाना। अब मेरे बिना जीवन जीने की आदत जल्दी से डाल देना। *मुझे जाने दो *आप ने इस जीवन में मेरा कहा कभी नही माना है। अब जिद्द छोड़कर वयवहार में विनम्र रहना। आपको अकेला छोड़ कर जाते मुझे बहुत चिंता हो रही है। लेकिन मैं मजबूर हूं। *मुझे जाने दो *आपको BP और डायबिटीज है। गलती से भी मिठा नही कहना अन्यथा परेशानी होगी। *सुबह उठते ही तो दवा लेना न भूलना। चाय अगर आपको देर से मिलती है तो बहु पर गुस्सा न करना। अब में नहीं हूं यह समझ कर जीना सीख लेना। *मुझे जाने दो *बेटा और बहू कुछ बोले तो *चुपचाप सब सुन लेना। कभी गुस्सा नही करना। हमेशा *मुस्कुराते रहना कभी उदास नही होना। *मुझे जाने दो *अपने बेटे के बेटे के साथ खेलना। अपने दोस्तों के साथ समय बिताना। अब थोड़ा धार्मिक जीवन जिएं ताकि जीवन को संयमित किया जा सके। अगर मेरी याद आये चुपचाप रो लेना लेकिन कभी कमजोर नही होना। *मुझे जाने दो *मेरा रूमाल कहां है, मेरी चाबी कहां है अब ऐसे चिल्लाना नही। सब कुछ दचयन से रखने और याद रखने की आदत करना। सुबह और शाम नियमित रूप से दवा ले लेना। अगर बहु भूल जाय तो सामने से याद कर लेना। जो भी खाने को मिले प्यार से खा लेना और गुस्सा नही करना। *मेरी अनुपस्थिति खलेगी पर कमजोर नहीं होना। *मुझे जाने दो *बुढ़ापे की छड़ी भूलना नही और धीरे धीरे से चलना। *यदि बीमार हो गए और बिस्तर में लेट गए तो किसी को भी सेवा करना पसंद नहीं आएगा। *मुझे जाने दो *शाम को बिस्तर पर जाने से पहले एक लोटा पानी माँग लेना। प्यास लगे तभी पानी पी लेना। *अगर आपको रात को उठना पड़े तो अंधेरे में कुछ लगे नही उसका ध्यान रखना। *मुझे जाने दो *शादी के बाद हम बहुत प्यार से साथ रहे। परिवार में फूल जैसे बच्चे दिए। अब उस फूलों की सुगंध मुजे नही मिलेगी। *मुझे जाने दो *उठो सुबह हो गई अब ऐसा कोई नहीं कहेगा। अब अपने आप उठने की आदत डाल देना किसी की प्रतीक्षा नही करना। मुझे जाने दो *और हाँ .... एक बात तुमसे छिपाई है मुझे माफ कर देना। आपको बिना बताए बाजू की पोस्ट ऑफिस में बचत खाता खुलवाकर 14 लाख रुपये जमा किये है। मेरी दादी ने सिखाया था। एक एक रुपया जमा कर के कोने में रख दिया। इसमें से पाँच पाँच लाख बहु और बेटी को देना और अपने खाते में चार *लाख रखना आपके लिए। *मुझे जाने दो *भगवान की भक्ति और पूजा करना भूलना नही। अब फिर कभी नहीं मिलेंगे !! *मुझसे कोईभी गलती हुई हो तो मुजे माफ कर देना। *मुझे जाने दो* *मुझे जाने दो* *जय श्री राधेकृष्णा* 🌷🌷 🙏🙏🌷🌷

+194 प्रतिक्रिया 59 कॉमेंट्स • 154 शेयर
आशुतोष Sep 21, 2020

+21 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 39 शेयर

+19 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 39 शेयर
आशुतोष Sep 21, 2020

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 30 शेयर
आशुतोष Sep 21, 2020

+8 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 30 शेयर
आशुतोष Sep 21, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 20 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB