Shanti Pathak
Shanti Pathak Apr 19, 2019

🌷🙏🏼🙏🏼श्री हनुमान एवं श्री शनिदेव की कृपा से आपका हर दिन हर कार्य सफल हो🙏🏼🙏🏼🌷 🌷🙏🏼🙏🏼शुभ शनिवार, सुप्रभात 🙏🏼🙏🏼🌷

🌷🙏🏼🙏🏼श्री हनुमान एवं श्री शनिदेव की कृपा से आपका हर दिन हर कार्य सफल हो🙏🏼🙏🏼🌷
          🌷🙏🏼🙏🏼शुभ शनिवार, सुप्रभात 🙏🏼🙏🏼🌷
🌷🙏🏼🙏🏼श्री हनुमान एवं श्री शनिदेव की कृपा से आपका हर दिन हर कार्य सफल हो🙏🏼🙏🏼🌷
          🌷🙏🏼🙏🏼शुभ शनिवार, सुप्रभात 🙏🏼🙏🏼🌷
🌷🙏🏼🙏🏼श्री हनुमान एवं श्री शनिदेव की कृपा से आपका हर दिन हर कार्य सफल हो🙏🏼🙏🏼🌷
          🌷🙏🏼🙏🏼शुभ शनिवार, सुप्रभात 🙏🏼🙏🏼🌷
🌷🙏🏼🙏🏼श्री हनुमान एवं श्री शनिदेव की कृपा से आपका हर दिन हर कार्य सफल हो🙏🏼🙏🏼🌷
          🌷🙏🏼🙏🏼शुभ शनिवार, सुप्रभात 🙏🏼🙏🏼🌷

+22 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 12 शेयर

कामेंट्स

Jagdish Prasad.Delhi 110040 Apr 19, 2019
🌹राम राम जी ‼️🌹💐🌄🙏 🌻ॐ शं शनिश्चराय नमः ‼️🌹🙏 🌹ॐ हं हनुमंते नमः ‼️🌹🙏 🌻शुभ शनिवार ‼️🌹🌻🙏 🌹जय-जय श्री शनिदेव प्रभु, सुनहु विनय महराज।🌹 🌹करहुं कृपा हे रवि तनय, राखहु जन की लाज।।🌹 🌻शुभ प्रभात वंदन जी ‼️🌄🌹🙏 🌻जय श्री शनिदेव जी और हनुमान जी की कृपा से आपको और आपके पुरे परिवार का दिन और रात शुभ एवं मंगलमय हो ‼️🌹🙏

MAHESH MALHOTRA May 18, 2019

+19 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 1 शेयर

|| Attitude of Gratitude ||📚🕉️ || जो है उसका शुक्राना अदा कीजिये-जो नही है वो समय आने पर अपने आप मिल जायेगा ||📚🕉️ एक व्यक्ति काफी दिनों से चिंतित चल रहा था जिसके कारण वह काफी चिड़चिड़ा तथा तनाव में रहने लगा था। वह इस बात से परेशान था कि घर के सारे खर्चे उसे ही उठाने पड़ते हैं, पूरे परिवार की जिम्मेदारी उसी के ऊपर है, किसी ना किसी रिश्तेदार का उसके यहाँ आना जाना लगा ही रहता है, उसे बहुत ज्यादा मेहनत करनी पड़ती है आदि - आदि। इन्ही बातों को सोच सोच कर वह काफी परेशान रहता था तथा बच्चों को अक्सर डांट देता था तथा अपनी पत्नी से भी हल्का नोक-झोंक चलता रहता था। एक दिन उसकी बेटी उसके पास आई और बोली पिताजी मेरा स्कूल का होमवर्क करा दीजिये, वह व्यक्ति पहले से ही तनाव में था तो उसने बेटी को डांट कर भगा दिया लेकिन जब थोड़ी देर बाद उसका गुस्सा शांत हुआ तो वह बेटी के पास गया तो देखा कि बेटी सोई हुई है और उसके हाथ में उसके होमवर्क की कॉपी है। उसने कॉपी लेकर देखी और जैसे ही उसने कॉपी नीचे रखनी चाही, उसकी नजर होमवर्क के टाइटल पर पड़ी। होमवर्क का टाइटल था वे चीजें जो हमें शुरू में अच्छी नहीं लगतीं लेकिन बाद में वे अच्छी ही होती हैं । इस टाइटल पर बच्चे को एक पैराग्राफ लिखना था जो उसने लिख लिया था। उत्सुकतावश उसने बच्चे का लिखा पढना शुरू किया बच्चे ने लिखा था- मैं अपने फाइनल एग्जाम को बहुंत धन्यवाद् देती हूँ क्योंकि शुरू में तो ये बिलकुल अच्छे नहीं लगते लेकिन इनके बाद स्कूल की छुट्टियाँ पड़ जाती हैं। मैं ख़राब स्वाद वाली कड़वी दवाइयों को बहुत धन्यवाद् देती हूँ क्योंकि शुरू में तो ये कड़वी लगती हैं लेकिन ये मुझे बीमारी से ठीक करती हैं । मैं सुबह - सुबह जगाने वाली उस अलार्म घड़ी को बहुत धन्यवाद् देती हूँ जो मुझे हर सुबह बताती है कि मैं जीवित हूँ । मैं ईश्वर को भी बहुत धन्यवाद देता हूँ जिसने मुझे इतने अच्छे पिता दिए क्योंकि उनकी डांट मुझे शुरू में तो बहुत बुरी लगती है लेकिन वो मेरे लिए खिलौने लाते हैं, मुझे घुमाने ले जाते हैं और मुझे अच्छी अच्छी चीजें खिलाते हैं और मुझे इस बात की ख़ुशी है कि मेरे पास पिता हैं क्योंकि मेरी दोस्त आस्था के तो पिता ही नहीं हैं । बच्चे का होमवर्क पढने के बाद वह व्यक्ति जैसे अचानक नींद से जाग गया हो। उसकी सोच बदल सी गयी। बच्चे की लिखी बातें उसके दिमाग में बार बार घूम रही थी। खासकर वह आख़री वाली लाइन। उसकी नींद उड़ गयी थी। फिर वह व्यक्ति थोडा शांत होकर बैठा और उसने अपनी परेशानियों के बारे में सोचना शुरू किया । मुझे घर के सारे खर्चे उठाने पड़ते हैं, इसका मतलब है कि मेरे पास घर है और ईश्वर की कृपा से मैं उन लोगों से बेहतर स्थिति में हूँ जिनके पास घर नहीं है । मुझे पूरे परिवार की जिम्मेदारी उठानी पड़ती है, इसका मतलब है कि मेरा परिवार है, बीवी बच्चे हैं और ईश्वर की कृपा से मैं उन लोगों से ज्यादा खुशनसीब हूँ जिनके पास परिवार नहीं हैं और वो दुनियाँ में बिल्कुल अकेले हैं । मेरे यहाँ कोई ना कोई मित्र या रिश्तेदार आता जाता रहता है, इसका मतलब है कि मेरी एक सामाजिक हैसियत है और मेरे पास मेरे सुख दुःख में साथ देने वाले लोग हैं । मैं उन लोगों से बेहतर हूँ जो बेरोजगार हैं या पैसों की वजह से बहुत सी चीजों और सुविधाओं से वंचित है हे ! मेरे भगवान् ! तेरा बहुंत बहुंत शुक्रिया मुझे माफ़ करना, मैं तेरी कृपा को पहचान नहीं पाया। इसके बाद उसकी सोच एकदम से बदल गयी, उसकी सारी परेशानी, सारी चिंता एक दम से जैसे ख़त्म हो गयी। वह एकदम से बदल सा गया। वह भागकर अपने बेटी के पास गया और सोते हुए बेटी को गोद में उठाकर उसके माथे को चूमने लगा और अपने बेटी को तथा ईश्वर को धन्यवाद देने लगा । सार📚🕉️ हमारे सामने जो भी परेशानियाँ हैं, हम जब तक उनको नकारात्मक नज़रिये से देखते रहेंगे तब तक हम परेशानियों से घिरे रहेंगे लेकिन जैसे ही हम उन्हीं चीजों को, उन्ही परिस्तिथियों को सकारात्मक नज़रिये से देखेंगे, हमारी सोच एकदम से बदल जाएगी, हमारी सारी चिंताएं, सारी परेशानियाँ, सारे तनाव एक दम से ख़त्म हो जायेंगे और हमें मुश्किलों से निकलने के नए - नए रास्ते दिखाई देने लगेंगे।

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
[email protected] May 18, 2019

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB