Lakhan Vaishanav
Lakhan Vaishanav Sep 10, 2017

बोले हुए शब्द वापस नहीं आते

एक बार एक किसान ने अपने पडोसी को भला बुरा कह दिया, पर जब बाद में उसे अपनी गलती का एहसास हुआ तो वह एक संत के पास गया.उसने संत से अपने शब्द वापस लेने का उपाय पूछा.

संत ने किसान से कहा , ” तुम खूब सारे पंख इकठ्ठा कर लो , और उन्हें शहर के बीचो-बीच जाकर रख दो .” किसान ने ऐसा ही किया और फिर संत के पास पहुंच गया.

तब संत ने कहा , ” अब जाओ और उन पंखों को इकठ्ठा कर के वापस ले आओ”

किसान वापस गया पर तब तक सारे पंख हवा से इधर-उधर उड़ चुके थे. और किसान खाली हाथ संत के पास पहुंचा. तब संत ने उससे कहा कि ठीक ऐसा ही तुम्हारे द्वारा कहे गए शब्दों के साथ होता है,तुम आसानी से इन्हें अपने मुख से निकाल तो सकते हो पर चाह कर भी वापस नहीं ले सकते.

इस कहानी से क्या सीख मिलती है:->

कुछ कड़वा बोलने से पहले ये याद रखें कि भला-बुरा कहने के बाद कुछ भी कर के अपने शब्द वापस नहीं लिए जा सकते. हाँ, आप उस व्यक्ति से जाकर क्षमा ज़रूर मांग सकते हैं, और मांगनी भी चाहिए, पर human nature कुछ ऐसा होता है की कुछ भी कर लीजिये इंसान कहीं ना कहीं hurt हो ही जाता है.
जब आप किसी को बुरा कहते हैं तो वह उसे कष्ट पहुंचाने के लिए होता है पर बाद में वो आप ही को अधिक कष्ट देता है. खुद को कष्ट देने से क्या लाभ, इससे अच्छा तो है की चुप रहा जाए.

Pranam Like Flower +92 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 86 शेयर

कामेंट्स

Sanjay Nagpal Oct 20, 2018

ऋषि अष्टावक्र की कथा
〰️〰️🔸〰️〰️🔸〰️〰️
अष्टावक्र की माता का नाम सुजाता था। उनके पिता कहोड़ वेदपाठी और प्रकांड पंडित थे तथा उद्दालक ऋषि के शिष्य और दामाद थे। राज्य में उनसे कोई शास्त्रार्थ में जीत नहीं सकता था।

अष्टावक्र जब गर्भ में थे तब रोज उनके ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Flower +14 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 18 शेयर
Samir Pratap Singh Oct 19, 2018

एक बार फिर रावण जल गया।
हमारा मन नहीं भरता, बार बार जलाते हैं।
रावण जलाते हैं, ताकि हम पर सवाल खड़े ना हो जाएं।
रावण जलता है, मन खिन्न और उदास हो जाता है, विद्वता का ऐसा अंत ?
रावण के साथ ज्ञान की परंपरा का भी दहन हो जाता है।
ज्ञान से उपजे वैभव का...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Dhoop Like +97 प्रतिक्रिया 19 कॉमेंट्स • 195 शेयर
Sompal Prajapati Oct 20, 2018

*“समय जिसका साथ देता है वो बड़ों बड़ों को मात देता है।"*
*अमीर के घर पे बैठा 'कौवा' भी*
*सबको 'मोर' लगता है ..*
*और..*
*गरीब का भूखा बच्चा भी*
*सबको 'चोर' लगता है..*😔😔
: *इंसान की अच्छाई पर,*
*सब खामोश रहते हैं...*
*चर्चा अगर उसकी ब...

(पूरा पढ़ें)
0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Sompal Prajapati Oct 20, 2018

*"जिंदगी मे चुनौतियाँ हर* *किसी के हिस्से नहीं आती,*
*क्योकि किस्मत भी किस्मत वालो को ही आज़माती है !!"*
----------------
Sompal Prajapati

----------------

0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
shivani Oct 20, 2018

jai shree ram

Pranam Jyot Flower +150 प्रतिक्रिया 67 कॉमेंट्स • 809 शेयर

क्रोध...

एक राजा घने जंगल में भटक गया, राजा गर्मी और प्यास से व्याकुल हो गया।

इधर उधर हर जगह तलाश करने पर भी उसे कहीं पानी नही मिला।

प्यास से गला सूखा जा रहा था।

तभी उसकी नजर एक वृक्ष पर पड़ी जहाँ एक डाली से टप ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Lotus Bell +38 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 218 शेयर
🔔Meena Sharma🔔 Oct 20, 2018

बड़े बड़े गजराजों से भरे हुए महेन्द्र पर्वत के समतल प्रदेश में खड़े हुए हनुमान जी वहाँ जलाशय में स्थित हुए विशालकाय हाथी के समान जान पड़ते थे। सूर्य, इन्द्र, पवन, ब्रह्मा आदि देवों को प्रणाम कर हनुमान जी ने समुद्र लंघन का दृढ़ निश्चय कर लिया और अपने शर...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like Flower +7 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 3 शेयर

🍃🌺🌺 #जय_श्री_माँ_लक्ष्मी_जी_की🌺🌺🍃

एक बार अकबर बीरबल हमेशा की तरह टहलने जा रहे थे!

रास्ते में एक तुलसी का पौधा दिखा .. मंत्री बीरबल ने झुक कर प्रणाम किया !

अकबर ने पूछा कौन हे ये ?
बीरबल -- मेरी माता हे !

अकबर ने तुलसी के झाड़ को उखाड़ क...

(पूरा पढ़ें)
Lotus Like Pranam +9 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 31 शेयर
Dhanraj Maurya Oct 20, 2018

Om Jai Jai Om

Like Pranam Tulsi +15 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 201 शेयर
Sompal Prajapati Oct 20, 2018

*रिश्ते और रास्ते*
तब ख़त्म हो जाते हैँ
जब *पाँव* नहीं
*दिल* थक जाते है.....

*शुक्रिया अदा करना*
और ...
*माफ़ी माँगना*
दो गुण जिस व्यक्ति के पास है..
वो सबके क़रीब
और ...
सबके लिए *अजीज़* होता है ...
🌻🌻 सुप्रभात 🌻🌻
🌷 *आज का...

(पूरा पढ़ें)
0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB