Mamta Chauhan
Mamta Chauhan Mar 29, 2020

🌿🌿🌿🌿🌷Jai Mata Di 🌷🌿🌿🌿🌿 Is Dharti Par Swarg Se Sunder Hai Tera Darbar Hum Par Rhe Brasata Yu Hi Sda Tumhara Pyar....🌿🌿🌷🌿🌿🙏🌷🌿🌿🌿

+281 प्रतिक्रिया 67 कॉमेंट्स • 66 शेयर

कामेंट्स

🙏OP JAIN🙏(RAJ) Mar 29, 2020
ॐ सूर्य देवता नमः आपका हर एक पल शुभ और मंगलमय हो हैप्पी Sunday

Harpal bhanot Mar 29, 2020
jai Shree radhe Krishna ji 🌷🌷🌷 Beautiful good Night ji my Sister

🙏OP JAIN🙏(RAJ) Mar 29, 2020
ॐ सूर्य देवता नमः आपका हर एक पल शुभ और मंगलमय हो हैप्पी Sunday

Ansouya Ansouya Mar 29, 2020
जय माता दी शुभ संध्या वनदन मेरी प्यारी बहना स्कन्द माता की कृपा आप और आपके परिवार पर हमेशा बना रहे जी माता रानी कृपा बनाये रखें जी 🌷🌷🙏🙏

rekha Mar 29, 2020
jai karkitey mata ki

Sanjay Sharma Mar 29, 2020
जय श्री राधे श्याम जय श्री सीताराम जय श्री सूर्य देव ओम् सुर्य देवाय नमः शुभ संध्या जी मेरी बहन आप कैसे हैं बहन आप सदा खुश रहिए और जीवन में सदैव कामयाबी के शिखर पर अग्रसर रहे जय मां स्कंदमाता ईश्वर मेरी बहन की सभी मनोकामनाएं पूर्ण होती रहे

Pinu Dhiman Jai Shiva 🙏 Mar 29, 2020
Jai mata di shubh ratri vandan sister ji 🙏🏵️🙏aap ka hr din hr pal manglemay ho god bless u sister ji 🙏🙌🌼🏵️🌼🏵️🌼🏵️🌼🏵️🌼🏵️🌼🏵️🌼💮🌸💮🌸💮🌸💮🌸💮

+13 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 7 शेयर
Rameshanand Guruji May 8, 2020

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 6 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Rameshanand Guruji May 8, 2020

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Susheel Verma May 8, 2020

Main Category ~> Goddess Gaytrima Sub Category ~> Aarti ---------------------- जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता। आदि शक्ति तुम अलख निरंजन जग पालन कर्त्री। दुःख शोक भय क्लेश कलह दारिद्र्य दैन्य हर्त्री॥१॥ ब्रह्मरूपिणी, प्रणत पालिनी, जगत धातृ अम्बे। भव-भय हारी, जन हितकारी, सुखदा जगदम्बे॥२॥ भयहारिणि, भवतारिणि, अनघे अज आनन्द राशी। अविकारी, अघहरी, अविचलित, अमले, अविनाशी॥३॥ कामधेनु सत-चित-आनन्दा जय गंगा गीता। सविता की शाश्वती, शक्ति तुम सावित्री सीता॥४॥ ऋग्, यजु, साम, अथर्व, प्रणयिनी, प्रणव महामहिमे। कुण्डलिनी सहस्रार सुषुम्रा शोभा गुण गरिमे॥५॥ स्वाहा, स्वधा, शची, ब्रह्माणी, राधा, रुद्राणी। जय सतरूपा वाणी, विद्या, कमला, कल्याणी॥६॥ जननी हम हैं दीन, हीन, दुःख दारिद के घेरे। यदपि कुटिल, कपटी कपूत तऊ बालक हैं तेरे॥७॥ स्नेह सनी करुणामयि माता चरण शरण दीजै। बिलख रहे हम शिशु सुत तेरे दया दृष्टि कीजै॥८॥ काम, क्रोध, मद, लोभ, दम्भ, दुर्भाव द्वेष हरिये। शुद्ध, बुद्धि, निष्पाप हृदय, मन को पवित्र करिये॥९॥ तुम समर्थ सब भाँति तारिणी, तुष्टि, पुष्टि त्राता। सत मारग पर हमें चलाओ जो है सुखदाता॥१०॥ जयति जय गायत्री माता, जयति जय गायत्री माता॥ ---------------------- For more, Download Bhakti App Now : http://bit.ly/BhaktiApp

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Susheel Verma May 8, 2020

Main Category ~> Goddess Ambe Maa Sub Category ~> Stuti ---------------------- विश्वंभरी अखिल विश्व तनी जनेता विद्या धरी वदनमा वसजो विधाता दुर्बुद्धिने दूर करी सदबुद्धि आपो माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो भूलो पड़ी भवरने भटकू भवानी सूझे नहीं लगिर कोई दिशा जवानी भासे भयंकर वाली मन ना उतापो माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो आ रंकने उगरावा नथी कोई आरो जन्मांड छू जननी हु ग्रही बाल तारो ना शु सुनो भगवती शिशु ना विलापो माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो माँ कर्म जन्मा कथनी करता विचारू आ स्रुष्टिमा तुज विना नथी कोई मारू कोने कहू कथन योग तनो बलापो माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो हूँ काम क्रोध मद मोह थकी छकेलो आदम्बरे अति घनो मदथी बकेलो दोषों थकी दूषित ना करी माफ़ पापो माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो ना शाश्त्रना श्रवण नु पयपान किधू ना मंत्र के स्तुति कथा नथी काई किधू श्रद्धा धरी नथी करा तव नाम जापो माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो रे रे भवानी बहु भूल थई छे मारी आ ज़िन्दगी थई मने अतिशे अकारि दोषों प्रजाली सगला तवा छाप छापो माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो खाली न कोई स्थल छे विण आप धारो ब्रह्माण्डमा अणु अणु महि वास तारो शक्तिन माप गणवा अगणीत मापों माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो पापे प्रपंच करवा बधी वाते पुरो खोटो खरो भगवती पण हूँ तमारो जद्यान्धकार दूर सदबुध्ही आपो माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो शीखे सुने रसिक चंदज एक चित्ते तेना थकी विविधः ताप तळेक चिते वाधे विशेष वली अंबा तना प्रतापो माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो श्री सदगुरु शरणमा रहीने भजु छू रात्री दिने भगवती तुजने भजु छू सदभक्त सेवक तना परिताप छापो माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो अंतर विशे अधिक उर्मी तता भवानी गाऊँ स्तुति तव बले नमिने मृगानी संसारना सकळ रोग समूळ कापो माम पाहि ॐ भगवती भव दुःख कापो ---------------------- For more, Download Bhakti App Now : http://bit.ly/BhaktiApp

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB