*जैसी दृष्टि-वैसी सृष्टि* एक दिन कॉलेज में प्रोफेसर ने विद्यर्थियों से पूछा कि इस संसार में जो कुछ भी है उसे भगवान ने ही बनाया है न? सभी ने कहा, “हां भगवान ने ही बनाया है।“ प्रोफेसर ने कहा कि इसका मतलब ये हुआ कि बुराई भी भगवान की बनाई चीज़ ही है। प्रोफेसर ने इतना कहा तो एक विद्यार्थी उठ खड़ा हुआ और उसने कहा कि इतनी जल्दी इस निष्कर्ष पर मत पहुंचिए सर। प्रोफेसर ने कहा, क्यों? अभी तो सबने कहा है कि सबकुछ भगवान का ही बनाया हुआ है फिर तुम ऐसा क्यों कह रहे हो? विद्यार्थी ने कहा कि सर, मैं आपसे छोटे-छोटे दो सवाल पूछूंगा। फिर उसके बाद आपकी बात भी मान लूंगा। प्रोफेसर ने कहा पूछो।" विद्यार्थी ने पूछा , "सर क्या दुनिया में ठंड का कोई वजूद है?" प्रोफेसर ने कहा, बिल्कुल है। सौ फीसदी है। हम ठंड को महसूस करते हैं। विद्यार्थी ने कहा, "नहीं सर, ठंड कुछ है ही नहीं। ये असल में गर्मी की अनुपस्थिति का अहसास भर है। जहां गर्मी नहीं होती, वहां हम ठंड को महसूस करते हैं।" प्रोफेसर चुप रहे। विद्यार्थी ने फिर पूछा, "सर क्या अंधेरे का कोई अस्तित्व है?" प्रोफेसर ने कहा, "बिल्कुल है। रात को अंधेरा होता है।" विद्यार्थी ने कहा, "नहीं सर। अंधेरा कुछ होता ही नहीं। ये तो जहां रोशनी नहीं होती वहां अंधेरा होता है। प्रोफेसर ने कहा, "तुम अपनी बात आगे बढ़ाओ।" विद्यार्थी ने फिर कहा, "सर आप हमें सिर्फ लाइट एंड हीट (प्रकाश और ताप) ही पढ़ाते हैं। आप हमें कभी डार्क एंड कोल्ड (अंधेरा और ठंड) नहीं पढ़ाते। फिजिक्स में ऐसा कोई विषय ही नहीं। सर, ठीक इसी तरह ईश्वर ने सिर्फ अच्छा-अच्छा बनाया है। अब जहां अच्छा नहीं होता, वहां हमें बुराई नज़र आती है। पर बुराई को ईश्वर ने नहीं बनाया। ये सिर्फ अच्छाई की अनुपस्थिति भर है।" दरअसल दुनिया में कहीं बुराई है ही नहीं। ये सिर्फ प्यार, विश्वास और ईश्वर में हमारी आस्था की कमी का नाम है। ज़िंदगी में जब और जहां मौका मिले अच्छाई बांटिये क्योंकि- *वो ही करता और वो ही करवाता है, क्यों बंदे तू इतराता है,* *एक साँस भी नही है तेरे बस की, वो ही सुलाता और वो ही जगाता है.* आपका आजका दिन मंगलमय तथा कल्याणकारी हो🙏🏻 *सदैव प्रसन्न रहिये* *जो प्राप्त है-पर्याप्त है*

*जैसी दृष्टि-वैसी सृष्टि*

एक दिन कॉलेज में प्रोफेसर ने विद्यर्थियों से पूछा कि इस संसार में जो कुछ भी है उसे भगवान ने ही बनाया है न?

सभी ने कहा, “हां भगवान ने ही बनाया है।“

प्रोफेसर ने कहा कि इसका मतलब ये हुआ कि बुराई भी भगवान की बनाई चीज़ ही है।

प्रोफेसर ने इतना कहा तो एक विद्यार्थी उठ खड़ा हुआ और उसने कहा कि इतनी जल्दी इस निष्कर्ष पर मत पहुंचिए सर। 

प्रोफेसर ने कहा, क्यों? अभी तो सबने कहा है कि सबकुछ भगवान का ही बनाया हुआ है फिर तुम ऐसा क्यों कह रहे हो?

विद्यार्थी ने कहा कि सर, मैं आपसे छोटे-छोटे दो सवाल पूछूंगा। फिर उसके बाद आपकी बात भी मान लूंगा।

प्रोफेसर ने कहा पूछो।"

विद्यार्थी ने पूछा , "सर क्या दुनिया में ठंड का कोई वजूद है?"

प्रोफेसर ने कहा, बिल्कुल है। सौ फीसदी है। हम ठंड को महसूस करते हैं।

विद्यार्थी ने कहा, "नहीं सर, ठंड कुछ है ही नहीं। ये असल में गर्मी की अनुपस्थिति का अहसास भर है। जहां गर्मी नहीं होती, वहां हम ठंड को महसूस करते हैं।"

प्रोफेसर चुप रहे।

विद्यार्थी ने फिर पूछा, "सर क्या अंधेरे का कोई अस्तित्व है?"

प्रोफेसर ने कहा, "बिल्कुल है। रात को अंधेरा होता है।"

विद्यार्थी ने कहा, "नहीं सर। अंधेरा कुछ होता ही नहीं। ये तो जहां रोशनी नहीं होती वहां अंधेरा होता है।

प्रोफेसर ने कहा, "तुम अपनी बात आगे बढ़ाओ।"

विद्यार्थी ने फिर कहा, "सर आप हमें सिर्फ लाइट एंड हीट (प्रकाश और ताप) ही पढ़ाते हैं। आप हमें कभी डार्क एंड कोल्ड (अंधेरा और ठंड) नहीं पढ़ाते। फिजिक्स में ऐसा कोई विषय ही नहीं। सर, ठीक इसी तरह ईश्वर ने सिर्फ अच्छा-अच्छा बनाया है। अब जहां अच्छा नहीं होता, वहां हमें बुराई नज़र आती है। पर बुराई को ईश्वर ने नहीं बनाया। ये सिर्फ अच्छाई की अनुपस्थिति भर है।"

दरअसल दुनिया में कहीं बुराई है ही नहीं। ये सिर्फ प्यार, विश्वास और ईश्वर में हमारी आस्था की कमी का नाम है।

ज़िंदगी में जब और जहां मौका मिले अच्छाई बांटिये क्योंकि-
*वो ही करता और वो ही करवाता है, क्यों बंदे तू इतराता है,*
*एक साँस भी नही है तेरे बस की, वो ही सुलाता और वो ही जगाता है.*                                                                                    

आपका आजका दिन मंगलमय तथा कल्याणकारी हो🙏🏻
*सदैव प्रसन्न रहिये*
*जो प्राप्त है-पर्याप्त है*

+24 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 7 शेयर

कामेंट्स

zala Feb 23, 2019
radhe radhe ji shubh shndhyji🙏🇮🇳🙏

Anju Mishra Jul 30, 2022

जय श्री राधे कृष्णा 🙏 #प्रेम तत्त्व अतिसूक्ष्मस्वरूप है# ***श्रीराधिकारानी ने एक दिन श्रीकृष्ण का नाम सुना, नाम सुनते ही चित्त व्याकुल हो गया, अपनी अन्तरतम सखी ललिता से उन्होंने कहा:- कृष्ण नाम जबतें श्रवन सुन्यो री आली। भूली री भवन, हौं तौं बावरी भई टी।। यह कहते ही वंशी ध्वनि उनके कान मे पड़ी अब व्याकुलता और बढ़ गयी तो सखी चित्रा जी ने एक चित्र दिखलाते हुये कहा:- “शिशिरय द्दशौ द्दष्ट्वा दिव्यं किशोरमिमं पुर: ! इस दिव्य किशोर को देखकर अपने नेत्र शीतल कर लो। चित्र देखकर व्याकुलता चरमसीमा मे पहुँच गयी, तो ललिताजी ने कहा :- अपनी व्याकुलता का कारण बताओ , हमसे ना छिपाओ! श्रीराधिकारानी ने कहा:- “सखी! राधा की यह हृदय वेदना दु:साध्य है जिसके निवारणार्थ की हुई चिकित्सा भी कुत्सा(निन्दा )मे परिणत हो जाती है।” ललिता जी ने कहा :- अन्तत: रोग क्या है? श्रीराधा:-कहते लज्जा आती है, मेरा हृदय एक साथ ३-३ पुरूषों मे अनुरक्त हो गया है, अब तो मृत्यु ही मुझे जुगुत्सा से छुड़ा सकती है।’ ललिता:- वे तीनों भाग्यवान् है कौन? श्रीराधा:- मै उन तीनों सें किसी से मिली नही, किसी को देखा नही, एक का “ कृष्ण “ नाम श्रवण मे पड़ा और व्याकुल हो गयी दूसरे किसी ने मधुर वंशी बजायी , उसे सुनकर मेरा चित्त मेरे वश मे नही रहा, और अब यह चित्रा सखी किसी का चित्र बना लायी है, इस पर भी मै मोहित हो गयी हुँ । ललिता:-“ तब यह कहो कि हमारे नन्दनन्दन श्यामसुन्दर वंशीवादक श्रीकृष्ण से तुम्हारी प्रीति हो गई है, तुम बहुत भोली हो ,यह तीनों तीन नही है, यह जिसका चित्र है , वही वंशी बजाता है, व उसी का नाम कृष्ण है। “”यह सूक्ष्मतर रूप है प्रेम का”” ६.अनुभवरूपम्:- भव का अर्थ बदलने वाला जो बार-बार बदले वह है भव! “भवतीति भव:, और प्रेम का स्वरूप है अनुभव। प्रेम का स्वभाव है दूसरे को निकट लाना, देर को तत्काल करना, पराये को अपना बनाना। प्रेम अनुभवरूप है इसका यह अर्थ है कि प्रेम का रसास्वाद उन्हें ही प्राप्त होता है,जिनके हृदय मे भक्ति आती है(जिसके द्वारा भगवदाकार वृत्ति की जाय उसे भक्ति कहते है) प्रेम का रसास्वाद उन्हें ही प्राप्त होता है जिनका “अविनाशी रसात्मक -चेतन(ईश्वर ) “ मे अनुराग है, स्नेह है। ललिताजी ने श्रीराधिकारानी से पूछा:-स्वामिनी श्याम से आपका क्या सम्बन्ध है? श्रीराधा:-“जो तुम्हें अच्छा लगे वह मान लो” प्रेम मे सम्बन्ध की रूपरेखा कैसी? सम्बन्ध प्रेम का साधन है, साध्य नही। ललिता :- “आप प्रियतमा है और वे प्रियतम है” श्रीराधा:- सखी! तुम कुछ भी नही जानती , तुम केवल ऊपर ऊपर की बात जानती हो , तथ्य यह है कि “तात-मात, गुरू-सखा तुम सब विधि हित मेरे। मोहि तोहि नाते अनेक, मानिये जो भावै।।”” सखी ! न वे प्रियतम है, न मै प्रियतमा हुँ , हम दोनो मे प्रियतम -प्रियतमा का भेद नही है, मिलन की तीव्राकाँक्षा जागी और उसने दोनो को बलपूर्वक पीसकर एक कर दिया , अब मन ही दो नही रहा , पार्थक्य तो मन के कारण होता है। यदि संसार मे दो मन एक हो जाये तो प्रबल हो जाते है उस समय १ + १ = २ नही होता , तब १+१=११ होता है गुरू शिष्य का मन एक होकर ईश्वर को खींच लेता है, प्रेम के रस से मिलकर दोनो मन नरम हो जाते है, पिघल जाते है और मिलकर एक हो जाते है।”” श्रीकृष्ण मे “श्री” जो है वही है श्रीराधा, कृष्ण का आधार है श्री राधिकारानी। श्रीराधाकृष्ण परस्पर भिन्न नही है वे एक ही हैं। राधे राधे

+48 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 28 शेयर
Anju Mishra Jul 29, 2022

🌹🙏जय श्री राधे कृष्णा 🙏🌹 #"लालची सेठ"# **एक गरीब ब्राह्मण था। उसको अपनी कन्या का विवाह करना था। उसने विचार किया कि कथा करने से कुछ पैसा आ जायेगा तो काम चल जायेगा। ऐसा विचार करके उसने भगवान् राम के एक मन्दिर में बैठ कर कथा आरम्भ कर दी। उसका भाव यह था कि कोई श्रोता आये, चाहे न आये पर भगवान् तो मेरी कथा सुनेंगे ! पण्डित जी की कथा में थोड़े से श्रोता आने लगे। एक बहुत कंजूस सेठ था। एक दिन वह मन्दिर में आया। जब वह मन्दिर कि परिक्रमा कर रहा था, तब भीतर से कुछ आवाज आई। ऐसा लगा कि दो व्यक्ति आपस में बात कर रहे हैं। सेठ ने कान लगा कर सुना, भगवान् राम हनुमान जी से कह रहे थे कि इस गरीब ब्राह्मण के लिए सौ रूपए का प्रबन्ध कर देना, जिससे कन्यादान ठीक हो जाये। हनुमान जी ने कहा ठीक है महाराज ! इसके सौ रूपए कल हो जायेंगे। सेठ ने यह सुना तो वह कथा समाप्ति के बाद पण्डित जी से मिले और उनसे कहा कि महाराज ! कथा में रूपए आ रहें कि नहीं ? पण्डित जी बोले–‛श्रोता बहुत कम आते हैं तो रूपए कैसे आयेंगे।’ सेठ ने कहा कि मेरी एक शर्त है–‛कथा में जितना पैसा आये वह मेरे को दे देना और मैं आप को पचास रूपए दे दूँगा।’ पण्डित जी ने सोचा कि उसके पास कौन से इतने पैसे आते हैं पचास रूपए तो मिलेंगे, पण्डित जी ने सेठ कि बात मान ली। उन दिनों पचास रूपए बहुत सा धन होता था। इधर सेठ कि नीयत थी कि भगवान् कि आज्ञा का पालन करने हेतु हनुमान जी सौ रूपए पण्डित जी को जरूर देंगे। मुझे सीधे-सीधे पचास रूपए का फायदा हो रहा है। जो लोभी आदमी होते हैं वे पैसे के बारे में ही सोचते हैं। सेठ ने भगवान् जी कि बातें सुनकर भी भक्ति कि और ध्यान नहीं दिया बल्कि पैसे कि और आकर्षित हो गए। अब सेठ जी कथा के उपरान्त पण्डित जी के पास गए और उनसे कहने लगे कि कितना रुपया आया है। सेठ के मन विचार था कि हनुमान जी सौ रूपए तो भेंट में जरूर दिलवाएंगे। मगर पण्डित जी ने कहा कि पांच सात रूपए ही आये हैं। अब सेठ को शर्त के मुताबिक पचास रूपए पण्डित जी को देने पड़े। सेठ को हनुमान जी पर बहुत ही गुस्सा आ रहा था कि उन्हों ने पण्डित जी को सौ रूपए नहीं दिए। वह मन्दिर में गया और हनुमान जी कि मूर्ति पर घूँसा मारा। घूँसा मारते ही सेठ का हाथ मूर्ति पर चिपक गया। अब सेठ जोर लगाये अपना हाथ छुड़ाने के लिए पर नाकाम रहा हाथ हनुमान जी कि पकड़ में ही रहा। हनुमान जी किसी को पकड़ लें तो वह कैसे छूट सकता है। सेठ को फिर आवाज सुनाई दी। उसने ध्यान से सुना, भगवान् हनुमान जी से पूछ रहे थे कि तुमने ब्राह्मण को सौ रूपए दिलाये कि नहीं ? हनुमान जी ने कहा–‛महाराज पचास रूपए तो दिला दिए हैं, बाकी पचास रुपयों के लिए सेठ को पकड़ रखा है। ये पचास रूपए दे देगा तो छोड़ देंगे'।’ सेठ ने सुना तो विचार किया कि मन्दिर में लोग आकर मेरे को देखेंगे तो बड़ी बेईज्जती होगी, वह चिल्लाकर बोला–‛हनुमान जी महाराज ! मेरे को छोड़ दो, मैं पचास रूपय दे दूँगा।' हनुमान जी ने सेठ को छोड़ दिया। सेठ ने जाकर पण्डित जी को पचास रूपए दे दिए। ----------::;×:::---------- राधे राधे

+41 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 88 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB