My Mandir
My Mandir Oct 20, 2017

गोवर्धन पूजा की आप सभी सदस्यों को बहुत-बहुत बधाई।

गोवर्धन पूजा को अन्नकूट भी कहा जाता है। पौराणिक मान्यताओं ये माना जाता है कि इस दिन भगवान कृष्ण ने वृंदावन के पूरे क्षेत्र को भारी बारिश से बचाया था। इस दिन उन्होनें गोवर्धन पर्वत को अपने हाथ की छोटी उंगली पर उठा लिया था और पूरे वृंदावन गांव को भारी बारिश और तूफान से बचाया था। माना जाता है कि इस दिन भगवान कृष्ण ने स्वर्गलोक के राजा भगवान इन्द्र को पराजित किया था।

+165 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 111 शेयर

कामेंट्स

Jagdish Kumar Oct 20, 2017
🙏🕉🔯🙏 🌹 जय श्री राधे राधे 🌹 🌹 जय श्री कृष्णा 🌹 लोगों की रक्षा करने एक उंगली पर पहाड़ उठाया उसी कन्हैया की याद दिलाने गोवर्धन पूजा का पावन दिन आया गोवर्धन पूजा की हार्दिक शुभकामनाएं

Awinash Oct 20, 2017
sir ek siket h team mymandir sa

Ragni Dhiwar May 9, 2021

*मेरी, आपकी, हम सबकी मां को किसी दिवस विशेष में "समेटना" सम्भव नही क्योंकि माँ हमारी रग रग में रक्त बनकर प्रवाहित है. उसी के कारण हमारा अस्तित्व है.* *जिस दिन मां का अस्तित्व समाप्त हो जायेगा उस दिन इस पृथ्वी पर दुर्लभ मानव जीवन हमेशा के लिये समाप्त हो जायेगा. इसीलिये "बेटियों" को बचाईये.* *मिलिन्द भिड़े,भिलाई नगर* मां को समर्पित एक कविता दोबारा पढ़ने मिली,रचयिता का पता नही, पर हृदयस्पर्शी लगी, इसीलिये शेयर कर रही हूँ. लेती नहीं दवाई "माँ", जोड़े पाई-पाई "माँ"। दुःख थे पर्वत, राई "माँ", हारी नहीं लड़ाई "माँ"। इस दुनियां में सब मैले हैं, किस दुनियां से आई "माँ"। दुनिया के सब रिश्ते ठंडे, गरमागर्म रजाई "माँ" । जब भी कोई रिश्ता उधड़े, करती है तुरपाई "माँ" । बाबू जी तनख़ा लाये बस, लेकिन बरक़त लाई "माँ"। बाबूजी थे सख्त मगर , माखन और मलाई "माँ"। बाबूजी के पाँव दबा कर सब तीरथ हो आई "माँ"। नाम सभी हैं गुड़ से मीठे, मां जी, मैया, माई, "माँ" । सभी साड़ियाँ छीज गई थीं, मगर नहीं कह पाई "माँ" । घर में चूल्हे मत बाँटो रे, देती रही दुहाई "माँ"। बाबूजी बीमार पड़े जब, साथ-साथ मुरझाई "माँ" । रोती है लेकिन छुप-छुप कर, बड़े सब्र की जाई "माँ"। लड़ते-लड़ते, सहते-सहते, रह गई एक तिहाई "माँ" । बेटी रहे ससुराल में खुश, सब ज़ेवर दे आई "माँ"। "माँ" से घर, घर लगता है, घर में घुली, समाई "माँ" । बेटे की कुर्सी है ऊँची, पर उसकी ऊँचाई "माँ" । दर्द बड़ा हो या छोटा हो, याद हमेशा आई "माँ"। घर के शगुन सभी "माँ" से, है घर की शहनाई "माँ"। सभी पराये हो जाते हैं, होती नहीं पराई "माँ". ...👣🌺👏

+39 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sanjay Awasthi May 9, 2021

+16 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+8 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+39 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 3 शेयर

+21 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Meena Chorotiya May 9, 2021

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Vandana Singh May 9, 2021

+14 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 12 शेयर

+47 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 26 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB