पंचकूला से माता मनसा देवी जी के दर्शन

पंचकूला से माता मनसा देवी जी के दर्शन

+491 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 191 शेयर

कामेंट्स

Kamaraj Dec 15, 2017
जयपुर मानसा देवी !आत्म नमस्ते! शुभ शुक्र वार! हर हर महादेव! 🍎🍏🍏

Ajnabi Dec 15, 2017
jay mata di good morning veeruda

Yogesh Kumar Sharma Dec 15, 2017
जय माँ सन्तोषी, आप सभी की मनोकामना पूर्ण करें

Babbu Dixit Dec 15, 2017
श्री जय मनसा देवी माता की

_*🌻🔥सर्वसिद्धि बगलामुखी मन्दिर🔥🌻*_ 🌻२५ मई २०१९ शनिवार🌻 प्रातःकाल ०६:०० बजे ⛳ _*(ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष सप्तमी कल सुबह 08:49 तक तत्पश्चात अष्‍टमी*_⛳ 🌞रजत शृंगार मंगला आरती दर्शन🌞 🙏स्वयंम्भू प्राकट्य धाम, नलखेड़ा🙏 👏जय माता दी👏 🙏🙏ॐ "मध्ये सुताब्धि मणिमण्डप रत्नवेद्याम्। सिंहासनोपरिगताँ परिपीत वर्णाम्॥ पीताम्बराभरण माल्य विभूषिताङ्गीम्। देवी नमामि धृतमुद्गर वैरि जिह्वाम्॥ जिह्वाग्रमादाय करेण देवी वामेन शत्रूनपरिपीड्यन्तीम्। गदाभिघातेन च दक्षिणेन पीताम्बराढ्यां द्विभुजाँम् नमामि ॥ त्रिशूलधारिणीमम्बाम् सर्व सौभाग्यदायिनीम्। सर्वशृंगार वेषाढ्याम् देवीं ध्यात्वा प्रपूज्येत्॥"🙏🙏

+72 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Anjana Gupta May 24, 2019

+1402 प्रतिक्रिया 301 कॉमेंट्स • 455 शेयर

_*🌻🔥सर्वसिद्धि बगलामुखी मन्दिर🔥🌻*_ 🌻२५ मई २०१९ शनिवार🌻 प्रातःकाल ०६:०० बजे ⛳ _*(ज्येष्ठ कृष्ण पक्ष सप्तमी कल सुबह 08:49 तक तत्पश्चात अष्‍टमी*_⛳ 🌞रजत शृंगार मंगला आरती दर्शन🌞 🙏स्वयंम्भू प्राकट्य धाम, नलखेड़ा🙏 👏जय माता दी👏 🙏🙏ॐ "मध्ये सुताब्धि मणिमण्डप रत्नवेद्याम्। सिंहासनोपरिगताँ परिपीत वर्णाम्॥ पीताम्बराभरण माल्य विभूषिताङ्गीम्। देवी नमामि धृतमुद्गर वैरि जिह्वाम्॥ जिह्वाग्रमादाय करेण देवी वामेन शत्रूनपरिपीड्यन्तीम्। गदाभिघातेन च दक्षिणेन पीताम्बराढ्यां द्विभुजाँम् नमामि ॥ त्रिशूलधारिणीमम्बाम् सर्व सौभाग्यदायिनीम्। सर्वशृंगार वेषाढ्याम् देवीं ध्यात्वा प्रपूज्येत्॥"🙏🙏

+14 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Anita Mittal May 24, 2019

🌼🌼उल्लू कैसे माँ लक्ष्मी जी का वाहन बना ? 🌼🌼 🌹🌹जय माँ लक्ष्मी जी की 🌹🌹 प्राणी जगत की संरचना करने के बाद एक रोज़ सभी देवी - देवता पृथ्वी पर विचरण करने आये ।क्षसभी पशु - पक्षियों ने उनसे कहा , आप हमें वाहन के रुप में चुनकर कृतार्थ करें । देवी - देवताओं ने उनकी बात मानकर उन्हें अपने वाहन के रुप में चुनना आरंभ किया । लक्ष्मी जी असमंजस में थीं कि किसको अपना वाहन चुने ? काफी सोच - विचार के बाद उन्होंने कहा , कार्तिक अमावस्या के दिन आप में से किसी एक को अपना वाहन बनाऊँगी । कार्तिक अमावस्या की रात्रि जैसे ही लक्ष्मी जी धरती पर पधारीं , उल्लू ने अंधेरे में अपनी तेज़ नज़रों से उन्हें देखा और उनके समीप पहुँचा और उनसे प्रार्थना की , आप मुझे अपना वाहन स्वीकार करें । लक्ष्मी जी ने चारों ओर दृष्टि दौड़ाई पर उन्हें कोई भी अन्य पशु - पक्षी दिखाई नहीं दिया । इसतरह उन्होंने उल्लू को अपना वाहन बना कर उसे कृतार्थ किया । 🌷🌷माँ लक्ष्मी जी की ममता आप पर हर पल बरसती रहे जी 🌷🌷 🌹🌹जय माँ लक्ष्मी जी की 🌹🌹

+493 प्रतिक्रिया 139 कॉमेंट्स • 43 शेयर
PRAMIL KUMAR SHARMA May 24, 2019

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB