💐गुरू नानक 💐

💐गुरू नानक 💐

"गुरुनानक जी की सीख - ईमानदारी से जीना चाहिए"
दोस्तों, गुरु नानक देव जी सिख धर्म के संस्थापक और सिखों के पहले गुरु थे। जब गुरु नानक देव जी को ज्ञान की प्राप्ति हुई तब वे चार उदासियों पर निकले और एक बार भ्रमण के दौरान वे सैदपुर पहुंचे। सारे शहर में ये बात फैल गई कि एक परम दिव्य महापुरुष पधारे हैं। शहर का मुखिया मालिक भागो ज़ुल्म और बेईमानी से धनी बना था। वो गरीब किसानों से बहुत ज़्यादा लगान वसूलता था। कई बार उनकी फसल भी हड़प लेता था। जिससे कई गरीब किसान परिवार भूखे मरने पर मजबूर थे। जब मलिक भागो को नानक देव जी के आने का पता चला, तो वो उन्हें अपने महल में ठहराना चाहता था, लेकिन गुरु जी ने एक गरीब के छोटे से घर को ठहरने के लिए चुना।
उस आदमी का नाम भाई लालो था। भाई लालो बहुत खुश हुआ और वो बड़े आदर-सत्कार से गुरुजी की सेवा करने लगा। नानक देव जी बड़े प्रेम से उसकी रूखी-सूखी रोटी खाते थे। जब मलिक भागो को ये पता चला तो उसने एक बड़ा आयोजन किया। उसने इलाके के सभी जाने माने लोगों के साथ गुरु नानक जी को भी उसमें निमंत्रित किया। गुरुजी ने उसका निमंत्रण ठुकरा दिया। ये सुनकर, मलिक को बहुत गुस्सा आया और उसने गुरुजी को अपने यहां लाने का हुक्म दिया। मलिक के आदमी, नानक देव जी को उसके महल ले कर आए तो मलिक बोला, गुरुजी मैंने आपके ठहरने का बहुत बढ़िया इंतजाम किया था। कई सारे स्वादिष्ट व्यंजन भी बनवाए थे, फिर भी आप उस गरीब भाई लालो की सूखी रोटी खा रहे हो, क्यों? गुरुजी ने उत्तर दिया, मैं तुम्हारा भोजन नहीं खा सकता, क्योंकि तुमने गलत तरीके से गरीबों का खून चूस कर ये रोटी कमाई है। जबकि लालो की सूखी रोटी उसकी ईमानदारी और मेहनत की कमाई है। गुरुजी की ये बात सुनकर, मलिक भागो आगबबूला हो गया और गुरुजी से इसका सबूत देने को कहा। गुरुजी ने लालो के घर से रोटी का एक टुकड़ा मंगवाया।
फिर शहर के लोगों के भारी जमावड़े के सामने, गुरुजी ने एक हाथ में भाई लालो की सूखी रोटी और दूसरे हाथ में मलिक भागो की चुपड़ी रोटी उठाई। दोनों रोटियों को ज़ोर से हाथों में दबाया तो लालो की रोटी से दूध और मलिक भागो की रोटी से खून टपकने लगा। भरी सभा में, मलिक भागो अपने दुष्कर्मों का सबूत देख, पूरी तरह से हिल गया और नानक देव जी के चरणो में गिर गया। गुरु जी ने उसे भ्रष्टाचार से कमाई हुई सारी धन-दौलत गरीबों में बांटने को कहा और आगे से ईमानदार बनने को कहा। मलिक भागो ने वैसा ही किया। इस प्रकार, गुरुजी के आशीर्वाद से, मलिक भागो का एक तरह से पुनर्जन्म हुआ और वो ईमानदार बन गया।
शिक्षा : दोस्तों इस कहानी से हमे ये शिक्षा मिलती है की हमे हमेशा सच्चाई और इमनदारी से मेहनत करके पैसा कमाना चाहिए। क्योंकी बुरे कर्मो का फल बुरा ही होता है।
🚩जय श्री राम🚩

Like Pranam Flower +150 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 129 शेयर

कामेंट्स

Maya Rathore Nov 4, 2017
बोले सो निहाल , सत श्री अकाल🙏

Lotus Pranam Belpatra +82 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 689 शेयर

Pranam Lotus Flower +25 प्रतिक्रिया 15 कॉमेंट्स • 328 शेयर
RACHNA JERATH Dec 10, 2018

Pranam Tulsi Jyot +26 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 79 शेयर
pari singh piya Dec 10, 2018

Like Pranam Jyot +16 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 142 शेयर
Laxmi Chhaya Dec 10, 2018

खूब पानी पियें, खूब स्वस्थ रहें
राधे राधे राधे राधे राधे राधे

Like Pranam Lotus +34 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 227 शेयर
Sunil Jhunjhunwala Dec 10, 2018

Goodnight : Sunil Jhunjhunwala
"""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""""

Lotus Like Jyot +49 प्रतिक्रिया 17 कॉमेंट्स • 289 शेयर
pari singh piya Dec 10, 2018

Pranam Like Flower +11 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 137 शेयर
kavita sharma Dec 10, 2018

Pranam Like Water +137 प्रतिक्रिया 43 कॉमेंट्स • 262 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB