जय श्री गणेश

जय श्री गणेश
जय श्री गणेश
जय श्री गणेश
जय श्री गणेश

जबलपुर मध्यप्रदेश का सिद्ध गणेश मंदिर

+166 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 15 शेयर

कामेंट्स

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+24 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Ramesh Agrawal Aug 8, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Naman Gupta Aug 6, 2020

+82 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 290 शेयर
Dr.ratan Singh Aug 7, 2020

🚩🪔 💐 जय मां महालक्ष्मी💐🪔🚩 🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯 🌺🍀🐚 शुभ शुक्रवार 🐚🍀🌺 ☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️ 🚩💐🌹शुभ गणेश संकष्टीचतुर्थी 🌹💐🚩 🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚 🥀🌲🌻सुप्रभात 🌻🌲🥀 🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻 🙏आपको सपरिवार अगस्त माह के पहले गणेश संकष्टी चतुर्थी व्रत की हार्दिक शुभकामनाएं 🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯🔯 🎭आप और आपके पूरे परिवार पर मां लक्ष्मी, श्री हरि विष्णु जी और श्री गणेश जी की आशिर्वाद हमेशा बनी रहे और सभी मनोकमनाएं पूर्ण हो🌸 🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿🌿 🎭आपका शुक्रवार का दिन शुभ अतिसुन्दर💐 🌹 शांतिमय और मंगल ही मंगलमय व्यतीत हो 🍑 🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻🌻 🌷अनमोल विचार🌷 🔯🔯🔯🔯🔯🔯 🌹मनुष्य का यही मुख्य आचार है कि जो इन्द्रियां चित्त का हरण करने वाले विषयों में प्रवृत्त कराती हैं उन को रोकने में प्रयत्न करें। जैसे घोड़े को सारथी रोक कर शुद्ध मार्ग में चलाता है उसी प्रकार इन्द्रियों को अपने वश में करके अधर्म मार्ग से हटा कर धर्म मार्ग में सदा चलाया करें॥१॥ 🎎क्योंकि इन्द्रियों को विषयासक्ति और अधर्म में चलाने से मनुष्य निश्चित दोष को प्राप्त होता है और जब इन को जीत कर धर्म में चलाता है तभी अभीष्ट सिद्धि को प्राप्त होता है॥२॥ 💐यह निश्चय है कि जैसे अग्नि में ईन्धन और घी डालने से बढ़ता जाता है वैसे ही कामों के उपभोग से काम शान्त कभी नहीं होता किन्तु बढ़ता ही जाता है। इसलिये मनुष्य को विषयासक्त कभी न होना चाहिये॥३॥ 🤹 जो अजितेन्द्रिय पुरुष है उसको ‘विप्रदुष्ट’ कहते हैं। उस के करने से न वेदज्ञान, न त्याग, न यज्ञ, न नियम और न धर्माचरण सिद्धि को प्राप्त होते हैं किन्तु ये सब जितेन्द्रिय धार्मिक जन को सिद्ध होते हैं॥५॥ इसलिये पांच कर्मेन्द्रिय, पांच ज्ञानेन्द्रिय और ग्यारहवें मन को अपने वश में करके युक्ताहार विहार योग से शरीर की रक्षा करता हुआ सब अर्थों को सिद्ध करे॥५॥ 🎎 जितेन्द्रिय उस को कहते हैं जो स्तुति सुन के हर्ष और निन्दा सुन के शोक; अच्छा स्पर्श करके सुख और दुष्ट स्पर्श से दुःख, सुन्दर रूप देख के प्रसन्न और दुष्ट रूप देख के अप्रसन्न, उत्तम भोजन करके आनन्दित और निकृष्ट भोजन करके दुःखित, सुगन्ध में रुचि और दुर्गन्ध में अरुचि नहीं करता है॥६॥ 🌷कभी बिना पूछे वा अन्याय से पूछने वाले को जोकि कपट से पूछता हो उस को उत्तर न देवें। उन के सामने बुद्धिमान् जड़ के समान रहें। हां! जो निष्कपट और जिज्ञासु हों उन को बिना पूछे भी उपदेश करें॥७॥ 💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐💐 🚩🌸🌹 जय मां महालक्ष्मी🌹🌸🚩 ☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️☸️

+721 प्रतिक्रिया 144 कॉमेंट्स • 44 शेयर
simran Aug 7, 2020

+226 प्रतिक्रिया 76 कॉमेंट्स • 229 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB