Gulab Singh Yadav
Gulab Singh Yadav Apr 18, 2019

🍃👣🥀🙏jai mata di🙏🥀👣🍃 shubh prabhat vandan aap shabhi par matarani ki kirpa sadev bani rahe ji🥀 aap shabhi ka aaj ka din shubh or mangalmay ho 🥀Good morning ji🥀🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷🍃🌷

+45 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 13 शेयर

कामेंट्स

Babita Sharma Apr 18, 2019
सुप्रभात वंदन भाई 🙏 हरि ॐ नमो भगवते वासुदेवाय 🌹🌹 श्री हरि सदैव आपका मंगल करें 🙏

Sandhya Nagar Apr 18, 2019
*श्री राधे....*🙌🏼🌸💐 *श्री राधा अमृत कथा... 🌸 📖 🌸* *श्री बरसाने* का गहवर वन की महिमा पवनदेव स्वयं को बड़भागी समझते हैं क्योंकि दो [एक ही] दिव्य-देहधारियों की सुवास को वह माध्यम रुप से बरसाने और नन्दगाँव के मध्य वितरित कर पाते हैं। राजकुँवरी श्रीवृषभानु-नन्दिनी संध्या समय अपनी दोनों अनन्य सखियों श्रीललिताजू और विशाखाजू के साथ अपने प्रिय गहवर-वन में विहार हेतु महल से निकल रही हैं। *श्रीजू* की शोभा का वर्णन तो दिव्य नेत्रों द्वारा निहारकर भी नहीं किया जा सकता। अनुपम दिव्य श्रृंगार है। बड़े घेर का लहँगा है जिसमें सोने के तारों से हीरे-मोती और पन्ने जड़े हुए हैं। संध्या समय के सूर्य की लालिमा की किरणें पड़ने से उसमें से ऐसी दिव्य आभा निकल रही है कि उस आभा के कारण भी *श्रीजू* के मुख की ओर देखना संभव नहीं हो पाता। संभव है नन्दनन्दन स्वयं भी न चाहते हों ! गहवर-वन को श्रीप्रियाजू ने स्वयं अपने हाथों से लगाया है, सींचा है; वहाँ के प्रत्येक लता-गुल्मों को उनके श्रीकर-पल्लव का स्पर्श मिला है सो वे हर ऋतु में फ़ल-फ़ूल और सुवास से भरे रहते हैं। खग-मृगों और शुक-सारिकाओं को भी श्रीगहवर वन में वास का सौभाग्य मिला है। मंद-मंद समीर बहता रहता है और शुक-सारिकाओं का कलरव एक अदभुत संगीत की सृष्टि करता रहता है। महल से एक सुन्दर पगडंडी गहवर वन को जाती है जिस पर समीप के लता-गुल्म पुष्पों की वर्षा करते रहते हैं। न जाने स्वामिनी कब पधारें और उनके श्रीचरणों में पर्वत- श्रृंखला की कठोर भूमि पर पग रखने से व्यथा न हो जाये ! सो वह पगडंडी सब समय पुष्पों से आच्छादित रहती है। पुष्पों की दिव्य सुगंध, वन की हरीतिमा और पक्षियों का कलरव एक दिव्य-लोक की सृष्टि करते हैं। हाँ, दिव्य ही तो ! जागतिक हो भी कैसे सकता है? परम तत्व कृपा कर प्रकट हुआ है। उस पगडंडी पर दिव्य-लता के पीछे एक "चोर" प्रतीक्षारत है। दर्शन की अभिलाषा लिये ! महल से प्रतिक्षण समीप आती सुवास संकेत दे रही है कि आराध्या निरन्तर समीप आ रही हैं। नेत्रों की व्याकुलता बढ़ती ही जा रही है; बार-बार वे उझककर देखते हैं कि कहीं दिख जायें और फ़िर छिप जाते हैं कि कहीं वे देख न लें ! *श्रीजू* महल की बारादरी से निकल अब पगडंडी पर अपना प्रथम पग रखने वाली हैं कि चोर का धैर्य छूट गया और वे दोनों घुटनों के बल पगडंडी पर बैठ गये और अपने दोनों कर-पल्लवों को आगे बढ़ा दिया है ताकि *श्रीजू* अपने श्रीचरणों का भूमि पर स्पर्श करने से पहले उनके कर-कमल को सेवा का अवसर दें। हे देव ! यह क्या? अचकचा गयीं श्रीप्रियाजू ! एक पग बारादरी में है और एक पग भूमि से ऊपर ! न रखते बनता है और न पीछे हटते ! "ललिते ! देख इन्हें ! यह न मानेंगे !" श्रीप्रियाजू ने ललिताजू के काँधे का आश्रय ले लिया है और लजाकर आँचल की ओट कर ली है। अपने प्राण-प्रियतम की इस लीला पर लजा भी रही हैं और गर्वित भी ! ऐसा कौन? परम तत्व ही ऐसा कर सकता है और कौन? श्रीललिताजू और श्रीविशाखाजू मुस्करा रही हैं; दिव्य लीलाओं के दर्शन का सौभाग्य जो मिला है ! नन्दनन्दन अधीर हो उठे हैं और अब वे साष्टांग प्रणाम कर रहे हैं अपनी आराध्या को। विनय कर रहे हैं कि *श्रीजू* के श्रीचरणों के स्पर्श का सौभाग्य उनके कर-पल्लव और मस्तक को मिले ! *श्रीजू* अभी भी एक पग पर ही ललिताजू के काँधे का अवलम्बन लिये खड़ी हैं और सम्पूर्ण गहवर-वन गूँज रहा है - *"स्मर गरल खण्डनम मम शिरसि मण्ड्नम।* *देहि पदपल्लवमुदारम।"* *जय जय श्री राधे....*🙌🏼🌸💐 ।

Dr. Ratan Singh Apr 18, 2019
🌹🌿ॐ विष्णुदेवाय नमः🌿🌹 👏आप सभी पर भगवान श्री हरि🌷 🍑विष्णु जी और साईं बाबा जी की🐚 👏 कृपा दृष्टि हमेसा बनी रहे 🙏 ******************************* 🙏आपका गुरुवार का हर पल 🏵 🎡हर पहर अतिसुन्दर खूबसूरत🎋 💐शुभ और मंगलमय हो जी💐 👏🌷नमस्कार जी🌷👏 🚩🌿हरि ॐ🌿🚩

NK Pandey Apr 18, 2019
Jai Shri Ram Subh Dophar Vandan Bhai Ji Aap ka Har Pl Mangalmay Ho Bhai

anita sharma May 21, 2019

+37 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 14 शेयर
Mamta Chauhan May 20, 2019

+137 प्रतिक्रिया 32 कॉमेंट्स • 85 शेयर

+335 प्रतिक्रिया 75 कॉमेंट्स • 168 शेयर
Jayshree Shah May 20, 2019

+12 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 6 शेयर

+23 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 14 शेयर
anita sharma May 19, 2019

+21 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 20 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB