*🚩🙏 महाशिवरात्री विशेष 11 मार्च 2021 गुरुवार* पुजा विधी महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव की विधि विधान से साधना , पुजा एवं महामृत्युंजय मंत्र का जप करके हम अपने जीवन के कष्ट दुख एवं परेशानी को दूर कर सकते हैं । नजदीक के शिव मंदिर या घर में करें पुजा जो व्यक्ति विधि विधान से पूजा नहीं कर सकते हैं वे अपने घर में छोटा मिट्टी , पारद या स्फटिक शिवलिंग स्थापित करके सामान्य पूजन करके रुद्राक्ष की माला से महामृत्युंजय मंत्र का ज्यादा से ज्यादा जप कर सकते हैं । महामृत्युंजय मंत्र का जप प्रत्येक व्यक्ति को जीवन में हमेशा करना चाहिए। महामृत्युंजय मंत्र का जप करने से जीवन में कष्ट , रोग इत्यादि परेशानी दूर होती है तथा जो भी क्रूर ग्रह जन्म कुंडली में परेशान करते हैं इन से होने वाली परेशानी भी दूर होती है । महामृत्युञ्जय मन्त्र - ॥ ॐ ह्रौं जुं सः त्रयम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टि वर्धनं उर्वारुकमिव बन्धनान मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् सः जुं ह्रौं ॐ ॥ साधना प्रारंभ करने से पहले पूजा स्थान में पूजन करने से संबंधित सामग्री अक्षत, अष्टगंध , जल , दूध , दही , शक्कर , घी , शहद , पुष्प , बिल्वपत्र , प्रसाद इत्यादि रख ले । सफेद धारण करें कंबल को मोड़ के लगभग दो-तीन इंच का बैठने के लिए आसन बनाएं एवं ।। पवित्रीकरण बायें हाथ में जल लेकर उसे दाये हाथ से ढक कर मंत्र पढे एवं मंत्र पढ़ने के बाद इस जल को दाहिने हाथ से अपने सम्पूर्ण शरीर पर छिड़क ले ॥ ॐ अपवित्रः पवित्रो वा सर्वावस्थां गतोऽपि वा यः स्मरेत् पुण्डरीकाक्षं स बाह्याभ्यंतरः शुचिः ॥ आचमन मन , वाणि एवं हृदय की शुद्धि के लिए आचमनी द्वारा जल लेकर तीन बार मंत्र के उच्चारण के साथ पिए ( ॐ केशवया नमः , ॐ नारायणाय नमः , ॐ माधवाय नमः ) ॐ हृषीकेशाय नमः ( इस मंत्र को बोलकर हाथ धो ले ) शिखा बंधन शिखा पर दाहिना हाथ रखकर दैवी शक्ति की स्थापना करें ॥ चिद्रुपिणि महामाये दिव्य तेजः समन्विते , तिष्ठ देवि शिखामध्ये तेजो वृद्धिं कुरुष्व मे ॥ न्यास संपूर्ण शरीर को साधना के लिये पुष्ट एवं सबल बनाने के लिए प्रत्येक मन्त्र के साथ संबन्धित अंग को दाहिने हाथ से स्पर्श करें ॐ वाङ्ग में आस्येस्तु - मुख को ॐ नसोर्मे प्राणोऽस्तु - नासिका के छिद्रों को ॐ चक्षुर्में तेजोस्तु - दोनो नेत्रों को ॐ कर्णयोमें श्रोत्रंमस्तु – दोनो कानो को ॐ बह्वोर्मे बलमस्तु - दोनो बाजुओं को ॐ ऊवोर्में ओजोस्तु - दोनों जंघाओ को ॐ अरिष्टानि मे अङ्गानि सन्तु –- सम्पूर्ण शरीर को आसन पूजन अब अपने आसन के नीचे चन्दन से त्रिकोण बनाकर उसपर अक्षत , पुष्प समर्पित करें एवं मन्त्र बोलते हुए हाथ जोडकर प्रार्थना करें ॥ ॐ पृथ्वि त्वया धृतालोका देवि त्वं विष्णुना धृता , त्वं च धारय मां देवि पवित्रं कुरु चासनम् ॥ दिग् बन्धन बायें हाथ में जल या चावल लेकर दाहिने हाथ से चारों दिशाओ में छिड़कें ॥ ॐ अपसर्पन्तु ये भूता ये भूताःभूमि संस्थिताः , ये भूता विघ्नकर्तारस्ते नश्यन्तु शिवाज्ञया , अपक्रामन्तु भूतानि पिशाचाः सर्वतो दिशम् , सर्वे षामविरोधेन पूजाकर्म समारम्भे ॥ गणेश स्मरण सुमुखश्चैकदन्तश्च कपिलो गजकर्णकः , लम्बोदरश्च विकटो विघ्ननाशो विनायकः धुम्रकेतुर्गणाध्यक्षो भालचन्द्रो गजाननः , द्वादशैतानि नामानि यः पठेच्छृणुयादपि विद्यारम्भे विवाहे च प्रवेशे निर्गमे तथा , संग्रामे संकटे चैव विघ्नस्तस्य न जायते श्री गुरु ध्यान अस्थि चर्म युक्त देह को हिं गुरु नहीं कहते अपितु इस देह में जो ज्ञान समाहित है उसे गुरु कहते हैं , इस ज्ञान की प्राप्ति के लिये उन्होने जो तप और त्याग किया है , हम उन्हें नमन करते हैं , गुरु हीं हमें दैहिक , भौतिक एवं आध्यात्मिक उन्नति प्राप्त करने का ज्ञान देतें हैं इसलिये शास्त्रों में गुरु का महत्व सभी देवताओं से ऊँचा माना गया है , ईश्वर से भी पहले गुरु का ध्यान एवं पूजन करना शास्त्र सम्मत कही गई है। अखण्ड मण्डलाकारं व्याप्तं येन चराचरम् तत्पदं दर्शितं येन तस्मै श्री गुरुवे नमः अज्ञान तिमिरान्धस्य ज्ञानाञ्जन शलाकया चक्षुरुन्मीलितं येन तस्मै श्री गुरुवे नमः गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः गुरुः साक्षात् परं ब्रह्म तस्मै श्री गुरुवे नमः ध्यान मूलं गुरोर्मूर्तिः पूजा मूलं गुरोः पदं मन्त्र मूलं गुरोर्वाक्यं मोक्ष मूलं गुरोः कृपा ॥ श्री गुरु चरण कमलेभ्यो नमः प्रार्थनां समर्पयामि , श्री गुरुं मम हृदये आवाहयामि मम हृदये कमलमध्ये स्थापयामि नमः ॥ भगवान शिव जी का ध्यान - ध्यायेन्नित्यं महेशं रजतगिरिनिभं चारुचन्द्रावतंसं रत्नाकल्पोज्जवलाङ्गं परशुमृगवराभीतिहस्तं प्रसन्नम् पद्मासीनं समन्तात् स्तुतममरगणैर्व्याघ्रकृत्तिं वसानं विश्वाद्यं विश्ववन्द्यं निखिलभयहरं पञ्चवक्त्रं त्रिनेत्रम् भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः ध्यानार्थे बिल्वपत्रं समर्पयामि आवाहन – ॥ आगच्छन्तु सुरश्रेष्ठा भवन्त्वत्र स्थिराः समे यावत् पूजां करिष्यामि तावत् तिष्ठन्तु सन्निधौ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , आवाहनार्थे पुष्पं समर्पयामि । आसन – ॥ अनेकरत्नसंयुक्तं नानामणिगणान्वितम् कार्तस्वरमयं दिव्यमासनं प्रतिगृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , आसनार्थे बिवपत्राणि समर्पयामि । स्नान ॥ मन्दाकिन्यास्तु यद्वारि सर्वपापहरं शुभम् तदिदं कल्पितं देव स्नानार्थं प्रतिगृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः पाद्यं , अर्ध्यं , आचमनीयं च स्नानं समर्पयामि , पुनः आचमनीयं जलं समर्पयामि । (पांच आचमनि जल प्लेटे मे चदायें ) दुग्धस्नान ॥ काम्धेनुसमुभ्दूतं सर्वेषां जीवनं परम् पावनं यज्ञहेतुश्च पयः स्नानाय गृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , पयः स्नानं समर्पयामि , पयः स्नानान्ते शुद्धोदकस्नानं समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते आचमनीयं जलं समर्पयामि । दधिस्नान ॥ पयसस्तु समुभ्दूतं मधुराम्लं शशिप्रभम् दध्यानीतं मया देव स्नानार्थं पतिगृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , दधि स्नानं समर्पयामि , दधि स्नानान्ते शुद्धोदकस्नानं समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते आचमनीयं जलं समर्पयामि । घृतस्नान ॥ नवनीतसमुत्पन्नं सर्वसंतोषकारकम् घृतं तुभ्यं प्रदास्यामि स्नानार्थं पतिगृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , घृतस्नानं समर्पयामि , घृतस्नानान्ते शुद्धोदकस्नानं समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते आचमनीयं जलं समर्पयामि । मधुस्नान ॥ पुष्परेणुसमुत्पन्नं सुस्वादु मधुरं मधु तेजःपुष्टिकरं दिव्यं स्नानार्थं पतिगृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , मधुस्नानं समर्पयामि , मधुस्नानान्ते शुद्धोदकस्नानं समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते आचमनीयं जलं समर्पयामि । शर्करास्नान ॥ इक्षुसारसमुभ्दूतां शर्करां पुष्टिदां शुभाम् मलापहारिकां दिव्यां स्नानार्थं पतिगृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , शर्करास्नानं समर्पयामि , शर्करास्नानान्ते शुद्धोदकस्नानं समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते आचमनीयं जलं समर्पयामि । पञ्चामृतस्नान ॥ पयो दधि घृतं चैव मधु च शर्करान्वितम् पञ्चामृतं मयाऽऽनीतं स्नानार्थं पतिगृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , पञ्चामृतस्नानं समर्पयामि , पञ्चामृतस्नानान्ते शुद्धोदकस्नानं समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते आचमनीयं जलं समर्पयामि । गन्धोदकस्नान ॥ मलयाचलसम्भूतचन्दनेन विमिश्रितम् इदं गन्धोकस्नानं कुङ्कुमाक्तं नु गृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , गन्धोदकस्नानं समर्पयामि , गन्धोदकस्नानान्ते शुद्धोदकस्नानं समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते आचमनीयं जलं समर्पयामि । शुद्धोदकस्नान ॥ शुद्धं यत् सलिलं दिव्यं गङ्गाजलसमं स्मृतम् समर्पितं मया भक्त्या शुद्धस्नानाय गृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , शुद्धोदकस्नानं समर्पयामि । अभिषेक शुद्ध जल एवं दुध से अभिषेक करे यदि आप पढ़ सकते हैं तो ( रुद्राष्टाध्यायी का पाठ करें ( पांचवे अध्याय के 16 मंत्र ) या ॥ ॐ नमः शिवाय ॥ मंत्र बोलकर दूध एवं जल मिलकर उससे अभिषेक करें । ॐ उमामहेश्वराभ्यां नम: अभिषेकं समर्पयामि । शांति पाठ – ॐ द्यौ: शान्तिरन्तरिक्ष (गूं) शांति: पृथिवी शान्तिराप: शांतिरोषधय: शांति: । वनस्पतय: शांतिर्विश्वे देवा: शांतिर्ब्रह्मा शांति: सर्व (गूं) शांति: शांतिरेव शांति: सा मा शांतिरेधि । वस्त्र ॥ सर्वभुषादिके सौम्ये लोके लज्जानिवारणे , मयोपपादिते तुभ्यं गृह्यतां वसिसे शुभे ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , वस्त्रोपवस्त्रं समर्पयामि , आचमनीयं जलं समर्पयामि । यज्ञोपवीत ॐ यज्ञोपवीतं परमं पवित्रं प्रजापतेर्यत्सहजं पुरस्तात् । आयुष्यमग्रयं प्रतिमुञ्च शुभ्रं यज्ञोपवीतं बलमस्तु तेजः ॥ यज्ञोपवीतमसि यज्ञस्य त्वा यज्ञोपवितेनोपनह्यामि । नवभिस्तन्तुभिर्युक्तं त्रिगुणं देवतामयम् । उपवीतं मया दत्तं गृहाण परमेश्वर ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , यज्ञोपवीतं समर्पयामि , यज्ञोपवीतान्ते आचमनीयं जलं समर्पयामि । चन्दन ॥ ॐ श्रीखण्डं चन्दनं दिव्यं गन्धाढयं सुमनोहरं , विलेपनं सुरश्रेष्ठ चन्दनं प्रतिगृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , चन्दनं समर्पयामि । अक्षत ॥ अक्षताश्च सुरश्रेष्ठ कुङ्कुमाक्ताः सुशोभिताः , मया निवेदिता भक्त्या गृहाण परमेश्वर ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , अक्षतान् समर्पयामि । पुष्प माल्यादीनि सुगन्धीनि मालत्यादीनि भक्तितः , मयाऽऽ ह्रतानि पुष्पाणि पूजार्थं प्रतिगृह्यतां ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , पुष्पं समर्पयामि । बिल्वपत्र ॥ त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रिधायुतम् त्रिजन्मपापसंहारं बिल्वपत्रं शिवार्पणम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , बिल्वपत्रं समर्पयामि दुर्वा ॥ दूर्वाङ्कुरान सुहरितानमृतान् मङ्गलप्रदान् आनीतांस्तव पूजार्थं गृहाण परमेश्वर ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , दूर्वाङ्कुरान् समर्पयामि धूप ॥ वनस्पति रसोद् भूतो गन्धाढयो सुमनोहरः , आघ्रेयः सर्वदेवानां धूपोऽयं प्रतिगृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , धूपं आघ्रापयामि । दीप ॥ साज्यं च वर्तिसंयुक्तं वह्निना योजितं मया , दीपं गृहाण देवेश त्रैलोक्यतिमिरापहम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , दीपं दर्शयामि । नैवैद्य ॥ शर्कराखण्डखाद्यानि दधिक्षीरघृतानि च , आहारं भक्ष्यभोज्यं च नैवैद्यं प्रतिगृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , नैवैद्यं निवेदयामि नानाऋतुफलानि च समर्पयामि , आचमनीयं जलं समर्पयामि । ताम्बूल ॥ पूगीफलं महद्दिव्यम् नागवल्लीदलैर्युतम् एलालवङ्ग संयुक्तं ताम्बूलं प्रतिगृह्यताम् ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , ताम्बूलं समर्पयामि । दक्षिण ॥ हिरण्यगर्भगर्भस्थं हेमबीजं विभावसोः अनन्तपुण्यफलदमतः शान्तिं प्रयच्छ मे ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , कृतायाः पूजायाः सद् गुण्यार्थे द्रव्यदक्षिणां समर्पयामि । आरती ॥ कदलीगर्भसम्भूतं कर्पूरं तु प्रदीपितम् , आरार्तिकमहं कुर्वे पश्य मां वरदो भव ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , आरार्तिकं समर्पयामि । मन्त्रपुष्पाञ्जलि ॥ नानासुगन्धिपुष्पाणि यथाकालोद् भवानि च पुष्पाञ्जलिर्मया दत्तो गृहान परमेश्वर ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , मन्त्रपुष्पाञ्जलिम् समर्पयामि । प्रदक्षिणा ॥ यानि कानि च पापानि जन्मान्तरकृतानि च , तानि सर्वाणि नश्यन्तु प्रदक्षिणपदे पदे ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , प्रदक्षिणां समर्पयामि । नमस्कार ॥ नमः सर्वहितार्थाय जगदाधारहेतवे साष्टाङ्गोऽयं प्रणामस्ते प्रयत्नेन मया कृतः ॥ भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , नमस्कारान समर्पयामि । अब रुद्राक्ष की माला से महामृत्युंजय मंत्र का जप अपनी सुविधानुसार करें । जप समर्पण ( दाहिने हाथ में जल लेकर मंत्र बोलें एवं जमीन पर छोड़ दें ) ॥ ॐ गुह्यातिगुह्य गोप्ता त्वं गृहाणास्मत्कृतं जपं , सिद्धिर्भवतु मं देव त्वत् प्रसादान्महेश्वर ॥ क्षमा याचना मन्त्रहीनं क्रियाहीनं भक्तिहीनं जनार्दन ,यत्युजितं मया देव परिपूर्ण तदस्तु मे आवाहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम् , पूजां चैव न जानामि क्षमस्व परमेश्वर अन्यथा शरणं नास्ति त्वमेव शरणं मम , तस्मात् कारुण्यभावेन रक्ष मां परमेश्वर ( इन मन्त्रों का श्रद्धापूर्वक उच्चारण कर अपनी विवस्ता एवं त्रुटियों के लिये क्षमा – याचना करें ) ना तो मैं आवाहन करना जानता हूँ , ना विसर्जन करना जानता हूँ और ना पूजा करना हीं जानता हूँ । हे परमात्मा क्षमा करें । हे परमात्मा मैंने जो मंत्रहीन , क्रियाहीन और भक्तिहीन पूजन किया है , वह सब आपकी दया से पूर्ण हो । ॐ तत्सद् ब्रह्मार्पणमस्तु 🚩👏🌺🌷🌻🙏🌻🌷🌺

*🚩🙏 महाशिवरात्री विशेष 11 मार्च 2021 गुरुवार*
पुजा विधी

महाशिवरात्रि के दिन भगवान शिव की विधि विधान से साधना , पुजा एवं महामृत्युंजय मंत्र का जप करके हम अपने जीवन के कष्ट दुख एवं परेशानी को दूर कर सकते हैं ।

नजदीक के शिव मंदिर या घर में करें पुजा

जो व्यक्ति विधि विधान से पूजा नहीं कर सकते हैं वे अपने घर में छोटा मिट्टी , पारद या स्फटिक शिवलिंग  स्थापित करके सामान्य पूजन करके रुद्राक्ष की माला से महामृत्युंजय मंत्र का ज्यादा से ज्यादा जप कर सकते हैं ।

 महामृत्युंजय मंत्र का जप प्रत्येक व्यक्ति को जीवन में हमेशा करना चाहिए। महामृत्युंजय मंत्र का जप करने से जीवन में कष्ट , रोग इत्यादि परेशानी दूर होती है तथा जो भी क्रूर ग्रह जन्म कुंडली में परेशान करते हैं इन से होने वाली परेशानी भी दूर होती है ।

   महामृत्युञ्जय मन्त्र -  ॥   ॐ ह्रौं जुं सः त्रयम्बकं  यजामहे सुगन्धिं पुष्टि वर्धनं उर्वारुकमिव बन्धनान मृत्योर्मुक्षीय मामृतात् सः जुं ह्रौं ॐ ॥ 

साधना प्रारंभ करने से पहले पूजा स्थान में पूजन करने से संबंधित सामग्री अक्षत, अष्टगंध ,  जल , दूध , दही , शक्कर , घी , शहद , पुष्प , बिल्वपत्र , प्रसाद इत्यादि रख ले । सफेद धारण करें कंबल को मोड़ के लगभग दो-तीन इंच का बैठने के लिए आसन बनाएं एवं ।।

  पवित्रीकरण  

बायें हाथ में जल लेकर उसे दाये हाथ से ढक कर मंत्र पढे एवं मंत्र पढ़ने के बाद इस जल को दाहिने हाथ से अपने सम्पूर्ण शरीर पर छिड़क ले 

॥ ॐ अपवित्रः पवित्रो वा सर्वावस्थां गतोऽपि वा 
यः स्मरेत् पुण्डरीकाक्षं स बाह्याभ्यंतरः शुचिः ॥ 

  आचमन  
 मन , वाणि एवं हृदय की शुद्धि के लिए आचमनी द्वारा जल लेकर तीन बार  मंत्र के उच्चारण के साथ पिए  
( ॐ केशवया नमः  , ॐ नारायणाय नमः , ॐ माधवाय नमः  )
 ॐ हृषीकेशाय नमः  ( इस मंत्र को बोलकर हाथ धो ले )

  शिखा बंधन  

शिखा पर दाहिना हाथ रखकर दैवी शक्ति की स्थापना करें 
॥ चिद्रुपिणि  महामाये दिव्य तेजः समन्विते , तिष्ठ देवि शिखामध्ये तेजो वृद्धिं  कुरुष्व मे ॥

  न्यास  

संपूर्ण शरीर को साधना के लिये पुष्ट एवं सबल बनाने के लिए प्रत्येक मन्त्र के साथ संबन्धित अंग को दाहिने हाथ से स्पर्श करें

  ॐ वाङ्ग में आस्येस्तु   - मुख को
  ॐ नसोर्मे प्राणोऽस्तु  - नासिका के छिद्रों को
  ॐ चक्षुर्में तेजोस्तु  - दोनो नेत्रों को
 ॐ कर्णयोमें श्रोत्रंमस्तु – दोनो कानो को
  ॐ बह्वोर्मे  बलमस्तु  - दोनो बाजुओं  को
  ॐ ऊवोर्में ओजोस्तु  - दोनों जंघाओ  को
  ॐ अरिष्टानि  मे अङ्गानि सन्तु –- सम्पूर्ण शरीर को

  आसन पूजन   

अब अपने आसन के नीचे चन्दन से त्रिकोण बनाकर उसपर अक्षत , पुष्प समर्पित करें एवं मन्त्र बोलते हुए हाथ जोडकर प्रार्थना करें 

॥ ॐ पृथ्वि त्वया धृतालोका देवि त्वं विष्णुना धृता  , त्वं च धारय मां देवि पवित्रं कुरु चासनम् ॥ 

 दिग् बन्धन   

बायें हाथ में जल या चावल लेकर दाहिने हाथ से चारों दिशाओ में छिड़कें 

 ॥ ॐ अपसर्पन्तु ये भूता ये भूताःभूमि संस्थिताः  , ये भूता विघ्नकर्तारस्ते नश्यन्तु शिवाज्ञया , अपक्रामन्तु भूतानि पिशाचाः सर्वतो दिशम् , सर्वे षामविरोधेन  पूजाकर्म समारम्भे ॥

गणेश स्मरण   

सुमुखश्चैकदन्तश्च कपिलो गजकर्णकः , लम्बोदरश्च विकटो विघ्ननाशो विनायकः 
 धुम्रकेतुर्गणाध्यक्षो भालचन्द्रो गजाननः , द्वादशैतानि नामानि  यः पठेच्छृणुयादपि 
विद्यारम्भे विवाहे च प्रवेशे निर्गमे तथा , संग्रामे संकटे चैव विघ्नस्तस्य न जायते

  श्री गुरु ध्यान   

अस्थि चर्म युक्त देह को हिं गुरु नहीं कहते अपितु इस देह में जो ज्ञान समाहित है उसे गुरु कहते हैं , इस ज्ञान की प्राप्ति के लिये उन्होने जो तप और त्याग किया है , हम उन्हें नमन करते हैं , गुरु हीं हमें दैहिक , भौतिक एवं आध्यात्मिक उन्नति प्राप्त करने का ज्ञान देतें हैं इसलिये शास्त्रों में गुरु का महत्व सभी देवताओं से ऊँचा माना गया है , ईश्वर से भी पहले गुरु का ध्यान एवं पूजन करना शास्त्र सम्मत कही गई है।

   अखण्ड मण्डलाकारं व्याप्तं येन चराचरम्     तत्पदं दर्शितं येन तस्मै श्री गुरुवे नमः

   अज्ञान तिमिरान्धस्य ज्ञानाञ्जन शलाकया    चक्षुरुन्मीलितं येन तस्मै श्री गुरुवे नमः

   गुरुर्ब्रह्मा गुरुर्विष्णुः गुरुर्देवो महेश्वरः    गुरुः साक्षात् परं ब्रह्म तस्मै श्री गुरुवे नमः

   ध्यान मूलं गुरोर्मूर्तिः पूजा मूलं गुरोः पदं    मन्त्र मूलं गुरोर्वाक्यं  मोक्ष मूलं गुरोः कृपा

॥ श्री गुरु चरण कमलेभ्यो नमः प्रार्थनां समर्पयामि , श्री गुरुं मम हृदये आवाहयामि मम हृदये कमलमध्ये स्थापयामि नमः ॥ 

भगवान शिव जी का ध्यान -
            ध्यायेन्नित्यं   महेशं  रजतगिरिनिभं   चारुचन्द्रावतंसं
           रत्नाकल्पोज्जवलाङ्गं   परशुमृगवराभीतिहस्तं  प्रसन्नम्
           पद्मासीनं  समन्तात्  स्तुतममरगणैर्व्याघ्रकृत्तिं वसानं 
            विश्वाद्यं  विश्ववन्द्यं  निखिलभयहरं पञ्चवक्त्रं  त्रिनेत्रम् 
          भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः ध्यानार्थे  बिल्वपत्रं  समर्पयामि 

आवाहन –
॥ आगच्छन्तु सुरश्रेष्ठा भवन्त्वत्र स्थिराः समे  यावत् पूजां करिष्यामि तावत् तिष्ठन्तु सन्निधौ
    भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , आवाहनार्थे  पुष्पं समर्पयामि । 

आसन –

॥ अनेकरत्नसंयुक्तं नानामणिगणान्वितम् कार्तस्वरमयं दिव्यमासनं  प्रतिगृह्यताम्  ॥ 
  भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , आसनार्थे  बिवपत्राणि समर्पयामि । 

स्नान

॥ मन्दाकिन्यास्तु  यद्वारि  सर्वपापहरं शुभम्   तदिदं कल्पितं देव  स्नानार्थं  प्रतिगृह्यताम् ॥ 
 भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  पाद्यं , अर्ध्यं , आचमनीयं च  स्नानं समर्पयामि , पुनः आचमनीयं जलं समर्पयामि  ।  (पांच आचमनि जल प्लेटे मे चदायें )

दुग्धस्नान 

॥ काम्धेनुसमुभ्दूतं सर्वेषां जीवनं परम्  पावनं यज्ञहेतुश्च पयः स्नानाय गृह्यताम् ॥  
 भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , पयः स्नानं समर्पयामि , पयः स्नानान्ते  शुद्धोदकस्नानं  समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते  आचमनीयं जलं समर्पयामि  । 

दधिस्नान 

॥ पयसस्तु  समुभ्दूतं मधुराम्लं शशिप्रभम्  दध्यानीतं मया देव स्नानार्थं पतिगृह्यताम् ॥ 
 भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , दधि स्नानं समर्पयामि , दधि स्नानान्ते  शुद्धोदकस्नानं  समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते  आचमनीयं जलं समर्पयामि । 

घृतस्नान 

॥ नवनीतसमुत्पन्नं  सर्वसंतोषकारकम्  घृतं तुभ्यं प्रदास्यामि स्नानार्थं पतिगृह्यताम् ॥ 
 भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , घृतस्नानं समर्पयामि , घृतस्नानान्ते  शुद्धोदकस्नानं  समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते  आचमनीयं जलं समर्पयामि  । 

मधुस्नान 

॥ पुष्परेणुसमुत्पन्नं  सुस्वादु मधुरं मधु  तेजःपुष्टिकरं दिव्यं स्नानार्थं पतिगृह्यताम् ॥ 
 भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , मधुस्नानं समर्पयामि , मधुस्नानान्ते  शुद्धोदकस्नानं  समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते  आचमनीयं जलं समर्पयामि । 

शर्करास्नान 

॥ इक्षुसारसमुभ्दूतां  शर्करां पुष्टिदां शुभाम्  मलापहारिकां दिव्यां   स्नानार्थं पतिगृह्यताम् ॥ 
 भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , शर्करास्नानं समर्पयामि , शर्करास्नानान्ते  शुद्धोदकस्नानं  समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते  आचमनीयं जलं समर्पयामि  । 

पञ्चामृतस्नान 

॥ पयो दधि घृतं चैव मधु च शर्करान्वितम्   पञ्चामृतं मयाऽऽनीतं  स्नानार्थं पतिगृह्यताम् ॥ 
 भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , पञ्चामृतस्नानं समर्पयामि , पञ्चामृतस्नानान्ते  शुद्धोदकस्नानं  समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते  आचमनीयं जलं समर्पयामि । 

गन्धोदकस्नान 

॥ मलयाचलसम्भूतचन्दनेन  विमिश्रितम्  इदं गन्धोकस्नानं कुङ्कुमाक्तं नु  गृह्यताम् ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , गन्धोदकस्नानं समर्पयामि , गन्धोदकस्नानान्ते  शुद्धोदकस्नानं  समर्पयामि , शुद्धोदकस्नानान्ते  आचमनीयं जलं समर्पयामि । 

शुद्धोदकस्नान

॥ शुद्धं यत् सलिलं दिव्यं गङ्गाजलसमं स्मृतम् समर्पितं मया भक्त्या शुद्धस्नानाय गृह्यताम् ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः , शुद्धोदकस्नानं समर्पयामि । 

अभिषेक 

शुद्ध जल एवं दुध से अभिषेक करे
यदि आप पढ़ सकते हैं तो ( रुद्राष्टाध्यायी का पाठ करें ( पांचवे अध्याय के 16 मंत्र )

 या  ॥ ॐ नमः शिवाय ॥  मंत्र बोलकर दूध एवं जल मिलकर उससे अभिषेक करें । 

ॐ उमामहेश्वराभ्यां नम: अभिषेकं समर्पयामि ।
शांति पाठ –
ॐ द्यौ: शान्तिरन्तरिक्ष (गूं) शांति: पृथिवी शान्तिराप: शांतिरोषधय: शांति: । वनस्पतय: शांतिर्विश्वे देवा: शांतिर्ब्रह्मा शांति: सर्व (गूं) शांति: शांतिरेव शांति: सा मा शांतिरेधि ।

वस्त्र

॥ सर्वभुषादिके सौम्ये  लोके  लज्जानिवारणे , मयोपपादिते तुभ्यं गृह्यतां वसिसे शुभे ॥  
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , वस्त्रोपवस्त्रं समर्पयामि , आचमनीयं जलं समर्पयामि  ।  

यज्ञोपवीत  

 ॐ यज्ञोपवीतं परमं पवित्रं प्रजापतेर्यत्सहजं  पुरस्तात् । 
 आयुष्यमग्रयं प्रतिमुञ्च शुभ्रं यज्ञोपवीतं बलमस्तु तेजः  ॥ 
यज्ञोपवीतमसि यज्ञस्य     त्वा यज्ञोपवितेनोपनह्यामि  । 
नवभिस्तन्तुभिर्युक्तं           त्रिगुणं            देवतामयम्  । 
उपवीतं           मया        दत्तं       गृहाण      परमेश्वर  ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , यज्ञोपवीतं समर्पयामि  , यज्ञोपवीतान्ते आचमनीयं जलं समर्पयामि । 

 चन्दन   

॥ ॐ  श्रीखण्डं  चन्दनं  दिव्यं  गन्धाढयं सुमनोहरं , विलेपनं सुरश्रेष्ठ चन्दनं प्रतिगृह्यताम् ॥
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , चन्दनं समर्पयामि । 

अक्षत

॥ अक्षताश्च सुरश्रेष्ठ कुङ्कुमाक्ताः  सुशोभिताः  ,  मया निवेदिता भक्त्या गृहाण परमेश्वर   ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , अक्षतान् समर्पयामि ।
            
पुष्प   

 माल्यादीनि सुगन्धीनि मालत्यादीनि भक्तितः , मयाऽऽ ह्रतानि पुष्पाणि पूजार्थं प्रतिगृह्यतां ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , पुष्पं  समर्पयामि ।
 
बिल्वपत्र 

॥ त्रिदलं त्रिगुणाकारं त्रिनेत्रं च त्रिधायुतम्   त्रिजन्मपापसंहारं  बिल्वपत्रं शिवार्पणम्  ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , बिल्वपत्रं   समर्पयामि

दुर्वा 

 ॥ दूर्वाङ्कुरान सुहरितानमृतान् मङ्गलप्रदान्   आनीतांस्तव पूजार्थं  गृहाण  परमेश्वर  ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  ,  दूर्वाङ्कुरान्   समर्पयामि

धूप

॥ वनस्पति रसोद् भूतो   गन्धाढयो  सुमनोहरः , आघ्रेयः सर्वदेवानां धूपोऽयं प्रतिगृह्यताम् ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  ,  धूपं आघ्रापयामि । 

दीप

॥ साज्यं च वर्तिसंयुक्तं वह्निना  योजितं मया , दीपं गृहाण   देवेश  त्रैलोक्यतिमिरापहम्  ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , दीपं दर्शयामि  । 

  नैवैद्य   

॥ शर्कराखण्डखाद्यानि दधिक्षीरघृतानि च , आहारं भक्ष्यभोज्यं च नैवैद्यं प्रतिगृह्यताम् ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , नैवैद्यं निवेदयामि नानाऋतुफलानि च समर्पयामि , आचमनीयं जलं समर्पयामि । 

ताम्बूल

॥ पूगीफलं महद्दिव्यम्  नागवल्लीदलैर्युतम्  एलालवङ्ग संयुक्तं ताम्बूलं   प्रतिगृह्यताम् ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , ताम्बूलं समर्पयामि । 

दक्षिण 

॥ हिरण्यगर्भगर्भस्थं  हेमबीजं विभावसोः   अनन्तपुण्यफलदमतः  शान्तिं  प्रयच्छ मे ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , कृतायाः  पूजायाः  सद् गुण्यार्थे  द्रव्यदक्षिणां समर्पयामि । 

  आरती   

॥ कदलीगर्भसम्भूतं कर्पूरं तु प्रदीपितम् , आरार्तिकमहं  कुर्वे पश्य मां वरदो  भव ॥    
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , आरार्तिकं समर्पयामि । 

  मन्त्रपुष्पाञ्जलि   

॥ नानासुगन्धिपुष्पाणि  यथाकालोद् भवानि च  पुष्पाञ्जलिर्मया दत्तो गृहान परमेश्वर ॥  
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , मन्त्रपुष्पाञ्जलिम्  समर्पयामि ।  

प्रदक्षिणा

॥ यानि कानि च पापानि जन्मान्तरकृतानि  च , तानि सर्वाणि नश्यन्तु प्रदक्षिणपदे पदे ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , प्रदक्षिणां समर्पयामि । 
नमस्कार 

॥ नमः सर्वहितार्थाय जगदाधारहेतवे  साष्टाङ्गोऽयं  प्रणामस्ते  प्रयत्नेन  मया कृतः  ॥ 
भगवते श्री साम्बसदाशिवाय नमः  , नमस्कारान समर्पयामि । 

अब रुद्राक्ष की माला से महामृत्युंजय मंत्र का जप अपनी सुविधानुसार करें । 

जप समर्पण   

( दाहिने हाथ में जल लेकर मंत्र बोलें एवं जमीन पर छोड़ दें ) 

॥ ॐ गुह्यातिगुह्य  गोप्ता त्वं  गृहाणास्मत्कृतं  जपं ,
 सिद्धिर्भवतु  मं देव त्वत् प्रसादान्महेश्वर ॥ 

क्षमा याचना 

मन्त्रहीनं  क्रियाहीनं  भक्तिहीनं जनार्दन ,यत्युजितं मया देव  परिपूर्ण तदस्तु मे
आवाहनं न जानामि न जानामि विसर्जनम् , पूजां चैव न जानामि क्षमस्व परमेश्वर
अन्यथा शरणं नास्ति त्वमेव शरणं मम , तस्मात्  कारुण्यभावेन  रक्ष मां परमेश्वर

( इन मन्त्रों का श्रद्धापूर्वक उच्चारण कर अपनी विवस्ता  एवं त्रुटियों   के लिये क्षमा – याचना करें )

ना तो मैं आवाहन करना जानता हूँ , ना विसर्जन करना जानता हूँ और ना पूजा करना हीं जानता हूँ । हे परमात्मा क्षमा करें । हे परमात्मा मैंने जो मंत्रहीन , क्रियाहीन और भक्तिहीन पूजन किया है , वह सब आपकी दया से पूर्ण हो । 
              ॐ  तत्सद्  ब्रह्मार्पणमस्तु
🚩👏🌺🌷🌻🙏🌻🌷🌺

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 15 शेयर
Anita Sharma Apr 21, 2021

*रामायण को लाखों वर्ष हो गये लेकिन जनता के हृदयपटल से विलुप्त नहीं हुई, क्योंकि ‘रामायण’ में वर्णित आदर्श चरित्र विश्वसाहित्य में मिलना दुर्लभ है।* *भगवान श्री राम को 14 वर्ष का वनवास हुआ तो भगवान श्री राम की धर्मपत्नी माँ सीता ने भी सहर्ष वनवास स्वीकार कर लिया। परन्तु बचपन से ही बड़े भाई की सेवा मे रहने वाले लक्ष्मणजी कैसे रामजी से दूर हो जाते? माता सुमित्रा से तो उन्होंने आज्ञा ले ली थी, वन जाने की... परन्तु जब पत्नी उर्मिला के कक्ष की ओर बढ़ रहे थे तो सोच रहे थे कि माँ ने तो आज्ञा दे दी, परन्तु अपनी धर्म पत्नी उर्मिला को कैसे समझाऊंगा? क्या कहूंगा?* *यही सोच विचार करके लक्ष्मणजी जैसे ही अपने कक्ष में पहुंचे तो देखा कि उर्मिलाजी आरती का थाल लेकर खड़ी थीं और बोलीं- "आप मेरी चिंता छोड़िये, प्रभु श्री राम की सेवा में वन को जाइए। मैं आपको नहीं रोकूँगी। मेरे कारण आपकी सेवा में कोई बाधा न आये, इसलिये साथ जाने की जिद्द भी नहीं करूंगी।"* *लक्ष्मणजी को कहने में संकोच हो रहा था। परन्तु उनके कुछ कहने से पहले ही उर्मिलाजी ने उन्हें संकोच से बाहर निकाल दिया। वास्तव में यही पत्नी का धर्म है। पति संकोच में पड़े, उससे पहले ही धर्मपत्नी उसके मन की बात जानकर उसे संकोच से बाहर कर दे!!* *लक्ष्मणजी चले गये, परन्तु 14 वर्ष तक उर्मिलाजी ने एक तपस्विनी की भांति कठोर तप किया। वन में भैया-भाभी की सेवा में लक्ष्मणजी कभी सोये नहीं, परन्तु उर्मिलाजी ने भी अपने महलों के द्वार कभी बंद नहीं किये और सारी रात जाग-जागकर उस दीपक की लौ को बुझने नहीं दिया।* *मेघनाथ से युद्ध करते हुए जब लक्ष्मणजी को शक्ति लग जाती है और श्री हनुमानजी उनके लिये संजीवनी का पहाड़ लेके लौट रहे होते हैं, तो बीच में अयोध्या में भरतजी उन्हें राक्षस समझकर बाण मारते हैं और हनुमानजी गिर जाते हैं। तब हनुमानजी सारा वृत्तांत सुनाते हैं कि माता सीताजी को रावण ले गया, लक्ष्मण जी मूर्छित हैं।* *यह सुनते ही कौशल्याजी कहती हैं कि श्री राम को कहना कि लक्ष्मण के बिना अयोध्या में पैर भी मत रखना। राम वन में ही रहे। माता सुमित्रा कहती हैं कि राम से कहना कि कोई बात नहीं। अभी शत्रुघ्न है। मैं उसे भेज दूंगी। मेरे दोनों पुत्र राम सेवा के लिये ही तो जन्मे हैं। माताओं का प्रेम देखकर श्री हनुमानजी की आँखों से अश्रुधारा बह रही थी। परन्तु जब उन्होंने उर्मिलाजी को देखा तो सोचने लगे कि यह क्यों एकदम शांत और प्रसन्न खड़ी हैं? क्या इन्हें अपनी पति के प्राणों की कोई चिंता नहीं??* *हनुमानजी पूछते हैं- हे देवी, आपकी प्रसन्नता का कारण क्या है? आपके पति के प्राण संकट में हैं। सूर्य उदित होते ही सूर्य कुल का दीपक बुझ जायेगा। उर्मिलाजी का उत्तर सुनकर तीनों लोकों का कोई भी प्राणी उनकी वंदना किये बिना नहीं रह पाएगा।* *उर्मिला बोलीं- "मेरा दीपक संकट में नहीं है, वो बुझ ही नहीं सकता। रही सूर्योदय की बात तो आप चाहें तो कुछ दिन अयोध्या में विश्राम कर लीजिये, क्योंकि आपके वहां पहुंचे बिना सूर्य उदित हो ही नहीं सकता। आपने कहा कि प्रभु श्रीराम मेरे पति को अपनी गोद में लेकर बैठे हैं। जो योगेश्वर राम की गोदी में लेटा हो, काल उसे छू भी नहीं सकता। यह तो वो दोनों लीला कर रहे हैं। मेरे पति जब से वन गये हैं, तब से सोये नहीं हैं। उन्होंने न सोने का प्रण लिया था। इसलिए वे थोड़ी देर विश्राम कर रहे हैं। और जब भगवान् की गोद मिल गयी तो थोड़ा विश्राम ज्यादा हो गया। वे उठ जायेंगे। और शक्ति मेरे पति को लगी ही नहीं, शक्ति तो रामजी को लगी है। मेरे पतिदेव की हर श्वास में राम हैं, हर धड़कन में राम, उनके रोम-रोम में राम हैं, उनके खून की बूंद-बूंद में राम हैं, और जब उनके शरीर और आत्मा में सिर्फ राम ही हैं, तो शक्ति रामजी को ही लगी, दर्द रामजी को ही हो रहा है। इसलिये हनुमानजी आप निश्चिन्त होके जाएँ। सूर्य उदित नहीं होगा।"* *रामायण का दूसरा प्रसंग* ~~~~~~~~~~~~~~~ *भरतजी नंदिग्राम में रहते हैं, शत्रुघ्नजी उनके आदेश से राज्य संचालन करते हैं।* *एक रात की बात है, माता कौशिल्याजी को सोते में अपने महल की छत पर किसी के चलने की आहट सुनाई दी। नींद खुल गई । पूछा कौन है?* *मालूम पड़ा श्रुतिकीर्तिजी हैं। नीचे बुलाया गया।* *श्रुतिकीर्तिजी, जो सबसे छोटी हैं, आकर चरणों में प्रणाम कर खड़ी हो गईं।* *माता कौशिल्याजी ने पूछा, श्रुति ! इतनी रात को अकेली छत पर क्या कर रही हो बिटिया? क्या नींद नहीं आ रही?* *शत्रुघ्न कहाँ है?* *श्रुतिकीर्ति की आँखें भर आईं, माँ की छाती से चिपटी, गोद में सिमट गईं; बोलीं, माँ उन्हें तो देखे हुए तेरह वर्ष हो गए।* *उफ ! कौशल्याजी का हृदय काँप गया।* *तुरंत आवाज लगी, सेवक दौड़े आए। आधी रात ही पालकी तैयार हुई, आज शत्रुघ्नजी की खोज होगी, माँ चली।* *आपको मालूम है, शत्रुघ्न जी कहाँ मिले?* *अयोध्याजी के जिस दरवाजे के बाहर भरतजी नंदिग्राम में तपस्वी होकर रहते हैं, उसी दरवाजे के भीतर एक पत्थर की शिला हैं, उसी शिला पर, अपनी बाँह का तकिया बनाकर लेटे मिले।* *माँ सिराहने बैठ गईं, बालों में हाथ फिराया तो शत्रुघ्न जी ने आँखें खोलीं, माँ ! उठे, चरणों में गिरे। माँ ! आपने क्यों कष्ट किया? मुझे बुलवा लिया होता।* *माँ ने कहा, शत्रुघ्न ! यहाँ क्यों ?* *शत्रुघ्नजी की रुलाई फूट पड़ी, बोले- माँ ! भैया श्री रामजी पिताजी की आज्ञा से वन चले गए, भैया लक्ष्मणजी उनके पीछे चले गए, भैया भरतजी भी नंदिग्राम में हैं, क्या ये महल, ये रथ, ये राजसी वस्त्र, विधाता ने मेरे ही लिए बनाए हैं?* *माता कौशल्या जी निरुत्तर रह गईं।* *देखो यह रामकथा है।* ~~~~~~~~~~~~~~ *यह भोग की नहीं त्याग की कथा है, यहाँ त्याग की प्रतियोगिता चल रही है और सभी प्रथम हैं, कोई पीछे नहीं रहा!* *चारों भाइयों का प्रेम और त्याग एक-दूसरे के प्रति अद्भुत, अभिनव और अलौकिक है।* *रामायण जीवन जीने की सबसे उत्तम शिक्षा देती है।* *भगवान श्रीराम के वनवास का मुख्य कारण - मंथरा के लिए भी श्रीराम के हृदय में विशाल प्रेम है। रामायण का कोई भी पात्र तुच्छ नहीं है, हेय नहीं है। श्रीराम की दृष्टि में तो रीछ और बंदर भी तुच्छ नहीं हैं। जामवंत, हनुमान, सुग्रीव, अंगदादि सेवक भी उन्हें उतने ही प्रिय हैं जितने भरत, शत्रुघ्न, लखन और माँ सीता। माँ कौशल्या, कैकयी एवं सुमित्रा जितनी प्रिय हैं, उतनी ही शबरी श्रीराम को प्यारी लगती हैं।

+40 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 41 शेयर
Sanjeev Adhoya Apr 21, 2021

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

सोना एक दैन‍िक द‍िनचर्या है लेक‍िन क्‍या आप जानते हैं वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार अगर गलत द‍िशा में स‍िर रखकर सोएं तो यह आपके ल‍िए प्रॉब्‍लम बढ़ा सकता है। जी हां इससे ड‍िप्रेशन, अन‍िद्रा, उन्‍नत‍ि में रुकावटें, दांपत्‍य सुख में कमी, बुरे सपने और भारी धन हान‍ि की समस्‍या होती है। लेक‍िन सही द‍िशा में स‍िर रखकर सोने से लाइफ की सारी टेंशन खत्‍म हो जाती है और भगवान कुबेर के आशीर्वाद से धन वर्षा भी होती है। तो आइए जानते हैं कि किस दिशा में सिर रखकर सोना द‍िलाता है कुबरे का आशीर्वाद और बुरे सपनों से न‍िजात… तब नहीं आएंगे बुरे सपने, रखें ख्‍याल वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार उतर दिशा में सिर करके सोने से बुरे सपने आते है। इस दिशा में सिर रखकर सोने से ब्लड प्रेशर भी बढ़ता है और मन भी काबू में नहीं रहता है। वहीं जब आपका सिर उतर दिशा में और दक्षिण दिशा में होता है तो बुरे सपने ज्यादा आते है क्योंकि यह शवों को रखने की दिशा है और यमलोक की दिशा है। इसल‍िए इस द‍िशा में भूलकर भी नहीं सोना चाह‍िए। इस द‍िशा में तो कतई न सोएं, बहुत अशुभ वास्‍तुशास्‍त्र के अनुसार कभी भी पश्चिम दिशा में सिर रखके नहीं सोना चाहिए। क्योंकि अगर इस दिशा में सिर रखकर सोने से पैर पूर्व दिशा में होते हैं। ध्‍यान रखें पूर्व दिशा देवी-देवताओं की दिशा है। इस दिशा में सोना अशुभ माना जाता है। इस दिशा में सोने से बुरे सपने तो आते ही है और मन में भी बैचेनी रहती है। इस द‍िशा में सोने से म‍िलता है यह लाभ शास्‍त्रों के अनुसार जो व्यक्ति पूर्व दिशा में सोता है वह बुद्धिमान और ज्ञानी होता है। वह ज‍िस कार्यक्षेत्र में कार्यरत होता है वहां उसे सफलता म‍िलती है और वह धन प्राप्ति में भी सफल होता है। इसल‍िए इस द‍िशा में सोने को शुभ बताया गया है। जय श्री महाकाली जय श्री महाकाल जी ॐ नमो नारायण ॐ नमो भगवते वासुदेवाय जय श्री राम जय श्री कृष्ण राधे राधे नमस्कार 🙏 शुभ रात्री वंदन 👣 🌹 👏 🌿 🚩 🐚

+17 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 8 शेयर
Garima Gahlot Rajput Apr 20, 2021

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 19 शेयर
Neeraj Dongre Apr 21, 2021

शुभ दोपहर माय मंदिर। 🙏🙏🙏 ॐ राम रामाय नमः ॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमःॐ राम रामाय नमः ⚛️🔱⚛️🔱⚛️🔱⚛️🔱⚛️🔱⚛️🔱⚛️🔱⚛️

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Sanjeev Adhoya Apr 20, 2021

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ramit Singh Apr 20, 2021

👾llहर हर महादेव शम्भो काशी विश्वनाथ वन्दे ।।👾 〰️〰️〰️〰️〰️👾👾👾〰️〰️〰️〰️〰️〰️ 👉दुर्गा आपदुद्धाराष्टकस्तोत्रं --- 〰️〰️〰️〰️〰️👾👾〰️〰️〰️ नमस्ते शरण्ये शिवे सानुकम्पे नमस्ते जगद्व्यापिके विश्वरूपे . नमस्ते जगद्वन्द्यपादारविन्दे नमस्ते जगत्तारिणि त्राहि दुर्गे ।।.१।।.. नमस्ते जगच्चिन्त्यमानस्वरूपे नमस्ते महायोगिविज्ञानरूपे . नमस्ते नमस्ते सदानन्द रूपे नमस्ते जगत्तारिणि त्राहि दुर्गे २।।. अनाथस्य दीनस्य तृष्णातुरस्य भयार्तस्य भीतस्य बद्धस्य जन्तोः . त्वमेका गतिर्देवि निस्तारकर्त्री नमस्ते जगत्तारिणि त्राहि दुर्गे ।।३।।.. अरण्ये रणे दारुणे शुत्रुमध्ये जले सङ्कटे राजग्रेहे प्रवाते . त्वमेका गतिर्देवि निस्तार हेतु-- र्नमस्ते जगत्तारिणि त्राहि दुर्गे. ४ll अपारे महदुस्तरेऽत्यन्तघोरे विपत् सागरे मज्जतां देहभाजाम् . त्वमेका गतिर्देवि निस्तारनौका नमस्ते जगत्तारिणि त्राहि दुर्गे ५ll नमश्चण्डिके चण्डोर्दण्डलीला- समुत्खण्डिता खण्डलाशेषशत्रोः . त्वमेका गतिर्विघ्नसन्दोहहर्त्री नमस्ते जगत्तारिणि त्राहि दुर्गे ६.ll त्वमेका सदाराधिता सत्यवादिन्-- यनेकाखिला क्रोधना क्रोधनिष्ठा . इडा पिङ्गला त्वं सुषुम्ना च नाडी नमस्ते जगत्तारिणि त्राहि दुर्गे .७..ll नमो देवि दुर्गे शिवे भीमनादे सदासर्वसिद्धिप्रदातृस्वरूपे . विभूतिः सतां कालरात्रिस्वरूपे नमस्ते जगत्तारिणि त्राहि दुर्गे .८ll शरणमसि सुराणां सिद्धविद्याधराणां मुनिदनुजवराणां व्याधिभिः पीडितानाम् . नृपतिगृहगतानां दस्युभिस्त्रासितानां त्वमसि शरणमेका देवि दुर्गे प्रसीद .ll ९.ll ll इति सिद्धेश्वरतन्त्रे हरगौरीसंवादे आपदुद्धाराष्टकस्तोत्रं सम्पूर्णम् ll 👾 ।।हर हर महादेव शम्भो काशी विश्वनाथ वन्दे 👾ll

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB