--श्री हनुमान जी का अद्भुत पराक्रम-- 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 💚💚💚💚💚💚💚💚💚 -जब रावण ने देखा कि हमारी पराजय निश्चित है तो उसने १००० अमर राक्षसों को बुलाकर रणभूमि में भेजने का आदेश दिया | ये ऐसे थे जिनको काल भी नहीं खा सका था | विभीषण के गुप्तचरों से समाचार मिलने पर श्रीराम को चिंता हुई कि हम लोग इनसे कब तक लड़ेंगे ? सीता का उद्धार और विभीषण का राज तिलक कैसे होगा?क्योंकि युद्ध की समाप्ति असंभव है ।श्रीराम की इस स्थिति से वानरवाहिनी के साथ कपिराज सुग्रीव भी विचलित हो गए कि अब क्या होगा ? हम अनंत कल तक युद्ध तो कर सकते हैं पर विजयश्री का वरण नहीं | पूर्वोक्त दोनों कार्य असंभव हैं |अंजनानंदन हनुमान जी आकर वानरवाहिनी के साथ श्रीराम को चिंतित देखकर बोले –प्रभो ! क्या बात है ? श्रीराम के संकेत सेविभीषण जी ने सारी बात बतलाई | अब विजय असंभव है | पवन पुत्र ने कहा –असम्भव को संभव और संभव को असम्भव कर देने का नाम ही तो हनुमान है | प्रभो ! आप केवल मुझे आज्ञा दीजिए मैं अकेले ही जाकर रावण की अमर सेना को नष्ट कर दूँगा | कैसे ?? हनुमान ! वे तो अमर हैं |प्रभो ! इसकी चिंता आप न करें सेवक पर विश्वास करें | उधर रावण ने चलते समय राक्षसों से कहा था कि वहां हनुमान नाम का एक वानर है उससे जरा सावधान रहना | एकाकी हनुमान जी को रणभूमि में देखकर राक्षसों ने पूछा तुम कौन हो ? क्या हम लोगों को देखकर भय नहीं लगता ? जो अकेले रणभूमि में चले आये | मारुति –क्यों आते समय राक्षसराज रावण ने तुम लोगों को कुछ संकेत नहीं किया था जो मेरे समक्ष निर्भय खड़े हो | निशाचरोंको समझते देर न लगी कि ये महाबली हनुमान हैं | तो भी क्या ? हम अमर हैं हमारा ये क्या बिगाड़ लेंगे | भयंकर युद्ध आरम्भ हुआ पवनपुत्र की मार से राक्षस रणभूमि में ढेर होने लगे, चौथाई सेना बची थी कि पीछे से आवाज आई हनुमान हम लोग अमर हैं, हमें जीतना असंभव है | अतः अपने स्वामी के साथ लंका से लौट जावो इसी में तुम सबका कल्याण है | आंजनेय ने कहा लौटूंगा अवश्य पर तुम्हारे कहने से नहीं अपितु अपनी इच्छा से | हाँ तुम सब मिलकर आक्रमण करो फिर मेरा बल देखो और रावण को जाकर बताना |राक्षसों ने जैसे ही एक साथ मिलकर हनुमान जी पर आक्रमण करना चाहा वैसे ही पवनपुत्र ने उन सबको अपनी पूंछ में लपेटकर ऊपर आकाश में फेंक दिया ! वे सब पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति जहाँ तक है वहां से भी ऊपर चले गए ! चले ही जा रहे हैं ---“चले मग जात सूखि गए गात”—गोस्वामी तुलसीदास | उनका शरीर सूख गया अमर होने के कारण मर तो सकते नहीं | अतः रावण कोगाली देते हुए और कष्ट के कारण अपनी अमरता को कोसते हुए अभी भी जा रहे हैं | इधर हनुमान जी ने आकर प्रभु के चरणों में शीश झुकाया | श्रीराम बोले –क्या हुआ हनुमान ? प्रभो ! उन्हें ऊपर भेजकर आ रहा हूँ | राघव –पर वे अमर थे हनुमान ! हाँ स्वामी इसलिए उन्हें जीवित ही ऊपर भेज आया हूँ अब वे कभी भी नीचे नहीं आ सकते | रावण को अब आप शीघ्रातिशीघ्र ऊपर भेजने की कृपा करें जिससे माता जानकी का आपसे मिलन और महाराज विभीषण का राजसिंहासन पर अभिषेक हो सके | पवनपुत्र को प्रभु ने उठाकर गले लगा लिया | वे धन्य हो गए अविरल भक्ति का वर पाकर | श्रीराम उनके ऋणी बन गए और बोले –हनुमान जी ! आपने जो उपकार किया है वह मेरे अंग अंग में ही जीर्ण शीर्ण हो जाय | मैं उसका बदला न चुका सकूँ ,क्योंकि उपकार का बदला विपत्तिकाल में ही चुकाया जाता है | पुत्र ! तुम पर कभी कोई विपत्ति आये—यह मैं नही चाहता | निहाल हो गए आंजनेय !हनुमान जी की वीरता के सामान साक्षात् काल देवराज इन्द्र महाराज कुबेर तथा भगवान विष्णु की भी वीरता नहीं सुनी गयी । ऐसा उद्घोष श्रीराम का है-- “न कालस्य न शक्रस्य न विष्णोर्वित्तपस्य च |कर्माणि तानि श्रूयन्ते यानि युद्धे हनूमतः ||” ---«वाल्मीकि रामायण,उत्तरकांड»--- 🌸🍁जय श्री राम जय हनुमान🍁🌸 🙏🅺🆄🅽🅹🅰 🅹🅸🙏

--श्री हनुमान जी का अद्भुत पराक्रम--
   🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
   💚💚💚💚💚💚💚💚💚
-जब रावण ने देखा कि हमारी पराजय निश्चित है तो उसने १००० अमर राक्षसों को बुलाकर रणभूमि में भेजने का आदेश दिया | ये ऐसे थे जिनको काल भी नहीं खा सका था | विभीषण के गुप्तचरों से समाचार मिलने पर श्रीराम को चिंता हुई कि हम लोग इनसे कब तक लड़ेंगे ? सीता का उद्धार और विभीषण का राज तिलक कैसे होगा?क्योंकि युद्ध की समाप्ति असंभव है ।श्रीराम की इस स्थिति से वानरवाहिनी के साथ कपिराज सुग्रीव भी विचलित हो गए कि अब क्या होगा ? हम अनंत कल तक युद्ध तो कर सकते हैं पर विजयश्री का वरण नहीं | पूर्वोक्त दोनों कार्य असंभव हैं |अंजनानंदन हनुमान जी आकर वानरवाहिनी के साथ श्रीराम को चिंतित देखकर बोले –प्रभो ! क्या बात है ? श्रीराम के संकेत सेविभीषण जी ने सारी बात बतलाई | अब विजय असंभव है | पवन पुत्र ने कहा –असम्भव को संभव और संभव को असम्भव कर देने का नाम ही तो हनुमान है | प्रभो ! आप केवल मुझे आज्ञा दीजिए मैं अकेले ही जाकर रावण की अमर सेना को नष्ट कर दूँगा | कैसे ?? हनुमान ! वे तो अमर हैं |प्रभो ! इसकी चिंता आप न करें सेवक पर विश्वास करें | उधर रावण ने चलते समय राक्षसों से कहा था कि वहां हनुमान नाम का एक वानर है उससे जरा सावधान रहना | एकाकी हनुमान जी को रणभूमि में देखकर राक्षसों ने पूछा तुम कौन हो ? क्या हम लोगों को देखकर भय नहीं लगता ? जो अकेले रणभूमि में चले आये | मारुति –क्यों आते समय राक्षसराज रावण ने तुम लोगों को कुछ संकेत नहीं किया था जो मेरे समक्ष निर्भय खड़े हो | निशाचरोंको समझते देर न लगी कि ये महाबली हनुमान हैं | तो भी क्या ? हम अमर हैं हमारा ये क्या बिगाड़ लेंगे | भयंकर युद्ध आरम्भ हुआ पवनपुत्र की मार से राक्षस रणभूमि में ढेर होने लगे, चौथाई सेना बची थी कि पीछे से आवाज आई हनुमान हम लोग अमर हैं, हमें जीतना असंभव है | अतः अपने स्वामी के साथ लंका से लौट जावो इसी में तुम सबका कल्याण है | आंजनेय ने कहा लौटूंगा अवश्य पर तुम्हारे कहने से नहीं अपितु अपनी इच्छा से | हाँ तुम सब मिलकर आक्रमण करो फिर मेरा बल देखो और रावण को जाकर बताना |राक्षसों ने जैसे ही एक साथ मिलकर हनुमान जी पर आक्रमण करना चाहा वैसे ही पवनपुत्र ने उन सबको अपनी पूंछ में लपेटकर ऊपर आकाश में फेंक दिया ! वे सब पृथ्वी की गुरुत्वाकर्षण शक्ति जहाँ तक है वहां से भी ऊपर चले गए ! चले ही जा रहे हैं ---“चले मग जात सूखि गए गात”—गोस्वामी तुलसीदास | उनका शरीर सूख गया अमर होने के कारण मर तो सकते नहीं | अतः रावण कोगाली देते हुए और कष्ट के कारण अपनी अमरता को कोसते हुए अभी भी जा रहे हैं | इधर हनुमान जी ने आकर प्रभु के चरणों में शीश झुकाया | श्रीराम बोले –क्या हुआ हनुमान ? प्रभो ! उन्हें ऊपर भेजकर आ रहा हूँ | राघव –पर वे अमर थे हनुमान ! हाँ स्वामी इसलिए उन्हें जीवित ही ऊपर भेज आया हूँ अब वे कभी भी नीचे नहीं आ सकते | रावण को अब आप शीघ्रातिशीघ्र ऊपर भेजने की कृपा करें जिससे माता जानकी का आपसे मिलन और महाराज विभीषण का राजसिंहासन पर अभिषेक हो सके | पवनपुत्र को प्रभु ने उठाकर गले लगा लिया | वे धन्य हो गए अविरल भक्ति का वर पाकर | श्रीराम उनके ऋणी बन गए और बोले –हनुमान जी ! आपने जो उपकार किया है वह मेरे अंग अंग में ही जीर्ण शीर्ण हो जाय | मैं उसका बदला न चुका सकूँ ,क्योंकि उपकार का बदला विपत्तिकाल में ही चुकाया जाता है | पुत्र ! तुम पर कभी कोई विपत्ति आये—यह मैं नही चाहता | निहाल हो गए आंजनेय !हनुमान जी की वीरता के सामान साक्षात् काल देवराज इन्द्र महाराज कुबेर तथा भगवान विष्णु की भी वीरता नहीं सुनी गयी ।
ऐसा उद्घोष श्रीराम का है--
“न कालस्य न शक्रस्य न विष्णोर्वित्तपस्य च |कर्माणि तानि श्रूयन्ते यानि युद्धे हनूमतः ||”
 ---«वाल्मीकि रामायण,उत्तरकांड»---
🌸🍁जय श्री राम जय हनुमान🍁🌸
      🙏🅺🆄🅽🅹🅰 🅹🅸🙏

+250 प्रतिक्रिया 41 कॉमेंट्स • 112 शेयर

कामेंट्स

Gopal Sajwan"कुंजा जी" Apr 20, 2019
@नारीशक्ति •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 🌸🍁संध्या वंदन🍁🌸 🙏🅺🆄🅽🅹🅰 🅹🅸🙏

Gopal Sajwan"कुंजा जी" Apr 20, 2019
@jyotiben8 ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ 🙏🙏 🌸🍁संध्या वंदन🍁🌸 🙏🅺🆄🅽🅹🅰 🅹🅸🙏

Gopal Sajwan"कुंजा जी" Apr 20, 2019
@parshotamdassgarg 🔴राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🌸🍁संध्या वंदन🍁🌸 🙏🅺🆄🅽🅹🅰 🅹🅸🙏

Gopal Sajwan"कुंजा जी" Apr 20, 2019
@गोपालप्रिया 💕💕 ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ 🙏🙏 🌸🍁संध्या वंदन🍁🌸 🙏🅺🆄🅽🅹🅰 🅹🅸🙏

Gopal Sajwan"कुंजा जी" Apr 20, 2019
@rameshkumawat14 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 🌸🍁संध्या वंदन🍁🌸 🙏🅺🆄🅽🅹🅰 🅹🅸🙏

Gopal Sajwan"कुंजा जी" Apr 20, 2019
@sangeetalal 🔴राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🌸🍁संध्या वंदन🍁🌸 🙏🅺🆄🅽🅹🅰 🅹🅸🙏

Gopal Sajwan"कुंजा जी" Apr 20, 2019
@sunitasaluja ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ ⚚Ⓚ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓚ⚚ ⚚Ⓤ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓤ⚚ ⚚Ⓝ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓝ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓐ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓐ⚚ ⚚Ⓙ⚚🍀श्री राम🍀⚚Ⓙ⚚ ⚚Ⓘ⚚🌹श्री राम🌹⚚Ⓘ⚚ 🙏🙏 🌸🍁संध्या वंदन🍁🌸 🙏🅺🆄🅽🅹🅰 🅹🅸🙏

Gopal Sajwan"कुंजा जी" Apr 20, 2019
@dheerajshukla •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💜•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💛•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💚•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💙•°"°•☘•°"'° •°"'°•☘•°"'°•💖•°"°•☘•°"'° 🏹जय श्रीराम जय हनुमान🏹 🌸🍁संध्या वंदन🍁🌸 🙏🅺🆄🅽🅹🅰 🅹🅸🙏

Gopal Sajwan"कुंजा जी" Apr 20, 2019
@भक्तिवंदना 🔴राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸◾🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹◾🔸राम🍁🌸🍀 🔴🔸🔹राम🍁🌸🍀 🔵🔹राम🍁🌸🍀 🔴राम🍁🌸🍀 🌸🍁संध्या वंदन🍁🌸 🙏🅺🆄🅽🅹🅰 🅹🅸🙏

Manoj manu Apr 20, 2019
🙏🌺जय जय श्री राधे जी सप्रेम शुभ रात्रि वंदन भाई जी 🌿🌿🌺🌺🌿🌿 प्रभु श्री हरि जी की कृपा के साथ आप सभी का हर पल शुभ सुन्दर एवं मंगलमय हो जी 🌺🙏

pappu. jha Apr 20, 2019
जय श्री राधे कृष्णा शुभ रात्रि भाई जी आप का हर पल मंगलमय हो श्री कृष्ण जी की कृपा सदैव आप पर बनी रहे

Jawaharlal Bhargava Apr 20, 2019
,Ati Sunder 🚩🚩 Jai Siya Ram Ji Jai Veer Hanuman Ji Jai Shree Shanidev Ji 🌷🌷🙏🙏🌷🌷 Prabhu Aap Ki Sab Manokamna Puri Kre Aapka har pal mangalmay ho 🙏🙏 Bhai Ji

Sanjay Sharma Apr 21, 2019
जय श्री राधे कृष्णा जय श्री राम जय श्री सूर्य देव ओम् सुर्य देवाय नमः शुभ दोपहरी जी भाई आप कैसे हैं आप सदा खुश रहिए और सदा तरक्की करें ईश्वर आपके जीवन में इतना सुख मिले जितनी कभी कल्पना भी न की हो

K N Padshala Apr 21, 2019
जय वीर हनुमते नमः जय शियाराम शुभ रात्रि स्नेह वंदन भाई जी प्रणाम 🌹🙏👌👌🌙

🌹रूमी माहेश्वरी🙏 Apr 22, 2019
जय श्री राम🚩जय श्री हनुमानजी🚩 बाबा बजरंग बली आपकी सभी मनोकामनाएं पूर्ण करें💐🙏💐 जय सियाराम जानकी🚩

🚩श्री गणेशाय नम:ॐनम: शिवाय🖋 🚩 📜 दैनिक पंचांग शुक्रवार🖋 📜 ☀माँ दुर्गा माँ लक्ष्मी माँ सरस्वती माँ संतोषी आप सभी को हार्दिक प्रणाम नमन नमस्कार ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़ एवं सभी भक्तों का🖋🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱 ☀२४ - मई -२०१९ शुभ शुक्रवार सभी माताओं का वार ☀ 24 - May - 2019 ☀ Hapur, India हापुड़ एवं समस्त भारत वासियों के लिए ☀हिंदू पंचांग शुक्रवार 🔅 तिथि षष्ठी पूर्ण रात्रि 🔅 नक्षत्र उत्तराषाढा 07:30:48 🔅 करण गर 17:20:29 🔅 पक्ष कृष्ण 🔅 योग शुक्ल 10:13:41 🔅 वार शुक्रवार ☀ सूर्य व चन्द्र से संबंधित गणनाएँ 🔅 सूर्योदय 05:23:44 🔅 चन्द्रोदय 23:56:00 🔅 चन्द्र राशि मकर 🔅 सूर्यास्त 19:07:46 🔅 चन्द्रास्त 09:56:59 🔅 ऋतु ग्रीष्म ☀ हिन्दू मास एवं वर्ष 🔅 शक सम्वत 1941 विकारी 🔅 कलि सम्वत 5121 🔅 दिन काल 13:44:02 🔅 विक्रम सम्वत 2076 🔅 मास अमांत वैशाख 🔅 मास पूर्णिमांत ज्येष्ठ ☀ शुभ और अशुभ समय ☀ शुभ समय 🔅 अभिजित 11:48:17 - 12:43:13 ☀ अशुभ समय 🔅 दुष्टमुहूर्त : 🔅08:08:32 - 🔅09:03:28 🔅12:43:13 - 🔅13:38:09 🔅 कंटक 13:38:09 - 14:33:06 🔅 यमघण्ट 17:17:54 - 18:12:50 🔅 राहु काल 10:32:45 - 12:15:45 🔅 कुलिक 08:08:32 - 09:03:28 🔅 कालवेला या अर्द्धयाम 15:28:02 - 16:22:58 🔅 यमगण्ड 15:41:46 - 17:24:46 🔅 गुलिक काल 07:06:44 - 08:49:44 ☀ दिशा शूल 🔅 दिशा शूल पश्चिम ☀ चन्द्रबल और ताराबल ☀ ताराबल 🔅 भरणी, कृत्तिका, रोहिणी, मृगशीर्षा, पुनर्वसु, आश्लेषा, पूर्वा फाल्गुनी, उत्तर फाल्गुनी, हस्त, चित्रा, विशाखा, ज्येष्ठा, पूर्वाषाढा, उत्तराषाढा, श्रवण, धनिष्ठा, पूर्वभाद्रपदा, रेवती ☀ चन्द्रबल 🔅 मेष, कर्क, सिंह, वृश्चिक, मकर, मीन ☀पंचांग के अंत में माँ दुर्गा माँ लक्ष्मी माँ सरस्वती माँ संतोषी आपको ब्रह्मदत्त त्यागी हापुड़ एवं सभी भक्तों का बारंबार प्रणाम🙏 नमन🙏 नमस्कार🙏 है

+11 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 21 शेयर

+16 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 19 शेयर
Pawan Kumar May 23, 2019

+5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Anjana Gupta May 21, 2019

+1415 प्रतिक्रिया 288 कॉमेंट्स • 486 शेयर
sumitra May 21, 2019

+1465 प्रतिक्रिया 289 कॉमेंट्स • 479 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB