Ambadas Avadut
Ambadas Avadut Mar 24, 2021

🌹💐🙏 ॐ साई राम 🙏💐🌹 शुभ गुरुवार , ( सुप्रभात )

+30 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 126 शेयर

कामेंट्स

dhruv wadhwani Mar 25, 2021
ओम भगवते वासुदेवाय नमः ओम भगवते वासुदेवाय

pradeep Jaiswal Mar 30, 2021
Om namha shivaye Jai maa parwati Jai shree Ganesha Jai kartike ji Jai deva Jai shree ram Jai maa seeta Jai laxman ji Jai shatruhan ji Jai bharat ji Jai hanuman ji Jai shree bajrang Bali Jai shree radhekrisna Jai maa laxminarayan ji Jai mata di Omsairam Jai sai ram

Pooja Kapoor May 16, 2021

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Vicky Babbar May 16, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
EXPLORER icon May 15, 2021

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Vicky Babbar May 15, 2021

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
prakash patel May 14, 2021

☘️ *_पद्म चक्रासन : सम्पूर्ण कमर और पेट के लिए गुणकारी योग जानिये इसके अन्य लाभ और विधि_* स्वस्थ और सबल भारत वैसे तो सारे आसन अपने आप मे श्रेष्ठ है परंतु जब शरीर की स्थितिनुसार आसान आसन पर पूर्ण लाभ की बात हो तो पद्म चक्रासन सर्वश्रेष्ठ है । यह दो भागों पद्म + चक्र से मिलकर बना आसन हैं जिसमे कमर सहित सम्पूर्ण शरीर का व्यायाम हो जाता हैं। *पद्म चक्रासन के लाभ* कमर और रीढ़ की हड्डी को स्वस्थ रख दर्द में राहत देता है 💎 खूबसूरत त्वचा, वजन कम करने के & हर गंभीर बिमारी के एक्यूप्रेशर पॉइंट की जानकारी के लिए हमारा संपर्क करें। ✅और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/એક્યુપ્રેશર-પ્લેનેટ-101139925132263/ पेट का भी व्यायाम होता है जिसमे उदर आहार नाल सभी आंते किडनी इत्यादि सभी स्वस्थ रहती है जिससे पाचन क्रिया सुगम बनती है हाथों और कंधों को मजबूती देता है पैर घुटने व गुप्तांगों को स्वस्थ रखने में सहायक होता है मानसिक शांति और स्थिरता प्रदान करता है रक्त संचार बढ़ा कर रक्त शुद्धिकरण क्रिया को तीव्र करता है कमर पर मोटापा कम करता है *पद्म चक्रासन की विधि* सर्वप्रथम आप किसी शांत समतल और स्वच्छ स्थान पर उचित आसन लगाकर पद्मासन की मुद्रा (दोनों पैरों के पंजे एक दूसरे पान की जंघा पर) में बैठ जावे तत्पश्चात अपने दोनों हाथों को कंधे के साइड में पूरे फैला ले और मुष्टिका बंद करे पर अंगूठा ऊपर की और निकाल के रखे श्वास छोड़ते हुए अपने दोनों हाथों सहित ऊपरी शरीर की दाहिनी ओर पूरा घुमाए तथा गर्दन व सिर को जितना हो सके पीछे की ओर घुमाते हुए पीछे की ओर देखने का प्रयास करे कुछ पल रुककर श्वास लेते हुए वापस सामने की ओर शरीर को घुमा लेवे इसी प्रकार फिर श्वास छोड़ते हुए शरीर हाथों गर्दन सिर सहित बायी और घुमाये तथा पीछे की ओर देखे फिर कुछ क्षण इसी मुद्रा में बिताकर श्वास लेते हुए पुनः सामने की ओर शरीर घुमा ले इस प्रकार ये एक चक्र पूरा हुआ इस सेट के आप 5 से 10 चक्र करे *पद्म चक्रासन में सावधानियां* इस आसन को सुबह और खाली पेट करना चाहिए ज्यादा तेजी से इस आसन को नाजी करना चाहिए 🌀 एक्यूप्रेशर 🔑ट्रीटमेंट अपनाये और हर गंभीर बिमारी मिटाये। https://www.facebook.com/groups/367351564605027/ किसी प्रकार का दर्द चक्कर आने पर इस आसन को नही करना चाहिए गर्भवती स्त्री नोसिखिये हाल ही में सर्जरी हुए रोगी रक्तचाप हृदय रोगी या हड्डी की समस्या से ग्रस्त व्यक्तियो को यह आसन विशेषज्ञ की सलाह और देखरेख में ही करना चाहिए ☘️सभी जानकारी, घरेलू और आयुर्वेदिक चिकित्सा के इस इलाज केवल शैक्षिक हेतु के लिए है.. उपचार के लिए हमेशा चिकित्सक की सलाह ले। वंदे मातरम 🇮🇳 सर्वे भवन्तु सुखिनः सर्वे सन्तु निरामयाः

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB