जय माता राजराजेश्वरी ।।

जय माता राजराजेश्वरी ।।

जय माता दी  
जय माँ राजराजेश्वरी त्रिपुरा सुंदरी

माँ त्रिपुरा सुंदरी शक्तिपीठ बांसवाड़ा राजस्थान ।

देवी त्रिपुरसुंदरी ब्रह्मस्वरूपा हैं, भुवनेश्वरी विश्वमोहिनी हैं। ये श्रीविद्या, षोडशी, ललिता, राज-राजेश्वरी, बाला पंचदशी अनेक नामों से जानी जाती हैं। त्रिपुरसुंदरी का शक्ति-संप्रदाय में असाधारण महत्त्व है। महात्रिपुर सुन्दरी देवी माहेश्वरी शाक्ति की सबसे मनोहर श्री विग्रह वाली सिद्घ देवी हैं।

इनकी महिमा अवर्णनीय है। संसार के समस्त तंत्र-मंत्र इनकी आराधना करते हैं। प्रसन्न होने पर ये भक्तों को अमूल्य निधियां प्रदान कर देती हैं। चार दिशाओं में चार और एक ऊपर की ओर मुख होने से इन्हें तंत्र शास्त्रों में ‘पंचवक्त्र’ अर्थात् पांच मुखों वाली कहा गया है। आप सोलह कलाओं से परिपूर्ण हैं, इसलिए इनका नाम ‘षोडशी’ भी है।

ये चार पायों से युक्त हैं जिनके नीचे ब्रह्मा, विष्णु, रुद्र, ईश्वर पाया बन जिस सिंहासन को अपने मस्तक पर विराजमान किए हैं उसके ऊपर सदा शिव लेटे हुए हैं और उनकी नाभी से एक कमल जो खिलता है, उस पर ये त्रिपुरा विराजमान हैं। सैकड़ों पूर्वजन्म के पुण्य प्रभाव और गुरु कृपा से इनका मंत्र मिल पाता है। किसी भी ग्रह, दोष, या कोई भी अशुभ प्रभाव इनके भक्त पर नहीं हो पाता। श्रीयंत्र का पूजन सभी के वश की बात नहीं है।

कलिका पुराण के अनुसार एक बार पार्वती जी ने भगवान शंकर से पूछा, ‘भगवन! आपके द्वारा वर्णित तंत्र शास्त्र की साधना से जीव के आधि-व्याधि, शोक संताप, दीनता-हीनता तो दूर हो जाएगी, किन्तु गर्भवास और मरण के असह्य दुख की निवृत्ति और मोक्ष पद की प्राप्ति का कोई सरल उपाय बताइए।’

तब पार्वती जी के अनुरोध पर भगवान शंकर ने त्रिपुर सुन्दरी श्रीविद्या साधना-प्रणाली को प्रकट किया। "भैरवयामल और शक्तिलहरी" में त्रिपुर सुन्दरी उपासना का विस्तृत वर्णन मिलता है। ऋषि दुर्वासा आपके परम आराधक थे। इनकी उपासना "श्री चक्र" में होती है। आदिगुरू शंकरचार्य ने भी अपने ग्रन्थ सौन्दर्यलहरी में त्रिपुर सुन्दरी श्रीविद्या की बड़ी सरस स्तुति की है। कहा जाता है भगवती त्रिपुर सुन्दरी के आशीर्वाद से साधक को भोग और मोक्ष दोनों सहज उपलब्ध हो जाते हैं।

महात्रिपुर सुन्दरी का चित्र और श्री यंत्र को विराजमान करें  हाथ जोड़कर महात्रिपुर सुन्दरी का ध्यान करें।

ध्यान: सा काली द्विविद्या प्रोक्ता श्यामा रक्ता प्रभेदत:। श्यामा तु दक्षिणा प्रोक्ता रक्ता श्री सुन्दरी मता।।

Flower Pranam Like +171 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 54 शेयर

कामेंट्स

●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬●
🚩🚩🔔🔔🚩🚩®
@Daily 🇱 🇮 🇻 🇪 Darshan

10☆DEC☆2018..AM

माँ चिंतपूर्णी जी के प्रातः काल शुभ मंगल श्रृंगार दर्शन ।
●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬●

Pranam Jyot Like +49 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 7 शेयर

●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬●
🚩🚩🔔🔔🚩🚩®
@Daily 🇱 🇮 🇻 🇪 Darshan

09☆DEC☆2018..AM

माँ चिंतपूर्णी जी के प्रातः काल शुभ मंगल श्रृंगार दर्शन ।
●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬●

Dhoop Lotus Tulsi +27 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 10 शेयर

●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬●
🚩🚩🔔🔔🚩🚩®
@Daily 🇱 🇮 🇻 🇪 Darshan

08☆DEC☆2018..AM

माँ चिंतपूर्णी जी के प्रातः काल शुभ मंगल श्रृंगार दर्शन ।
●▬▬▬▬▬ஜ۩۞۩ஜ▬▬▬▬▬▬●

Jyot Like Pranam +60 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 5 शेयर

https://youtu.be/8gU9d4amaZL1c

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

"या देवी सर्वभूतेषु क्षमा रूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः
या देवी सर्वभूतेषु छाया रूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः
या देवी सर्वभूतेषु लक्ष्मी रूपेण संस्थिता नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नमः
या देवी सर्...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Dhoop Belpatra +37 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 31 शेयर
[email protected] Dec 10, 2018

Shivvartmalik

Tulsi Pranam Water +5 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 17 शेयर

"चमत्कारी मंदिर, जहां 2000 वर्षों से जल रही है अखंड ज्योति

मध्यप्रदेश के आगर मालवा जिला मुख्‍यालय से 20 किलोमीटर की दूरी पर स्थित है बीजा नगरी और यहां पर स्थित है शक्ति स्वरूपा मां हरसिद्धि का चमत्कारी मंदिर। यूं तो सालभर अपनी मनोकामनाएं लेकर श्र...

(पूरा पढ़ें)
Flower Lotus Dhoop +31 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 3 शेयर

🚩🚩🔯जय श्री महाकाल मित्रों 🔯🚩🚩
दिव्य दर्शन आज संध्या श्रृंगार #आरती के,
श्री महाकालेश्वर ज्योतिर्लिंग मन्दिर उज्जैन से,
आप का मित्र - दीपक राव इन्दौर, 10-12-18

Belpatra Pranam Bell +89 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 43 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB