Reena Singh
Reena Singh Oct 15, 2021

+75 प्रतिक्रिया 20 कॉमेंट्स • 26 शेयर

कामेंट्स

🔴 Suresh Kumar 🔴 Oct 15, 2021
जय श्री राम 🙏 शुभ प्रभात वंदन दशहरा पर्व की हार्दिक शुभकामनाएं 🎈🎈🎈🎈🎈 प्रभु श्री राम जी की कृपा आप पर व आपके परिवार पर सदा बनी रहे मेरी प्यारी बहन 🍎🍎🍎🍎 🥀🥀🥀🕉️🙏🕉️🥀🥀🥀

JAGDISH BIJARNIA Oct 15, 2021
jai Shri ram sister ji mangal suprabhat Vijaya dashami ki hardik shubhkamnaye 🌹🌹

Manoj Gupta AGRA Oct 15, 2021
jai shree radhe krishna ji 🙏🙏🌷🌸 Vijaya dashami ki hardik shubhkamnaye 🙏🙏🌷🌸

R.K.SONI (Ganesh Mandir) Oct 15, 2021
जय श्री राम जय माता दी🙏विजयादशमी की आपको हार्दिक शुभकामनाए।यह पर्व आपके लिए ढ़ेरो सारी खुशियां दे।👌👌💐🙏

R.K.SONI (Ganesh Mandir) Oct 15, 2021
जय श्री राम जय माता दी🙏विजयादशमी की आपको हार्दिक शुभकामनाए।यह पर्व आपके लिए ढ़ेरो सारी खुशियां दे।👌👌💐🙏

‼️kamlesh Goyal‼️ Oct 15, 2021
जय श्री राम जी जय माता दी शुभ प्रभात वंदन जी विजय दशमी पर्व दशहरा की आप सभी भाई बहनों को बहुत-बहुत शुभकामनाएं जी भगवान श्रीराम की कृपा माता रानी का आशीर्वाद सदा आप के परिवार पर बना रहे🌹🙏🌹

@mahaveer1698 Oct 15, 2021
🌹सुख, समृद्धि, शांति का साथ हो, बुराई और असत्य का नाश हो, हमारे मंगलमयी शुभकामना हमेशा आपके साथ हो, इसी कामना के साथ आपको. विजयदशमी की ढेर सारी🌹 शुभकामनाएं !

Renu Singh Oct 15, 2021
Jai Shree Ram 🌹🙏 Good Morning Pyari Sister Ji Aapko aur Aapki Family ko Vijyadashmi ki Hardik Shubh Kamnayein Ji Aàpka Din Shubh Avam Mangalmay ho 🌸🙏

JAI MAHAKAAL KI 🙏🌹🙏🌹 Oct 15, 2021
शांति अमन के इस देश से अब बुराई को मिटाना होगा आतंकी रावण को दहन करने आज फिर से राम को आना होगा 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹 आप और आपके पूरे परिवार को को विजयदशमी की हार्दिक शुभकामनाएं 💝🎊 _कभी श्रीराम बनकर पाप से जग को बचाती है_ _कभी यह कौरवों के दंभ को रज में मिलाती है_ _यही इक सत्य है लेकिन, समझ पाते न कपटी जन_ _भलाई जीत जाती है,बुराई हार जाती है !_🎊💝 *_#विजयादशमी की हार्दिक शुभकामनाएं#_*

Sushil Kumar Sharma 🙏🙏🌹🌹 Oct 15, 2021
Good Afternoon My Sister ji 🙏🙏 Aapko Happy Vijaya Dashami Ki Hardik Shubhkamnaye ji 🙏🙏🌹🌹 Jay Shree Ram 🙏🙏🌹🌹💐🌹God Bless You And Your Family Always Be Happy My Sister ji 🙏 Aapka Har Din Shub Mangalmay Ho ji 🙏🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹.

Hemant Kasta Oct 15, 2021
Jai Shree Ram Ji Namah, Jai Shree Siyaram Ji Namah, Beautiful Post, Anmol Massage, Dhanywad Vandaniy Bahena Ji Pranam, Aap Aur Aapka Parivar Har Din Har Pal Khushiyo Se Bhara Rahe, Aap Sadaiv Hanste Muskurate Rahiye, Vandan Sister Ji, Jai Shree Radhe Krishna Ji, Shubh Dashahara Ki Hardik Shubh Kamnaye... Shubh Dopahar.

Sanjay Parashar ☀️☀️ Oct 15, 2021
Happy Dussehra 🍁🌹🍁🌹🍁🌹🍁🌹🍁🌹🍁🌹🍁🌹🍁🌹🍁🌹 Happy Friday 🙏🍁🙏🍁🙏🍁🙏🍁 Vijaydashmi ki Hardik Shubhkamnaye 🥦🥦🥦🥦🥦🥦🥦🥦 Mata Rani Or Siyaram ji ki kripa Aap per Or Aap ke Parivar per sada bani Rahe 🍀🍀🍀🍀🍀🍀🍀🍀🍀 jai Mata Laxmi ki 🍁 jai Mata di 🌹🌹 Jai Shri Ram 🌻🌻 Jai Shri Krishna 💐💐 Radhe Radhe 🌻🌻 good evening my lovely sister 👌👋👋

CG Sahu Oct 15, 2021
ati sunder thought hi radhe Krishnaj nice sweet good evening laxmi narayan ji ki kripa bani rahe sabhi per 🙏🏻🍁👍🏻🙏🏻🎂🌺🍎🍵🌹💮🍀🌻

SR Pareek Oct 15, 2021
🚩 सुमधुर शुभ रात्रि सप्रेम स्नेह नमन् जी🌿 विजया दशमी की हार्दिक शुभकामनाएं जी 🍁जय श्री राम जी प्यारी बहिना जी 🙏🙏🌻🌸🍃🚩

GOVIND CHOUHAN Oct 15, 2021
Jai Shree Ram 🌷 Jai Siyaram 🌷🙏🙏 Shubh Raatri Vandan Jiii Didi 🙏🙏 Vijaydashmi ki Hardik subh kamnaye jiii 🙏🙏

Anil Oct 16, 2021
good morning जय बजरंगबली वंदन बहेनजी 🌺🙏🙏🙏🌺

N.Gupta Jan 19, 2022

+7 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 20 शेयर

. " महर्षि विश्वामित्र की कथा " " वैदिक काल के एक महान ऋषि " " पोस्ट १\४ " ("विश्वामित्र वैदिक काल के विख्यात ऋषि (योगी) थे। ऋषि विश्वामित्र बड़े ही प्रतापी और तेजस्वी महापुरुष थे। ऋषि धर्म ग्रहण करने के पूर्व वे बड़े पराक्रमी और प्रजावत्सल नरेश थे ") " कथा आरंभ " " प्रजापति के पुत्र कुश, कुश के पुत्र कुशनाभ और कुशनाभ के पुत्र राजा गाधि थे। विश्वामित्र जी उन्हीं गाधि के पुत्र थे। विश्वामित्र शब्द विश्व और मित्र से बना है जिसका अर्थ है- सबके साथ मैत्री अथवा प्रेम। एक दिन राजा विश्वामित्र अपनी सेना को लेकर वशिष्ठ ऋषि के आश्रम में गये। विश्वामित्र जी उन्हें प्रणाम करके वहीं बैठ गये। वशिष्ठ जी ने विश्वामित्र जी का यथोचित आदर सत्कार किया और उनसे कुछ दिन आश्रम में ही रह कर आतिथ्य ग्रहण करने का अनुरोध किया। इस पर यह विचार करके कि मेरे साथ विशाल सेना है और सेना सहित मेरा आतिथ्य करने में वशिष्ठ जी को कष्ट होगा, विश्वामित्र जी ने नम्रतापूर्वक अपने जाने की अनुमति माँगी किन्तु वशिष्ठ जी के अत्यधिक अनुरोध करने पर थोड़े दिनों के लिये उनका आतिथ्य स्वीकार कर लिया।" "वशिष्ठ जी ने नंदिनी गौ का आह्वान करके विश्वामित्र तथा उनकी सेना के लिये छः प्रकार के व्यंजन तथा समस्त प्रकार के सुख सुविधा की व्यवस्था कर दिया। वशिष्ठ जी के आतिथ्य से विश्वामित्र और उनके साथ आये सभी लोग बहुत प्रसन्न हुये।" "नंदिनी गौ का चमत्कार देखकर विश्वामित्र ने उस गौ को वशिष्ठ जी से माँगा पर वशिष्ठ जी बोले राजन! यह गौ मेरा जीवन है और इसे मैं किसी भी कीमत पर किसी को नहीं दे सकता।" "वशिष्ठ जी के इस प्रकार कहने पर विश्वामित्र ने बलात् उस गौ को पकड़ लेने का आदेश दे दिया और उसके सैनिक उस गौ को डण्डे से मार मार कर हाँकने लगे। नंदिनी गौ ने क्रोधित होकर उन सैनिकों से अपना बन्धन छुड़ा लिया और वशिष्ठ जी के पास आकर विलाप करने लगी। वशिष्ठ जी बोले कि हे नंदिनी! यह राजा मेरा अतिथि है इसलिये मैं इसको शाप भी नहीं दे सकता और इसके पास विशाल सेना होने के कारण इससे युद्ध में भी विजय प्राप्त नहीं कर सकता। मैं स्वयं को विवश अनुभव कर रहा हूँ। उनके इन वचनोंको सुन कर नंदिनी ने कहा कि हे ब्रह्मर्षि! आप मुझे आज्ञा दीजिये, मैं एक क्षण में इस क्षत्रिय राजा को उसकी विशाल सेनासहित नष्ट कर दूँगी। और कोई उपाय न देख कर वशिष्ठ जी ने नंदिनी को अनुमति दे दी।" "आज्ञा पाते ही नंदिनी ने योगबल से अत्यंत पराक्रमी मारक शस्त्रास्त्रों से युक्त पराक्रमी योद्धाओं को उत्पन्न किया जिन्होंने शीघ्र ही शत्रु सेना को गाजर मूली की भाँति काटना आरम्भ कर दिया। अपनी सेना का नाश होते देख विश्वामित्र के सौ पुत्र अत्यन्त कुपित हो वशिष्ठ जी को मारने दौड़े। वशिष्ठ जी ने उनमें से एक पुत्र को छोड़ कर शेष सभी को भस्म कर दिया।" " अपनी सेना तथा पुत्रों के नष्ट हो जाने से विश्वामित्र बड़े दुःखी हुये। अपने बचे हुये पुत्र को राज सिंहासन सौंप कर वे तपस्या करने के लिये हिमालय की कन्दराओं में चले गये। कठोर तपस्या करके विश्वामित्र जी ने महादेव जी को प्रसन्न कर लिया ओर उनसे दिव्य शक्तियों के साथ सम्पूर्ण धनुर्विद्या के ज्ञान का वरदान प्राप्त कर लिया।" क्रमशः:- ----------::;×:::---------- "जय जय श्री राधे" " कुमार रौनक कश्यप " ************************************************

+8 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 9 शेयर

. हनुमानजी का विवाह कहा जाता है कि हनुमान जी के उनकी पत्नी के साथ दर्शन करने के बाद घर में चल रहे पति पत्नी के बीच के सारे तनाव खत्म हो जाते हैं। आन्ध्रप्रदेश के खम्मम जिले में बना हनुमान जी का यह मन्दिर काफी मायनों में खास है। यहाँ हनुमान जी अपने ब्रह्मचारी रूप में नहीं बल्कि गृहस्थ रूप में अपनी पत्नी सुवर्चला के साथ विराजमान है। हनुमान जी के सभी भक्त यही मानते आए हैं की वे बाल ब्रह्मचारी थे और वाल्मीकि, कम्भ, सहित किसी भी रामायण और रामचरित मानस में बालाजी के इसी रूप का वर्णन मिलता है। लेकिन पराशर संहिता में हनुमान जी के विवाह का उल्लेख है। इसका सबूत है आन्ध्र प्रदेश के खम्मम जिले में बना एक खास मन्दिर जो प्रमाण है हनुमान जी की शादी का। यह मन्दिर याद दिलाता है रामदूत के उस चरित्र का जब उन्हें विवाह के बन्धन में बन्धना पड़ा था। लेकिन इसका यह अर्थ नहीं कि भगवान हनुमान जी बाल ब्रह्मचारी नहीं थे। पवनपुत्र का विवाह भी हुआ था और वो बाल ब्रह्मचारी भी थे। कुछ विशेष परिस्थितियों के कारण ही बजरंगबली को सुवर्चला के साथ विवाह बन्धन में बन्धना पड़ा। प्रसंग कुछ इस प्रकार है–हनुमान जी ने भगवान सूर्य को अपना गुरु बनाया था। हनुमान, सूर्य से अपनी शिक्षा ग्रहण कर रहे थे। सूर्य कहीं रुक नहीं सकते थे इसलिए हनुमान जी को सारा दिन भगवान सूर्य के रथ के साथ साथ उड़ना पड़ता और भगवान सूर्य उन्हें तरह-तरह की विद्याओं का ज्ञान देते। लेकिन हनुमान जी को ज्ञान देते समय सूर्य के सामने एक दिन धर्मसंकट खड़ा हो गया। कुल 9 तरह की विद्या में से हनुमान जी को उनके गुरु ने पांच तरह की विद्या तो सिखा दी लेकिन बची चार तरह की विद्या और ज्ञान ऐसे थे जो केवल किसी विवाहित को ही सिखाए जा सकते थे। हनुमान जी पूरी शिक्षा लेने का प्रण कर चुके थे और इससे कम पर वो मानने को राजी नहीं थे। इधर भगवान सूर्य के सामने संकट था कि वह धर्म के अनुशासन के कारण किसी अविवाहित को कुछ विशेष विद्याएं नहीं सिखला सकते थे। ऐसी स्थिति में सूर्य देव ने हनुमान जी को विवाह की सलाह दी। और अपने प्रण को पूरा करने के लिए हनुमान जी भी विवाह सूत्र में बन्धकर शिक्षा ग्रहण करने को तैयार हो गए। लेकिन हनुमान जी के लिए दुल्हन कौन हो और कहाँ से वह मिलेगी इसे लेकर सभी चिंतित थे। सूर्य देव ने अपनी परम तपस्वी और तेजस्वी पुत्री सुवर्चला को हनुमान जी के साथ शादी के लिए तैयार कर लिया। इसके बाद हनुमान जी ने अपनी शिक्षा पूर्ण की और सुवर्चला सदा के लिए अपनी तपस्या में रत हो गई। इस तरह हनुमान जी भले ही शादी के बन्धन में बन्ध गए हो लेकिन शारीरिक रूप से वे आज भी एक ब्रह्मचारी ही हैं। पाराशर संहिता में तो लिखा गया है की खुद सूर्यदेव ने इस शादी पर यह कहा कि–यह शादी ब्रह्माण्ड के कल्याण के लिए ही हुई है और इससे हनुमान जी का ब्रह्मचर्य भी प्रभावित नहीं हुआ। ~~~०~~~ "जय बजरंग बली" "कुमार रौनक कश्यप " *************************************************

+16 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 21 शेयर
N.Gupta Jan 19, 2022

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
N.Gupta Jan 19, 2022

+60 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 340 शेयर
Khushi sharma Jan 19, 2022

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Khushi sharma Jan 19, 2022

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर
Bindu Singh Jan 19, 2022

+109 प्रतिक्रिया 27 कॉमेंट्स • 172 शेयर
Khushi sharma Jan 19, 2022

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB