Shekhar Jolanya
Shekhar Jolanya Jan 23, 2017

Shekhar Jolanya ने यह पोस्ट की।

Shekhar Jolanya ने यह पोस्ट की।

+157 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 114 शेयर

कामेंट्स

Ashokbhai Rajani Jan 25, 2017
हरे राम हरे राम राम राम हरे हरे

Anju Rastogi Nov 29, 2020

+15 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 17 शेयर
Shiva Gaur Nov 29, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
jatan kurveti Nov 29, 2020

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

उनको डरा रहे हो, पानी की बौछार से.... जो करते हैं "कुल्ला" भी, ट्यूबवेल की धार से. जय जवान जय किसान 🌺🌺🌺🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳🇮🇳)डॉ साहब को समर्पित ्््््््््््््््् *इस ग्रुप के एक सज्जन फिजीशियन के यहां हेल्थ चेकअप करवाने पहुंचे।* नम्बर आया तो डॉक्टर ने अन्दर बुलवाया। फिर प्रोफेशनल अंदाज में सवाल किया- हाँ बताइये! क्या समस्या है? "डॉ साब, कई दिन से तबियत कुछ ठीक नही रहती है। कई डॉक्टरों को दिखाया लेकिन कुछ फायदा नही हो रहा है।" "भूख लगती है?" "भूख तो लगती है डॉ साब।" "फीवर वगैरह तो नही होता?'' "बुखार.... परसों थोड़ा बुखार था जरूर लेकिन साढ़े छह सौ एम जी कालपाल दो खुराक लिये... उतर गया!" "अच्छा। ब्लड टेस्ट लिख देता हूँ, करवा लीजिये!" "होल बॉडी चेकअप करवाये हैं सोमवार को.... हीमोग्लोबिन 12 से थोड़ा कम निकला है... आयरन की गोली ले रहे हैं।" "अच्छा! वायरल वगैरह तो नही हुआ इस बीच?" "हुआ था पिछले महीने। 5 दिन अजिथ्रोमाइसिन 500 लिए, ठीक हो गया।" "गले में खराश वगैरह है क्या अभी? जीभ निकालिये!" "आsss (जीभ निकालकर) ... खराश थी लेकिन montair lc ले लिए तीन दिन, सही हो गयी।" डॉ- "अच्छा" (टार्च बन्द कर के)- "थोड़ा टहला कीजिये।" "रोज सुबह तीन किमी की मॉर्निंग वॉक करते हैं। फिर लौटकर आधे घण्टे योग-प्राणायाम, तत्पश्चात दलिया, स्प्रोउट का हल्का नाश्ता करते हैं। लन्च में तीन चार चपाती और दाल, शाम में हल्का स्नैक और रात में दो रोटी और दही या हरी सब्जी।" "हम्म!!!"- फिर डॉक्टर पर्चे पर कुछ लिखने लगे। मरीज- "कोई दवा लिख रहे हैं क्या? क्या दिक्कत है डाक साब??" डॉक्टर- "दवा नही लिख रहे हैं। हमको आजकल पीठ में बहुत दर्द हो रहा है। सारा लक्षण पर्चे पर लिख दिया है, पढ़ लीजिये। आप तो अपना आला वगैरह लाये नही होंगे..... लेकिन अनुभव है आपको! *थोड़ा मेरी पीठ के दर्द के लिये दवा बता दीजिए, बड़ी मेहरबानी होगी!"*🍅✴☀❣जय मां अंबे भवानी ❣☀✴🍅❣ 🍂🐚 गंगा गीता गायत्री 🍂🐚 (¯`•.•´¯) *`•.¸(¯`•.•´¯)¸.•´ `•.¸.•´ ჱܓ*“ 🍅✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴🍅 ☆*´¨`☽  ¸.★* ´¸.★*´¸.★*´☽ (  ☆** Ψ त्रिवेणी घाट हरिद्वार .Ψ `★.¸¸¸. ★• ° 🙏सेवक भरत व्यास बांगा हिसार हरिद्वार

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Raj Kumar Sharma Nov 29, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+165 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 10 शेयर

🙏🌹जय जय श्रीराधे🌹🙏 हे सर्वह्रदयप्रिय सर्वेश्वर मधुरेश्वर सर्वशक्तिमान सर्वएश्वर्यपति सर्वश्रेष्ठ सदासनातन सर्वव्यापी अच्युत परममनोहर परमपवित्र त्रिगुणातीत योगयोगेश्वर दयानिधान परमकरुणाकरण दयासिन्धु प्रेमस्वरूप भगवन् श्रीमन् श्रीनिधिपति श्रीनाथ श्रीराधावरकुंजबिहारी श्रीमद्नित्यनिकुंजबिहारीजी आपको नवदिवस का हृदय और मन की सर्वोच्च सुचितायुक्त पूर्णकृतज्ञता लिए प्रथम नमस्कार है..प्रथम वंदन है..आपको कृतज्ञ हृदयों का धन्यवाद है ..हे मधुरेश्वर भगवन् स्वीकारे..हमारा नमस्कार.. वंदन..अभिनंदन.🙏🌹श्रीराधे🌹🙏नव दिवस का 🌹श्रीगणेश🌹 है.🙏🌹🙏श्री अनंत दुबे 🌺🌺🌺🌺🌺💦🥀💦🥀💦🥀💦🥀💦🥀💦🥀💦 जब भी दो पुरुष लड़ते हैं तो हैरानी की बात है। लड़ते पुरुष हैं मगर गालियाँ स्त्रियों को देते हैं। कोई उसकी माँ से रिश्ता जोड़ रहा है, कोई उसकी बहन से रिश्ता जोड़ रहा है, कोई उसकी बेटी से रिश्ता जोड़ रहा है। यह भी थोड़ी सोचने जैसी बात है कि समाज बातें तो करता है स्त्री समादर की, मगर क्या यही समादर है ? बातें तो यूँ की जाती हैं कि जहाँ---जहाँ नारी की पूजा होती है वहाँ---वहाँ देवता रमण करते हैं। पर स्त्री की पूजा के नाम पर हो क्या रहा है ? और सदियों से क्या हो रहा है ? सिवाय अपमान और अनादर के कुछ भी नहीं। अगर दो आदमी आपस में लड़ रहे हैं तो एक---दूसरे से निपटो, इसमें स्त्रियों को बीच में लाने की क्या ज़रूरत है ? इसमें किसी की माँ ने आपका क्या बिगाड़ा है किसी की पत्नी ने आपका क्या बिगाड़ा है किसी की बेटी ने आपका क्या बिगाड़ा है ? लेकिन गाली तो स्त्रियों को ही दी जायेगी। लड़े कोई, अपमान तो स्त्री का ही होगा.. ✍ 💦🥀💦🥀💦🥀💦🥀💦🥀💦🥀💦🍅✴☀❣जय मां अंबे भवानी ❣☀✴🍅❣ 🍂🐚 गंगा गीता गायत्री 🍂🐚 (¯`•.•´¯) *`•.¸(¯`•.•´¯)¸.•´ `•.¸.•´ ჱܓ*“ 🍅✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴☀✴🍅 ☆*´¨`☽  ¸.★* ´¸.★*´¸.★*´☽ (  ☆** Ψ त्रिवेणी घाट हरिद्वार .Ψ `★.¸¸¸. ★• ° 🙏 सेवक भरत व्यास बांगा हिसार हरिद्वार 🌺🌺*शरीरं सुरूपं नवीनं कलत्रं* *धनं मेरुतुल्यं यशश्चारु चित्रम्*। *हरेरङ्घ्रिपद्मे मनश्चेन्न लग्नं* *तत: किं तत: किं तत: किं तत: किम्*॥ *शरीर चाहे कितना भी सुन्दर हो , पत्नी चाहे कितनी भी मनमोहिनी हो , धन चाहे कितना भी सुमेरु पर्वत की भांति असीम हो और सारे संसार में चाहे कितना भी नाम रोशन हो चुका हो लेकिन जब तक जिन्दगी देने वाले श्रीहरि के चरणकमलों में मन नहीं लगा हुआ है तब तक क्या हासिल किया ? क्या पाया ? अर्थात् सब व्यर्थ है

+13 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 31 शेयर
nirmal Nov 29, 2020

+16 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 2 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB