श्री गणेश चतुर्थी आषाढ पूर्णिमा से कार्तिकी पूर्णिमा तक, इन १२० दिनों में विनाशकारक, तमप्रधान यमतरंगें पृथ्वीपर अधिक मात्रा में आती हैं ।

श्री गणेश चतुर्थी

आषाढ पूर्णिमा से कार्तिकी पूर्णिमा तक, इन १२० दिनों में विनाशकारक, तमप्रधान यमतरंगें पृथ्वीपर अधिक मात्रा में आती हैं । इस काल में उनकी तीव्रता अधिक होती है एवं इसी काल में, अर्थात भाद्रपद शुक्ल पक्ष चतुर्थी से अनंत चतुर्दशी तक, गणेश तरंगों के पृथ्वीपर अधिक मात्रा में आने से, यमतरंगों की तीव्रता को घटाने में सहायता मिलती है । श्री गणेश चतुर्थी पर तथा श्री गणेशोत्सवकाल में नित्यकी तुलना में पृथ्वी पर गणेशतत्त्व १ सहस्र गुना अधिक कार्यरत रहता है । इस काल में की गई श्री गणेशोपासना से गणेशतत्त्व का लाभ अधिक होता है ।

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Virtual Temple Mar 27, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Virtual Temple Mar 27, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Virtual Temple Mar 27, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
RRD Bhakti Sagar✔ Mar 27, 2020

+7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 2 शेयर
RRD Bhakti Sagar✔ Mar 27, 2020

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 17 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB