sanchi
sanchi Mar 2, 2021

+16 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 37 शेयर

कामेंट्स

Rajpal singh Mar 2, 2021
jai shree krishna Radhey Radhey ji good night ji 🙏🙏

dhruv wadhwani Mar 2, 2021
ओम श्री गणेशाय नमः शुभ रात्रि जी

M.S.Chauhan Mar 2, 2021
GOOD NIGHT* *SWEET DREAMS* *Jay Shri Krishna.* *Jay Shri Radhey Radhey.* 🌷🌼❤🙏❤🌼🌷

hindusthani mohan sen Mar 2, 2021
🌟शुभ रात्रि वंदन🌟 🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻🙏🏻 *हर पेड़ "फल" दे ये जरुरी नही, किसी की "छाया" भी बड़ा "सुकून" देती है...* 🚩माता रानी की कृपा दृष्टि आप और आपके परिवार पर सदा बनी रहे🚩

🦚🌹🌹🦚 Mar 2, 2021
श्री राधे राधे शुभ रात्रि विश्राम

P L Chouhan bwr Mar 2, 2021
राम राम कहिये भई राम राम काहिए जाहि विधि राखे राम ताहि विधि रहिए

+100 प्रतिक्रिया 18 कॉमेंट्स • 48 शेयर

🌺☘️🌿जय माता दी 🌿☘️🌺 🌳🌿जय श्री शनि देव महाराजकी🌿☘️ ⛳🌿☘️जय हनुमान जी⛳🌿☘️ 🙏🌹 आज के शुभ दर्शन कालका धाम दिल्ली से 🌹🙏 *🙏 जय श्री शनि देव जी 🙏* *पाचँवा नवरात्रा* *मां स्कंदमाता जी* *मां स्कंदमाता जी की पूजा करके भगवती दुर्गा को केले का भोग लगाना चाहिए और यह प्रसाद ब्राह्मण को दे देना चाहिए. ऐसा करने से मनुष्य की बुद्धि का विकास होता है ।* *🙏 जय माता दी 🙏* *सड़क कितनी भी साफ हो* *"धूल" तो हो ही जाती है,* *इंसान कितना भी अच्छा हो* *"भूल" तो हो ही जाती* *"मैं अपनी 'ज़िंदगी' मे हर किसी को* *'अहमियत'* देता हूँ... क्योंकि जो *'अच्छे'* होंगे वो *'साथ'* देंगे और जो *'बुरे'* होंगे वो *'सबक'* देंगे...!! जिंदगी जीने के लिए *सबक* और *साथ* दोनों जरुरी होता है। *🙏 शुभ प्रभात,। शुभ शनिवार 🙏*

+153 प्रतिक्रिया 31 कॉमेंट्स • 41 शेयर

+2 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

+58 प्रतिक्रिया 8 कॉमेंट्स • 20 शेयर

+19 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ravi Kumar Taneja Apr 17, 2021

🌹 या देवी सर्वभूतेषु मातृरूपेण संस्थिता नमस्तस्ए नमस्तस्ए नमस्तस्ए नमो नमः 🌹🌹ॐ श्री जगत जननी मां स्कंदमाता देवी की कृपा दृष्टि आप सभी पर हमेशा बनी रहे 🌹 आप का हर पल मंगलमय हो 🌹 🕉🐾।।पंचम नवरात्र - देवी स्कंदमाता।।🐾🕉 🕉🐾नवरात्रि का पाँचवाँ दिन स्कंदमाता की उपासना का दिन होता है। मोक्ष के द्वार खोलने वाली माता परम सुखदायी हैं। 🕉 माँ अपने भक्तों की समस्त इच्छाओं की पूर्ति करती हैं।🐾🕉 🦋🐾।।देवी स्कंदमाता श्लोक।।🐾🦋 🕉सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी🕉 🏹माँ स्कंदमाता की उपासना से भक्त की समस्त इच्छाएँ पूर्ण हो जाती हैं। इस मृत्युलोक में ही उसे परम शांति और सुख का अनुभव होने लगता है। उसके लिए मोक्ष का द्वार स्वमेव सुलभ हो जाता है। 🏹 🕉🐾।।स्कंदमाता उपासना - मंत्र।।🐾🕉 🌷।या देवी सर्वभू‍तेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।।🌷 🔯अर्थ : हे माँ! सर्वत्र विराजमान और स्कंदमाता के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बार-बार प्रणाम है। मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूँ। हे माँ, मुझे सब पापों से मुक्ति प्रदान करें।🔯 🌹🌹🌹 स्कंदमाता माता रानी की जय हो 🌹🌹🌹 🌿 नव रात्रि के पांचवे दिन मां स्कंदमाता के पावन श्रीचरणों की वंदना आराधना एवं शत शत नमन वंदन के साथ ईश्वर से प्रार्थना है कि माता स्कंदमाता रानी की कृपा दृष्टि सभी पर बनी रहे तथा विश्व का कल्याण करें।🙏 🕉🏹🐾🙏🌹🙏🌹🙏🐾🏹🕉

+211 प्रतिक्रिया 35 कॉमेंट्स • 182 शेयर
Rekha Apr 17, 2021

सुख और ऐश्वर्यदायक हैं देवी स्कंदमाता, इस श्लोक—स्तुति से प्राप्त होती है मां की कृपा स्कंदमाता की पूजा से हर इच्छा पूरी होती है। मां स्कंदमाता को जहां अग्नि देवी के रूप में भी पूजा जाता है वहीं वे ममता की भी प्रतीक हैं। देवी स्कंदमाता की चार भुजा हैं। मां के दो हाथों में कमल पुष्प हैं और एक हाथ में बालरूप में भगवान कार्तिकेय हैं। मां का एक हाथ वरमुद्रा में है। नवरात्रि के पांचवें दिन मां दुर्गा के स्कंदमाता स्वरूप की पूजा की जाती है। स्कंद का मतलब होता है शिव—पार्वती के पुत्र भगवान कार्तिकेय अथवा मुरुगन। इस प्रकार मां स्कंदमाता का शाब्दिक अर्थ है — स्कंद की माता। मां स्कंदमाता की पूजा से हर इच्छा पूरी होती है। मां स्कंदमाता को जहां अग्नि देवी के रूप में भी पूजा जाता है वहीं वे ममता की भी प्रतीक हैं। देवी स्कंदमाता की चार भुजा हैं। मां के दो हाथों में कमल पुष्प हैं और एक हाथ में बालरूप में भगवान कार्तिकेय हैं। मां का एक हाथ वरमुद्रा में है। स्कंदमाता सूर्यमंडल की अधिष्ठात्री देवी हैं। ज्योतिषाचार्य पंडित नरेंद्र नागर के अनुसार यही कारण है कि इनका प्रभामंडल सूर्य के समान अलौकिक तेजोमय दिखाई देता है। मां स्कंदमाता कमल पर विराजमान हैं। स्कंदमाता की विश्वासपूर्वक पूजा करने पर मोक्ष मिल जाता है। इनकी उपासना सुख, ऐश्वर्यदायक है। श्लोक—स्तुति 1. सिंहासनगता नित्यं पद्माश्रितकरद्वया | शुभदास्तु सदा देवी स्कन्दमाता यशस्विनी || 2. या देवी सर्वभू‍तेषु माँ स्कंदमाता रूपेण संस्थिता। नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमस्तस्यै नमो नम:।। हिंदी भावार्थ : हे मां! आप सर्वत्र विराजमान हैं. स्कंदमाता के रूप में प्रसिद्ध अम्बे, आपको मेरा बारंबार प्रणाम है या मैं आपको बारंबार प्रणाम करता हूं।

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB