शनि देव की अदभूत कहानी।

शनि देव की अदभूत कहानी।

शनि देव की अदभूत कहानी

हमारे जीवन में तेजपुंज तथा शक्तिशाली शनि का अदभुत महत्व है | वैसे शनि सौर जगत के नौ ग्रहों में से सातवांं ग्रह है; जिसे फलित ज्योतिष में अशुभ माना जाता है | आधुनिक खगोल शास्त्र के अनुसार शनि की धरती से दुरी लगभग नौ करोड मील है | इसका व्यास एक अरब बयालीस करोड साठ लाख किलोमीटर है तथा इसकी गुरुत्व शक्ति धरती से पंचानवे गुना अधिक है | शनि को सूरज की परिक्रमा करने पर उन्नीस वर्ष लगते है | अंतरिक्ष में शनि सधन नील आभा से खूबसूरत , बलवान , प्रभावी , दृष्टिगोचर है, जिसे 22 उपग्रह है |

शनि का गुरुत्वाकर्षण बल पृथ्वी से अधिकतम है | अत: जब हम कोई भी विचार मन में लाते है , योजना बनाते है, तो वह प्रत्सावित अच्छी - बुरी योजना चुंबकीय आकर्षन से शनि तक पहुँचती है और अच्छे का परिणाम अच्छा जब की बुरे का बुरा परिणाम जल्द दे देती है | बुरे प्रभाव को फलज्योतिष में अशुभ माना गया है | लेकिन अच्छे का परिणाम अच्छा होता है अत: हम शनि को शत्रु नहीं मित्र समझे और बुरे कर्मो के लिए वह साडेसाती है, आफत है ; शत्रु है |

श्री शनैश्वर देवस्थान के अनुुसार शनिदेव की जन्म गाथा या उत्पति के संदर्भ में अलग - अलग कथा है | सबसे अधिक प्रचलित शनि उत्पति की गाथा स्कंध पुराण के काशीखण्ड में इस प्रकार प्रस्तुत

सूर्यदेवता का ब्याह दक्ष कन्या संज्ञा के साथ हुआ | संज्ञा सूर्यदेवता का अत्याधिक तेज सह नहीं पाती थी | उन्हें लगता था की मुझे तपस्या करके अपने तेज को बढ़ाना होगा या तपोबल से सूर्य की अग्नि को कम करना होगा; लेकिन सूर्य के लिए वो पतिव्रता नारी थी | सूर्य के द्वारा संज्ञा के गर्भ से तीन संतानों का जन्म हुआ - . वैवस्वत मनु . यमराज . यमुना. संज्ञा बच्चों से बहुत प्यार करती थी; मगर सूर्य की तेजस्विता के कारण बहुत परेशान रहती थी | एक दिन संज्ञा ने सोचा कि सूर्य से अलग होकर मै अपने मायके जाकर घोर तपस्या करूंगी; और यदि विरोध हुआ तो कही दूर एकान्त में जाकर तप करना उचित रहेगा |

संज्ञा ने तपोबल से अपने ही जैसी दिखने वाली छाया को जन्म दिया, जिसका नाम ' सुवर्णा ' रखा अत: संज्ञा की छाया सुवर्णा | छाया को अपने बच्चोँ की जिम्मेदारी सौंपते हुए कहा कि आज से तुम नारी धर्म मेरे स्थान पर निभाओगी और बच्चों कि परवरिश भी करोगी | अगर कोई आपत्ति आ जाये तो मुझे बुला लेना मै दौडी चली आऊँगी, मगर एक बात याद रखना कि तुम छाया हो संज्ञा नहीं यह भेद कभी किसी को पता नहीं चलना चाहिए |

संज्ञा छाया को अपनी जिम्मेदारी सौपकर अपने पीहर - मायके चली गयी | घर पहुँचकर पिताश्री को बताया कि मै सूर्य का तेज सहन नहीं कर सकती, अत: तप करने अपने पति से बिना कुछ कहे मायके आयी हूँ | सुनकर पिताने संज्ञा को बहुत डाटा कहा कि , ' बिन बुलाये बेटी यदि मायके में आए तो पिता व पुत्री को दोष लगता है | बेटी तुम जल्द अपने ससुराल सूर्य के पास लौट जाओ ' ,तब संज्ञा सोचने लगी कि यदि मै वापस लौटकर गई तो छाया को मैंने जो कार्यभार सौंपा है उसका क्या होगा ? छाया कहाँ जायेगी ? सोचकर संज्ञा ने भीषण , घनघोर जंगल में , ( जो उत्तर कुरुक्षेत्र में था ) शरण ले ली |

अपनी खुबसूरती तथा यौवन को लेकर उसे जंगल में डर था अत: उसने बडवा - घोडी का रूप बना लिया कि कोई उसे पहचान न सके और तप करने लगी | धर सूर्य और छाया के मिलन से तीन बच्चों का जन्म हुआ | सूर्य छाया दोनों एक दूसरे पर संतुष्ट थे, सूर्य को कभी संदेह नहीं हुआ | छाया ने जिन तीन बच्चों को जन्म दिया वे है - . मनु .शनिदेव . पुत्री भद्रा ( तपती )

दूसरी कथा के अनुसार शनिदेव कि उत्पति महर्षि कश्यप के अभिभावकत्व में कश्यप यज्ञ से हुई | जब शनिदेव छाया के गर्भ में थे तो शिव भक्तिनी छाया ने शिव कि इतनी तपस्या की कि उन्हें अपने खाने - पीने तक का ख्याल नहीं रहता था | अपने को इतना तपाया की गर्भ के बच्चे पर भी तप का परिणाम हुआ , और छाया के भूखे प्यासे धुप-गर्मी में तपन से गर्भ में ही शनि का रंग काला हो गया | जब शनि का जन्म हुआ तो सूर्यदेव शनि को काले रंग का देखकर हैरान हो गए | उन्हें छाया पर शक हुआ | उन्होंने छाया का अपमान कर डाला , कहा कि 'यह मेरा बेटा नहीं है |'

श्री शनिदेव के अन्दर जन्म से माँ कि तपस्या शक्ति का बल था; उन्होंने देखा कि मेरे पिता , माँ का अपमान कर रहे है | उन्होने क्रूर दृष्टी से अपने पिता को देखा , तो पिता कि पूरी देह का रंग कालासा हो गया | घोडों की चाल रुक गयी | रथ आगे नहीं चल सका | सूर्यदेव परेशान होकर शिवजी को पुकारने लगे | शिवजी ने सूर्यदेव को सलाह बताई और कथन किया की आपके द्वारा नारी व पुत्र दोनों की बेज्जती हुई है इसलिए यह दोष लगा है | सूर्यदेव ने अपनी गलती की क्षमा मांगी और पुनश्च सुन्दर रूप एवं घोडों की गति प्राप्त की | तब से श्री शनिदेव पिता के विद्रोही और शिवाजी के भक्त तथा माता के प्रिय हो गए |

Pranam Like Water +213 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 86 शेयर

कामेंट्स

जानिए, कैसे ये चमत्कारी फूल जगाएगा आपका सोया हुआ भाग्य
Ujjawal Prabhat
भगवान को प्रसन्न करने के लिए हर कोई पूजा-पाठ करता है, उनका अच्छे से अच्छा श्रृंगार करने में कोई भी कोई कसर नहीं छोड़ता है। इसी श्रृंगार में फूल सबसे अहम माने जातें हैं। फूल कई ...

(पूरा पढ़ें)
Flower Like Pranam +19 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 63 शेयर
Ritesh Singh Aug 21, 2018

Pranam Bell Jyot +5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर

OM:SAI:NATHAY:NAMAH
OM:NAMAH:SHIVAY
🕉️🙏🕉️🙏🕉️🙏🕉️

Pranam Bell Dhoop +12 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 22 शेयर

"यमराज भी नहीं बच पाए थे इस ऋषि के श्राप से, लेना पड़ा था पृथ्वी पर जन्म

पौराणिक कथाओं में ऋषियों और मुनियों द्वारा श्राप दिए जाने की अनेकों कथाएँ प्रचिलित हैं| ऋषि मुनियों ने तो राक्षसों और मनुष्यों के साथ साथ देवों को भी श्राप दिए थे| ऐसी ही ...

(पूरा पढ़ें)
Belpatra Flower Pranam +48 प्रतिक्रिया 12 कॉमेंट्स • 4 शेयर

https://www.facebook.com/astrogurupariyalji/
🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚
*Pariyal Astro & Vastu Consultant*
📲 *+91 9928138253*

*शनि साढ़े साती – राशियों पर प्रभाव व उपाय*

शनि ग्रह की साढ़े सात वर्ष तक चलने वाली दशा को साढ़े साती कहते हैं। साढ़े साती ज...

(पूरा पढ़ें)
Jyot Belpatra Pranam +4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 5 शेयर
vandana kapoor Aug 20, 2018

Indore mei Shani Mandir

Bell Jyot Flower +14 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 1 शेयर

https://www.facebook.com/astrogurupariyalji/
🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚🐚
*Pariyal Astro & Vastu Consultant*
📲 *+91 9928138253*

*शनि साढ़े साती – राशियों पर प्रभाव व उपाय*

शनि ग्रह की साढ़े सात वर्ष तक चलने वाली दशा को साढ़े साती कहते हैं। साढ़े साती ज...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Like +3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Santosh Hariharan Aug 21, 2018

Pranam Flower Jyot +87 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 56 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB