Gumansingh Rathore
Gumansingh Rathore Sep 19, 2017

भोजन करने से पहले भगवान को भोग लगाने का क्यों है नियम?

भोजन करने से पहले भगवान को भोग लगाने का क्यों है नियम?

अपने देखा होगा कि कई लोग भोजन करने से पहले भगवान का ध्यान करते हैं। कुछ लोग भगवान के नाम पर भोजन का कुछ अंश थाली से बाहर रखकर नैवैद्य रुप में अर्पित करते हैं। इसके पीछे धार्मिक कारण के साथ ही वैज्ञानिक कारण भी है।

सबसे पहले धार्मिक कारणों की बात करते हैं। गीता के तीसरे अध्याय में भगवान श्री कृष्ण ने कहा है कि व्यक्ति बिना यज्ञ किए भोजन करता है वह चोरी का अन्न खाता है। इसका अर्थ हो जो व्यकि भगवान को अर्पित किए बिना भोजन करता है वह अन्न देने वाले भगवान से अन्न की चोरी करता है। ऐसे व्यक्ति को उसी प्रकार का दंड मिलता है जैसे किसी की वस्तु को चुराने वाले को सजा मिलती है।

ब्रह्मवैवर्त पुराण में लिखा है 'अन्न विष्टा, जलं मूत्रं, यद् विष्णोर निवेदितम्। यानी भगवान को बिना भोग लगाया हुआ अन्न विष्टा के समान और जल मूत्र के तुल्य है। ऐसा भोजन करने से शरीर में विकार उत्पन्न होता है और विभिन्न प्रकार के रोग होते हैं।

वैज्ञानिक दृष्टि से देखें तो स्वस्थ रहने के लिए भोजन करते समय मन को शांत और निर्मल रखना चाहिए। अशांत मन से किया गया भोजन पचने में कठिन होता है। इससे स्वास्थ्य पर विपरीत प्रभाव पड़ता है। इसलिए मन की शांति के लिए भोजन से पहले अन्न का कुछ भाग भगवान को अर्पित करके ईश्वर का ध्यान करने की सलाह वेद और पुराणों में दी गई है।
-
- ॥हरिॐ॥

Flower Pranam Like +132 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 104 शेयर

कामेंट्स

Ashish shukla Sep 19, 2018

Pranam Jyot Belpatra +167 प्रतिक्रिया 81 कॉमेंट्स • 682 शेयर
shivani Sep 20, 2018

jai mata di

Pranam Like Dhoop +57 प्रतिक्रिया 29 कॉमेंट्स • 146 शेयर

🌹"गुरु" और शिष्य के बीच एक दुर्लभ संवाद🌹

🌟शिष्य : मैं समय नहीं निकाल पाता. जीवन आप-धापी से भर गया है.

गुरु : गतिविधियां तुम्हें घेरे रखती हैं. लेकिन उत्पादकता आजाद करती है.

शिष्य : आज जीवन इतना जटिल क्यों हो गया है?

गुरु : ...

(पूरा पढ़ें)
Like Pranam Flower +240 प्रतिक्रिया 26 कॉमेंट्स • 640 शेयर

जीवन में खुशी का अर्थ
लड़ाइयाँ लड़ना नहीं,
... बल्कि ...
उन से बचना है
कुशलता पूर्वक पीछे हटना भी
अपने आप में एक जीत है

... क्योकि ...
अभिमान ~ फरिश्तों को भी
शैतान ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Flower Milk +119 प्रतिक्रिया 31 कॉमेंट्स • 286 शेयर
harshita malhotra Sep 19, 2018

Pranam Like Jyot +32 प्रतिक्रिया 38 कॉमेंट्स • 206 शेयर

Pranam Flower Like +39 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 238 शेयर

Like Bell Pranam +3 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 163 शेयर

प्रसन्नता का कारण

देवदास बड़ा हैरान था कि गुरु शृणोति, प्रत्येक स्थिति में प्रसन्न कैसे रह लेते हैं। उसका अध्ययन करने के लिये वह कई दिन तक निरन्तर शृणोति के साथ बना रहा।

मध्याह्न का भोजन कर चुकने के पश्चात् मुनि शृणोति ने अपनी धर्मपत्नी शोभा से ...

(पूरा पढ़ें)
Pranam Jyot Flower +25 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 33 शेयर

👌 बहुत ही सुन्दर मैसेज 👌
👉 जहाँ सूर्य की किरण हो ..
वहीँ प्रकाश होता है..
जहाँ भगवान के दर्शन हो..
वहीँ भव पार होता है..
जहाँ संतो की वाणी हो…
वहीँ उद्धार होता है…
और…
जहाँ प्रेम की भाषा हो..
वहीँ परिवार होता है…
🙏 🌹नमस्कार🌹 🙏
🌷Good Mornin...

(पूरा पढ़ें)
Like Bell Pranam +28 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 49 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB