BACCHAN SINGH
BACCHAN SINGH Apr 4, 2020

Om namhe shivay🙏🙏🙏🙏

+200 प्रतिक्रिया 47 कॉमेंट्स • 11 शेयर

कामेंट्स

sujatha Apr 5, 2020
Jay shri radhe krishna 🙏🏻🙏🏻 Good night * stay blessed & stay healthy

🌹🌹pappu 🌹🌹jha🌹🌹 Apr 6, 2020
हर हर महादेव जय शिव शंभू कैलाशपति शुभ प्रभात भाई जी आपका हर पल मंगलमय हो भोलेनाथ की कृपा सदैव आप पर बनी रहे महावीर जयंती की हार्दिक शुभकामनाएं महादेव के दरबार में दुनिया बदल जाती है रहमत से हाथ की लकीर बदल जाती है लेता है जो भी दिल से महादेव का नाम एक पल में उसकी तकदीर बदल जाती है...।🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱🔱

Ramswaroop Chaurasia Apr 6, 2020
jai shre shiv shakti ki kirpa🍁🍁🌷⚘⚘🌷🍁🍁 hamesa bani rahe ji with your famliy jai Mata di 🙏🏽🙏🏽🙏🏼🙏🏻

Vinod Agrawal Apr 6, 2020
🌷Om Namah Shivaya Har Har Mahadev Om Gaurishnkaray Namah Om Mahakaleshwaray Namah🌷

Archana Singh Apr 6, 2020
ओम नमः शिवाय सुप्रभात वंदन भाई जी भोलेनाथ जी की कृपा आपके परिवार पर सदैव बनी रहे🙏🙏🌹🌹

Pawan Saini Apr 6, 2020
om namah shivaya har har mahadev Baba bholanath bless you and your family Bhai ji 🙏💐🌻 always be very happy sweet good morning bhai ji 🙏

Ratna Nankani Apr 21, 2020
🙏Jai mata di🙏shubh magalvar sbka hoga magal hi magal apni kirpa. brsado h maa kal k pnjea s mat bchao h maa astbhawani svi bolo perms s jai mata ki🙏🌸🙏🌸🌸🙏🙏🙏🙏🌸🌸

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+9 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ansouya Ansouya May 25, 2020

🕉🙏जय भोले नाथ 🕉🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏हमारा मन मननशील है 🙏🙏🙏🙏🙏🙏🙏वह निरन्तर चिंतन-मनन करता ही रहता है 🙏🙏🙏इसी मनन से ही मन का अस्तिव है। 🌷सारा चिंतन मनन शब्दातमक होता है ।🌷🌷🌷हम शब्द के अभाव में चिंतन नहीं कर सकते । 🌷🙏चिन्तन विषयातमक होता है ।इसी प्रकार मन और विषय के बिच शब्द के माध्यम से एक संबंध बन जाता है ।मन को निर्विषय बनाने के लिए जरूरी है कि वह शब्द जगत से उपर ऊठे ।इस नाम रूप जगत से उपर उठने के लिए प्रारम्भ मे हमे नाम और रूप का भी सहारा लेना पड़ता है । 👌🙏विष का औषध विष ही होता है । वहां अमृत काम नहीं आता ।वहां विष ही अमृत बन जाता है ।⚘ऐसे ही मन को अनाम तक ले जाने के लिए पहले अनाम का ही आलम्बन लेना पहता है। 🙏नाम सुमिरन वह खिड़की है जिसके द्वारा अनाम के आकाश में छलांग लगाई जा सकती है । 🙏⚘एक डाकू रत्नाकर के मन का मरा मरा नाम से संबंध था इसलिए उसके मन ने राम नाम का सूमिरन स्वीकार नहीं किया और मरा नाम से सिमरन किया ।⚘🙏🙏🙏🙏🙏🌹🌹🌹⚘🙏उसी नाम सिमरन से अनाम के आकाश में छलांग लगाकर डाकू रत्नाकर परम पूजनीय महर्षि वाल्मीकि बन गये और हजारों साल पहले ही रामायण की रचना कर डाली ।⚘🌹🌹🌹⚘⚘🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹⚘⚘🌹नाम शब्दातमक होता है और शब्द अक्षरात्मक 🌹🌹🌹🌹🌹🙏🙏🙏🙏🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹⚘⚘🌹मंगलमय संध्या वनदन सभी को जी 🌹🌹🌹⚘⚘⚘⚘⚘⚘🙏🙏🙏🙏🙏🙏⚘🙏🌹जय श्री राधे कृष्ण 🌹🙏🙏🙏🌹🙏🙏🌹🌹🌹🙏🙏🌹🙏🙏🙏🙏🙏

+122 प्रतिक्रिया 13 कॉमेंट्स • 11 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
prabha tewari May 25, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB