ऐ। हे पुराना ज़माना नया जमाना इंजनों मानवि बहुत-बहुत सोहलियत होने के बावजूद दुखि असंतोसित हे दिल मांगे मोर देखा देखि हरीफाई में फटकाता हे कर्जा मे डुब जाता हे फिरभि दुसरो। कि टांग खिंचता रहता हे। जलता रहता हे।

+16 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Virandra kr Sharma May 28, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Vidhya saravanan May 28, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Virandra kr Sharma May 28, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
rekha May 28, 2020

+26 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 3 शेयर
d.sharma May 28, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
radha सोनी May 28, 2020

+72 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 19 शेयर
rekha May 28, 2020

+10 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB