🙏🙏🔔जानकारी🔔🙏🙏👇👇

🙏🙏🔔जानकारी🔔🙏🙏👇👇
🙏🙏🔔जानकारी🔔🙏🙏👇👇
🙏🙏🔔जानकारी🔔🙏🙏👇👇
🙏🙏🔔जानकारी🔔🙏🙏👇👇

हनुमान धारा, चित्रकूट, उत्तर प्रदेश

उत्तर प्रदेश के सीतापुर नामक स्थान के समीप यह हनुमान मंदिर स्थापित है। सीतापुर से हनुमान धारा की दूरी तीन मील है। यह स्थान पर्वतमाला के मध्यभाग में स्थित है। पहाड़ के सहारे हनुमानजी की एक विशाल मूर्ति के ठीक सिर पर दो जल के कुंड हैं, जो हमेशा जल से भरे रहते हैं और उनमें से निरंतर पानी बहता रहता है। इस धारा का जल हनुमानजी को स्पर्श करता हुआ बहता है। इसीलिए इसे हनुमान धारा कहते हैं।

धारा का जल पहाड़ में ही विलीन हो जाता है। उसे लोग प्रभाती नदी या पातालगंगा कहते हैं। इस स्थान के बारे में एक कथा इस प्रकार प्रसिद्ध है- श्रीराम के अयोध्या में राज्याभिषेक होने के बाद एक दिन हनुमानजी ने भगवान श्रीरामचंद्र से कहा- हे भगवन। मुझे कोई ऐसा स्थान बतलाइए, जहां लंका दहन से उत्पन्न मेरे शरीर का ताप मिट सके। तब भगवान श्रीराम ने हनुमानजी को यह स्थान बताया।

+395 प्रतिक्रिया 30 कॉमेंट्स • 185 शेयर

कामेंट्स

Yogesh Kumar Sharma Jan 7, 2018
जय सूर्यायः नमः जय श्री कृष्ण राधे राधे जी

Rajesh singh Jan 7, 2018
Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree Ram Jai Shree

+42 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 117 शेयर

+390 प्रतिक्रिया 71 कॉमेंट्स • 228 शेयर

+109 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 60 शेयर

+53 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 114 शेयर

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 15 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB