जय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति दर्शन मार्ते मन कमाना पूर्ति जय देव जय देव जय देव जय देव, जय मंगल मूर्

#गणेशजी

जय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति दर्शन मार्ते मन कमाना पूर्ति जय देव जय देव
जय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति दर्शन मार्ते मन कमाना पूर्ति जय देव जय देव
सुख करता दुखहर्ता, वार्ता विघ्नाची नूर्वी पूर्वी प्रेम कृपा जयाची सर्वांगी सुन्दर उतिशेंदु राची कंठी झलके माल मुखता पधांची
जय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति दर्शन मार्ते मन कमाना पूर्ति जय देव जय देव
रत्नखचित फरा तुझ गौरीकुमरा चंदनाची उती कुमकुम के सहारा हीरे जडित मुकुट शोभतो बरा रुन्झुनती नूपुरे चरनी घागरिया
जय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति दर्शन मारते मन कमाना पूर्ति जय देव जय देव
लम्बोदर पीताम्बर फनिवर वंदना सरल सोंड वक्रतुंडा त्रिनयना दास रामाचा वाट पाहे सदना संकटी पावावे निर्वाणी रक्षावे सुरवर वंदना
जय देव जय देव, जय मंगल मूर्ति दर्शन मारते मन कमाना पूर्ति जय देव जय देव
शेंदुर लाल चढायो अच्छा गजमुख को दोन्दिल लाल बिराजे सूत गौरिहर को हाथ लिए गुड लड्डू साई सुरवर को महिमा कहे ना जाय लागत हूँ पद को
जय जय जय जय जयजय जय जी गणराज विद्यासुखदाता धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता जय देव जय देव
अष्ट सिधि दासी संकट को बैरी विघन विनाशन मंगल मूरत अधिकारी कोटि सूरज प्रकाश ऐसे छबी तेरी गंडस्थल मद्मस्तक झूल शशि बहरी
जय जय जय जय जय जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता जय देव जय देव
भावभगत से कोई शरणागत आवे संतति संपत्ति सबही भरपूर पावे ऐसे तुम महाराज मोको अति भावे गोसावीनंदन निशिदिन गुण गावे
जय जय जी गणराज विद्यासुखदाता धन्य तुम्हारो दर्शन मेरा मत रमता जय देव जय देव


((((((((( जय लम्बोदर की)))))))))


सीमा शरद वार्ष्णेय

+257 प्रतिक्रिया 14 कॉमेंट्स • 374 शेयर

कामेंट्स

SEEMA Aug 25, 2017
जय गणपति राजा

Rakesh Yadav Aug 25, 2017
#गणेशजी गणेश चतुर्थी की कहानी The Story Behind Ganesh Chaturthi Hindi एक बार की बात है सभी देवता बहुत ही मुश्किल में थे। सभी देव गण शिवजी के शरण में अपनी मुश्किलों के हल के लिए पहुंचे। उस समय भगवान शिवजी के साथ गणेश और कार्तिकेय भी वहीँ बैठे थे। देवताओं की मुश्किल को देखकर शिवजी नें गणेश और कार्तिकेय से प्रश्न पुछा – तुममें से कौन देवताओं की मुश्किलों को हल करेगा और उनकी मदद करेगा। जब दोनों भाई मदद करने के लिए तैयार हो गए तो शिवजी नें उनके सामने एक प्रतियोगिता रखा। इस प्रतियोगिता के अनुसार दोनों भाइयों में जो भी सबसे पहले पृथ्वी की परिक्रमा करके लौटेगा वही देवताओं की मुश्किलों में मदद करेगा। जैसे ही शिवजी नें यह बात कही – कार्तिकेय अपनी सवारी मोर पर बैठ कर पृथ्वी की परिक्रमा करने चले गए। परन्तु गणेश जी वही अपनी जगह पर खड़े रहे और सोचने लगे की वह मूषक की मदद से पुरे पृथ्वी का चक्कर कैसे लगा सकते हैं? उसी समय उनके मन में एक उपाय आया। वे अपने पिता शिवजी और माता पारवती के पास गए और उनकी सात बार परिक्रमा करके वापस अपनी जगह पर आकर खड़े हो गए। कुछ समय बाद कार्तिकेय पृथ्वी का पूरा चक्कर लगा कर वापस पहुंचे और स्वयं को विजेता कहने लगे। तभी शिवजी नें गणेश जी की ओर देखा और उनसे प्रश्न किया – क्यों गणेश तुम क्यों पृथ्वी की परिक्रमा करने नहीं गए? तभी गणेश जी ने उत्तर दिया – “माता पिता में ही तो पूरा संसार बसा है?” चाहे में पृथ्वी की परिक्रमा करूँ या अपने माता पिता की एक ही बात है। यह सुन कर शिवजी बहुत खुश हुए और उन्होंने गणेश जी को सभी देवताओं के मुश्किलों को दूर करने की आज्ञा दी। :: साथ ही शिवजी नें गणेश जी को यह भी आशीर्वाद दिया कि कृष्ण पक्ष के चतुर्थी में जो भी व्यक्ति तुम्हारी पूजा और व्रत करेगा उसके सभी दुःख दूर होंगे और भौतिक सुखों की प्राप्ति होगी। हाथी भगवान The Elephant God – Lord Ganesha.. एक दिन पारवती माता स्नान करने के लिए गयी लेकिन वहां पर कोई भी रक्षक नहीं था। इसलिए उन्होंने चंदन के पेस्ट से एक लड़के को अवतार दिया और उसका नाम रखा गणेश। माता पारवती नें गणेश से आदेश दिया की उनकी अनुमति के बिना किसी को भी घर के अंदर ना आने दिया जाये।

Indu Bhatia Aug 25, 2017
JAI SHREE GANESHA 👏🍀🌿🌹🌺🍍🍒🍓🍈🍏🍐🌸🌼👌👏🍇🍌

Virtual Temple Mar 27, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Virtual Temple Mar 27, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Virtual Temple Mar 27, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
RRD Bhakti Sagar✔ Mar 27, 2020

+7 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 2 शेयर
RRD Bhakti Sagar✔ Mar 27, 2020

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 4 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+7 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Virtual Temple Mar 26, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB