T.K
T.K Oct 18, 2018

🚩जय माता दी🚩

🚩जय माता दी🚩

🚩शुभ रात्रि🚩

+45 प्रतिक्रिया 10 कॉमेंट्स • 264 शेयर

कामेंट्स

Lok Nath Dadhich Oct 18, 2018
Om har har mahadev ki jay ho msg read very nice message and nice video like many many thanksji Sir

MAMTA Kapoor Apr 24, 2019

+29 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 24 शेयर

+674 प्रतिक्रिया 60 कॉमेंट्स • 735 शेयर
Swami Lokeshanand Apr 24, 2019

कौशल्याजी ने भरतजी को अपनी गोद में बैठा लिया और अपने आँचल से उनके आँसू पोंछने लगीं। कौशल्याजी को भरतजी की चिंता हो आई। दशरथ महाराज भी कहते थे, कौशल्या! मुझे भरत की बहुत चिंता है, कहीं राम वनवास की आँधी भरत के जीवन दीप को बुझा न डाले। राम और भरत मेरी दो आँखें हैं, भरत मेरा बड़ा अच्छा बेटा है, उन दोनों में कोई अंतर नहीं है। और सत्य भी है, संत और भगवान में मात्र निराकार और साकार का ही अंतर है। अज्ञान के वशीभूत होकर, अभिमान के आवेश में आकर, कोई कुछ भी कहता फिरे, उनके मिथ्या प्रलाप से सत्य बदल नहीं जाता कि भगवान ही सुपात्र मुमुक्षु को अपने में मिला लेने के लिए, साकार होकर, संत बनकर आते हैं। वह परमात्मा तो सर्वव्यापक है, सबमें है, सब उसी से हैं, पर सबमें वह परिलक्षित नहीं होता, संत में भगवान की भगवत्ता स्पष्ट झलकने लगती है। तभी तो जिसने संत को पहचान लिया, उसे भगवान को पहचानने में देरी नहीं लगी, जो सही संत की दौड़ में पड़ गया, वह परमात्मा रूपी मंजिल को पा ही गया। भरतजी आए तो कौशल्याजी को लगता है जैसे रामजी ही आ गए हों। भरतजी कहते हैं, माँ! कैकेयी जगत में क्यों जन्मी, और जन्मी तो बाँझ क्यों न हो गई ? कौशल्याजी ने भरतजी के मुख पर हाथ रख दिया। कैकेयी को क्यों दोष देते हो भरत! दोष तो मेरे माथे के लेख का है। ये माता तुम पर बलिहारी जाती है बेटा, तुम धैर्य धारण करो। यों समझते समझाते सुबह हो गई और वशिष्ठजी का आगमन हुआ। यद्यपि गुरुजी भी बिलखने लगे, पर उन्होंने भरतजी के माध्यम से, हम सब के लिए बहुत सुंदर सत्य सामने रखा। कहते हैं, छ: बातें विधि के हाथ हैं, इनमें किसी का कुछ बस नहीं है और नियम यह है कि अपरिहार्य का दुख नहीं मनाना चाहिए। "हानि लाभ जीवन मरण यश अपयश विधि हाथ"

+19 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 18 शेयर

+16 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Bal Krishan Apr 24, 2019

+30 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 17 शेयर

+93 प्रतिक्रिया 16 कॉमेंट्स • 225 शेयर
Shiva Gaur Apr 24, 2019

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
PRAMIL KUMAR SHARMA Apr 24, 2019

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sompal Prajapati Apr 24, 2019

+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 32 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB