माँ तारादेवी जी का आरती दर्शन।

काली घाट शक्तिपीठ के साथ ही पश्चिम बंगाल के बीरभूम जिले में शक्तिपीठ स्थापित है जो माँ तारा देवी को समर्पित है।स्थानीय भाषा में तारा का अर्थ होता है आँख और पीठ का अर्थ है स्थल अत: यह मंदिर आँख के स्थल के रूप में पूजा जाता है।पुराण कथाओ के अनुसार माँ सती के नयन (तारा ) इसी जगह गिरे थे और इस शक्तिपीठ की स्थापना हुई। यह मंदिर तांत्रिक क्रियाकलापो के लिए भी जाना जाता है। प्राचीन काल में यह जगह चंदीपुर के नाम से जाना जाता था, अब इसे तारापीठ कहते है।

+1180 प्रतिक्रिया 75 कॉमेंट्स • 211 शेयर

कामेंट्स

Rajeev Ranjan Sep 1, 2017
बिना शमशान मे लाश आये ...... नही खुलता मंदिर का पट नही खुलता .... जय मां तारा🚩

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB