।। बुधवार 21 अप्रैल 2021 का पंचांग ।।

।। बुधवार 21 अप्रैल 2021 का पंचांग ।।

+201 प्रतिक्रिया 33 कॉमेंट्स • 122 शेयर

कामेंट्स

Vijay C Pandey Apr 21, 2021
jai Mata Di jai shree Ram 🌷🌷🥀🥀🙏🙏🙏🙏🌹🌹🌺🌺🌺jai shree ganeshay namah 🌺🌺🙏🙏

Sahdev Singh Apr 21, 2021
🙏🙏🍀🍀जय माता शेरावाली की🍀🍀🙏🙏

RAJ RATHOD Apr 21, 2021
💐🚩🙏शुभ चैत्र शुक्ल नवमी 🙏🚩💐 🌸🌅🌅शुभ बुधवार 🌅🌅🌸 🙏जय श्री माँ सिध्दिदात्री 🙏 🌹🚩🏹जय श्री राम 🏹🚩🌹 🌺🌺मोक्ष एवं अष्टसिध्दि प्रदायिनी माँ सिध्दिदात्री एवं मर्यादा पुरुषोत्तम श्री राम जी की कृपा से आपका सदा मंगल हो 🌺🌺

दुर्गा शर्मा Apr 21, 2021
जय श्रीराम 💞 जय माता दी जय श्री राधे कृष्णा राधे राधे💞 🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹🌹

Krishna Krishna Apr 21, 2021
see all friends good morning Jai shree krishna krishna 🙏🙏 ahemdabad Gujratसुप्रभात

suchit sinha Apr 21, 2021
जय जय श्री राधे जी जय हो जय जय श्री राधे कृष्ण जी जय हो जय

Surender Verma Apr 21, 2021
🙏राधे राधे राधे राधे🙏जय श्री श्याम🙏

rajender Apr 21, 2021
shubh dopahar vandan ji, ram naumi ke hardik shubh kamnaye. ⚘⚘🙏🙏⚘

🌞 ~ *आज का हिन्दू पंचांग* ~ 🌞 ⛅ *दिनांक 14 मई 2021* ⛅ *दिन - शुक्रवार* ⛅ *विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077)* ⛅ *शक संवत - 1943* ⛅ *अयन - उत्तरायण* ⛅ *ऋतु - ग्रीष्म* ⛅ *मास - वैशाख* ⛅ *पक्ष - शुक्ल* ⛅ *तिथि - तृतीया पूर्ण रात्रि तक* ⛅ *नक्षत्र - मॄगशिरा पूर्ण रात्रि तक* ⛅ *योग - सुकर्मा 15 मई रात्रि 01:47 तक तत्पश्चात धृति* ⛅ *राहुकाल - सुबह 10:57 से दोपहर 12:35 तक* ⛅ *सूर्योदय - 06:02* ⛅ *सूर्यास्त - 19:07* ⛅ *दिशाशूल - पश्चिम दिशा में* ⛅ *व्रत पर्व विवरण - अक्षय तृतीया (पूरा दिन शुभ मुहूर्त), त्रेता युगादि तिथि, अखा तीज, विष्णुपदी संक्रांति (पुण्यकाल दोपहर 12:35 से सूर्यास्त तक), तृतीया वृद्धि तिथि* 💥 *विशेष - तृतीया को परवल खाना शत्रुओं की वृद्धि करने वाला है।(ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34)* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *विष्णुपदी संक्रांति* 🌷 ➡ *जप तिथि : 14 मई 2021 शुक्रवार को ( विष्णुपदी संक्रांति )* *पुण्य काल सुबह दोपहर 12:35 से सूर्यास्त तक |* 🙏🏻 *विष्णुपदी संक्रांति में किये गये जप-ध्यान व पुण्यकर्म का फल लाख गुना होता है | – (पद्म पुराण , सृष्टि खंड)* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 🌷 *अक्षय तृतीया* 🌷 ➡ *14 मई 2021 शुक्रवार को अक्षय तृतीया है ।* 🙏🏻 *'अक्षय' शब्द का मतलब है- जिसका क्षय या नाश न हो। इस दिन किया हुआ जप, तप, ज्ञान तथा दान अक्षय फल देने वाला होता है अतः इसे 'अक्षय तृतीया' कहते हैं।* 🌷 *वैशाखे मासि राजेन्द्र! शुक्लपक्षे तृतीयिका। अक्षया सा तिथिः प्रोक्ता कृत्तिकारोहिणीयुता। तस्यां दानादिकं सर्व्वमक्षयं समुदाहृतमिति* 🙏🏻 *भविष्यपुराण, मत्स्यपुराण, पद्मपुराण, विष्णुधर्मोत्तर पुराण, स्कन्दपुराण में इस तिथि का विशेष उल्लेख है। इस दिन जो भी शुभ कार्य किए जाते हैं, उनका बड़ा ही श्रेष्ठ फल मिलता है। इस दिन सभी देवताओं व पित्तरों का पूजन किया जाता है। पित्तरों का श्राद्ध कर धर्मघट दान किए जाने का उल्लेख शास्त्रों में है। वैशाख मास भगवान विष्णु को अतिप्रिय है अतः विशेषतः विष्णु जी की पूजा करें।* 🙏🏻 *भविष्यपुराण, ब्राह्मपर्व, अध्याय 21 के अनुसार* *वैशाखे मासि राजेन्द्र तृतीया चन्दनस्य च। वारिणा तुष्यते वेधा मोदकैर्भीम एव हि ।।* *दानात्तु चन्दनस्येह कञ्जजो नात्र संशयः। यात्वेषा कुरुशार्दूल वैशाखे मासि वै तिथिः।।* *तृतीया साऽक्षया लोके गीर्वाणैरभिनन्दिता। आगतेयं महाबाहो भूरि चन्द्रं वसुव्रता।।* *कलधौतं तथान्नं च घृतं चापि विशेषतः। यद्यद्दत्तं त्वक्षयं स्यात्तेनेयमक्षया स्मृता।।* *यत्किञ्चिद्दीयते दानं स्वल्पं वा यदि वा बहु। तत्सर्वमक्षयं स्याद्वै तेनेयमक्षया स्मृता।।* *योऽस्यां ददाति करकन्वारिबीजसमन्वितान्। स याति पुरुषो वीर लोकं वै हेममालिनः।।* *इत्येषा कथिता वीर तृतीया तिथिरुत्तमा। यामुपोष्य नरो राजन्नृद्धिं वृद्धिं श्रियं भजेत्।।* 🙏🏻 *वैशाख मास की तृतीया को चन्दनमिश्रित जल तथा मोदक के दान से ब्रह्मा तथा सभी देवता प्रसन्न होते हैं |* 🙏🏻 *देवताओं ने वैशाख मास की तृतीया को अक्षय तृतीया कहा है | इस दिन अन्न-वस्त्र-भोजन-सुवर्ण और जल आदि का दान करनेसे अक्षय फल की प्राप्ति होती है | इसी तृतीया के दिन जो कुछ भी दान किया जाता है वह अक्षय हो जाता है और दान देनेवाले सूर्यलोक को प्राप्त करता है | इस तिथि को जो उपवास करता है वह ऋद्धि-वृद्धि और श्री से सम्पन्न हो जाता है |* 🙏🏻 *स्कन्दपुराण के अनुसार, जो मनुष्य अक्षय तृतीया को सूर्योदय काल में प्रातः स्नान करते हैं और भगवान विष्णु की पूजा करके कथा सुनते हैं, वे मोक्ष के भागी होते हैं। जो उस दिन मधुसूदन की प्रसन्नता के लिए दान करते हैं, उनका वह पुण्यकर्म भगवान की आज्ञा से अक्षय फल देता है।* 🙏🏻 *भविष्यपुराण के मध्यमपर्व में कहा गया है* *वैशाखे शुक्लपक्षे तु तृतीयायां तथैव च ।* *गंगातोये नरः स्नात्वा मुच्यते सर्वकिल्बिषैः ।।* 🙏🏻 *वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया में गंगाजी में स्नान करनेवाला सब पापों से मुक्त हो जाता हैं | वैशाख मास की तृतीया स्वाती नक्षत्र और माघ की तृतीया रोहिणीयुक्त हो तथा आश्विन तृतीया वृषराशि से युक्त हो तो उसमें जो भी दान दिया जाता है, वह अक्षय होता है | विशेषरूप से इनमें हविष्यान्न एवं मोदक देनेसे अधिक लाभ होता है तथा गुड़ और कर्पुरसे युक्त जलदान करनेवाले की विद्वान् पुरुष अधिक प्रंशसा करते हैं, वह मनुष्य ब्रह्मलोक में पूजित होता हैं | यदि बुधवार और श्रवण से युक्त तृतीया हो तो उसमें स्नान और उपवास करनेसे अनंत फल प्राप्त होता हैं |* 🌷 *अस्यां तिथौ क्षयमुर्पति हुतं न दत्तं ।* *तेनाक्षयेति कथिता मुनिभिस्तृतीया ।* *उद्दिश्य दैवतपितृन्क्रियते मनुष्यै: ।* *तत् च अक्षयं भवति भारत सर्वमेव ।। – मदनरत्न* ➡ *अर्थ : भगवान श्रीकृष्ण युधिष्ठरसे कहते हैं, हे राजन इस तिथिपर किए गए दान व हवनका क्षय नहीं होता है; इसलिए हमारे ऋषि-मुनियोंने इसे ‘अक्षय तृतीया’ कहा है । इस तिथिपर भगवानकी कृपादृष्टि पाने एवं पितरोंकी गतिके लिए की गई विधियां अक्षय-अविनाशी होती हैं ।* 🌞 *~ हिन्दू पंचांग ~* 🌞 जय श्री राधे राधे🙏🙏🚩🚩🚩

+51 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 261 शेयर
Pt Vinod Pandey 🚩 May 13, 2021

🌞 ~ आज का हिन्दू #पंचांग ~ 🌞 ⛅ दिनांक 14 मई 2021 ⛅ दिन - #शुक्रवार ⛅ विक्रम संवत - 2078 (गुजरात - 2077) ⛅ शक संवत - 1943 ⛅ अयन - उत्तरायण ⛅ ऋतु - ग्रीष्म  ⛅ मास - वैशाख ⛅ पक्ष - शुक्ल  ⛅ तिथि - तृतीया पूर्ण रात्रि तक ⛅ नक्षत्र - मॄगशिरा पूर्ण रात्रि तक ⛅ योग - सुकर्मा 15 मई रात्रि 01:47 तक तत्पश्चात धृति ⛅ राहुकाल - सुबह 10:57 से दोपहर 12:35 तक ⛅ सूर्योदय - 06:02  ⛅ सूर्यास्त - 19:07  ⛅ दिशाशूल - पश्चिम दिशा में ⛅ व्रत पर्व विवरण - अक्षय तृतीया (पूरा दिन शुभ मुहूर्त), त्रेता युगादि तिथि, अखा तीज, विष्णुपदी संक्रांति (पुण्यकाल दोपहर 12:35 से सूर्यास्त तक), तृतीया वृद्धि तिथि   💥 विशेष - तृतीया को परवल खाना शत्रुओं की वृद्धि करने वाला है। (ब्रह्मवैवर्त पुराण, ब्रह्म खंडः 27.29-34) 🌷 विष्णुपदी संक्रांति 🌷 ➡ जप तिथि : 14 मई 2021 शुक्रवार को ( विष्णुपदी संक्रांति ) पुण्य काल सुबह दोपहर 12:35 से सूर्यास्त तक। 🙏🏻 विष्णुपदी संक्रांति में किये गये जप-ध्यान व पुण्यकर्म का फल लाख गुना होता है। – (पद्म पुराण , सृष्टि खंड) 🌷 अक्षय तृतीया 🌷 ➡ 14 मई 2021 शुक्रवार को अक्षय तृतीया है।  🙏🏻 'अक्षय' शब्द का मतलब है- जिसका क्षय या नाश न हो। इस दिन किया हुआ जप, तप, ज्ञान तथा दान अक्षय फल देने वाला होता है अतः इसे 'अक्षय तृतीया' कहते हैं। 🌷 वैशाखे मासि राजेन्द्र! शुक्लपक्षे तृतीयिका। अक्षया सा तिथिः प्रोक्ता कृत्तिकारोहिणीयुता। तस्यां दानादिकं सर्व्वमक्षयं समुदाहृतमिति 🙏🏻 भविष्यपुराण, मत्स्यपुराण, पद्मपुराण, विष्णुधर्मोत्तर पुराण, स्कन्दपुराण में इस तिथि का विशेष उल्लेख है। इस दिन जो भी शुभ कार्य किए जाते हैं, उनका बड़ा ही श्रेष्ठ फल मिलता है। इस दिन सभी देवताओं व पित्तरों का पूजन किया जाता है। पित्तरों का श्राद्ध कर धर्मघट दान किए जाने का उल्लेख शास्त्रों में है। वैशाख मास भगवान विष्णु को अतिप्रिय है अतः विशेषतः विष्णु जी की पूजा करें।  🙏🏻 भविष्यपुराण, ब्राह्मपर्व, अध्याय 21 के अनुसार वैशाखे मासि राजेन्द्र तृतीया चन्दनस्य च। वारिणा तुष्यते वेधा मोदकैर्भीम एव हि।। दानात्तु चन्दनस्येह कञ्जजो नात्र संशयः। यात्वेषा कुरुशार्दूल वैशाखे मासि वै तिथिः।। तृतीया साऽक्षया लोके गीर्वाणैरभिनन्दिता। आगतेयं महाबाहो भूरि चन्द्रं वसुव्रता।। कलधौतं तथान्नं च घृतं चापि विशेषतः। यद्यद्दत्तं त्वक्षयं स्यात्तेनेयमक्षया स्मृता।। यत्किञ्चिद्दीयते दानं स्वल्पं वा यदि वा बहु। तत्सर्वमक्षयं स्याद्वै तेनेयमक्षया स्मृता।। योऽस्यां ददाति करकन्वारिबीजसमन्वितान्। स याति पुरुषो वीर लोकं वै हेममालिनः।। इत्येषा कथिता वीर तृतीया तिथिरुत्तमा। यामुपोष्य नरो राजन्नृद्धिं वृद्धिं श्रियं भजेत्।। 🙏🏻 वैशाख मास की तृतीया को चन्दनमिश्रित जल तथा मोदक के दान से ब्रह्मा तथा सभी देवता प्रसन्न होते हैं। 🙏🏻 देवताओं ने वैशाख मास की तृतीया को अक्षय तृतीया कहा है। इस दिन अन्न-वस्त्र-भोजन-सुवर्ण और जल आदि का दान करनेसे अक्षय फल की प्राप्ति होती है। इसी तृतीया के दिन जो कुछ भी दान किया जाता है वह अक्षय हो जाता है और दान देनेवाले सूर्यलोक को प्राप्त करता है। इस तिथि को जो उपवास करता है वह ऋद्धि-वृद्धि और श्री से सम्पन्न हो जाता है। 🙏🏻 स्कन्दपुराण के अनुसार, जो मनुष्य अक्षय तृतीया को सूर्योदय काल में प्रातः स्नान करते हैं और भगवान विष्णु की पूजा करके कथा सुनते हैं, वे मोक्ष के भागी होते हैं। जो उस दिन मधुसूदन की प्रसन्नता के लिए दान करते हैं, उनका वह पुण्यकर्म भगवान की आज्ञा से अक्षय फल देता है।  🙏🏻 भविष्यपुराण के मध्यमपर्व में कहा गया है वैशाखे शुक्लपक्षे तु तृतीयायां तथैव च। गंगातोये नरः स्नात्वा मुच्यते सर्वकिल्बिषैः।। 🙏🏻 वैशाख शुक्ल पक्ष की तृतीया में गंगाजी में स्नान करनेवाला सब पापों से मुक्त हो जाता हैं। वैशाख मास की तृतीया स्वाती नक्षत्र और माघ की तृतीया रोहिणीयुक्त हो तथा आश्विन तृतीया वृषराशि से युक्त हो तो उसमें जो भी दान दिया जाता है, वह अक्षय होता है। विशेषरूप से इनमें हविष्यान्न एवं मोदक देनेसे अधिक लाभ होता है तथा गुड़ और कर्पुरसे युक्त जलदान करनेवाले की विद्वान् पुरुष अधिक प्रंशसा करते हैं, वह मनुष्य ब्रह्मलोक में पूजित होता हैं। यदि बुधवार और श्रवण से युक्त तृतीया हो तो उसमें स्नान और उपवास करनेसे अनंत फल प्राप्त होता हैं। 🌷 अस्यां तिथौ क्षयमुर्पति हुतं न दत्तं।  तेनाक्षयेति कथिता मुनिभिस्तृतीया।  उद्दिश्य दैवतपितृन्क्रियते मनुष्यै:।  तत् च अक्षयं भवति भारत सर्वमेव।। – मदनरत्न ➡ अर्थ : भगवान श्रीकृष्ण युधिष्ठरसे कहते हैं, हे राजन इस तिथिपर किए गए दान व हवनका क्षय नहीं होता है; इसलिए हमारे ऋषि-मुनियोंने इसे ‘अक्षय तृतीया’ कहा है। इस तिथिपर भगवानकी कृपादृष्टि पाने एवं पितरोंकी गतिके लिए की गई विधियां अक्षय-अविनाशी होती हैं। 🌐http://www.vkjpandey.in 🙏🏻🌷🌻🍀🌹🌼💐🌸🌺🙏🏻 https://t.me/OnlineMandir 🚩 दैनिक पंचांग, राशिफल, व्रत त्योहार तथा हिन्दू धार्मिक जानकारी जैसे पोस्ट पाने के लिए हमारे व्हाट्सएप समूह ऑनलाइन मंदिर से जुड़े। 🤳 लिंक- 👇🏻 https://chat.whatsapp.com/I0lnC06D3bfGIhcWkRZPBb

+13 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 91 शेयर

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄सुप्रभातम🌄 🗓आज का पञ्चाङ्ग🗓 🌻शुक्रवार, १४ मई २०२१🌻 सूर्योदय: 🌄 ०५:३६ सूर्यास्त: 🌅 ०६:५६ चन्द्रोदय: 🌝 ०६:५८ चन्द्रास्त: 🌜२१:२७ अयन 🌕 उत्तराणायने (उत्तरगोलीय) ऋतु: 🍁 ग्रीष्म शक सम्वत: 👉 १९४३ (प्लव) विक्रम सम्वत: 👉 २०७८ (राक्षस) मास 👉 वैशाख पक्ष 👉 शुक्ल तिथि 👉 द्वितीया (०५:३८ तक) नक्षत्र 👉 रोहिणी (०५:४५ तक) योग 👉 सुकर्मा (२५:४७ तक) प्रथम करण 👉 कौलव (०५:३८ तक) द्वितीय करण 👉 तैतिल (१८:५१ तक) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 वृष (२३:२३ से) चंद्र 🌟 मिथुन (१९:१३ से) मंगल 🌟 मिथुन (उदित, पूर्व, मार्गी) बुध 🌟 वृष (उदित, पूर्व, मार्गी) गुरु 🌟 कुम्भ (उदय, पूर्व, मार्गी) शुक्र 🌟 वृष (उदय, पश्चिम, मार्गी) शनि 🌟 मकर (उदय, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 वृष केतु 🌟 वृश्चिक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त 👉 ११:४६ से १२:४१ अमृत काल 👉 २२:४७ से २४:३५ विजय मुहूर्त 👉 १४:३० से १५:२४ गोधूलि मुहूर्त 👉 १८:४९ से १९:१३ निशिता मुहूर्त 👉 २३:५२ से २४:३४ राहुकाल 👉 १०:३१ से १२:१३ राहुवास 👉 दक्षिण-पूर्व यमगण्ड 👉 १५:३८ से १७:२० होमाहुति 👉 सूर्य दिशाशूल 👉 पश्चिम नक्षत्र शूल 👉 पश्चिम (०५:४५ तक) अग्निवास 👉 आकाश चन्द्रवास 👉 दक्षिण (पश्चिम १९:१४ से) 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - चर २ - लाभ ३ - अमृत ४ - काल ५ - शुभ ६ - रोग ७ - उद्वेग ८ - चर ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - रोग २ - काल ३ - लाभ ४ - उद्वेग ५ - शुभ ६ - अमृत ७ - चर ८ - रोग नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 पश्चिम-दक्षिण (दहीलस्सी अथवा राई का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️〰️〰️〰️ तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ अक्षय तृतीया (आखा तीज), श्री परशुराम+हयग्रीव+नर नारायण जन्मोत्सव, संक्रान्ति सूर्य वृष में (पुण्यकाल मध्याह्न बाद), विवाहादि मुहूर्त गौधुली सायं ०७:१३ से ०९:२४ तक, उपनयन+चूड़ाकर्म संस्कार+व्यवसाय आरम्भ+नीव खुदाई एवं गृहारम्भ+गृह प्रवेश+विधा एवं अक्षरारम्भ एवं देवप्रतिष्ठा मुहूर्त प्रातः ०५:४४ से १०:४३ तक, भूमि-भवन+वाहन क्रय-विक्रय मुहूर्त १२:२३ से १४:०४ तक आदि। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ आज ०५:५४ तक जन्मे शिशुओ का नाम रोहिणी नक्षत्र के चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (वू) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम मृगशिरा नक्षत्र के प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमश (वे, वो, क, की) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त मेष - २७:५६ से ०५:३० वृषभ - ०५:३० से ०७:२५ मिथुन - ०७:२५ से ०९:३९ कर्क - ०९:३९ से १२:०१ सिंह - १२:०१ से १४:२० कन्या - १४:२० से १६:३८ तुला - १६:३८ से १८:५९ वृश्चिक - १८:५९ से २१:१८ धनु - २१:१८ से २३:२२ मकर - २३:२२ से २५:०३ कुम्भ - २५:०३ से २६:२९ मीन - २६:२९ से २७:५२ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त रज पञ्चक - ०५:२४ से ०५:३० शुभ मुहूर्त - ०५:३० से ०५:३८ चोर पञ्चक - ०५:३८ से ०५:४५ शुभ मुहूर्त - ०५:४५ से ०७:२५ रोग पञ्चक - ०७:२५ से ०९:३९ शुभ मुहूर्त - ०९:३९ से १२:०१ मृत्यु पञ्चक - १२:०१ से १४:२० अग्नि पञ्चक - १४:२० से १६:३८ शुभ मुहूर्त - १६:३८ से १८:५९ रज पञ्चक - १८:५९ से २१:१८ शुभ मुहूर्त - २१:१८ से २३:२२ चोर पञ्चक - २३:२२ से २५:०३ शुभ मुहूर्त - २५:०३ से २६:२९ रोग पञ्चक - २६:२९ से २७:५२ चोर पञ्चक - २७:५२ से २९:२३ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज का दिन उदासीनता में व्यतीत करेंगे जल्दी से किसी भी कार्य मे परिश्रम करने का मन नही करेगा जिसके परिणामस्वरूप लाभ भी अल्प होगा। आज आप यथार्थ को छोड़ काल्पनिक दुनिया मे खोये रहेंगे आपके लिये जो कार्य असंभव है उनकी कल्पना करने पर बाद में मन हीन भावना से ग्रस्त होगा। धन लाभ के लिये किसी के सहयोग की आवश्यकता पड़ेगी शारीरिक रूप से ना सही लेकिन व्यवहारिक रूप से सक्रिय रहना आज अत्यंत आवश्यक है। मध्यान बाद भविष्य में लाभ कमाने के अवसर हाथ लगेंगे दुविधा में ना पड़े ये हितकर ही रहेंगे। घर मे किसी ना किसी से मामूली नोकझोंक होगी। अकस्मात धन लाभ होने पर सेहत को भूल जाएंगे। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज आप घर अथवा कार्य क्षेत्र पर चाहकर भी सुव्यवस्था नही बना पाएंगे उल्टे जो कार्य ठीक चल रहे है वो भी गलत मार्गदर्शन अथवा जल्दबाजी में बिगड़ सकते है। मध्यान तक धन कमाने की आपाधापी में गिरती सेहत की अनदेखी करेंगे जिसका विपरीत परिणाम संध्या से देखने को मिलेगा। थकान एवं हाथ पैरों में शिथिलता आने लगेगी पेट संबंधित समस्या बढ़ने पर अन्य शारीरिक अंगों को निष्क्रिय करेगी। धन लाभ प्रयास करने पर अवश्य होगा लेकिन अनर्गल कार्यो में तुरंत खर्च भी हो जाएगा। प्रलोभन में आपके साथ ठगी हो सकती है। परिजनों से पूर्व में किया गलत व्यवहार आज दुखी करेगा। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आप आज दिन के मध्यान भाग तक कोई महत्त्वपूर्ण निर्णय ना लें अन्यथा हानि होने पर मनोबल टूटेगा। दिनचार्य आज अस्त व्यस्त अधिक रहेगी मन मे नकारत्मक भाव आएंगे कार्यो के प्रति लापरवाह भी रहेंगे परिजन अथवा सहकर्मी सही सलाह देंगे लेकिन मतिभ्रम के कारण ये आपको गलत लगेंगे। दोपहर के बाद से स्थिति में सुधार आने लगेगा फिर भी धन संबंधित कार्य कल तक के लिये टालना ही बेहतर रहेगा। घर मे किसी के हाथ नुकसान हो सकता है मशीनरी अथवा अन्य खतरे वाले कार्यो में अतिरिक्त सावधानी बरतें। संध्या बाद का समय दिन की तुलना में शांति से व्यतीत होगा मनोरंजन के अवसर मिलने से मानसिक हालात सुधरेगी। पुराना रोग फिर से बन सकता है संयम बरतें। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज के दिन आप धन संबंधित कार्यो को छोड़ अन्य सभी कार्यो से सम्मान पाने के हकदार बनेंगे। आर्थिक उलझने दिन के आरंभ से अंत तक किसी ना किसी रूप में परेशान करेंगी कार्य समय से पूर्ण करने के बाद भी धन की आमद को लेकर इंतजार करना पड़ेगा किसी बुजुर्ग व्यक्ति का सहयोग मिलने से थोड़ी उलझनों से राहत मिलेगी। मध्यान बाद का समय सामाजिक कार्यो के लिये निकालना पड़ेगा गृहस्थ अथवा रिश्तेदारी में ना चाहते हुए भी खर्च करना पड़ेगा। पारिवारिक वातावरण में शांति रहेगी आपके किसी उत्कृष्ट कार्य से परिजन गर्व करेंगे। स्वास्थ्य संबंधित छोटी मोटी समस्याएं लगी रहेंगी फिर भी दिनचार्य व्यवस्थित रहेगी। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज आपको दिन के पहले हिस्से में लाभ पाने के प्रस्ताव आएंगे लेकिन दुविधा के कारण प्रतिस्पर्धी इसका लाभ उठा सकते है। कार्य व्यवसाय से आज उन्नति की आशा लगा सकते है। दोपहर तक कि भगदौड़ एक समय व्यर्थ होती प्रतीत होगी धैर्य रखें जल्दबाजी में कोई गलत निर्णय बाद में पश्चाताप का कारण बन सकता है। धन अथवा अन्य लाभ आज अकस्मात ही होगा पर होगा जरूर। घर मे खाने पीने की वस्तुओं अथवा अन्य सुखोपभोग के सामान पर खर्च करना पड़ेगा। कार्य क्षेत्र पर भी कुछ ना कुछ खर्च लगे रहेंगे। धन संबंधित समस्या संध्या बाद नही रहेगी फिर भी किसी से वादा ना करें। घर के सदस्य किसी महत्त्वपूर्ण विषय को लेकर चिंतित होंगे। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज मध्यान तक कि दिनचार्य को अस्त व्यस्त ना होने दे अन्यथा ना चाहकर भी व्यर्थ के कामो में समय खराब होने पर मध्यान बाद से बनने वाली शुभ स्थिति का लाभ नही उठा सकेंगे। दिन के आरंभ में शारीरिक दुर्बलता अनुभव होगी जिसके चलते दैनिक कार्यो में विलंब हो सकता है। नौकरी वाले लोग आज किसी दुविधा में फंसे रहेंगे दोपहर तक मेहनत का फल ना मिलने से मन मे निराशा रहेगी धैर्य रखें इसके बाद का समय कार्य सिद्धि दायक रहेगा दिन भर के प्रयास संध्या के आस-पास फलित होंगे फिर भी संतोषी वृति अपनाए ज्यादा के चक्कर मे कम से भी वंचित रह सकते है। घर मे शुभ समाचार मिलने से आनंद छाया रहेगा फिर भी व्यर्थ बोलने से बचें। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज के दिन आपको बीते कल की तुलना में थोड़ी राहत मिलेगी। आज भी मध्यान तक मानसिक दुविधायें एवं असंतोष की भावना लाभ से दूर रखेंगी। स्वास्थ्य में सुधार आएगा लेकिन पूरी तरह से नही कठिन परिश्रम करने पर मर्ज दोबारा बढ़ सकता है इससे बचें। कार्य व्यवसाय को लेकर मानसिक चिंताए दिन भर लगी रहेंगी किसी ना किसी कारण से व्यवसाय में धन संबंधित मामले अटके रहेंगे। मध्यान बाद से पूण्य उदय होंगे धर्म कर्म में रुचि बढ़ेगी लेकिन मन मे स्वार्थ पूर्ति की भावना रहने के कारण आध्यात्म का लाभ नही मिल सकेगा। परिजन आपसे सहानुभूति रखेंगे कुछ मतलब भी साधेंगे। यात्रा से बचें चोटादि का भय है। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज का दिन मिश्रित फलदायी रहेगा। दिन के आरंभिक भाग में जितनी मेहनत करेंगे उसका लाभ मध्यान तक मिल जाएगा आज लापरवाही से बचें अन्यथा मध्यान बाद स्थिति प्रतिकूल होने पर सभी कार्य बाधित होने लगेंगे लाभ की जगह हानि होने की संभावना अधिक रहेगी। मानसिक रूप से तरोताजा रहेंगे फिर भी आलसी वृति कार्यो में विलंब कराएगी। कार्य क्षेत्र पर व्यवसाय आशा से कम ही रहेगा। सहकर्मी अथवा परिजन आज भावुक रहेंगे जिससे स्थिति कों सम्भालना परेशानी में डालेगा। दोपहर बाद जिस भी कार्य से लाभ की उम्मीद रखेंगे उसके विपरीत फल मिलेंगे। संध्या से सेहत में भी गिरावट आने लगेगी। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज दिन का आरंभ भाग असमंजस की स्थिति के कारण कार्य शून्य रहेगा। जो करना चाहेंगे वातावरण उसके विपरीत बनेगा लेकिन धैर्य रखें ये परेशानी कुछ समय के लिये ही रहेगी मध्यान बाद से स्थिति अनुकूल बनने लगेगी सोची हुई योजनाओ में आज पूरी तरह से सफलता तो नही मिलेगी फिर भी भविष्य के प्रति निश्चिन्त करने वाले कार्य होंगे। धन की आमद आज सामान्य रहेगी व्यवहारिकता बनाये रखें तो निकट भविष्य में किसी विशेष व्यक्ति का महत्त्वपूर्ण सहयोग मिल सकता है जो कि जीवन को नई दिशा देने में सहायक बनेगा। नौकरी वाले लोग खर्च से परेशान रहेंगे। पारिवारिक स्थिति दिन की अपेक्षा संध्या बाद बेहतर अनुभव होगी। सेहत में आज मामूली नरमी रहेगी। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज के दिन कुछ रोचक घटनाये घटेंगी दिन का पूर्वार्ध नई संभावनाए लेकर आएगा। कार्य क्षेत्र पर आज गंभीर रहेंगे। किसी परिचित से आश्चर्य में डालने वाले समाचार मिलेंगे। आपके कार्य मे बाधा डालने वाले लोग आस पास ही रहेंगे मध्यान तक इनका असर नही होगा लेकिन मध्यान बाद कुछ ना कुछ गड़बड़ अवश्य होगी। जिन्हें अपना हितैषी समझ रहे है वे ही आपकी चुगली कर वातावरण खराब करेंगे। धन की आमद दोपहर तक सामान्य रहेगी पुराने कार्यो से लाभ होगा। दोपहर बाद अधिकांश कार्य किसी अन्य के कारण अधूरे रह जाएंगे घर का वातावरण भी आज अचानक गर्म होगा विशेषकर महिलाए वाणी पर नियंत्रण रखें। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज दिन के मध्यान तक आपको शांति रहने की सलाह है आज भी व्यावसायिक कारणों से मानसिक बेचैनी रहेगी ऊपर से घरेलू उलझने रहने पर अधिक दबाव में कार्य करना पड़ेगा। दिन के आरंभिक भाग में बचते बचते भी घर के सदस्य अशांति का वातावरण बनाएंगे। परिजन किसी ना किसी कारण से असंतुष्ट ही रहेंगे यही हाल कार्य क्षेत्र पर भी रहेगा सहकर्मी अथवा अधिकारी वर्ग आपकी एक गलती के इंतजार में रहेंगे आज मनमौजी व्यवहार से बचे अन्यथा बाद में स्वयं के ऊपर ही ग्लानि होगी। धन संबंधित मामले भी कलह का कारण बनेंगे व्यवहार में स्पष्टता रखें बदनामी होने का भय है। अतिआवश्यक कार्यो को पूर्ण करने के लिये संध्या तक प्रतीक्षा करने लाभदायक रहेगा। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज का दिन धन लाभ वाला है लेकिन अपनी वाणी को सही जगह प्रयोग करें अन्यथा जहां लाभ की संभावना रहेगी वहां किसी से कलह भी हो सकती है। मध्यान से पहले महत्त्वपूर्ण कार्य पूरे करने का प्रयास करें आज लाभ कमाना आसान लगेगा लेकिन इतना आसान भी नही होगा। कार्यो को मामूली समझ ढील देंगे बाद में परेशानी होगी फिर भी आज धन लाभ कही ना कही से हो ही जायेगा। व्यवसायी वर्ग जोड़ तोड़ की नीति अपनाएंगे जिससे बिक्री तो होगी पर उचित लाभ नही मिल सकेगा। नौकरी पेशा आज संतोषी स्वभाव के रहेंगे। परोपकार की भावना आज कम ही रहेगी परेशान व्यक्ति को भी टरकाने के प्रयास में रहेंगे। गृहस्थ में बाहर की अपेक्षा शांति मिलेगी। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️

+40 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 105 शेयर

🏵️🕉️शुभ शुक्रवार🏵️शुभ प्रभात् 🕉️🏵️ 2078-विजय श्री हिंदू पंचांग-राशिफल-1943 🏵️-आज दिनांक--14.05.2021-🏵️ श्री ज्योतिष सेवा संस्थान भीलवाड़ा (राज.) 74.30 - रेखांतर मध्यमान - 75.30 शिक्षा नौकरी आजीविका प्रेम विवाह भाग्योदय (प्रामाणिक जानकारी--प्रभावी समाधान) --------------------------------------------------------- -विभिन्न शहरों के लिये रेखांतर(समय) संस्कार- (लगभग-वास्तविक समय के समीप) दिल्ली +10मिनट---------जोधपुर -6 मिनट जयपुर +5 मिनट------अहमदाबाद-8 मिनट कोटा +5 मिनट-------------मुंबई-7 मिनट लखनऊ +25 मिनट------बीकानेर-5 मिनट कोलकाता +54 मिनट-जैसलमेर -15 मिनट ___________________________________ _____________आज विशेष_____________ अक्षय तृतीया पर बनता है अत्यंत शुभद् योग सफलता और धनलाभ में सहायक ____________________________________ आज दिनांक........................14.05.2021 कलियुग संवत्.............................. .5123 विक्रम संवत................................ .2078 शक संवत....................................1943 संवत्सर....................................श्री राक्षस अयन..................................... .उत्तरायण गोल.............................................उत्तर ऋतु.............................................ग्रीष्म मास...........................................वैशाख पक्ष....................................... शुक्ल तिथि.................... .तृतीया. संपूर्ण (अहोरात्र) वार...........................................शुक्रवार नक्षत्र................. .मृगशिरा. संपूर्ण (अहोरात्र) चंद्र राशि....... वृषभ. रात्रि. 7.13 तक / मिथुन योग............ .सुकर्मा. रात्रि. 1.44 तक / धृति करण............. तैत्तिल. सायं. 6.51 तक / गर ____________________________________ सूर्योदय...............................5.48.22 पर सूर्यास्त................................7.07.33 पर दिनमान............................... ..13.19.11 रात्रिमान.................................10.40.18 चंद्रोदय.................. प्रातः 7.24.23 AM पर चंद्रास्त...................रात्रि. 9.30.34 PM पर राहुकाल.... पूर्वाह्न. 10.48 से 12.28 (अशुभ) यमघंट...... अपरा. 3.48 से 5.28 तक(अशुभ) अभिजित........ (मध्या)12.01 से 12.55 तक पंचक.................................. आज नहीं है शुभ हवन मुहूर्त(अग्निवास)....... ..आज नहीं है दिशाशूल...............................पश्चिम दिशा दोष निवारण.........जौ का सेवन कर यात्रा करें ____________________________________ ____आज की सूर्योदय कालीन ग्रह स्थिति____ ग्रह स्पष्ट.. राशि.. सूर्य-----मेष 29°18' कृत्तिका, 1 अ चन्द्र--वृषभ 23°22' मृगशीर्षा, 1 वे बुध-----वृषभ 20°49' रोहिणी, 4 वु शुक्र --वृषभ 11°56' रोहिणी, 1 ओ मंगल----मिथुन 18°21' आद्रा, 4 छ बृहस्पति --कुम्भ 5°50' धनिष्ठा, 4 गे शनि -----मकर 19°22' श्रवण, 3 खे राहू----वृषभ 17°45' रोहिणी, 3 वी केतु----वृश्चिक 17°45' ज्येष्ठा, 1 नो ___________________________________ चौघड़िया (दिन-रात)........केवल शुभ कारक * चौघड़िया दिन * चंचल.................प्रातः 5.48 से 7.28 तक लाभ..................प्रातः 7.28 से 9.08 तक अमृत..............प्रातः 9.08 से 10.48 तक शुभ...............अपरा. 12.08 से 2.08 तक चंचल.................सायं. 5.28 से 7.08 तक * चौघड़िया रात्रि * लाभ................रात्रि. 9.48 से 11.08 तक शुभ....रात्रि. 12.28 AM से 1.48 AM तक अमृत....रात्रि. 1.48 AM से 3.08 AM तक चंचल... रात्रि. 3.08 AM से4.28 AM. तक (विशेष - ज्योतिष शास्त्र में एक शुभ योग और एक अशुभ योग साथ साथ आते हैं तो शुभ योग की स्वीकार्यता मानी गई है ) ___________________________________ *शुभ शिववास की तिथियां* शुक्ल पक्ष-2-----5-----6---- 9-------12----13. कृष्ण पक्ष-1---4----5----8---11----12----30. ____________________________________ जानकारी विशेष -यदि किसी बालक का जन्म गंड मूल(रेवती, अश्विनी, अश्लेषा, मघा, ज्येष्ठा और मूल) नक्षत्रों में होता है तो नक्षत्र शांति को आवश्यक माना गया है.. आज जन्मे बालकों का नक्षत्र के चरण अनुसार राशिगत नामाक्षर.. 12.29 PM तक--मृगशिरा-----1-------(वे) 07.13 PM तक--मृगशिरा-----2------(वो) (पाया - स्वर्ण) __________सभी की राशि वृषभ__________ 01.56 AM तक--मृगशिरा-----3------(क) उपरांत रात्रि तक--मृगशिरा -----4------(की) (पाया-स्वर्ण ) __________सभी की राशि मिथुन _________ ___________________________________ ____________आज का दिन_____________ दिन विशेष..........अक्षय तृतीया (अबूझ सिद्ध) दिन विशेष......... वृषभेsर्क. रात्रि. 11.11 पर व्रत विशेष...................................... नहीं नियमित व्रत............. वैशाख स्नान व्रत जारी पर्व विशेष............ श्री परशुराम प्राकट्योत्सव सर्वा.सि.योग................................... नहीं सिद्ध रवियोग.................................. नहीं ____________________________________ _____________कल का दिन_____________ दिनांक..............................15.05 2021 तिथि........वैशाख शुक्ला तृतीया(द्वि) शनिवार दिन विशेष.............भद्रा.9.03 से रात्रि पर्यंत व्रत विशेष...................................... नहीं नियमित व्रत............. वैशाख स्नान व्रत जारी पर्व विशेष.......................................नहीं सर्वा.सि.योग................................... नहीं सिद्ध रवियोग......... प्रातः 8.38 से रात्रि पर्यंत ____________________________________ _____________आज विशेष _____________ अक्षय तृतीया पर बेहद शुभ योग, इन उपायों से प्रसन्‍न होंगी मां लक्ष्‍मी, होगी धन वृद्धि 1/6 अक्षय तृतीया बेहद शुभ योग अक्षय तृतीया हर साल वैशाख मास के शुक्‍ल पक्ष की तृतीया को मनाई जाती है और इस त्‍योहार को धन वृद्धि और सुख समृद्धि से जोड़कर देखा जाता है। मान्‍यता है कि पूरे साल का यह सबसे शुभ मुहूर्त माना जाता है। मान्‍यता है कि इस दिन बिना पंचांग देखे या फिर कोई शुभ मुहूर्त निकलवाए बिना कोई भी शुभ कार्य किया जा सकता है। वहीं जब अक्षय तृतीया पर कई शुभ संयोग हों तो इसका महत्‍व और बढ़ जाता है। इस बार भी ऐसा ही कुछ होने जा रहा है। इस बार अक्षय तृतीया बेहद शुभ योग में होने की वजह से अगर इस दिन धन वृद्धि के लिए कुछ उपाय आजमाए जाएं तो हमें अक्षय फल की प्राप्ति होती है। आइए जानते हैं कौन से हैं ये शुभ योग और क्‍या हैं उपाय… 2/6 अक्षय तृतीया पर हैं ये शुभ योग ज्‍योतिष के अनुसार इस बार अक्षय तृतीया बेहद शुभ योग में मनाई जाएगी। इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग एवं मानस योग बन रहे हैं। जो कि बेहद शुभ योग माने जाते हैं। मान्‍यता है कि इन योग में मां लक्ष्‍मी की पूजा करने या फिर दान पुण्‍य करने से हमें विशेष फल की प्राप्ति होती है। सर्वार्थ सिद्धि योग होने से इस दिन विवाह, गृह प्रवेश, भूमि पूजन और नया व्यापार आरंभ करने के कार्य बिना कोई मुहूर्त निकलवाए संपन्‍न किए जा सकते हैं। इसके अलावा मां लक्ष्‍मी को समर्पित यह त्‍योहार शुक्रवार को मनाया जा रहा है। शुक्रवार का दिन भी मां लक्ष्‍मी की पूजा को समर्पित होता है। इस दिन सच्‍चे मन से मां लक्ष्‍मी का स्‍मरण करने से आपको अक्षय फल की प्राप्ति होगी। 3/6 कौड़ियों का टोटका धन प्राप्ति का उपाय करने के लिए अक्षय तृतीया का अवसर बेहद खास माना जाता है। इसके लिए हम आपको बता रहे हैं सफेद कौड़ियों का बेहद सरल उपाय। अक्षय तृतीया के दिन 11 कौड़ियां लेकर उसे लाल कपड़े में बांधकर पूजा के स्‍थान में रखें और अगले दिन सुबह स्‍नान करने के बाद पूजा करके ये कौड़ियां अपने धन के स्‍थान में रख लें। ऐसा करने से आपके घर में पैसा रुकने लगेगा और मां लक्ष्‍मी भी आपसे प्रसन्‍न होंगी। इस उपाय को करने से आपको अपने जीवन में यश, कीर्ति और मान-सम्‍मान प्राप्‍त होगा। 4/6 नारियल का उपाय मां लक्ष्‍मी को नारियल सबसे प्रिय माना जाता है और अक्षय तृतीया के दिन नार‍ियल का उपाय करने से हमारे घर में धन का आगमन होता है। आपको करना यह है कि अक्षत तृतीया के दिन मां लक्ष्‍मी के समक्ष एकाक्षी नारियल लाकर स्‍थापित कर दें। ऐसा करने से मां लक्ष्‍मी आप से प्रसन्‍न होंगी और आपको मनचाहे परिणाम प्राप्‍त होंगे। इस टोटके को आजमाने से आपके घर में कभी भी धन-धान्‍य की कमी नहीं होगी। 5/6 शादी में आ रही हो बाधा तो करें यह उपाय यह उपाय मुख्‍य रूप से उन माता-पिता के लिए है जो अपनी संतान के विवाह को लेकर परेशान रहते हैं। इस दिन आपके आस-पास जो विवाह हो रहे हों तो वहां जाकर कन्‍या को दान स्‍वरूप कुछ जरूर दें। ऐसा करने से आपके बच्‍चों के विवाह में हो रही देरी खत्‍म हो जाती है। ऐसा करने से आपके अपने भी कष्‍ट दूर होते हैं और मां लक्ष्‍मी आप से प्रसन्‍न होती हैं। 6/6 पितरों की कृपा के लिए करें यह उपाय अक्षय तृतीया के दिन किए गए दान का अक्षय फल प्राप्‍त होता है। पितरों को प्रसन्‍न करने के लिए इस दिन दान करने का विशेष महत्‍व माना गया है। अक्षय तृतीया के दिन पितरों के निमित्‍त कलश, पंखा, चप्‍पल, छाता, ककड़ी और खरबूजा दान करने का विशेष महत्‍व माना जाता है। इस दिन किसी जरूरतमंद साधु-संत को फल, शक्‍कर और घी का दान करने से खास फल प्राप्‍त होता है। इस टोटके को करने से भगवान विष्‍णु के साथ ही मां लक्ष्‍मी भी प्रसन्‍न होती हैं ---------------------------------------------------------- *संकलनकर्त्ता* श्री ज्योतिष सेवाश्रम सेवाश्रम संस्थान (राज) ___________________________________ ___________आज का राशिफल__________ मेष-(चू चे चो ला ली लू ले लो अ) आज अच्छी सेहत के लिए आप दूर तक पैदल घूमें। आज घर से बाहर बड़ों का आशीर्वाद लेकर निकलें इससे आपको धन लाभ हो सकता है। आपका जीवनसाथी आपकी सहायता करेगा और मददगार साबित होगा। आज आपके दिल की धड़कनें अपने प्रिय के साथ ताल-से-ताल मिलाती मालूम होंगी। जी हाँ, यह प्यार का ही ख़ुमार है। काम में धीमी प्रगति हल्का-सा मानसिक तनाव दे सकती है। आज खाली वक्त्त किसी बेकार के काम में खराब हो सकता है। आज आपका आपस में कुछ ज्यादा विवाद हो सकता है जिसके दूरगामी परिणाम वैवाहिक जीवन के लिए नकारात्मक हो सकते हैं। वृषभ-(इ उ एओ वा वी वू वे वो) आज का दिन मौज-मस्ती और आनन्द से भरा रहेगा- क्योंकि आप ज़िन्दगी को पूरी तरह जिएंगे। आपके माता पिता आपकी फिजूलखर्ची को देखकर आज चिंतित हो सकते हैं और इसलिए आपको उनके गुस्से का शिकार भी होना पड़ सकता है। जिन्हें भावनात्मक संबल की ज़रूरत है, वे पाएंगे कि बड़े मदद के लिए आगे आ रहे हैं। आप रोमांटिक ख़यालों और सपनों की दुनिया में खोए रहेंगे। आज आपके पास अपनी धनार्जन की क्षमता को बढ़ाने के लिए ताक़त और समझ दोनों ही होंगे। दिक़्क़तों का तेज़ी से मुक़ाबला करने की आपकी क्षमता आपको ख़ास पहचान दिलाएगी। अगर आप वैवाहिक तौर पर लंबे समय से कुछ नाख़ुश हैं, तो आज के दिन आप हालात बेहतर होते हुए महसूस कर सकते हैं। मिथुन- (क की कू घ ङ छ के को ह) आज के दिन आपकी ऊँची बौद्धिक क्षमताएँ आपको कमियों से लड़ने में सहायता करेंगी। सिर्फ़ सकारात्मक विचारों के ज़रिए इन समस्याओं से निजात पायी जा सकती है। जिन लोगों ने लोन लिया था आज उन्हें उस लोन की राशि को चुकाने में दिक्कतें आ सकती हैं। आपको परिवार के सदस्यों और दोस्तों के साथ बिताने के लिए पर्याप्त समय मिलेगा। एक प्यारी-सी मुस्कुराहट से अपने प्रेमी का दिन रोशन करें। आपको अपनी प्रतिभा दिखाने का अच्छा मौक़ा मिलेगा। भरपूर रचनात्मकता और उत्साह आपको एक और फ़ायदेमंद दिन की ओर ले जाएंगे। जीवनसाथी के साथ थोड़ा हँसी-मज़ाक़ आपको किशोरावस्था के दिनों की याद दिला देंगे। कर्क- (ही हू हे हो डा डी डू डे डो) आज आप ख़ुद को सुकून में और ज़िंदगी का आनंद उठाने के लिए सही मनोदशा में पाएंगे। आप ख़ुद को नए रोमांचक हालात में पाएंगे- जो आपको आर्थिक फ़ायदा पहुँचाएंगे। ऐसे विवादास्पद मुद्दों पर बहस करने से बचें, जो आपके और प्रियजनों के बीच गतिरोध पैदा कर सकते हैं। समय, कामकाज, पैसा, यार-दोस्त, नाते-रिश्ते सब एक ओर और आपका प्यार एक तरफ़, दोनों आपस में खोए हुए - कुछ ऐसा मिज़ाज रहेगा आपका आज। अपनी कोशिशों को सही दिशा दें और आपको असाधारण क़ामयाबी से नवाज़ा जाएगा। इस राशि के जातक आज लोगों से मिलने से ज्यादा अकेले में वक्त बिताना पसंद करेंगे। आज आपका खाली समय घर की सफाई में बीत सकता है। जीवनसाथी के साथ यह एक बढ़िया दिन गुज़रने वाला है। सिंह- (मा मी मू मे मो टा टी टू टे) आज आपको आउटडोर के खेल आकर्षित करेंगे- ध्यान और योग आपको फ़ायदा पहुँचाएंगे। अनचाहा कोई महमान आज आपके घर आ सकता है जिसके आने से आपको घर के उन समानों पर भी खर्चा करना पड़ सकता है जिनको आपने अगले महीने पर टाला हुआ था। घर पर मेहमानों का आना दिन को बढ़िया और ख़ुशगवार बना देगा। आज का दिन रोमांस से भरपूर होने की पूरी संभावना है। आपका वर्चस्ववादी स्वभाव आलोचना की वजह बन सकता है। लोग आपके बारे में क्या सोचते हैं आज आपको इस बात से कोई फर्क नहीं पड़ेगा। बल्कि आज आप खाली समय में किसी से मिलना जुलना भी पसंद नहीं करेंगे और एकांत में आनंदित रहेंगे। आपको और आपके जीवनसाथी को कोई बहुत सुखद ख़बर सुनने को मिल सकती है। कन्या- (टो प पी पू ष ण ठ पे पो) आप अपने जीवन को चिर-स्थायी न मानें और जीवन के प्रति सजगता को अपनाएँ। आज आपको अपने भाई या बहन की मदद से धन लाभ होने की संभावना है। अपने मित्रों या संबंधियों को अपना आर्थिक काम-काज और रुपये-पैसे का प्रबंधन न करने दें, नहीं तो जल्दी ही आप आपने तयशुदा बजट से कहीं आगे निकल जाएंगे। बेवजह का शक रिश्तों को खराब करने का काम करता है। आपको भी अपने प्रेमी पर शक नहीं करना चाहिए। यदि किसी बात को लेकर आपके मन में उनके प्रति संशय है तो उनके साथ बैठकर हल निकालने की कोशिश करें। नयी साझीदारी आज के दिन फलदायी रहेगी। दीर्घावधि में कामकाज के सिलसिले में की गयी यात्रा फ़ायदेमंद साबित होगी। जीवनसाथी से बिना पूछे योजना बनाएंगे, तो उनकी ओर से नकारात्मक प्रतिक्रिया मिल सकती है। तुला- (रा री रू रे रो ता ती तू ते) आज आपका प्रबल आत्मविश्वास और आज के दिन का आसान कामकाज मिलकर आपको आराम के लिए काफ़ी वक़्त देंगे। आज के दिन आपको शराब जैसे मादक तरल का सेवन नहीं करना चाहिए, नशे की हालत में आप कोई कीमती सामान खो सकते हैं। आपको बच्चों के साथ कुछ समय बिताने, उन्हें अच्छे संस्कार देने और उनकी ज़िम्मेदारी समझाने की ज़रूरत है। सिर्फ़ स्पष्ट समझ के माध्यम से आप अपनी पत्नी/पति को भावनात्मक सहारा दे सकते हैं। अपनी कार्यकुशलता बढ़ाने के लिए नयी तकनीकों का सहारा लें। आपकी शैली और काम करने का नया अन्दाज़ उन लोगों में दिलचस्पी पैदा करेगा, जो आप पर नज़दीकी से ग़ौर करते हैं। जो भी आपसे मिले, उसके साथ विनम्र और सुखद व्यवहार करें। बहुत कम लोग ही आपके इस आकर्षण का राज़ जान पाएंगे। आज के दिन जीवन साथी पर किया गया संदेह आने वाले दिनों में आपके वैवाहिक जीवन पर बुरा प्रभाव डाल सकता है। वृश्चिक- (तो ना नी नू ने नो या यी यू) आज आपकी सेहत बढ़िया रहेगी। आपकी माता पक्ष से आज आपको धन लाभ होने की पूरी संभावना है। हो सकता है कि आपके मामा या नाना आपकी आर्थिक मदद करें। अगर आपको किसी ऐसी जगह से बुलावा आया है जहाँ पहले आप कभी नहीं गए हैं, तो कृतज्ञता से उसे स्वीकार कर लें। यात्रा के चलते रुमानी संबंध को बढ़ावा मिलेगा। लगता है कि आपके विरष्ठ आज देवदूतों जैसा व्यवहार करने वाले हैं। अगर आपको लगता है कि कुछ लोगों की संगति करना आपके लिए ठीक नहीं है और उनके साथ रहकर आपका समय बर्बाद होता है तो उनका साथ आपको छोड़ देना चाहिए। आपका जीवनसाथी आपको इतना बेहतरीन पहले कभी महसूस नहीं हुआ। आपको उनसे कोई बढ़िया सरप्राइज़ मिल सकता है। धनु-ये यो भा भी भू धा फा ढ़ा भे) आज अपने विचार और ऊर्जा को उन कामों में लगाएँ, जिनसे आपके सपने हक़ीक़त का रूप ले सकते हैं। सिर्फ़ ख़याली पुलाव पकाने से कुछ नहीं होता है। अभी तक आपके साथ समस्या यह है कि आप कोशिश करने की बजाय केवल इच्छा करते हैं। किसी करीबी रिश्तेदार की मदद से आज आप अपने करोबार में अच्छा कर सकते हैं जिससे आपको आर्थिक लाभ भी होगा। प्रभावशाली और महत्वपूर्ण लोगों से परिचय बढ़ाने के लिए सामाजिक गतिविधियाँ अच्छा मौक़ा साबित होंगी। प्रेम भगवान की पूजा की ही तरह पवित्र है। यह आपको सच्चे अर्थों में धर्म व आध्यात्मिकता की ओर भी ले जा सकता है। निर्णय लेते समय अपने अहम को बीच में न आने दें, अपने कनिष्ठ सहकर्मियों की बात पर ग़ौर फ़रमाएँ। आपको याद रखने की ज़रूरत है कि भगवान उसी की मदद करता है, जो ख़ुद अपनी मदद करता है। आपका जीवनसाथी किसी ख़ूबसूरत सरप्राइज़ से आपका दिन बना सकता है। मकर- (भो जा जी खी खू खे खो गा गी) आपका आकर्षक बर्ताव दूसरों का ध्यान आपकी तरफ़ खींचेगा। आप ऐसे स्रोत से धन अर्जित कर सकते हैं, जिसके बारे में आपने पहले सोचा तक न हो। घर में कुछ बदलाव लाने के लिए पहले बाक़ी लोगों की राय भली-भांति जान लें। आज आपको महसूस होगा कि आपका महबूब आपसे कितना प्यार करता है। आज आपने जो नई जानकारी हासिल की है, वह आपको अपने प्रतिस्पर्धियों पर बढ़त दिलाएगी। अगर आप लंबे समय से अपने जीवन में किसी रोचक चीज़ के होने का इंतज़ार कर रहे हैं, तो निश्चय ही आपको उसके संकेत दिखाई देने लगेंगे। जीवनसाथी की मासूमियत आपके दिन को ख़ास बना सकती है। कुंभ- (गू गे गो सा सी सू से सो द) आज सफलता क़रीब होने के बावजूद आपकी ऊर्जा के स्तर में गिरावट आएगी। आज आपका सामना कई नई आर्थिक योजनाओं से होगा- कोई भी फ़ैसला करने से पहले अच्छाईयों और कमियों पर सावधानी से ग़ौर फ़रमाएँ। रिश्तेदारों और दोस्तों से अचानक उपहार मिलेगा। ख़ुशी के लिए नए संबंध की प्रतीक्षा करें। अपना रवैया ईमानदार और स्पष्टवादी रखें। लोग आपकी दृढ़ता और क्षमताओं को सराहेंगे। यात्रा के मौक़ों को हाथ से नहीं जाने देना चाहिए। कोई पुराना दोस्त आपके और आपके जीवनसाथी की साझा यादों को तरोताज़ा कर सकता है। मीन- (दी दू थ झ ञ दे दो च ची) भले ही आप उत्साह से भरपूर हों, फिर भी आज आप किसी ऐसे की कमी महसूस करेंगे जो आज आपके साथ नहीं है। आपका कोई दोस्त आपसे आज बड़ी रकम उधार मांग सकता है, अगर आप उनको यह रकम देते हैं तो आप आर्थिक तंगी में आ सकते हैं। घरेलू ज़िन्दगी में कुछ तनाव का सामना करना पड़ सकता है। आज के दिन आप किसी क़ुदरती ख़ूबसूरती से ख़ुद को सराबोर महसूस करेंगे। सहकर्मियों और वरिष्ठों के पूरे सहयोग के चलते दफ़्तर में काम तेज़ रफ़्तार पकड़ लेगा। अपने व्यक्तित्व और रंग-रूप को बेहतर बनाने का कोशिश संतोषजनक साबित होगी। ऐसा लगता है कि आपके जीवनसाथी आज आपके ऊपर ख़ास ध्यान देंगे। __________________________________ 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ - संकलनकर्त्ता- ज्योतिर्विद् पं. रामपाल भट्ट श्री ज्योतिष सेवा संस्थान भीलवाड़ा (राज.) 🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️🏵️ __________________________________

+23 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 42 शेयर
HEMANT JOSHI May 14, 2021

............ ✦••• *_जय श्री हरि_* •••✦ .......... *_••••••✤••••┈••✦👣✦•┈•••••✤•••••_* 🧾 *_आज का पंचाग_* 🚩🙏🚩 *_शुक्रवार 14 मई 2021_* *_ॐ श्री महालक्ष्म्यै च विद्महे विष्णु पत्न्यै च धीमहि तन्नो लक्ष्मी प्रचोदयात् ॐ॥_* *_आज अक्षय तृतीया है। आज संसार के आराध्य भगवान परशुराम जी की जन्म जयन्ती है। भगवान नारायण के आवेशावतार भगवान परशुराम जी के जन्म जयन्ती की आप सभी को हार्दिक शुभकामनायें एवं अनन्त-अनन्त बधाइयाँ।।_* *_।। आप सभी का दिन मंगलमय हो ।।_* 🌌 *_दिन (वार) – शुक्रवार के दिन दक्षिणावर्ती शंख से भगवान विष्णु पर जल चढ़ाकर उन्हें पीले चन्दन अथवा केसर का तिलक करें। इस उपाय में मां लक्ष्मी जल्दी प्रसन्न हो जाती हैं।_* *_शुक्रवार के दिन नियम पूर्वक धन लाभ के लिए लक्ष्मी माँ को अत्यंत प्रिय “श्री सूक्त”, “महालक्ष्मी अष्टकम” एवं समस्त संकटो को दूर करने के लिए “माँ दुर्गा के 32 चमत्कारी नमो का पाठ” अवश्य ही करें ।_* *_शुक्रवार के दिन माँ लक्ष्मी को हलवे या खीर का भोग लगाना चाहिए ।_* *_शुक्रवार के दिन शुक्र ग्रह की आराधना करने से जीवन में समस्त सुख, ऐश्वर्य की प्राप्ति होती है, दाम्पत्य जीवन सुखमय होता है बड़ा भवन, विदेश यात्रा के योग बनते है।_* 🔮 *_विक्रम संवत् 2078 आनन्द, विक्रम सम्वत संवत्सर तदुपरि खिस्ताब्द आंग्ल वर्ष 2021_* 🔯 *_शक संवत – 1943,_* ☸️ *_कलि संवत 5122_* ☣️ *_अयन – उत्तरायण_* 🌦️ *_ऋतु – सौर ग्रीष्म ऋतु_* 🌤️ *_मास – बैशाख माह_* 🌒 *_पक्ष – शुक्ल पक्ष,_* 📆 *_तिथि - तृतीया पूर्ण रात्रि तक_* 📝 *_तिथि का स्वामी – तृतीया तिथि के स्वामी मां गौरी जी और देवताओं के कोषाध्यक्ष कुबेर देव जी है।_* 💫 *_नक्षत्र - पूर्व भाद्रपद – 12:26 तक तत्पश्चात उत्तर भाद्रपद_* 🪐 *_नक्षत्र के स्वामी – पूर्व भाद्रपद नक्षत्र के देवता अजचरण(अजपात नामक सूर्य ) जी है।_* 🔔 *_योग : वैधृति – 07:31 तक तत्पश्चात विष्कम्भ_* ⚡ *_प्रथम करण : – बालव – 03:32 तक_* ✨ *_द्वितीय करण :- कौलव – 04:23 तक_* 🔥 *_गुलिक काल : – शुक्रवार को शुभ गुलिक प्रात: 7:30 से 9:00 तक ।_* ⚜️ *_दिशाशूल - शुक्रवार को पश्चिम दिशा का दिकशूल होता है । यात्रा, कार्यों में सफलता के लिए घर से दही खाकर जाएँ ।_* 🤖 *_राहुकाल (अशुभ) – सुबह 09:00 बजे से 10:30 बजे तक।_* 🌟 *_अभिजित मुहूर्त पूर्वान्ह 11:51 एएम से 12:45 पीएम तक_* ✡️ *_विजय मुहूर्त दोपहर 02.33 पीएम से 03.27 पीएम तक_* 🗣️ *_निशिथ काल रात 11.56 एएम से 12.38 एएम तक (15 मई)_* 🐃 *_गोधूलि मुहूर्त शाम 06.51 पीएम से 07.15 पीएम तक_* 👸🏻 *_ब्रह्म मुहूर्त सुबह 04.07 एएम से 04.49 एएम तक (15 मई)_* 💧 *_अमृत काल रात 10:47 पीएम से 12:35 एएम तक (15 मई)_* 🚕 *_यात्रा शकुन- शुक्रवार को मीठा दही खाकर यात्रा पर निकलें।_* 👉🏼 *_आज का मंत्र-ॐ द्रां द्रीं द्रौं स: शुक्राय नम:।_* 🤷🏻‍♀️ *_आज का उपाय-मंदिर में जल से भरा पात्र अर्पित करें।_* 🌴 *_वनस्पति तंत्र उपाय-गूलर के वृक्ष में जल चढ़ाएं।_* 🌞 *_सूर्योदय – प्रातः 06:03:52_* 🌅 *_सूर्यास्त – सायं 19:05:59_* ⚛️ *_पर्व व त्योहार- गोदावरी स्नान, ग्रीष्म ऋतु प्रारंभ, जैन वर्षी तप पारण, शव्वाल मुस्लिम मास प्रारंभ, भगवान परशुराम जयंती, ईद उल फितर, छत्रपति श्री संभाजी महाराज जयंती, वृषभ संक्रांति, अक्षय तृतीया (अबूझ मुहूर्त)_* ✍🏼 *_विशेष – तृतीया तिथि में नमक एवं चतुर्थी को मूली का दान तथा भक्षण दोनों त्याज्य माना गया है। चतुर्थी को मूली एवं तिल का दान तथा भक्षण दोनों त्याज्य बताया गया है। तृतीया तिथि एक सबला और आरोग्यकारी तिथि मानी जाती है। इसकी स्वामी माता गौरी और कुबेर देवता हैं, जया नाम से विख्यात यह तिथि शुक्ल पक्ष में अशुभ तथा कृष्ण पक्ष में शुभफलदायिनी मानी जाती है।_* 🙏🚩🙏 🗽 *_Vastu tips_* 🗾 *_वास्तु शास्त्र में आज आचार्य श्री गोपी राम से जानिए घर में टूटे बर्तनों और आठ कोनों वाले आईने के बारे में। कुछ लोगों की आदत होती है कि चीज़ों को खराब होने के बाद भी वो उसे फेंकते नहीं है और यूज़ करते रहते हैं, लेकिन वास्तु शास्त्र के अनुसार घर में टूटे और दरार वाले बर्तनों को कभी भी नहीं रखना चाहिए।ऐसे बर्तनों में खाना खाने और दूसरों को खिलाने से घर में बिना वजह की परेशानियां बढ़ती हैं। साथ ही कर्ज लेने के चांसेज़ भी बढ़ जाते हैं। इसलिए कभी भी घर में टूटे या दरार वाले बर्तनों का उपयोग नहीं करना चाहिए।_* *_वास्तु के अनुसार घर में टूटा बेड या टूटी हुई खाट का इस्तेमाल भी नहीं करना चाहिए। साथ ही कर्ज और अन्य प्रकार की परेशानियों से बचने के लिये आप और क्या उपाय कर सकते हैं। इसके लिये आपको घर की उत्तर दिशा की तरफ अष्टकोणीय, यानी आठ कोनों वाला आईना लगाना चाहिए । घर में इस तरह का आईना लगाने से बहुत से शुभ फल मिलते हैं।_* ⏹️ *_जीवनोपयोगी कुंजियां_* ⚜️ *_गर्मी का मौसम अपने साथ कई बीमारियां लेकर आती है। इस मौसम में पेट से जुड़ी तरह-तरह की समस्याएं होना आम बात है। दस्त, लू लगना और पेचिश की परेशानी होने का खतरा ज्यादा रहता है। अगर आप इन सभी परेशानियों से दूर रहना चाहते हैं तो बेल का फल आपके लिए एक बेहतर विकल्प हो सकता है। इसका इस्तेमाल आमतौर पर लोग जूस या शरबत के रुप में करते हैं।_* *_पोषक तत्वों से भरपूर बेल का फल गर्मियों में पाया जाता है। इसका अंग्रेजी नाम wood apple है। यह आंतों को सेहतमंद रखता है जिससे पेट की सभी समस्याएं दूर रहती हैं। टैनिन, फ्लेवोनोइड्स और कैमारिन इसमें पाए जाने वाले जरूरी पोषक तत्व हैं, जो शरीर की सूजन को कम करते हैं। साथ ही पेट को मजबूत करता है और पाचन क्रिया को भी बढ़ाता है। इसके अलावा बेल में एंटी-फंगल और एंटीहेल्मिंटिक गुण होते हैं।_* 🌿 *_आरोग्य संजीवनी_* ☘️ *_नमक ज्यादा नमक का इस्तेमाल करने ब्लड प्रेशर बढ़ने की समस्या का सामना करना पड़ता है। इसके साथ ही इसका सेवन करने से किडनी पर भी बुरा असर पड़ता है। अगर आप प्राकृतिक रूप से क्रिएटिनिन लेवल को कम करना चाहते हैं तो नमक का सेवन न ही करें तो बेहतर है।_* *_अधिक सोडियम वाली चीजों का सेवन करने से भी क्रिएटिनिन लेवल बढ़ जाता है। अधिक मात्रा में सोडियम लेने से शरीर में फ्लूइड और हेल्थ को हानि पहुंचाने वाले स्तर तक स्टोर करने लगता है। जिसके कारण हाई बीपी की समस्या का सामना कतरना पड़ता है।_* *_एक्सरसाइज करें कम जब भी आपका शरीर अधिक एक्सरसाइज करता है, तब ये काफी तेजी से फूड को एनर्जी में बदलने लगता है। जिसकी वजह से ज्यादा क्रिएटिनिन बनता है और ब्लड में क्रिएटिनिन की मात्रा बढ़ जाती है। इसलिए ज्यादा रनिंग, वेट लिफ्टिंग करने या बास्केट बॉल खेलने के बजाय योग और टहलें।_* 🪔 *_गुरु भक्ति योग_* 🕯️ *_अक्षय तृतीया के दिन किए गए दान- पूजा करने का फल कई गुना अधिक मिलता है। ज्योतिषचार्यों के अनुसार इस दिन सोना खरीदना शुभ माना जाता है। इस बार अक्षय तृतीया 14 मई, शुकक्रवार को है। इस दिन मां लक्ष्मी के साथ भगवान विष्णु की पूजा करना शुभ मना जाता है। इससे घर पर खुशहाली आने के साथ सुख- समृद्धि आती है।_* 📚 *_शास्त्रों के अनुसार मां लक्ष्मी की दिशा दक्षिण मानी जाती है लेकिन अक्षय तृतीया के दिन वह ईशान कोण में विराजित हो जाती है। जिसके कारण भक्तों को मां की विशेष कृपा प्राप्त होती है। इतना ही नहीं इस दिन जो चीज आप खरीदेंगे उससे आपको लाभ मिलेगा। इसके साथ ही वह लंबे समय तक आपके साथ रहेगा।_* *_सोना खरीदना बहुत ही शुभ होगा। इससे मां लक्ष्मी प्रसन्न रहती है। इसदिन आप सोने की चाहे छोटी का नग ही खरीदे लेकिन खरीदे जरूर।_* *_मां लक्ष्मी की चरण पादुका - मां लक्ष्मी के चरण काफी शुभ माना जाता है। आप सोने या चांदी की पादुका खरीद सकते हैं और इसे ईशान कोण में रखें। इससे शुभ फलों की प्राप्ति होती है।_* *_कौड़ी - कौड़ियां मां लक्ष्मी की प्रतीक मानी जाती है। मां के आठ स्वरूपों को काफी ज्यादा प्रतिबृद्ध तरीके से जानते हैं। इसलिए इस दिन पीले रंग की आठ कौड़ियां लाकर ईशान कोण में रखें।_* *_एकाक्षी नारियल - अक्षय तृतीया के दिन एकाक्षी नारियल रखना शुभ माना जाता है। ईशान कोण में इसे रखने के साथ मां लक्ष्मी की पारद की मूर्ति जरूर रखें।_* *_शंख - दक्षिणावर्ती शंख को ईशान कोण में रखना शुभ माना जाता है, क्योंकि शंख को मां लक्ष्मी का प्रतीक माना जाता है।_* *_बांसुरी - अक्षय तृतीया के दिन बांसुरी ईशान कोण में रखना शुभ माना जाता है।_* *_●●●★᭄ॐ नमः श्री हरि नम: ★᭄●●●_* ⚜️ *_तृतीया तिथि केवल बुधवार की हो तो अशुभ मानी जाती है अन्यथा इस तिथि को सभी शुभ कार्यों में लिया जा सकता है। आज माता गौरी की पूजा करके व्यक्ति अपनी मनोवाँछित कामनाओं की पूर्ति कर सकता है। आज एक स्त्री माता गौरी की पूजा करके अचल सुहाग की कामना करे तो उसका पति सभी संकटों से मुक्त हो जाता है। आज भगवान कुबेर जी की विशिष्ट पूजा करनी चाहिये। देवताओं के कोषाध्यक्ष की पूजा आज तृतीया तिथि को करके मनुष्य अतुलनीय धन प्राप्त कर सकता है।_* *_मित्रों, तृतीया तिथि में जन्म लेने वाला व्यक्ति मानसिक रूप से अस्थिर होता है अर्थात उनकी बुद्धि भ्रमित होती है। इस तिथि का जातक आलसी और मेहनत से जी चुराने वाला होता है। ये दूसरे व्यक्ति से जल्दी घुलते मिलते नहीं हैं बल्कि लोगों के प्रति इनके मन में द्वेष की भावना भी रहती है। इनके जीवन में धन की कमी रहती है, इन्हें धन कमाने के लिए काफी मेहनत और परिश्रम करना पड़ता है।_* *_जय गोमाता_* *_जय गणेश जय शंकर_* *_सभी अपनो को प्रातः कालीन वन्दन -------🖌_* *_╚─━━━━━━░★░━━━━━━─╝_*

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर
Pt Vinod Pandey 🚩 May 13, 2021

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄 #सुप्रभातम 🌄 🗓 आज का #पञ्चाङ्ग 🗓 🌻शुक्रवार, १४ मई २०२१🌻 सूर्योदय: 🌄 ०५:३६ सूर्यास्त: 🌅 ०६:५६ चन्द्रोदय: 🌝 ०६:५८ चन्द्रास्त: 🌜२१:२७ अयन 🌕 उत्तराणायने (उत्तरगोलीय) ऋतु: 🍁 ग्रीष्म शक सम्वत: 👉 १९४३ (प्लव) विक्रम सम्वत: 👉 २०७८ (राक्षस) मास 👉 वैशाख पक्ष 👉 शुक्ल तिथि 👉 द्वितीया (०५:३८ तक) नक्षत्र 👉 रोहिणी (०५:४५ तक) योग 👉 सुकर्मा (२५:४७ तक) प्रथम करण 👉 कौलव (०५:३८ तक) द्वितीय करण 👉 तैतिल (१८:५१ तक) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 वृष (२३:२३ से) चंद्र 🌟 मिथुन (१९:१३ से) मंगल 🌟 मिथुन (उदित, पूर्व, मार्गी) बुध 🌟 वृष (उदित, पूर्व, मार्गी) गुरु 🌟 कुम्भ (उदय, पूर्व, मार्गी) शुक्र 🌟 वृष (उदय, पश्चिम, मार्गी) शनि 🌟 मकर (उदय, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 वृष केतु 🌟 वृश्चिक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त 👉 ११:४६ से १२:४१ अमृत काल 👉 २२:४७ से २४:३५ विजय मुहूर्त 👉 १४:३० से १५:२४ गोधूलि मुहूर्त 👉 १८:४९ से १९:१३ निशिता मुहूर्त 👉 २३:५२ से २४:३४ राहुकाल 👉 १०:३१ से १२:१३ राहुवास 👉 दक्षिण-पूर्व यमगण्ड 👉 १५:३८ से १७:२० होमाहुति 👉 सूर्य दिशाशूल 👉 पश्चिम नक्षत्र शूल 👉 पश्चिम (०५:४५ तक) अग्निवास 👉 आकाश चन्द्रवास 👉 दक्षिण (पश्चिम १९:१४ से) 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - चर २ - लाभ ३ - अमृत ४ - काल ५ - शुभ ६ - रोग ७ - उद्वेग ८ - चर ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - रोग २ - काल ३ - लाभ ४ - उद्वेग ५ - शुभ ६ - अमृत ७ - चर ८ - रोग नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 पश्चिम-दक्षिण (दहीलस्सी अथवा राई का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️〰️〰️〰️ तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ अक्षय तृतीया (आखा तीज), श्री परशुराम+हयग्रीव+नर नारायण जन्मोत्सव, संक्रान्ति सूर्य वृष में (पुण्यकाल मध्याह्न बाद), विवाहादि मुहूर्त गौधुली सायं ०७:१३ से ०९:२४ तक, उपनयन+चूड़ाकर्म संस्कार+व्यवसाय आरम्भ+नीव खुदाई एवं गृहारम्भ+गृह प्रवेश+विधा एवं अक्षरारम्भ एवं देवप्रतिष्ठा मुहूर्त प्रातः ०५:४४ से १०:४३ तक, भूमि-भवन+वाहन क्रय-विक्रय मुहूर्त १२:२३ से १४:०४ तक आदि। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ आज ०५:५४ तक जन्मे शिशुओ का नाम रोहिणी नक्षत्र के चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (वू) नामाक्षर से तथा इसके बाद जन्मे शिशुओ का नाम मृगशिरा नक्षत्र के प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमश (वे, वो, क, की) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त मेष - २७:५६ से ०५:३० वृषभ - ०५:३० से ०७:२५ मिथुन - ०७:२५ से ०९:३९ कर्क - ०९:३९ से १२:०१ सिंह - १२:०१ से १४:२० कन्या - १४:२० से १६:३८ तुला - १६:३८ से १८:५९ वृश्चिक - १८:५९ से २१:१८ धनु - २१:१८ से २३:२२ मकर - २३:२२ से २५:०३ कुम्भ - २५:०३ से २६:२९ मीन - २६:२९ से २७:५२ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त रज पञ्चक - ०५:२४ से ०५:३० शुभ मुहूर्त - ०५:३० से ०५:३८ चोर पञ्चक - ०५:३८ से ०५:४५ शुभ मुहूर्त - ०५:४५ से ०७:२५ रोग पञ्चक - ०७:२५ से ०९:३९ शुभ मुहूर्त - ०९:३९ से १२:०१ मृत्यु पञ्चक - १२:०१ से १४:२० अग्नि पञ्चक - १४:२० से १६:३८ शुभ मुहूर्त - १६:३८ से १८:५९ रज पञ्चक - १८:५९ से २१:१८ शुभ मुहूर्त - २१:१८ से २३:२२ चोर पञ्चक - २३:२२ से २५:०३ शुभ मुहूर्त - २५:०३ से २६:२९ रोग पञ्चक - २६:२९ से २७:५२ चोर पञ्चक - २७:५२ से २९:२३ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज का दिन उदासीनता में व्यतीत करेंगे जल्दी से किसी भी कार्य मे परिश्रम करने का मन नही करेगा जिसके परिणामस्वरूप लाभ भी अल्प होगा। आज आप यथार्थ को छोड़ काल्पनिक दुनिया मे खोये रहेंगे आपके लिये जो कार्य असंभव है उनकी कल्पना करने पर बाद में मन हीन भावना से ग्रस्त होगा। धन लाभ के लिये किसी के सहयोग की आवश्यकता पड़ेगी शारीरिक रूप से ना सही लेकिन व्यवहारिक रूप से सक्रिय रहना आज अत्यंत आवश्यक है। मध्यान बाद भविष्य में लाभ कमाने के अवसर हाथ लगेंगे दुविधा में ना पड़े ये हितकर ही रहेंगे। घर मे किसी ना किसी से मामूली नोकझोंक होगी। अकस्मात धन लाभ होने पर सेहत को भूल जाएंगे। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज आप घर अथवा कार्य क्षेत्र पर चाहकर भी सुव्यवस्था नही बना पाएंगे उल्टे जो कार्य ठीक चल रहे है वो भी गलत मार्गदर्शन अथवा जल्दबाजी में बिगड़ सकते है। मध्यान तक धन कमाने की आपाधापी में गिरती सेहत की अनदेखी करेंगे जिसका विपरीत परिणाम संध्या से देखने को मिलेगा। थकान एवं हाथ पैरों में शिथिलता आने लगेगी पेट संबंधित समस्या बढ़ने पर अन्य शारीरिक अंगों को निष्क्रिय करेगी। धन लाभ प्रयास करने पर अवश्य होगा लेकिन अनर्गल कार्यो में तुरंत खर्च भी हो जाएगा। प्रलोभन में आपके साथ ठगी हो सकती है। परिजनों से पूर्व में किया गलत व्यवहार आज दुखी करेगा। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आप आज दिन के मध्यान भाग तक कोई महत्त्वपूर्ण निर्णय ना लें अन्यथा हानि होने पर मनोबल टूटेगा। दिनचार्य आज अस्त व्यस्त अधिक रहेगी मन मे नकारत्मक भाव आएंगे कार्यो के प्रति लापरवाह भी रहेंगे परिजन अथवा सहकर्मी सही सलाह देंगे लेकिन मतिभ्रम के कारण ये आपको गलत लगेंगे। दोपहर के बाद से स्थिति में सुधार आने लगेगा फिर भी धन संबंधित कार्य कल तक के लिये टालना ही बेहतर रहेगा। घर मे किसी के हाथ नुकसान हो सकता है मशीनरी अथवा अन्य खतरे वाले कार्यो में अतिरिक्त सावधानी बरतें। संध्या बाद का समय दिन की तुलना में शांति से व्यतीत होगा मनोरंजन के अवसर मिलने से मानसिक हालात सुधरेगी। पुराना रोग फिर से बन सकता है संयम बरतें। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आज के दिन आप धन संबंधित कार्यो को छोड़ अन्य सभी कार्यो से सम्मान पाने के हकदार बनेंगे। आर्थिक उलझने दिन के आरंभ से अंत तक किसी ना किसी रूप में परेशान करेंगी कार्य समय से पूर्ण करने के बाद भी धन की आमद को लेकर इंतजार करना पड़ेगा किसी बुजुर्ग व्यक्ति का सहयोग मिलने से थोड़ी उलझनों से राहत मिलेगी। मध्यान बाद का समय सामाजिक कार्यो के लिये निकालना पड़ेगा गृहस्थ अथवा रिश्तेदारी में ना चाहते हुए भी खर्च करना पड़ेगा। पारिवारिक वातावरण में शांति रहेगी आपके किसी उत्कृष्ट कार्य से परिजन गर्व करेंगे। स्वास्थ्य संबंधित छोटी मोटी समस्याएं लगी रहेंगी फिर भी दिनचार्य व्यवस्थित रहेगी। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज आपको दिन के पहले हिस्से में लाभ पाने के प्रस्ताव आएंगे लेकिन दुविधा के कारण प्रतिस्पर्धी इसका लाभ उठा सकते है। कार्य व्यवसाय से आज उन्नति की आशा लगा सकते है। दोपहर तक कि भगदौड़ एक समय व्यर्थ होती प्रतीत होगी धैर्य रखें जल्दबाजी में कोई गलत निर्णय बाद में पश्चाताप का कारण बन सकता है। धन अथवा अन्य लाभ आज अकस्मात ही होगा पर होगा जरूर। घर मे खाने पीने की वस्तुओं अथवा अन्य सुखोपभोग के सामान पर खर्च करना पड़ेगा। कार्य क्षेत्र पर भी कुछ ना कुछ खर्च लगे रहेंगे। धन संबंधित समस्या संध्या बाद नही रहेगी फिर भी किसी से वादा ना करें। घर के सदस्य किसी महत्त्वपूर्ण विषय को लेकर चिंतित होंगे। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज मध्यान तक कि दिनचार्य को अस्त व्यस्त ना होने दे अन्यथा ना चाहकर भी व्यर्थ के कामो में समय खराब होने पर मध्यान बाद से बनने वाली शुभ स्थिति का लाभ नही उठा सकेंगे। दिन के आरंभ में शारीरिक दुर्बलता अनुभव होगी जिसके चलते दैनिक कार्यो में विलंब हो सकता है। नौकरी वाले लोग आज किसी दुविधा में फंसे रहेंगे दोपहर तक मेहनत का फल ना मिलने से मन मे निराशा रहेगी धैर्य रखें इसके बाद का समय कार्य सिद्धि दायक रहेगा दिन भर के प्रयास संध्या के आस-पास फलित होंगे फिर भी संतोषी वृति अपनाए ज्यादा के चक्कर मे कम से भी वंचित रह सकते है। घर मे शुभ समाचार मिलने से आनंद छाया रहेगा फिर भी व्यर्थ बोलने से बचें। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज के दिन आपको बीते कल की तुलना में थोड़ी राहत मिलेगी। आज भी मध्यान तक मानसिक दुविधायें एवं असंतोष की भावना लाभ से दूर रखेंगी। स्वास्थ्य में सुधार आएगा लेकिन पूरी तरह से नही कठिन परिश्रम करने पर मर्ज दोबारा बढ़ सकता है इससे बचें। कार्य व्यवसाय को लेकर मानसिक चिंताए दिन भर लगी रहेंगी किसी ना किसी कारण से व्यवसाय में धन संबंधित मामले अटके रहेंगे। मध्यान बाद से पूण्य उदय होंगे धर्म कर्म में रुचि बढ़ेगी लेकिन मन मे स्वार्थ पूर्ति की भावना रहने के कारण आध्यात्म का लाभ नही मिल सकेगा। परिजन आपसे सहानुभूति रखेंगे कुछ मतलब भी साधेंगे। यात्रा से बचें चोटादि का भय है। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज का दिन मिश्रित फलदायी रहेगा। दिन के आरंभिक भाग में जितनी मेहनत करेंगे उसका लाभ मध्यान तक मिल जाएगा आज लापरवाही से बचें अन्यथा मध्यान बाद स्थिति प्रतिकूल होने पर सभी कार्य बाधित होने लगेंगे लाभ की जगह हानि होने की संभावना अधिक रहेगी। मानसिक रूप से तरोताजा रहेंगे फिर भी आलसी वृति कार्यो में विलंब कराएगी। कार्य क्षेत्र पर व्यवसाय आशा से कम ही रहेगा। सहकर्मी अथवा परिजन आज भावुक रहेंगे जिससे स्थिति कों सम्भालना परेशानी में डालेगा। दोपहर बाद जिस भी कार्य से लाभ की उम्मीद रखेंगे उसके विपरीत फल मिलेंगे। संध्या से सेहत में भी गिरावट आने लगेगी। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज दिन का आरंभ भाग असमंजस की स्थिति के कारण कार्य शून्य रहेगा। जो करना चाहेंगे वातावरण उसके विपरीत बनेगा लेकिन धैर्य रखें ये परेशानी कुछ समय के लिये ही रहेगी मध्यान बाद से स्थिति अनुकूल बनने लगेगी सोची हुई योजनाओ में आज पूरी तरह से सफलता तो नही मिलेगी फिर भी भविष्य के प्रति निश्चिन्त करने वाले कार्य होंगे। धन की आमद आज सामान्य रहेगी व्यवहारिकता बनाये रखें तो निकट भविष्य में किसी विशेष व्यक्ति का महत्त्वपूर्ण सहयोग मिल सकता है जो कि जीवन को नई दिशा देने में सहायक बनेगा। नौकरी वाले लोग खर्च से परेशान रहेंगे। पारिवारिक स्थिति दिन की अपेक्षा संध्या बाद बेहतर अनुभव होगी। सेहत में आज मामूली नरमी रहेगी। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज के दिन कुछ रोचक घटनाये घटेंगी दिन का पूर्वार्ध नई संभावनाए लेकर आएगा। कार्य क्षेत्र पर आज गंभीर रहेंगे। किसी परिचित से आश्चर्य में डालने वाले समाचार मिलेंगे। आपके कार्य मे बाधा डालने वाले लोग आस पास ही रहेंगे मध्यान तक इनका असर नही होगा लेकिन मध्यान बाद कुछ ना कुछ गड़बड़ अवश्य होगी। जिन्हें अपना हितैषी समझ रहे है वे ही आपकी चुगली कर वातावरण खराब करेंगे। धन की आमद दोपहर तक सामान्य रहेगी पुराने कार्यो से लाभ होगा। दोपहर बाद अधिकांश कार्य किसी अन्य के कारण अधूरे रह जाएंगे घर का वातावरण भी आज अचानक गर्म होगा विशेषकर महिलाए वाणी पर नियंत्रण रखें। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज दिन के मध्यान तक आपको शांति रहने की सलाह है आज भी व्यावसायिक कारणों से मानसिक बेचैनी रहेगी ऊपर से घरेलू उलझने रहने पर अधिक दबाव में कार्य करना पड़ेगा। दिन के आरंभिक भाग में बचते बचते भी घर के सदस्य अशांति का वातावरण बनाएंगे। परिजन किसी ना किसी कारण से असंतुष्ट ही रहेंगे यही हाल कार्य क्षेत्र पर भी रहेगा सहकर्मी अथवा अधिकारी वर्ग आपकी एक गलती के इंतजार में रहेंगे आज मनमौजी व्यवहार से बचे अन्यथा बाद में स्वयं के ऊपर ही ग्लानि होगी। धन संबंधित मामले भी कलह का कारण बनेंगे व्यवहार में स्पष्टता रखें बदनामी होने का भय है। अतिआवश्यक कार्यो को पूर्ण करने के लिये संध्या तक प्रतीक्षा करने लाभदायक रहेगा। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज का दिन धन लाभ वाला है लेकिन अपनी वाणी को सही जगह प्रयोग करें अन्यथा जहां लाभ की संभावना रहेगी वहां किसी से कलह भी हो सकती है। मध्यान से पहले महत्त्वपूर्ण कार्य पूरे करने का प्रयास करें आज लाभ कमाना आसान लगेगा लेकिन इतना आसान भी नही होगा। कार्यो को मामूली समझ ढील देंगे बाद में परेशानी होगी फिर भी आज धन लाभ कही ना कही से हो ही जायेगा। व्यवसायी वर्ग जोड़ तोड़ की नीति अपनाएंगे जिससे बिक्री तो होगी पर उचित लाभ नही मिल सकेगा। नौकरी पेशा आज संतोषी स्वभाव के रहेंगे। परोपकार की भावना आज कम ही रहेगी परेशान व्यक्ति को भी टरकाने के प्रयास में रहेंगे। गृहस्थ में बाहर की अपेक्षा शांति मिलेगी। 🌐http://www.vkjpandey.in 〰〰〰〰〰〰 https://t.me/OnlineMandir 🚩 दैनिक पंचांग, राशिफल, व्रत त्योहार तथा हिन्दू धार्मिक जानकारी जैसे पोस्ट पाने के लिए हमारे व्हाट्सएप समूह ऑनलाइन मंदिर से जुड़े। 🤳 लिंक- 👇🏻 https://chat.whatsapp.com/I0lnC06D3bfGIhcWkRZPBb

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 21 शेयर

🕉श्री हरिहरो विजयतेतराम🕉 🌄सुप्रभातम🌄 🗓आज का पञ्चाङ्ग🗓 🌻गुरुवार, १३ मई २०२१🌻 सूर्योदय: 🌄 ०५:३६ सूर्यास्त: 🌅 ०६:५५ चन्द्रोदय: 🌝 ०६:१८ चन्द्रास्त: 🌜२०:३२ अयन 🌕 उत्तराणायने (उत्तरगोलीय) ऋतु: 🍁 ग्रीष्म शक सम्वत: 👉 १९४३ (प्लव) विक्रम सम्वत: 👉 २०७८ (राक्षस) मास 👉 वैशाख पक्ष 👉 शुक्ल तिथि 👉 द्वितीया (पूर्ण रात्रि) नक्षत्र 👉 रोहिणी (पूर्ण रात्रि) योग 👉 अतिगण्ड (२४:५१ तक) प्रथम करण 👉 बालव (१६:२३ तक) द्वितीय करण 👉 कौलव (पूर्ण रात्रि) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ ॥ गोचर ग्रहा: ॥ 🌖🌗🌖🌗 सूर्य 🌟 मेष चंद्र 🌟 वृष मंगल 🌟 मिथुन (उदित, पूर्व, मार्गी) बुध 🌟 वृष (उदित, पूर्व, मार्गी) गुरु 🌟 कुम्भ (उदय, पूर्व, मार्गी) शुक्र 🌟 वृष (उदय, पश्चिम, मार्गी) शनि 🌟 मकर (उदय, पूर्व, मार्गी) राहु 🌟 वृष केतु 🌟 वृश्चिक 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभाशुभ मुहूर्त विचार ⏳⏲⏳⏲⏳⏲⏳ 〰〰〰〰〰〰〰 अभिजित मुहूर्त 👉 ११:४६ से १२:४१ अमृत काल 👉 २६:०९ से २७:५७ विजय मुहूर्त 👉 १४:३० से १५:२४ गोधूलि मुहूर्त 👉 १८:४९ से १९:१३ निशिता मुहूर्त 👉 २३:५२ से २४:३४ राहुकाल 👉 १३:५६ से १५:३८ राहुवास 👉 दक्षिण यमगण्ड 👉 ०५:२५ से ०७:०७ होमाहुति 👉 सूर्य दिशाशूल 👉 दक्षिण नक्षत्र शूल 👉 पश्चिम अग्निवास 👉 पृथ्वी चन्द्रवास 👉 दक्षिण 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ☄चौघड़िया विचार☄ 〰️〰️〰️〰️〰️〰️〰️ ॥ दिन का चौघड़िया ॥ १ - शुभ २ - रोग ३ - उद्वेग ४ - चर ५ - लाभ ६ - अमृत ७ - काल ८ - शुभ ॥रात्रि का चौघड़िया॥ १ - अमृत २ - चर ३ - रोग ४ - काल ५ - लाभ ६ - उद्वेग ७ - शुभ ८ - अमृत नोट-- दिन और रात्रि के चौघड़िया का आरंभ क्रमशः सूर्योदय और सूर्यास्त से होता है। प्रत्येक चौघड़िए की अवधि डेढ़ घंटा होती है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 शुभ यात्रा दिशा 🚌🚈🚗⛵🛫 दक्षिण-पूर्व (दही का सेवन कर यात्रा करें) 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️〰️〰️〰️ तिथि विशेष 🗓📆🗓📆 〰️〰️〰️〰️ चंद्र दर्शन, ४१४ वी शिवाजी जयन्ती, विवाहादि मुहूर्त कुम्भ लग्न रात्रि ०१:१६ से ०२:४६ तक, उपनयन संस्कार+गृहप्रवेश+व्यवसाय आरम्भ मुहूर्त १०:४६ से १५:४४ तक, विधा एवं अक्षरारम्भ मुहूर्त प्रातः ०५:४४ से ०७:२२ तक आदि 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज जन्मे शिशुओं का नामकरण 〰〰〰〰〰〰〰〰〰️〰️ आज २९:३६ तक जन्मे शिशुओ का नाम रोहिणी नक्षत्र के प्रथम, द्वितीय, तृतीय एवं चतुर्थ चरण अनुसार क्रमशः (ओ, वा, वी, वू) नामाक्षर से रखना शास्त्रसम्मत है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 उदय-लग्न मुहूर्त मेष - २८:०० से ०५:३४ वृषभ - ०५:३४ से ०७:२८ मिथुन - ०७:२८ से ०९:४३ कर्क - ०९:४३ से १२:०५ सिंह - १२:०५ से १४:२४ कन्या - १४:२४ से १६:४२ तुला - १६:४२ से १९:०३ वृश्चिक - १९:०३ से २१:२२ धनु - २१:२२ से २३:२६ मकर - २३:२६ से २५:०७ कुम्भ - २५:०७ से २६:३३ मीन - २६:३३ से २७:५६ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 पञ्चक रहित मुहूर्त शुभ मुहूर्त - ०५:२५ से ०५:३४ रज पञ्चक - ०५:३४ से ०७:२८ शुभ मुहूर्त - ०७:२८ से ०९:४३ चोर पञ्चक - ०९:४३ से १२:०५ शुभ मुहूर्त - १२:०५ से १४:२४ रोग पञ्चक - १४:२४ से १६:४२ शुभ मुहूर्त - १६:४२ से १९:०३ मृत्यु पञ्चक - १९:०३ से २१:२२ अग्नि पञ्चक - २१:२२ से २३:२६ शुभ मुहूर्त - २३:२६ से २५:०७ रज पञ्चक - २५:०७ से २६:३३ शुभ मुहूर्त - २६:३३ से २७:५६ शुभ मुहूर्त - २७:५६ से २९:२४ 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰 आज का राशिफल 🐐🐂💏💮🐅👩 〰️〰️〰️〰️〰️〰️ मेष🐐 (चू, चे, चो, ला, ली, लू, ले, लो, अ) आज का दिन कुछ ना कुछ अभाव के बाद भी संतोषजनक रहेगा। लेकिन महिलाए किसी भी बात को लेकर घर का वातावरण अशान्त बनाएंगी। दिन के आरंभिक भाग के अलावा अन्य समय बाहर ही शांति अनुभव होगी। आज आप जल्दी से किसी के गलत आचरण का विरोध नही करेंगे लेकिन धैर्य सीमित ही रहेगा एक बार क्रोध आने पर शांत करना आपके वश में भी नही रहेगा जो लोग उद्दंडता कर रहे थे वो भी बचते नजर आएंगे। कार्य व्यवसाय में भी किसी कमी के कारण धन लाभ अल्प और विलंब से होगा। शेयर सट्टे में निवेश शीघ्र लाभ दिला सकता है इसके अतिरिक्त कार्यो में धन फसने की संभावना है। स्वास्थ्य में कमी आएगी। वृष🐂 (ई, ऊ, ए, ओ, वा, वी, वू, वे, वो) आज के दिन आप अपनी ही धुन में रहेंगे। मन की ज्यादा सुनेंगे और करेंगे भी वैसा ही किसी का कार्यो में दखल देना कुछ ज्यादा ही अखरेगा जरासी बात पर नाराज हो जाएंगे जिससे मुख्य लक्ष्य से भटक सकते है। कार्य व्यवसाय आज अन्य दिन की तुलना में थोड़ा धीमा रहेगा इसका एक कारण आपका मानसिक रूप से तैयार ना होना भी रहेगा। लाभ हानि की परवाह किये बिना ही कार्य हाथ मे लेंगे बाद में ले देकर पूरा करने का प्रयास कुछ ना कुछ हानि ही कराएगा। घर में किसी ना किसी से व्यर्थ की बातों पर बहस कर समय खराब करेंगे। मानसिक रूप से बेचैनी अधिक रहने पर पूजा पाठ से भी विमुख रहेंगे एक साथ दो जगह मन भटकने के कारण आध्यात्मिकता का लाभ नही मिल सकेगा। मिथुन👫 (का, की, कू, घ, ङ, छ, के, को, हा) आज के दिन आपमे धैर्य की कमी रहेगी। किसी भी कार्यो को लेकर पहले लापरवाही करेंगे बाद में उसे जल्दबाजी में करने पर कुछ ना कुछ कमी रह जायेगी। धन संबंधित मामलों में जल्दबाजी ना करें अन्यथा आज के दिन का उचित लाभ लेने से वंचित रह जाएंगे कार्य व्यवसाय से आरंभ में ज्यादा आशा नही रहेगी लेकिन धीरे धीरे जमने पर अकस्मात धन के मार्ग खुलने से उत्साह बढेगा। दान-पुण्य के साथ किसी की सहायता पर खर्च करना पड़ेगा परोपकार की भावना के कारण अखरेगा नही। आज घर मे समय पर आवश्यकता पूर्ति ना करने पर विवाद हो सकता है। स्वास्थ्य आज सामान्य ही रहेगा। क्रोध से बचें। कर्क🦀 (ही, हू, हे, हो, डा, डी, डू, डे, डो) आपके लिये आज का दिन शुभ फलदायी रहेगा आज दिन का आरंभिक भाग परिवार में मतभेद के कारण थोड़ा उदासीन रहेगा इसके बाद का समय सार्वजिनक क्षेत्र पर आपकी नई पहचान बनने से जीवन को नई दिशा मिलेगी लेकिन इसके लिये स्वयं को भी दृढ़ संकल्पित रहना पड़ेगा। लक्ष्य बनाए कर कार्य करने पर ही आज के दिन से उचित लाभ पाया जा सकता है। स्वभाव में थोड़ी तल्खी रहने के कारण किसी को भी मन की बाते समझाने में परेशानी आएगी। कार्य व्यवसाय में पल पल में स्थिति बदलने से असमंजस की स्थिति रहेगी कम मुनाफे में व्यापार करना पड़ेगा। परिवार की अपेक्षा बाहर से अधिक सहयोग मिलेगा। उच्च रक्तचाप अथवा अन्य रक्त पित्त संबंधित समस्या हो सकती है। सिंह🦁 (मा, मी, मू, मे, मो, टा, टी, टू, टे) आज का दिन आपके लिये सिद्धि दायक रहेगा कोई भी कार्य करने से पहले उसके विषय मे बारीकी से अध्ययन करें आज थोड़े से परिश्रम से बड़ा कार्य पूर्ण कर सकेंगे। पहले से चल रही किसी योजना के पूर्ण होनेपर भी लाभ मिलेगा लेकिन जल्दबाजी करने पर कुछ अभाव भी रह सकता है। कार्य व्यवसाय से धन की प्राप्ति निश्चित होगी लेकिन आज उधार के व्यवहार भी परेशानी में डालेंगे यथा सम्भव इनपर नियंत्रण रखें। पारिवारिक वातावरण में छोटी मोटी गलतफहमियां बनेगी आपसी तालमेल से इनपर विजय पा सकते है। महिलाए मामूली बातो का बतंगड़ बनाएंगी जिससे घर मे अशान्ति रहेगी। सेहत आज लगभग ठीक ही रहेगी। कन्या👩 (टो, पा, पी, पू, ष, ण, ठ, पे, पो) आज का दिन संभावनाओं पर ज्यादा केंद्रित रहेगा। परिश्रम करने में कमी नही रखेंगे फिर भी सफलता असफलता संपर्क में रहने वालों पर निर्भर रहेगी। मध्यान तक का समय उदासीनता में बीतेगा इसके बाद व्यस्तता बढ़ेगी कार्य व्यवसाय में गति आने से लाभ की संभावना जागेगी लेकिन धन प्राप्ति में विलंब होगा फिर भी आज के दिन से वृद्धि की आशा रख सकते है भले ही इसमें विलंब क्यो ना हो। सहकर्मी अपने मनमाने व्यवहार से कुछ समय के लिये परेशानी में डालेंगे लेकिन इससे बाहर भी स्वयं ही निकालेंगे। गृहस्थ में शांति रहेगी परन्तु आज किसी व्यक्ति विशेष का अभाव भी अनुभव करेंगे। सेहत को लेकर थोड़ी समस्या बनेगी पर प्रदर्शित नही करेंगे। तुला⚖️ (रा, री, रू, रे, रो, ता, ती, तू, ते) आज का दिन भी शारिरिक दृष्टिकोण से विपरीत रहेगा दिनचार्य अस्त व्यस्त रहेगी सहयोग मिलने पर भी अधिकांश कार्य समय पर पूरा नही कर सकेंगे। काम-धंदे को लेकर मन अशांत रहेगा किसी से पूर्व में किया वादा पूरा ना करने का डर मन मे रहेगा जिसका प्रभाव मानसिक दबाव बढ़ाएगा। विरोधी आपके ऊपर दया भाव प्रदर्शित करेंगे लेकिन फिर भी सावधान रहें ये कुचक्र भी हो सकता है। जल्द पैसा कमाने की मानसिकता आज कुछ ना कुछ नुकसान ही कराएगी इससे बचकर रहें। धन की आमद मध्यान बाद होगी लेकिन अनर्गल खर्च रहने से आवश्यक कार्यो पर खर्च नही कर पाएंगे। घर के सदस्यों का स्वार्थी व्यवहार मन दुख का कारण बनेगा। वृश्चिक🦂 (तो, ना, नी, नू, ने, नो, या, यी, यू) आज के दिन आपको दैनिक कार्यो के अतिरिक्त भाग दौड़ करनी पड़ेगा इसका कुछ न कुछ सकारात्मक परिणाम अवश्य मिलेगा। आज अधिकांश कार्य किसी अन्य पर निर्भर रहने के कारण अधूरे भी रह सकते है इसलिये स्वयं करने का प्रयत्न करें। कार्य व्यवसाय अथवा सरकारी क्षेत्र से शुभ समाचार मिलने या किसी घटना की संभावना मन को उत्साहित रखेगी। धन की आमद सीमित रहेगी लेकिन ख़र्च अनियंत्रित होने पर बजट प्रभावित होगा। कार्य क्षेत्र पर सहकर्मी अथवा अधिकारी वर्ग से गलतफहमी बनेगी फिर भी मामला गंभीर नही होने देंगे। परिवार के सदस्य से हानि हो सकती है धैर्य से काम लें। सेहत में अकस्मात नरमी आएगी। बुजुर्गो के प्रति आदर भाव बढेगा। धनु🏹 (ये, यो, भा, भी, भू, ध, फा, ढा, भे) आज आपका व्यवहार पल-पल में बदलने से संपर्क में रहने वालों को परेशानी आएगी आप कहेंगे कुछ करेंगे उसके विपरीत ही। दिन का आरंभिक भाग आलस्य में खराब होगा किसी कार्य मे एक बार विलंब होने पर सारी दिनचार्य बदल जाएगी अधिकांश कार्य आज विलंब से ही पूर्ण होंगे अथवा अधूरे रह जाएंगे लेकिन फिर भी धन लाभ कही ना कहीं से अवश्य होगा आकस्मिक होने पर आश्चर्य में पड़ेंगे। कार्य व्यवसाय में उधारी के व्यवहार से बचें बाद में परेशानी बनेगी। धन को लेकर किसी से कलह हो सकती है। आज विवेक से काम लें अन्यथा मनोकामना पूर्ति सम्भव नही होगी। आरोग्य में कमी रहेगी। मकर🐊 (भो, जा, जी, खी, खू, खा, खो, गा, गी) आज का दिन बौद्धिक कार्यो से सफलता दिलाएगा सामाजिक क्षेत्र अथवा गृहस्थ में आपके महत्त्वपूर्ण सुझाव मिलने से किसी ना किसी के जीवन को नई दिशा मिलेगी आपके प्रति लोगो का आदर भाव बढेगा परन्तु स्वयं के प्रति लापरवाह ही रहेंगे कार्य क्षेत्र पर धीमी गति से कार्य करने पर किसी के ताने सुनने पड़ेंगे फिर भी स्वभाव में परिवर्तन नही होगा। काम-धंधा कुछ समय के लिये ही फलदायी रहेगा लापरवाही की तो आज खर्च चलाने के लिये भी किसी से उधार लेना पड़ सकता है। नौकरी वाले लोग व्यवसायियों की तुलना में बेहतर रहेंगे लेकिन धन संबंधित मामले आज सभी के लिये चिंता का विषय बनेंगे। छाती में संक्रमण होने की सम्भवना है तले भुने एवं ठंडे प्रदार्थ के सेवन से बचें। कुंभ🍯 (गू, गे, गो, सा, सी, सू, से, सो, दा) आज का दिन आपके लिये कलहकारी रहेगा दिन के आरंभ से ही इससे बचने का प्रयास करेंगे लेकिन परिजन आज आपकी गलतिया खोज खोज कर गिनाएंगे आपने जो गलती की ही नही उसपर भी ताने सुनने को मिलेंगे। मौन धारण ही शांति का उत्तम उपाय है लेकिन ज्यादा देर तक धैर्य नही रखने पर मामला गंभीर होगा। कार्य क्षेत्र पर भी अधिकारी अथवा अन्य के साथ गरमा गरमी बढ़ने पर संबंध विच्छेद की संभावना है। नौकरी वाले लोग आज विशेष सतर्क रहें छोटी से भूल जीवन की दिशा बदल सकती है। धन लाभ कही ना कही से हो जाएगा लेकिन मानसिक उलझने यथावत रहेंगी। सेहत में उतार-चढ़ाव लगा रहेगा। मीन🐳 (दी, दू, थ, झ, ञ, दे, दो, चा, ची) आज का दिन लाभदायक रहेगा कार्य क्षेत्र पर आज आपसे प्रतिस्पर्धा करने वाले बहुत रहेंगे फिर भी अपने हिस्से का लाभ थोडे बौद्धिक परिश्रम से प्राप्त कर लेंगे। व्यवसायी वर्ग को दैनिक कार्यो की जगह आज जोखिम वाले कार्य से अधिक लाभ की संभावना है पूर्व में अथवा आज किया निवेश शीघ्र ही फलती होकर धन की आमद बढ़ाएगा। उधारी के व्यवहारों के कारण आज मन मे क्रोध भी रहेगा लेन देन को लेकर किसी से तीखी बहस हो सकती है धैर्य से काम लें अन्यथा आगे नुकसान हो सकता है। घर के सदस्यों पर नाजायज हुकुम चलाना नई समस्या को जन्म देगा परिजन आपके सामने ही उद्दंडता करेंगे। सेहत संध्या तक ठीक रहेगी इसके बाद कुछ विकार आ सकता है। 〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰〰️

+217 प्रतिक्रिया 36 कॉमेंट्स • 273 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB