+4 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 1 शेयर

कामेंट्स

+9 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर
rajkumari May 30, 2020

+3 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

🇱 🇮 🇻 🇪 📸 🇩 🇦 🇷 🇸 🇭 🇦 🇳 *चित्तौड़गढ़ से लाइव ... 📹* *भव्य पुष्प श्रृंगार के साथ मुखारबिंद लाइव दर्शन और ब्राह्मी मैया की लाइव आरती दर्शन 🛐....* ╭─━══•❂❀⚜❀❂•══━─╮ *⚜ मेरी सर्वेश्वरी-मेरी बाणेश्वरी ⚜* _आज *ज्येष्ठ (जेठ) माह की शुक्ल पक्ष की अष्ठमी (आठम) के दिव्य वास्तविक और ममतामयी, मनमोहक, अलौकिक अतिसुंदर भव्य, विशेष आकर्षक पुष्पावली से श्रृंगारित, गौ-धूली बेला में, पुजारी जी की सच्ची मेहनत और लगन से रंगा गर्भगृह, दिव्य आभाओ से सुसज्जित संध्याकालीन दिव्य मुखारबिंद श्रृंगार दर्शन और भव्य आरती*_ _सिसोदिया गहलोत राजवंश की कुलस्वामिनी ब्रह्मस्वरूपा..ब्रह्मशक्ति हंसवाहिनी 🦢 *श्री ब्राह्मणी माता जी...*_ मुख्य पाट स्थान- *चित्तौड़गढ़* *आज के लिए विशेष ...* 🥁 👇👇👇👇👇 🔆 *ब्राह्मणी बीज मंत्र* 🔆... 👈 कल एक भक्त ने फ़ोन के माध्यम से बताया कि मैं *श्रीमद देवी भागवत पुराण महात्म्य* का नियमित अध्ययन करता हूँ जिससे मुझे देवी भागवत के माध्यम से दैवीय शक्तियों की सही और वैदिक जानकारी मिली, मैंने पहली बार देवी के वास्तविक स्वरूप को पहचान कर उनके वास्तविक स्वरूप और श्रृंगार, भोग, पूजन विधि, और मुख्य सवारी के बारे में जानकारी प्राप्त की, और अन्य भक्तों को भी देवी भागवत के भक्तिमय दैवीय रस के बारे में बताया...लेकिन मैं तीन दिन से *ब्राह्मणी बीज मंत्र* का जप कर रहा हूँ जिससे मन को शांति तो मिली लेकिन पूर्णतया शांति नही मिली, मैं ऐसा क्या करूं कि कर्मो के दोष को सुधार सकूं, मुझे तो जो भी मिला है बस देवी - देवताओं के नाम पर लूटने वाले मिले है, जगह - जगह भिन्न-भिन्न भोपो से बुझ भी करवा ली लेकिन, अभी तक सही मार्गदर्शक नही मिला .. 🤔 जिसने ब्राह्मणी माता जी के चार पुरश्चरण न किये हो जो प्रतिदिन ब्राह्मणी माता जी के 51 बीज मंत्र की माला जप नही करता हो वो व्यक्ति किस प्रकार मुक्ति और सद्गति की कामना कर सकता है 🤔 एक दो माला जपने से कोई लाभ नही है, एक दो घण्टे के पूजन से परमात्मा की कृपा नही मिलती कठिन तप और साधना अनिवार्य है पर आज के लोग सोचते है कि बिना मेहनत के ही ईश्वर सब कुछ दे दे भोग भी मोक्ष भी सद्गति भी 😃 ऋषि मुनि भी हजारों वर्ष तपस्या करके ईश्वर के दर्शन तथा मोक्ष पाते थे उतना नही कर सकते हो तो कम से कम प्रतिदिन ब्राह्मणी बीज मंत्र का अधिक से अधिक (21 या 51 बार) जप तो किया ही जा सकता है केवल शास्त्रीय ज्ञान और रट्टा, परमात्मा के घर या देवी देवताओं के सम्मुख काम नही आता है तपस्या और साधना का फल ही कार्य करता है वहां जिसने जितनी अधिक भक्ति तपस्या उपासना साधना की होगी उसे उतनी ही अधिक उन्नति और सद्गति मिलेगी । भगवान के घर ज्ञान नही भक्ति समर्पण तपस्या और साधना ही काम आती है, ज्ञान के लिये तो बड़े बड़े महाऋषि ब्रह्मऋषि बड़े बड़े देवी देवता भी जो परम ज्ञान को उपलब्ध थे परमात्मा के आगे नतमस्तक होकर उनकी महिमा का ज्ञान रूपी वर्णन करते है तब भी पार नही पाते तो इस धरती के ज्ञानी तो उस लोक में किस श्रेणी में आएंगे अतः उपासक बनकर सेवक बनकर भक्ति और तप करते हुए ही वहां उत्तम गति मिल सकती है ... 🔆 *ब्राह्मणी माता जी बीज मन्त्र* 🔆 *༒🦢ॐ ऐं ब्रह्माणीयै नमः🦢 ༒* *ब्राह्मणी तेरा नाम ही आधार है ..* *इस कलयुग में सुखी से जीवन - यापन करने के लिए ..* *जुड़े - ब्राह्मणीमय सोशल मीडिया फ़ेसबुक परिवार से ... 🤳* https://www.facebook.com/groups/563312761142961/ 🔱 श्री बाण भगवत्यै नमः 🔱 *⚜ मेरी सर्वेश्वरी-मेरी बाणेश्वरी ⚜* ╰─━══•❂❀⚜❀❂•══━─╯

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
ramkumarverma May 30, 2020

+17 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 6 शेयर
Rajesh Sharma May 30, 2020

+12 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 0 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB