*प्राचीनकाल में गोदावरी नदी के किनारे वेदधर्म मुनि का आश्रम था। एक दिन गुरुजी ने अपने शिष्यों से कहा की- शिष्यों! अब मुझे कोढ़ निकलेगा और मैं अंधा भी हो जाऊँगा, इसिलिए काशी में जाकर रहूँगा। है कोई शिष्य जो मेरे साथ रह कर सेवा करने के लिए तैयार हो ? सब चुप हो गये। उनमें संदीपनी ने कहा- गुरुदेव! मैं आपकी सेवा में रहूँगा। गुरुदेव ने कहा इक्कीस वर्ष तक सेवा के लिए रहना होगा। संदीपनी बोले इक्कीस वर्ष तो क्या मेरा पूरा जीवन ही अर्पित है आपको। वेदधर्म मुनि एवं संदीपन काशी में रहने लगे । कुछ दिन बाद गुरु के पूरे शरीर में कोढ़ निकला और अंधत्व भी आ गया । शरीर कुरूप और स्वभाव चिड़चिड़ा हो गया । संदीपनी के मन में लेशमात्र भी क्षोभ नहीं हुआ । वह दिन रात गुरु जी की सेवा में तत्पर रहने लगा । गुरु को नहलाता, कपड़े धोता, भिक्षा माँगकर लाता और गुरुजी को भोजन कराता । गुरुजी डाँटते, तमाचा मार देते... किंतु संदीपनी की गुरुसेवा में तत्परता व गुरु के प्रति भक्तिभाव और प्रगाढ़ होता गया।* *गुरु निष्ठा देख काशी के अधिष्ठाता देव विश्वनाथ संदीपनी के समक्ष प्रकट होकर बोले- तेरी गुरुभक्ति देख कर हम प्रसन्न हैं । कुछ भी वर माँग लो । संदीपनी गुरु से आज्ञा लेने गया और बोला भगवान शिवजी वरदान देना चाहते हैं, आप आज्ञा दें तो आपका रोग एवं अंधेपन ठीक होने का वरदान मांग लूँ ? गुरुजी ने डाँटा,बोले- मैं अच्छा हो जाऊँ और मेरी सेवा से तेरी जान छूटे यही चाहता है तु ? अरे मूर्ख ! मेरा कर्म कभी-न-कभी तो मुझे भोगना ही पड़ेगा । संदीपनी ने भगवान शिवजी को वरदान के लिए मना कर दिया। शिवजी आश्चर्यचकित हो गये और गोलोकधाम पहुंच के श्रीकृष्ण से पूरा वृत्तान्त कहा। श्रीकृष्ण भी संदीपनी के पास वर देने आये। संदीपनी ने कहा- प्रभु! मुझे कुछ नहीं चाहिए। आप मुझे यही वर दें कि गुरुसेवा में मेरी अटल श्रद्धा बनी रहे।* *एक दिन गुरुजी ने संदीपनी को कहा कि- मेरा अंत समय आ गया है। सभी शिष्यों से मिलने की इच्छा है । संदीपनी ने सब शिष्यों को सन्देश भेज दिया। सारे शिष्य उनके दर्शन के लिए आये। गुरुजी ने सभी शिष्यों कुछ न कुछ दिया । किसी को पंचपात्र, किसी को आचमनी , किसी को आसन किसी को माला दे दी । जब संदीपनी का आये तो सभी वस्तुएं समाप्त हो चुकी थी । गुरुजी चुप हो गए,फिर बोले कि मैं तुम्हे क्या दूँ ? तुम्हारी गुरूभक्ति के समान मेरे पास देने के लिए कुछ भी नहीं है । मैं तुम्हें यह वर देता हूँ कि- त्रिलोकी नाथ का अवतार होने वाला है, वह तुम्हारे शिष्य बनेंगे । संदीपनी के लिए इससे बड़ी भेंट और क्या होती । उन्होंने गुरूजी की अंत समय तक सेवा की। जब श्रीकृष्ण अवतार हुआ तो गुरुजी के दिए उस वरदान को फलीभूत करने के लिए स्वयं भगवान श्रीकृष्ण ने दूर उज्जैन में स्थित संदीपनी ऋषि के आश्रम में भ्राता बलराम जी के साथ आए और संदीपनी ऋषि के शिष्य बने... ऐसी है गुरुभक्ति की शक्ति। इसिलिए गुरुभक्ति ही सार है... राधे राधे...संगृहीत कथा*🙏🚩

+129 प्रतिक्रिया 24 कॉमेंट्स • 140 शेयर

कामेंट्स

Preeti jain May 10, 2020
🌾🍂🍃🥀🌹🙏jai shree krishna ji radhe radhe Kanha ji ka Aseem kripa sada aap aur aap ke family pe bani rahe 🐾💐🌼🍁🍃🥀🙏aap ka har pal Shubh aur mangalmay Ho shubh ratri vandan Aap ka har pal khushiyon bhara Ho Radhe Radhe 🌹🙏🌿🌿🌹🐾🐾💐🌼🍁🍃🍃🥀🙏🙏🙏🌹🌹🌹

Preeti jain May 10, 2020
jai shree krishna meri pyari pyari bahana ji 🌹🙏🌹🙏 good night ji 🍒🙏🙏🌹🙏

Rk Soni(Ganesh Mandir) May 10, 2020
good night ji💓💓💓 radhe krishna ji🙏🙏🙏 v.nice post ji👌👌👌👌👌🌹🌹🌹🌹🌹🙏🏻🙏🏻🙏🏻

Rk Soni(Ganesh Mandir) May 10, 2020
good night ji💓💓💓 radhe krishna ji🙏🙏🙏 v.nice post ji👌👌👌👌👌🌹🌹🌹🌹🌹🙏🏻🙏🏻🙏🏻

Sushil Kumar Sharma 🙏🙏🌹🌹 May 10, 2020
Good Night My Sister ji 🙏🙏 Happy Mother's day 🌹🌹 Jay Shree Radhe Radhe Radhe ji 🙏 God bless you and your Family Always Be Happy My Sister ji 🙏🙏🌹🔔🔔🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🕉️🌹🌹🌹.

RaM DeeWaNa May 10, 2020
Swami narayan apka mangal he mangal Kare jai shri RaM ji 🙏🌹🌺🌹🌺🌹🌺🌹🌺🌹🌺🌹 Maa jagdmbey bhawani apki HaR. Manokamna poori Kare. 🍫🌹🌺🍫🌹🌺🍫🌹🌺🍫🌹🌺 💕shubhratri ji😎 🍫❤Happy Mother's Day ❤🍫

Rakesh Kumar Chandel May 10, 2020
Radhe Radhe Good night God bless sweet dream sweet sleep.How are u my dear nd sweet sister.Congratulations of happy Mother day.God bless u nd your family.Always be happy nd healthy you nd your family well.Tell me dear Sister.I love u so very mouch dear Sister.Take care u nd childs. Radhe Radhe

Anju Mishra May 10, 2020
राधे राधे बहना शुभ रात्रि

Ashwin R Chauhan May 10, 2020
जय श्री कृष्ण राधे राधे जी ठाकुर जी कि कृपा आप पर आप के पुरे परिवार पर सदेव बनी रहे आप का हर पल मंगल एवं शुभ रहे मदर्स डे की ढेर सारी शुभकामनाएं शुभ रात्री वंदन जी

Renu Singh May 10, 2020
Shubh Ratri Vandan Meri Pyari Sister ji 🙏🌹 Jai Shree Radhe Krishna Ji 🙏 Thakur ji ki Anant kripa Aap aur Aàpke Pariwar pr hamesha Bni rhe Aàpka Har pal Shubh V Mangalmay ho Bahena Ji 🙏🌹🙏🌹🙏

Sanjay Singh May 10, 2020

+65 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 29 शेयर
Meena Dubey May 10, 2020

+24 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 15 शेयर
Sanjay Singh May 9, 2020

+156 प्रतिक्रिया 7 कॉमेंट्स • 34 शेयर
Sanjay Singh May 9, 2020

+96 प्रतिक्रिया 5 कॉमेंट्स • 27 शेयर
Radhe Chouhan May 9, 2020

+19 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 17 शेयर
Sanjay Singh May 8, 2020

+128 प्रतिक्रिया 6 कॉमेंट्स • 31 शेयर

+12 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 18 शेयर
Radhe Chouhan May 8, 2020

+18 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 34 शेयर
Meena Dubey May 8, 2020

+23 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 23 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB