*🕉साईं राम !! जय साईं बाबा !!🙏* 🌻🌸🌸🌻🌸🌸🌻 *लेता जो भी दिल से* *"साईं" का नाम* *एक पल में उसकी* *तकदीर बदल जाती है* 🌿🏵️🙏🙏🏵️🌿

*🕉साईं राम !! जय साईं बाबा !!🙏*
  🌻🌸🌸🌻🌸🌸🌻
    *लेता जो भी दिल से*
       *"साईं" का नाम*
     *एक पल में उसकी*
   *तकदीर बदल जाती है*
     🌿🏵️🙏🙏🏵️🌿

+6 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 10 शेयर
Neeru Miglani Feb 28, 2021

*​।।राम दी चिड़िया, राम दा खेत​ ​चुग लो चिड़ियों,भर-भर पेट।।​* ​जब "गुरु नानक देव जी" किशोर अवस्था के थे, उन्हें उनके पिता ने फसलों की देखरेख के लिए खेत भेजा वे खेत में जाकर प्रकृति के सौन्दर्य और गुरु ध्यान में लीन हो गए। आने जाने वाले हैरत और हंसी से उन्हें निहारते निकल जाते​ थे। ​हैरत इसलिए कि चिड़िया खेत चुग रही है और वे (गुरु नानक जी) आनंदित हो रहे थे। हंसी इसलिये कि बालक नानक की मूर्खता समझ वे रोमांचित हो रहे थे की कैसा बुद्धू है पिता ने खेत रखवाली करने को भेजा और ये चिड़ियों को भगा नहीं रहा है बल्कि प्रसन्न हो रहा है!​ ​कुछ लोगो ने घर जाकर शिकायत करी। पिता दौड़े-दौड़े खेत पहुंचे तो देखा कि सैकड़ो की तादाद में चिड़िया खेत चुग रही थी। पिता ने चिड़ियों को खेत से भगाया यह देख बालक नानक ने उन्हें रोकते हुए कहा पिताजी इन्हें मत भगाइये। चिड़ियों को दाना चुगने दीजिये!​ ​पिता ने कहा, कैसी मूर्खता भरी बातें करते हो, चिड़िया जब दाना चुग जाएगी तो हमारे लिए बचेगा क्या....?​ ​बालक नानक ने आसमान की ओर उंगली उठाते हुए कहा👆🏻इसे इस निरंकार पर छोड़ दीजिये, उसको सबकी चिंता है हमारी भी और इन चिड़ियों की भी. बालक नानक के मुंह से निकला....​ ​राम दी चिड़िया, राम दा खेत | चुग लो चिड़ियों, भर-भर पेट।।​ ​जब फसल कटी तो सब हैरत में थे क्योंकि पूरे गांव में सबसे अधिक दाना गुरु नानक जी के खेत से ही निकला था.!​🙏🏻🙏🏻 *ये है विश्वास की ताकत* 💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠💠 🚩||राम राम ||🚩

+75 प्रतिक्रिया 11 कॉमेंट्स • 150 शेयर

भगवान श्रीकृष्ण द्वारा चीरहरण लीला 〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️ मित्रों यहाँ पर चीरहरण का अभिप्राय है,माया रूपी दीवार या पर्दा का हरण,हम सभी जीवात्माओं के सामने माया का पर्दा या दीवार ढका हुआ है,जिस कारण से हम ईश्वर को इन माया के दोनों चर्म नेत्रों से नही देख पाते हैं,जैसा की हम सभी जीवात्मा भलिप्रकार से यह जानते हैं,कि किसी भी दृश्य को देखने और समझने में धरती और आसमान का अन्तर होता है,ठीक इसी प्रकार से ही भगवान श्रीकृष्ण की प्रत्येक लीलायें हैं,जो दिखती कुछ और हैं,लेकिन उसके पीछे उद्देश्य होता कुछ और हैं। इसलिए ही हमारे संतो महापुरुषो ने हमे सावधान किया है,हमे बताया है कि श्री रामजी के चरित्र का अनुसरण करो और श्री कृष्ण के लीलाओं को पावन बुद्धि से समझो। भगवान श्री कृष्ण द्वारा जब चीरहरण लीला की गई थी,उस समय उनकी आयु मात्र साढ़े छः वर्ष की थी, चीरहरण लीला के वर्णन से पहले उनके आगे की कुछ लीलाओं का संक्षिप्त वर्णन कर रहे है,क्योंकि चीर हरण लीला का आधार ही उनके द्वारा पूर्व में की गई लीलायें हैं,जब भगवान श्री कृष्ण मात्र छः दिन के थे, तब उन्होंने एक विशालकाय राक्षसी पूतना का वध करके उसका उद्धार किया था,इसके पश्चात जब वे तीन माह के हुए थे तब सकटासुर नामक दैत्य का संहार करके उसका उद्धार किया था,फिर जब वो पांच माह के हुए थे तब विशाल बवण्डर के रूप में आये हुए दैत्य तृणावृत का वध करके उसका उद्धार किया था, फिर आगे क्रमशः इसी प्रकार वकासुर,अघासुर आदि अनेक विशालकाय दैत्यों का संहार किया था,एक बार गोपियाँ भगवान श्री कृष्ण से कहतीं हैं,कि हे कृष्ण हम जान गईं हैं की आप मानव नही साक्षात श्री नारायण ही हैं,तब भगवान श्री कृष्ण कहते हैं कि हे गोपियो मैं तो केवल साधारण बालक ही हूँ,परन्तु तुमलोग यह बताओ कि तुम्हे ऐसा क्यों लगता है कि मैं मानव नही नारायण ही हूँ,तब गोपियाँ कहतीं हैं कि हे नन्दनन्दन तुमने केवल छः दिन की आयु में ही,अति विशालकाय राक्षसी पूतना का विषयुक्त दुग्ध का पान करके उस राक्षसी का वध करके उसका उद्धार किया था,संतो ज्ञानियों का यह कहना है कि यह कार्य ना तो कोई मनुष्य कर सकता है,और ना ही किसी भी देवता में ही ऐसा करने का सामर्थ्य है,इसी तरह आपने अनेकानेक विशालकाय भयंकर राक्षसो का वद्ध करके उनका उद्धार किया है और व्रजवासियों की रक्षा की,गोपियाँ कहतीं हैं कि हे कृष्ण तुम्हारे दोनों चरणों की तलवों में शंख चक्र गदा और पद्म के चित्रांकित है,तुम्हारे छाती में श्रीवत्स का जो चिन्ह है,वह तुम्हारे नारायण होने का प्रमाण देता है,हे नाथ हम और क्या कहें जब हम दधि माखन बनाकर भगवान श्री नारायण को भोग लगाने के लिए आवाहन करतीं हैं,तो तुम्ही दौड़े चले आते हो और भोग लगाकर चले जाते हो,तुम जिस घर का भी दधि माखन का भोग लगा जाते हो,उस घर की गाइया चार गुना अधिक दूध देने लग जाती हैं,यहाँ तक की उस घर की बाँझ बूढ़ी और बिन बियाई बछिया भी दूध देने लग जाती है,तब भगवान श्री कृष्ण मौन रहकर गोपियों की तरफ देखकर मुसकरा देते हैं,तभी से ब्रज की गोपियाँ श्री कृष्ण को पतिभाव से प्रेम करने लगतीं हैं,और भगवान श्री कृष्ण को पति रूप में प्राप्त करने के लिये माता कत्यायनी का विधिवत एक मास तक व्रत पूजन करने लगतीं हैं,अब गोपियाँ प्रतिदिन सुर्योदय से पूर्व उठकर यमुना जी में स्नान करने को जाती हैं,और यमुना तट की बलुकामयी कत्यायनी माता की पिण्डी बनाकर विधिवत पूजन अर्चन करतीं हैं,गोपियाँ जिस वस्त्र को पहकर स्नान करने जाती हैं स्नान के पश्चात पुनः उन्ही वस्त्रो को पहन लेती हैं, अर्थात वे नग्न होकर यमुना जी में स्नान करती हैं और अज्ञानतावश जल के अधिष्ठात्र देवता वरुण देव का अपराध करती हैं,भगवन श्री कृष्ण ने गोपियों के समस्त अशुभ संस्कारों और अज्ञानताओं का हरण करने के लिए ही चीर हरण लीला की थी,भगवान श्रीकृष्ण गोपियों के सारे वस्त्रो को अपने कांधे पर रखकर ऊँचे कदम्ब की डाली पर चढ़कर बैठ जाते हैं और जोर-जोर से ठहाके लगाते है,स्नान करती हुई गोपियाँ पहले तो यह देखकर सहम जातीं हैं,फिर कहने लगतीं हैं कि हे कृष्ण हमारे वस्त्र हमे वापस कर दो हम सभी ठण्ड के मारे जल में ठिठुर रहीं हैं,तब भगवान श्रीकृष्ण ने कहा हे गोपियों बाहर आओ और अपने-अपने वस्त्र ले जाओ,तब गोपियाँ कहतीं हैं,कि हे नाथ हम तो तुम्हारी दासियाँ हैं एक मात्र तुम्ही से प्रेम करतीं हैं हमे ना सताओ हमें हमारे वस्त्र देदो,हम निर्वस्त्र तुम्हारे सामने कैसे आ सकतीं हैं हमे लज्जा आती है,भगवान् श्री कृष्ण कहते हैं कि जब तुम निर्वस्त्र होकर जल में घुसी थीं तब तुम्हे लज्जा नही आई थी, गोपियों ने श्री कृष्ण से कहा तब तुम यहाँ पर नही थे कृष्ण,भगवान श्री कृष्ण कहते हैं हे गोपियों तब भी मैं यहाँ मौजूद था,फर्क सिर्फ इतना है कि तुम सब मुझे अभी देख पा रही हो,हे गोपियों तुम तो कहती हो कि तुम सभी मुझसे प्रेम करती हो,मेरी दासियाँ हो मुझे नारायण मानती हो,तो फिर यह विचार करो कि मैं तो सर्वत्र सर्वव्यापी हूँ,तुम जिस जल में नग्न स्नान कर रही हो उस जल में भी मैं ही हूँ,मैं तो कण-कण में व्याप्त हूँ, मुझसे कुछ भी नही छिपा है यदि तुम सभी वस्त्र पहने हुए भी होतीं तो भी मेरे समक्ष नग्न ही होती,हे गोपियों तुम्हारा ज्ञान अधूरा है,मैं ब्रह्म हूँ ये बात तो तुम जानती हो परन्तु व्यवहार में मानती नही हो, भगवान श्री कृष्ण के इस प्रकार के वचनों को सुनकर गोपियों के मन से अज्ञानता रूपी अंधकार समाप्त हुआ,अब उनके मन से स्त्री पुरुष का भेद ही समाप्त हो गया,उनकी दृष्टि दिव्य हो गई और वे सभी नग्न अवस्था में ही जल से बाहर निकलकर श्री कृष्ण के समक्ष आकर खड़ी हो गयीं,भगवान श्रीकृष्ण ने उनके वस्त्र उन्हें दे दिए,उनके वस्त्र श्रीकृष्ण के श्रीविग्रह को स्पर्श कर चुके थे ऐसे वस्त्र को धारण करते ही गोपियों के जन्म-जन्म के अशुभ संस्कार और अज्ञान नष्ट हो गया,भगवान श्री कृष्ण ने कहा कि हे गोपियो तुमने यमुना जल में नग्न स्नान करके वरुण देव का अपराध किया है,इसलिए वरुण देव को प्रणाम करके क्षमा मांगो,गोपियो ने समस्त भूतों का एक मात्र स्वामी श्री कृष्ण जानकार,केवल श्रीकृष्ण को ही प्रणाम किया, भगवान श्रीकृष्ण गोपियों पर प्रसन्न हुए और कहा हे गोपियों मैं समय आने पर तुम सभी आत्माओं को अपने परमात्मा सरूप के दिव्य दर्शन कराकर तुम्हारे साथ महारास द्वारा आलौकिक मिलन करूँगा,अब तुम पहले वाली गोपियाँ नही रही,अब तुम व्रज की दिव्य विभूतियाँ बन चुकी हो,जाओ तुम्हारा कल्याण होगा। 〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️🌼〰️〰️

+21 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 14 शेयर

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर

0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
sn vyas Feb 28, 2021

गीता का महत्व, श्री कृष्ण के इन उपदेशों से कर सकते हैं जीवन सफल....... भागवत गीता को हिंदू धर्म में सर्वोपरि माना गया है। मार्गशीर्ष माह की एकादशी के दिन गीता के उपदेश भगवान कृष्ण ने पांडव पुत्र अर्जुन को दिए थे। इस दिन के लिए मान्यता है कि कुरुक्षेत्र की भूमि पर जब अर्जुन ने शत्रुओं को देखकर वो विचलित हो गए और उन्होनें शस्त्र उठाने से मना कर दिया। उस समय भगवान कृष्ण ने अर्जुन को मनुष्य धर्म और कर्म का उपदेश दिया। गीता में भगवान कृष्ण के दिए हुए मानव और उसके कर्म से जुड़े उपदेश लिखे हुए हैं। माना जाता है कि कुरुक्षेत्र की भूमि पर ही गीता का जन्म हुआ था। गीता का जन्म लगभग 5 हजार वर्ष पूर्व हुआ था। गीता का महत्व है कि वो आत्मा और परमात्मा के रुप को हमारे सामने रखती है। कृष्ण के उपदेशों को प्राप्त करने के बाद अर्जुन को ज्ञान की प्राप्ति हुई। अर्जुन ने मानव के कर्म और धर्म के बीच की उस व्याख्या को समझा। गीता के उद्देश्यों से मनुष्यों को उचित बोध की प्राप्ति होती है, माना जाता है कि गीता की उत्पत्ति इसलिए हुई क्योंकि कलयुग में भगवान और मनुष्य एक साथ धरती पर नहीं हो सकते और इस दौरान उन्हें सही-गलत मार्ग के बारे में समझाने के लिए गीता की उत्पत्ति हुई। • जो हमेशा मन में शंका रखते हैं, उन्हें संसार में कहीं पर भी चैन नहीं मिलता है। • बुद्धिमान व्यक्ति ज्ञान और कर्म को एक ही मानता है और यही परम सत्य है। • हमेशा कर्म करते रहना चाहिए, क्योंकि बेकार रहने से कर्मवान होना बेहतर माना जाता है। • क्रोध से माया उत्पन्न होती है, माया से बुद्धि व्यग्र होती है और व्यग्र बुद्धि से विचारों का विनाश माना जाता है। • जो सोच को नियंत्रित नहीं रख पाते हैं, उनकी सोच उनकी दुश्मन बन जाती है। • व्यक्ति जो चाहे वो बन सकता है, लेकिन उसे लक्ष्य पर पूरे विश्वास के साथ काम करना होगा। • अशांत मन को काबू में पाना मुश्किल होता है, लेकिन बार-बार प्रयास करने पर सफलता पाई जा सकती है। • जो जीवित है उसकी मृत्यु निश्चित है, जो मरा है उसका जन्म निश्चित है। इस सत्य पर दुख मनाना व्यर्थ है। • जो खुद पर विश्वास करते हैं उन्हें भगवान के अलावा किसी पर भी आश्रित होने की जरुरत नहीं होती है। • एक बुद्धिमान व्यक्ति को जीवन का सुख कामुकता से नहीं मिलता है।

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 1 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB