॥गीता प्रश्नोत्तरी॥ ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 प्रश्न १--- धृतराष्ट्र ने संजय से क्या पूंछा ? उत्तर --- धृतराष्ट्र ने संजय पूंछा कि धर्म क्षेत्र कुरुक्षेत्र में पाण्डव और दुर्योधन क्या कर रहे हैं ? प्रश्न २ --- संजय ने धृतराष्ट्र को क्या उत्तर दिया ? उत्तर ---- संजय ने उत्तर दिया की दुर्योधन द्रोणाचार्य के पास जाकर उनका ध्यान दोनों सेनाओं के अवलोकन                   की तरफ आकर्षित करना चाह रहा है। प्र्शन ३ ----  संख्या और बल से संपन्न होते हुए भी वह अपनी सेना को पाण्डव की सेना से अपर्याप्त यानी                   कमजोर क्यों समझता है ? उत्तर ----- संख्या और बल में संपन्न होते हुए भी वह अपनी सेना को अपर्याप्त इसलिए समझता है क्योकि                   उसके सेना पति उभय पक्षी भीष्मपितामह हैं जबकि पाण्डव सेना में स्वपक्षी भीम हैं। प्रश्न  ४ -- श्री कृष्ण के रथ में किस रंग के घोड़े जुते हुए हैं ? उत्तर --- श्री कृष्ण के घोड़े में सफ़ेद रंग के घोड़े जुते हुए हैं। प्रश्न ५ --- श्री कृष्ण के शंख का नाम क्या था ? उत्तर ---- श्री कृष्ण के शंख का नाम पाञ्चजन्य थ है। प्रश्न ६ --  अर्जुन के शंख का नाम क्या था ? उत्तर ---- अर्जुन के शंख का नाम देवदत्त था। प्रशन ७ --- भीम के शंख का नाम क्या था ? उत्तर ----- भीम के शंख का नाम पौंड्र था। प्रश्न  ८ ----भीम को बृकोदर क्यों कहा गया ? उत्तर -------भोजन अधिक करने के कारण। प्रश्न  ९ ---- युधिष्ठिर के शंख का नाम क्या था ? उत्तर ---- युधिष्ठिर के शंक का नाम अनंत विजय थ. प्रश्न १० -- नकुल के शंख का नाम क्या था ? उत्तर --- नकुल के शंख का नाम सुघोष था। प्रश्न ११ ----सहदेव के शंक का नाम क्या था ? उत्तर ----- सहदेव के शंख का नाम मणिपुष्पक था। प्रश्न १२ --- अर्जुन के झंडे में किसका चिन्ह अंकित था। उत्तर -----अर्जुन के झंडे में हनुमान का चिन्ह अंकित था।  प्रश्न १३ ---- अर्जुन को विरित क्यों हो जाती है ? उत्तर --दोनों सेनाओं में अपने ही सगे सम्बं सम्बन्धियों को देखकर अर्जुन का दिल दहल जाता है। और उन्हें युद्ध से विरित हो जाती है। प्रश्न १४ ---  स्वजनों के मरने और मारने से किस बात का भय अर्जुन को सर्वाधिक विचलित करता है ? उत्तर ---  स्वजनों के मरने और मरने से कुलधर्म के नष्ट होने और वर्णशंकर की उतपत्ति का भय अर्जुन को                 विचलित करता है। प्रश्न १५ --  श्री कृष्ण के समझाने पर भी युद्ध न करने का कारणं अर्जुन क्या बताते हैं ? उत्तर ---    श्री कृष्ण के समझाने पर भी युद्ध न करने का कारण  अर्जुन बताते हैं कि भीष्मपितामह और                            द्रोणाचार्य दोनों ही  पूज्यनीय हैं , जिनसे युद्ध करना होगा।    प्रश्न १६ ---  यह शरीर यानी देह कैसा है ? उत्तर ---     यह शरीर परिवर्तन शील और नश्वर है। प्रश्न १७ --  मोक्ष के योग्य कौन होता है ? उत्तर --    मोक्ष के योग्य वह होता है जो दुःख -सुख को समान समझे इन्द्रिय और विषय के संयोग से व्याकुल                  न हो। प्रश्न १८ -- नाशरहित कौन है ? अथवा  नष्ट  कौन नहीं होता ? उत्तर ---   नाश रहित जीवात्मा है। प्रश्न १९ --  नाशवान कौन है ? अथवा नष्ट कौन होता है ? उत्तर ---  नाशवान शरीर है। प्रश्न २० --  श्री कृष्ण अर्जुन को पृथा पुत्र क्यों कहते हैं ? उत्तर ---- श्री कृष्ण अर्जुन को पृथा पुत्र इसलिए कहते हैं क्योंकि अर्जुन कुन्ती के पुत्र हैं और कुन्ती का एक नाम                 पृथा भी है। प्रशन २१ -- ऐसी कौन सी चीज है जिसे शस्त्र काट नहीं सकते , अग्नि जला नहीं सकती , जल गीला नहीं कर                    सकता , वायु सुखा नहीं सकती। उत्तर ---  आत्मा। प्रश्न २२ --  योग क्या कहलाता है ? उत्तर ---   फल- अफल , सुख - दुःख , सिद्धि - असिद्धी ,में समत्व ही योग कहलाता है। प्रश्न २३ --- क्षेम क्या है ? उत्त्तर --प्राप्त वस्तु की रक्षा का नाम क्षेम है। प्रश्न २४ -- समत्वं क्या है ? उत्तर ---- पूर्ण -अपूर्ण एवं फल -अफल में सम भाव ही समत्व है। प्रश्न २५ --कैसा कर्म निम्न श्रेणी का माना जाता है ? उत्तर --- सकाम कर्म। प्रश्न  २६ -- गीता में दल -दल किसे कहा गया है ? उत्तर ---- मोह को। प्रश्न २७ --- स्थित प्रज्ञ कौन है ? उत्तर ------समस्त कामनाओं को त्याग देने वाला , आत्म संतुष्ट व्यक्ति स्थित प्रज्ञ है। प्रश्न २८ --- स्थिर बुद्धि मनुष्य के क्या लक्षण हैं ? उत्तर ---- दुःख में उद्विग्न नहीं होने वाला , सुख में निःस्पृह रहने वाला , राग , भय , क्रोध से मुक्त मुनि स्थिर                बुद्धि  जाता है। प्रश्न २९ --- स्थिर बुद्धि किसकी हो सकती है ? उत्तर ------जिसने इन्द्रियों को वश में कर लिया हो। प्रश्न ३० --- क्रोध कब उत्पन्न होता है ? उत्तर ------- कामना में विध्न उत्पन्न होने पर। प्रश्न ३१ ---क्रोध होने पर इंशान पर क्या प्रभाव पड़ता है ? उत्तर ---- ज्ञान (बुद्धि ) का नाश होता है। प्रश्न ३२ -- दुःख की उत्तपत्ति कब होती है ?  उत्तर --- निश्चयात्मिका बुद्धि के आभाव में शांत रहित मनुष्य में दुःख की उत्तपत्ति होती है।  प्रश्न ३३ -- शांति किसे प्राप्त होती है ? उत्तर --- कामना,  ममता , अहंकार , स्पृहा (लालच ) रहित व्यकित को शान्ति प्राप्त होती है। प्रश्न ३४ --  निष्ठा (पराकाष्ठा ) क्या है ?  उत्तर ----- साधन की परिपक्व अवस्था अर्थात पराकाष्ठा  नाम निष्ठा है। प्रश्न ३५ --- सम्पूर्ण निष्ठा किस योग के द्वारा प्राप्त होती है ?  उत्तर ---- कर्म योग के द्वारा।  प्रश्न ३५ -- समत्व योग , बुद्धि योग , कर्म योग , तदर्थ कर्म , मदर्थ कर्म , आदि किसे कहा गया है ? उत्तर ----- निष्काम कर्म योग को। प्रश्न ३६ -- समत्व योग किसे कहते हैं ? उत्तर ---- समबुद्धि युक्त पुरुष पाप-पुण्य से ऊपर उठ कर कर्म वन्धन से छूट जाते हैं , और सभी कार्यों में रुचि                लेते हैं तब उसे समत्व योग कहा जाता है।  (सम बुद्धि को ) प्रश्न ३७ ---- निष्ठा कितने प्रकार की होती है ? और कौन - कौन सी होती है ? उत्तर ------ निष्ठा दो प्रकार की होती है।  सांख्य योग ( भक्ति योग ) ज्ञान योग , कर्म योग।  प्रश्न ३८ -- श्रेष्ठ योग कौन सा मन गया है ? उत्तर ---- कर्म योग। प्रश्न३९  --- सर्व प्रथम योग की बात किसने - किससे की थी ? उत्तर --- कृष्ण ने सूर्य से विष्णु रूप में। प्रश्न४० -- श्री कृष्ण इस पृथ्वी पर कब - कब आने की बात किससे कहते हैं ? 🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷 क्रमशः.........

॥गीता प्रश्नोत्तरी॥
ॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐॐ
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
प्रश्न १--- धृतराष्ट्र ने संजय से क्या पूंछा ?
उत्तर --- धृतराष्ट्र ने संजय पूंछा कि धर्म क्षेत्र कुरुक्षेत्र में पाण्डव और दुर्योधन क्या कर रहे हैं ?
प्रश्न २ --- संजय ने धृतराष्ट्र को क्या उत्तर दिया ?
उत्तर ---- संजय ने उत्तर दिया की दुर्योधन द्रोणाचार्य के पास जाकर उनका ध्यान दोनों सेनाओं के अवलोकन
                  की तरफ आकर्षित करना चाह रहा है।
प्र्शन ३ ----  संख्या और बल से संपन्न होते हुए भी वह अपनी सेना को पाण्डव की सेना से अपर्याप्त यानी
                  कमजोर क्यों समझता है ?
उत्तर ----- संख्या और बल में संपन्न होते हुए भी वह अपनी सेना को अपर्याप्त इसलिए समझता है क्योकि
                  उसके सेना पति उभय पक्षी भीष्मपितामह हैं जबकि पाण्डव सेना में स्वपक्षी भीम हैं।
प्रश्न  ४ -- श्री कृष्ण के रथ में किस रंग के घोड़े जुते हुए हैं ?
उत्तर --- श्री कृष्ण के घोड़े में सफ़ेद रंग के घोड़े जुते हुए हैं।
प्रश्न ५ --- श्री कृष्ण के शंख का नाम क्या था ?
उत्तर ---- श्री कृष्ण के शंख का नाम पाञ्चजन्य थ है।
प्रश्न ६ --  अर्जुन के शंख का नाम क्या था ?
उत्तर ---- अर्जुन के शंख का नाम देवदत्त था।
प्रशन ७ --- भीम के शंख का नाम क्या था ?
उत्तर ----- भीम के शंख का नाम पौंड्र था।
प्रश्न  ८ ----भीम को बृकोदर क्यों कहा गया ?
उत्तर -------भोजन अधिक करने के कारण।
प्रश्न  ९ ---- युधिष्ठिर के शंख का नाम क्या था ?
उत्तर ---- युधिष्ठिर के शंक का नाम अनंत विजय थ.
प्रश्न १० -- नकुल के शंख का नाम क्या था ?
उत्तर --- नकुल के शंख का नाम सुघोष था।
प्रश्न ११ ----सहदेव के शंक का नाम क्या था ?
उत्तर ----- सहदेव के शंख का नाम मणिपुष्पक था।
प्रश्न १२ --- अर्जुन के झंडे में किसका चिन्ह अंकित था।
उत्तर -----अर्जुन के झंडे में हनुमान का चिन्ह अंकित था।
 प्रश्न १३ ---- अर्जुन को विरित क्यों हो जाती है ?
उत्तर --दोनों सेनाओं में अपने ही सगे सम्बं सम्बन्धियों को देखकर अर्जुन का दिल दहल जाता है। और उन्हें युद्ध से विरित हो जाती है।
प्रश्न १४ ---  स्वजनों के मरने और मारने से किस बात का भय अर्जुन को सर्वाधिक विचलित करता है ?
उत्तर ---  स्वजनों के मरने और मरने से कुलधर्म के नष्ट होने और वर्णशंकर की उतपत्ति का भय अर्जुन को
                विचलित करता है।
प्रश्न १५ --  श्री कृष्ण के समझाने पर भी युद्ध न करने का कारणं अर्जुन क्या बताते हैं ?
उत्तर ---    श्री कृष्ण के समझाने पर भी युद्ध न करने का कारण  अर्जुन बताते हैं कि भीष्मपितामह और         
                  द्रोणाचार्य दोनों ही  पूज्यनीय हैं , जिनसे युद्ध करना होगा।   
प्रश्न १६ ---  यह शरीर यानी देह कैसा है ?
उत्तर ---     यह शरीर परिवर्तन शील और नश्वर है।
प्रश्न १७ --  मोक्ष के योग्य कौन होता है ?
उत्तर --    मोक्ष के योग्य वह होता है जो दुःख -सुख को समान समझे इन्द्रिय और विषय के संयोग से व्याकुल
                 न हो।
प्रश्न १८ -- नाशरहित कौन है ? अथवा  नष्ट  कौन नहीं होता ?
उत्तर ---   नाश रहित जीवात्मा है।
प्रश्न १९ --  नाशवान कौन है ? अथवा नष्ट कौन होता है ?
उत्तर ---  नाशवान शरीर है।
प्रश्न २० --  श्री कृष्ण अर्जुन को पृथा पुत्र क्यों कहते हैं ?
उत्तर ---- श्री कृष्ण अर्जुन को पृथा पुत्र इसलिए कहते हैं क्योंकि अर्जुन कुन्ती के पुत्र हैं और कुन्ती का एक नाम
                पृथा भी है।
प्रशन २१ -- ऐसी कौन सी चीज है जिसे शस्त्र काट नहीं सकते , अग्नि जला नहीं सकती , जल गीला नहीं कर
                   सकता , वायु सुखा नहीं सकती।
उत्तर ---  आत्मा।
प्रश्न २२ --  योग क्या कहलाता है ?
उत्तर ---   फल- अफल , सुख - दुःख , सिद्धि - असिद्धी ,में समत्व ही योग कहलाता है।
प्रश्न २३ --- क्षेम क्या है ?
उत्त्तर --प्राप्त वस्तु की रक्षा का नाम क्षेम है।
प्रश्न २४ -- समत्वं क्या है ?
उत्तर ---- पूर्ण -अपूर्ण एवं फल -अफल में सम भाव ही समत्व है।
प्रश्न २५ --कैसा कर्म निम्न श्रेणी का माना जाता है ?
उत्तर --- सकाम कर्म।
प्रश्न  २६ -- गीता में दल -दल किसे कहा गया है ?
उत्तर ---- मोह को।
प्रश्न २७ --- स्थित प्रज्ञ कौन है ?
उत्तर ------समस्त कामनाओं को त्याग देने वाला , आत्म संतुष्ट व्यक्ति स्थित प्रज्ञ है।
प्रश्न २८ --- स्थिर बुद्धि मनुष्य के क्या लक्षण हैं ?
उत्तर ---- दुःख में उद्विग्न नहीं होने वाला , सुख में निःस्पृह रहने वाला , राग , भय , क्रोध से मुक्त मुनि स्थिर
               बुद्धि  जाता है।
प्रश्न २९ --- स्थिर बुद्धि किसकी हो सकती है ?
उत्तर ------जिसने इन्द्रियों को वश में कर लिया हो।
प्रश्न ३० --- क्रोध कब उत्पन्न होता है ?
उत्तर ------- कामना में विध्न उत्पन्न होने पर।
प्रश्न ३१ ---क्रोध होने पर इंशान पर क्या प्रभाव पड़ता है ?
उत्तर ---- ज्ञान (बुद्धि ) का नाश होता है।
प्रश्न ३२ -- दुःख की उत्तपत्ति कब होती है ?
 उत्तर --- निश्चयात्मिका बुद्धि के आभाव में शांत रहित मनुष्य में दुःख की उत्तपत्ति होती है। 
प्रश्न ३३ -- शांति किसे प्राप्त होती है ?
उत्तर --- कामना,  ममता , अहंकार , स्पृहा (लालच ) रहित व्यकित को शान्ति प्राप्त होती है।
प्रश्न ३४ --  निष्ठा (पराकाष्ठा ) क्या है ?
 उत्तर ----- साधन की परिपक्व अवस्था अर्थात पराकाष्ठा  नाम निष्ठा है।
प्रश्न ३५ --- सम्पूर्ण निष्ठा किस योग के द्वारा प्राप्त होती है ?
 उत्तर ---- कर्म योग के द्वारा।
 प्रश्न ३५ -- समत्व योग , बुद्धि योग , कर्म योग , तदर्थ कर्म , मदर्थ कर्म , आदि किसे कहा गया है ?
उत्तर ----- निष्काम कर्म योग को।
प्रश्न ३६ -- समत्व योग किसे कहते हैं ?
उत्तर ---- समबुद्धि युक्त पुरुष पाप-पुण्य से ऊपर उठ कर कर्म वन्धन से छूट जाते हैं , और सभी कार्यों में रुचि                लेते हैं तब उसे समत्व योग कहा जाता है।  (सम बुद्धि को )

प्रश्न ३७ ---- निष्ठा कितने प्रकार की होती है ? और कौन - कौन सी होती है ?
उत्तर ------ निष्ठा दो प्रकार की होती है।  सांख्य योग ( भक्ति योग ) ज्ञान योग , कर्म योग। 
प्रश्न ३८ -- श्रेष्ठ योग कौन सा मन गया है ?
उत्तर ---- कर्म योग।
प्रश्न३९  --- सर्व प्रथम योग की बात किसने - किससे की थी ?
उत्तर --- कृष्ण ने सूर्य से विष्णु रूप में।
प्रश्न४० -- श्री कृष्ण इस पृथ्वी पर कब - कब आने की बात किससे कहते हैं ?
🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷🌷
क्रमशः.........

+20 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 35 शेयर

कामेंट्स

Niranjan Pal Jan 12, 2019
जय श्री राम जय श्री राम।। सब कुछ में सांझा हो ,पर कर्म में सांझा ना हो। कर्म करें का भोग ,भोगना मेल मुलाझा नाम हो।। राम राम

Ashok Shrivastava Jan 12, 2019
Om Namah Bhagwate Vasudevay Namah Narayana Kamalaya Patiye Namah Shubh Sandhya

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB