Malchandji Swami
Malchandji Swami May 28, 2018

Radhe Radhe jai shri Krishna

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 5 शेयर

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 2 शेयर

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Shree store Feb 18, 2020

+5 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Mukesh khanuja Feb 18, 2020

+2 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ravindra Kumar sahu Feb 18, 2020

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Ashok verma (ashoka) Feb 18, 2020

+4 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 3 शेयर
Shree store Feb 18, 2020

+1 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 0 शेयर
Acharya Rajesh Feb 18, 2020

*धारावाहिक लेख:- भगवान शिव, महाशिवरात्रि 2020, भाग-5* *महाशिवरात्रि का शुभ मुहूर्त:-* *शुभ मुहूर्त चतुर्दशी तिथि प्रारम्भ -21 फरवरी 2020,शाम 5:22 बजे* *पूर्व अंक में प्रकाशित भाग के अंश........* *महाशिवरात्रि की पूजा तथा व्रत विधि :-* शिवरात्रि पूजन के तीन अंग है । 1. उपवास 2. पूजन 3. जागरण  1. महाशिवरात्रि से एक दिन पूर्व ( त्रयोदशी तिथि ) को केवल एक वक्त का ही भोजन करने का विधान है, परंतु इस वर्ष त्रयोदशी तिथि 21 फरवरी को ही शाम 5:22 बजे तक चलेगी, उसके उपरांत ही चतुर्दशी तिथि का आरंभ होता है । 2. अतः 21 फरवरी को ही, महाशिवरात्रि के दिन प्रातःकाल ब्रह्म मुहुर्त मे उठकर जगदम्बा पार्वती सहित भगवान शिव, को प्रमाण कर हाथ जोडकर भक्तिपूर्वक उनसे प्रार्थना करे :- *देवेश्वर उठिये, उठिये ! मेरे ह्दय मंदिर मे शयन करने वाले देवता ! उठिये ! उमाकांत उठिये और ब्रह्माण्ड मे सबका कल्याण और मंगल कीजिये मैं धर्म को जानता हूं लेकिन मेरी उसमे प्रवृत्ति नही होती, मै अधर्म को जानता हूं, परंतु उससे दूर नही हो पाता । महादेव ! आप मेरे ह्दय मे स्थित होकर मुझे जैसी प्रेरणा देते है, वैसा ही मै करता हूं । अतः मुझे अपनी भक्ति की प्रेरणा दे, और उसे पूर्ण करने हेतु शक्ति भी दे ।* *गतांक से आगे..........* महाशिवरात्रि के अवसर पर भगवान शिव के महामंत्र जाप द्वारा मनोरथ पूर्ण करने हेतु महामंत्र तथा स्तोत्र इत्यादि:- 1. शिवगायत्री मंत्र जाप करने से कारोबारी जीवन मे तरक्की, तथा आर्थिक रूप से मज़बूती मिलती है । *शिव गायत्री मंत्र :-* *ॐ सदाशिवाय विद्महे सहस्राक्ष्याय धीमहि ।* *तन्नः साम्बः प्रचोदयात् ॥* 2. जिन व्यक्तियों कि कुंडली मे साढेसाती, दूषित चंद्र की दशा-महादशा, अमावस्या-पूर्णिमा या ग्रहण का जन्म हो तो वह जातक शिव अष्टोतरी मंत्र का जाप करे । *शिव अष्टोतरी मंत्र :-* *॥ ह्रीं ॐ नमः शिवाय ह्रीं ॥* 3. मानसिक रोग ( डिप्रेशन, संवेदनशील स्वभाव, वहम ), क्षय रोग, दमा-श्वास रोग, साइनस, मिर्गी तथा किडनी रोगो से पीडित व्यकित या महावारी या स्त्री रोग से पीडित नारियाँ महाशिवरात्रि व्रत या पूजन के साथ रूद्र गायत्री मंत्र का जाप करे तो निश्चित रूप से लाभ प्राप्त होगा । *रूद्र गायत्री मंत्र :-* *ॐ पुरुषस्य विद्महे, सहस्राक्षस्य धीमहि ।* *तन्नो रुद्रः प्रचोदयात् ॥* 4. जो लोग मारकेष या लम्बी बीमारी से ग्रस्त हो वह सावन मास मे पूजन के साथ प्रतिदिन 11माला लधुमृत्युंजय मंत्र के साथ ॥ नमः शिवाय ॥ मंत्र का जाप करे तो केवल एक महीने के जाप के प्रभाव से मृत्युशैया से भी उठ खडे होगे । *लघुमृत्युंजय मंत्र :-*   *॥ ॐ ह्रौं जू  सः ॥* 5. पंचाक्षर मंत्र अमोघ एवं मोक्षदायी है, पंचाक्षर स्तोत्र अत्यंत पुण्यदायी व मनोरथो को पूर्ण करने वाला, समस्त भय को दूर करने वाला तथा मोक्ष प्रदान करने वाला स्तोत्र है । *भगवान शंकर का पंचाक्षर मंत्र:-* *। ॐ नमः शिवाय ।* *शिव महामंत्र:-* 1. *नमोस्तुते शंकरशांतिमूर्ति, नमोस्तुते चन्द्रकलावत्स* *नमोस्तुते कारण कारणाय,नमोस्तुते कर्भ वर्जिताय* 2. *ॐ नमस्तुते देवेशाय नमस्कृताय भूत भव्य महादेवाय हरित पिंगल लोचनाय ।।* 3. *।।ॐ नमो भगवते रुद्राय नमः ।।* 4. *ॐ दक्षिणा मूर्ति शिवाय नमः* 5. *ॐ दारिद्र्य दुःख दहनाय नम: शिवाय* 6. *वृषवाहनः शिव शंकराय नमो नमः ।* *ओजस्तेजो सर्वशासकः शिव शंकराय नमो नमः ।।* 7.*॥ॐ मृत्युंजय मंत्र ॥* *ॐ ह्रौं जू सः। ॐ भूः भुवः स्वः।* *ॐ त्र्यम्बकं यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्धनम्‌।* *उर्वारुकमिव बन्धनान्मृत्योर्मुक्षीय माऽमृतात्‌।* *स्वः भुवः भूः ॐ सः जू ह्रौं ॐ ॥* 8.*वैदिक महामृत्युंजय मंत्र:-* *ॐ त्र्यम्बकँ य्यजामहे सुगन्धिं पुष्टिवर्द्धनम् ।* *उर्व्वारूकमिव बन्धनान्न्मृत्योर्म्मुक्षीय मामृतात् ।* *ॐ त्र्यम्बकं य्यजामहे सुगन्धिम्पतिवेदनम् ।* *उर्व्वारूकमिव बन्धनादितोमुक्षीय मामुत: ।।* 9. *पौराणिक महामृत्युंजय मंत्र:-* *ॐ मृत्युंजयमहादेवं त्राहि मां शरणागतम् ।* *जन्ममृत्युजराव्याधिपीडितं कर्मबन्धनै:॥* 10. *समय मंत्र:-* *ॐ हौं जू स: मृत्युंजयाय नम:॥* 11. *कर्पूर गौरं करूणावतारं संसार सारं भुजगेन्द्र हारं।* *सदा वसंतम् हृदयारविंदे भवं भवानी सहितं नमामि* *(क्रमशः)* *लेख के छठे भाग में कल महाशिवरात्रि के अवसर पर राशि अनुसार अभिषेक तथा पूजन* ________________________ *आगामी लेख:-* *1. 20 फरवरी को महाशिवरात्रि के अवसर पर राशि अनुसार अभिषेक तथा पूजन* *2. 21 फरवरी को महाशिवरात्रि पर्व पर लेख* _________________________ *जय श्री राम* *आज का पंचांग 🌹🌹🌹* *बुधवार,19.2.2020* *श्री संवत 2076* *शक संवत् 1941* *सूर्य अयन- उतरायण, गोल- दक्षिण गोल* *ऋतुः- शिशिर-वसन्त ऋतुः ।* *मास- फाल्गुन मास।* *पक्ष- कृष्ण पक्ष ।* *तिथि- एकादशी तिथि 3:03 pm तक।* *चंद्रराशि- चंद्र धनु राशि मे ।* *नक्षत्र- पू०षाढा नक्षत्र अगले दिन 7:28 am तक* *योग- वज्र योग 7:50 am तक(अशुभ है)* *करण- बालव करण 3:03 pm तक* *सूर्योदय 7 am, सूर्यास्त 6:10 pm* *राहुकाल - 12 pm से 1:30 pm तक, (शुभ कार्य वर्जित )* *गंडमूल:- (ज्येष्ठा) गंडमूल नक्षत्र 17 फर०, 4:54 am से लेकर 19 फर०, (मूल) 6:06 am तक रहेगें ।* गंडमूल नक्षत्रों मे जन्म लेने वाले बच्चो का मूलशांति पूजन आवश्यक है । ______________________ *विशेष:- जो व्यक्ति दिल्ली से बाहर अथवा देश से बाहर रहते हो, वह ज्योतिषीय परामर्श हेतु paytm या Bank transfer द्वारा परामर्श फीस अदा करके, फोन द्वारा ज्योतिषीय परामर्श प्राप्त कर सकतें है* *आगामी व्रत तथा त्यौहार:-* 19 फर०-विजया एकादशी । 20 फर०-प्रदोष व्रत । 21 फर०- महाशिवरात्रि । 23 फर०-फाल्गुन अमावस्या । 6 मार्च- आमलकी एकादशी । 7 मार्च- प्रदोष व्रत । 9 मार्च- होलिका दहन/फाल्गुन पूर्णिमा व्रत ।10 मार्च- होली । 12 मार्च-संकष्टी चतुर्थी । 14 मार्च-मीन संक्रांति । 19 मार्च-पापमोचिनी एकादशी । 21 मार्च-प्रदोष व्रत । 22 मार्च-मासिक शिवरात्रि । 24 मार्च-चैत्र अमावस्या । 25 मार्च- चैत्र नवरात्रि घट स्थापना । आपका दिन मंगलमय हो . 💐💐💐 *आचार्य राजेश ( रोहिणी, दिल्ली )* *9810449333, 7982803848*

+6 प्रतिक्रिया 1 कॉमेंट्स • 19 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB