जय श्री महाशक्ति सबका कल्याण करो

+37 प्रतिक्रिया 0 कॉमेंट्स • 78 शेयर

+14 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 132 शेयर

+6 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 7 शेयर

+34 प्रतिक्रिया 9 कॉमेंट्स • 42 शेयर
KISHAN Feb 23, 2021

+18 प्रतिक्रिया 3 कॉमेंट्स • 16 शेयर
Gopal Jalan Feb 21, 2021

+14 प्रतिक्रिया 2 कॉमेंट्स • 89 शेयर

माँ मातंगी देवी ध्यान: श्यामांगी शशिशेखरां त्रिनयनां वेदैः करैर्विभ्रतीं, पाशं खेटमथांकुशं दृढमसिं नाशाय भक्तद्विषाम् । रत्नालंकरणप्रभोज्जवलतनुं भास्वत्किरीटां शुभां, मातंगी मनसा स्मरामि सदयां सर्वाथसिद्धिप्रदाम् ।। माँ मातंगी देवी बीज मंत्र: ।। ॐ ह्रीं क्लीं हूं मातंग्यै फट् स्वाहा ।। माँ मातंगी देवी महा मन्त्र: ॐ ह्रीं ऐं भगवती मतंगेश्वरी श्रीं स्वाहा: आर्थिक स्थिति मजबूत करने के लिए मंत्र: ॐ ह्रीं ह्रीं ह्रीं महा मातंगी प्रचिती दायिनी,लक्ष्मी दायिनी नमो नमः। सभी सुखों की प्राप्ति हेतु मंत्र: क्रीं ह्रीं मातंगी ह्रीं क्रीं स्वाहा: माँ मातंगी स्तुति: श्यामवर्णा, त्रिनयना मस्तक पर चंद्रमा चतुर्भुजा, दिव्यास्त्र लिये रत्नाभूषण धारिणी गजगामिनी ,महाचांडालनी माँ मातंगी ! सर्व लोक वशकारिणी, महापिशाचिनी कला, विद्या, ज्ञान प्रदायिनी मतन्ग कन्या माँ मातंगी हम साधक शुक जैसे हैं ज्ञान दिला दो हमको माँ हम करते तेरा ध्यान निरंतर आपका हे माँ मातंगी!! 1. ॐ ह्रीं अष्ट महालक्ष्म्यै नमः . 2. “ॐ हसौ: जगत प्रसुत्तयै स्वाहा मां कमला को कमल का फूल बेहद ही प्रिय है। इसलिए इनकी पूजा करते समय आप मां को कमल का फूल अर्पित करें और कमल गट्टे की माला के साथ मंत्र का जाप करें। कमला कवच: लक्ष्मीर्मे चाग्रतः पातु कमला पातु पृष्ठतः। नारायणी शीर्षदेशे सर्व्वांगे श्रीस्वरूपिणी।। रामपत्नी प्रत्यंगे तु सदावतु रमेश्वरी। विशालाक्षी योगमाया कौमारी चक्रिणी तथा।। जयदात्री धनदात्री पाशाक्षमालिनी शुभा। हरिप्रिया हरिरामा जयंकरी महोदरी।। कृष्णपरायणा देवी श्रीकृष्णमनमोहिनी। जयंकरी महारौद्री सिद्धिदात्री शुभंकरी।। सुखदा मोक्षदा देवी चित्रकूटनिवासिनी। भयं हरेत्सदा पायाद् भवबन्धाद्विमोचयेत्।। याद रखें की गुप्त नवरात्रि की पूजा रात के समय की जाती है। इसलिए आप रात के समय ही मां की पूजा करें। न की सुबह के समय। साथ ही इस पूजा को पूरी तरह से गुप्त रखें। यानी किसी को भी इस पूजा के बारे में पता न चले। दरअसल ये पूजा गुप्त रूप से रात को 10 बजे के बाद की जाती है। जिसके कारण इसे गुप्त नवरात्रि कहा जाता है। ॐ गं गणपतये नमः ॐ ऐं र्‍हिं ल्किं चामुण्डायै विच्चे जय माता की जय हो लक्ष्मी माता की जय हो सरस्वती माता की जय हो महाकाली की जय हो वैश्नवी माता की जय हो जगतजननी माता भवानी की जय हो मातंगी माता की जय हो भोलेनाथ 🌹 नमस्कार 🙏 शुभ रात्री वंदन 👣 💐 👏 🚩

+27 प्रतिक्रिया 4 कॉमेंट्स • 20 शेयर

भारत का एकमात्र धार्मिक सोशल नेटवर्क

Rate mymandir on the Play Store
5000 से भी ज़्यादा 5 स्टार रेटिंग
डेली-दर्शन, भजन, धार्मिक फ़ोटो और वीडियो * अपने त्योहारों और मंदिरों की फ़ोटो शेयर करें * पसंद के पोस्ट ऑफ़्लाइन सेव करें
सिर्फ़ 4.5MB